8 बातें जो बेटी को एक मजबूत महिला बनाने के लिए पिता को करनी चाहिए

सितम्बर 16, 2019
नन्ही बेटी के साथ पिता का संबंध कैसा है, यह जैसे-जैसे वह बड़ी होगी, उसके व्यक्तित्व और उसके मूल्यों को तय करेगा। कुछ ऐसी बाते हैं जिन्हें आप बेटी के साथ भरोसे का संबध बनाने और यह सुनिश्चित करने के लिए कर सकते हैं कि वह एक सुरक्षित और मजबूत महिला के रूप में विकसित हो सके।

पिता के साथ बेटी का रिश्ता बहुत खास होता है। यह एक मजबूत महिला के रूप में उसकी ग्रोथ की नींव में बदल सकता है। जिस क्षण वे मिलते हैं, एक कनेक्शन बन जाता है जो इतना मजबूत होता है कि उस भावना को समझाना या परिभाषित करना बहुत मुश्किल होता है।

माँ की तरह ही बच्चों को पालने में पिता की भूमिका अहम होती है।

हालांकि भावनाओं की अभिव्यक्ति के मामले में वे अलग-अलग हो सकते हैं, पर पिताओं और बेटियों के बीच एक ख़ास संबंध होता है जो उसके व्यक्तित्व को अहम रूप से आकार देगा

इस कारण यह जानना ज़रूरी है जो वक्त वे इकट्ठे बिताते हैं उसका पूरा फायदा कैसे उठाया जाए। यह उसकी ग्रोथ के उन वर्षों के लिए विशेष रूप से सच है जब उसे सुरक्षा, स्नेह और सपोर्ट की ज़रूरत होती है

यह न सिर्फ उसमें अविस्मरणीय यादों को जन्म देगा बल्कि किसी न किसी तरह उसके आत्मविश्वास और स्वतंत्रता की भावना को भी प्रभावित करेगा।

इस आर्टिकल में हमने उन 8 बातों की सूची तैयार की है, जिन पर बेटी को एक मजबूत महिला बनाने के लिए हर पिता को ध्कयान देना चाहिए।

एक मजबूत महिला की परवरिश के लिए पिता को टिप्स

1. हमेशा उसे पूरा अटेंशन दें

एक मजबूत महिला की परवरिश के लिए पिता को टिप्स

कई पिता यह महसूस नहीं करते कि उनकी बेटियां उन्हें सुपर हीरो के रूप में देखती आती हैं, जो उन्हें किसी भी गलत चीज से बचाने के लिए मौजूद है

उन्हें ज़रूरत होने पर अपना ध्यान देना और उन्हें पूरा वक्त देना उन्हें एहसास कराएगा कि उन पर भरपूर प्यार बरस रहा है और उन्हें सुना भी जा रहा है।

समय के साथ संबंध मजबूत होगा और यह भविष्य में आपसी कम्युनिकेशन और भरोसे को आसान बना देगा

इसे भी पढ़ें : अपने माता-पिता को क्षमा करें; क्योंकि उन्होंने अपना सबसे बेहतरीन किया है, जो वे कर सकते थे

2. अपनी नन्हीं मजबूत महिला का हाथ पकड़ें

अपनी बेटी का हाथ थामने जितनी आसान बात उनके रिश्ते की प्रकृति और ताकत को हमेशा के लिए मजबूत बना सकती है।

पिता के मजबूत हाथ का स्पर्श महसूस करने से उन्हें सुरक्षा महसूस होती है, जो उन्हें मजबूत महसूस करने में मदद करेगा।

वह जानती है कि आप पर भरोसा कर सकती है और धीरे-धीरे वह एक मजबूत महिला बन जाएगी।

3. बेटी को एक मजबूत महिला बनाने के लिए उसमें आत्मसम्मान विकसित करें

बेटी को एक मजबूत महिला बनाने के लिए उसमें आत्मसम्मान विकसित करें

हर पिता के पास बेटी में शारीरिक गुणों से ऊपर सही आत्मविश्वास विकसित करने का तरीका होता है।

उसे सिखाएं कि वह एक मजबूत महिला है और उसके पास अद्भुत क्षमताएं हैं। इसके अलावा, सुनिश्चित करें कि वह जानती है, हर संभावित कमजोरी भी वास्तव में एक ताकत है।

यह उसके व्यक्तित्व को आकार देने में मदद करेगा और विशेष रूप से उसे खुद से प्यार करने में मदद करेगा।

उसकी उपलब्धियों की सराहना करें, कठोरता के बिना उसकी गलतियों को सुधारें और उसे बताएं कि वह कितनी खूबसूरत है। ये सभी आदतें हैं जो निश्चित रूप से एक सुरक्षित और मजबूत महिला के रूप में उसे विकसित करने में मदद करेंगी।

4. उसे अलग-अलग अनुभवों से समृद्ध बनायें

सभी इंसानों के विकास में अनुभव एक समृद्ध हिस्सा हैं। अनुभव हासिल करने और उनका मजा लेने की छोटों की अनुमति देने से उन्हें अपने डर पर काबू पाने में मदद मिलेगी और जीवन को महसूस करने, उसे पूर्ण रूप से जीने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा

मूवी देखने या उनके साथ कुछ एडवेंचर पर जाने की कोशिश करें। आपसी बॉन्ड को मजबूत करने के लिए आप इकट्ठे कुछ एक्टिविटी कर सकते हैं।

5. उन्हें स्वस्थ हॉबी सिखाएं

कला, संगीत और स्पोर्ट्स जैसी एक्टिविटी बच्चों को बढ़ने में मदद करती हैं। सिर्फ इसलिए नहीं कि वे इनसे अपनी क्षमताओं को विकसित करते हैं, पर इसलिए भी क्योंकि ये कुछ प्रोडक्टिव और हेल्दी टाइम बिताने की सहूलियत देती हैं।

उन्हें रोज अनुशासन, नई बातें सीखने और तमाम जद्दोजहद की ज़रूरत होती है। इसलिए किसी भी तरह के आर्ट या स्पोर्ट्स इकट्ठे कुछ नया सिखाने या शानदार और सार्थक अनुभव शेयर करने के अच्छे तरीके हैं।

6. ज़रूरत पड़ने पर उनकी गलती सुधारें

हालांकि यह कभी-कभी कठिन या अपसेट करने वाला हो सकता है, पर आपको शुरू से ही उनकी छोटी गलतियों को सुधारना चाहिए।

एक पिता जो अपनी बेटी को अपने काम की जिम्मेदारी लेना सिखाता है, वह एक मजबूत महिला को उन मूल्यों के साथ बड़ा कर रहा है, एक ऐसी महिला जो अपनी गलती को कबूल कर सकती है।

इसे भी पढ़ें : भावनात्मक रूप से ज़ख्मी उस बच्चे के लिए एक पत्र जो जताता है कि सबकुछ ठीक है

7. काम पर उसके साथ कोई दिन बिताएं

मुमकिन हो तो अपनी बेटी के साथ वर्कप्लेस पर कोई दिन गुजारना आप दोनों के लिए एक अच्छा अनुभव हो सकता है।

उसे अपने वर्कप्लेस को नज़दीक से देखने की इजाजत देना उसे और अधिक प्रेरित भी कर सकता है

वह देखेगी कि आप उसे अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं और वह आप पर फक्र महसूस करेगी।

8. बेटी को एक मजबूत महिला बनाने के लिए उस पर भरोसा करना सीखें

कम्युनिकेशन और विश्वास पिता-पुत्री के गहरे रिश्ते की नींव हैं।

वह क्या कर सकती है, या उसे क्या नहीं करना चाहिए, इस बारे में धमकियाँ देने या डराने की बजाय, उसका विश्वासपात्र होना और सिखाने के लिए कम्युनिकेशन बनाना महत्वपूर्ण है

एक बेटी जो अपने पिता को अपने दोस्त की तरह महसूस करती है, वह उसे निराश नहीं करने का प्रयास करेगी। इसके अलावा वह ज्यादा सूझ-बूझ और समझदारी भरा निर्णय लेगी।

बेशक ऊपर बतायी गयी ट्रिक्स के अलावा एक मिसाल बनने और उससे प्यार करना एक मजबूत महिला की परवरिश करने के दो ज़रूरी तत्व हैं जो जीवन में जो भी आये उसके लिए तैयार रहेगी।

इसलिए अब और वक्त बर्बाद न करें! इन उपायों को अपनाइए, आपके जानने से पहले आपकी नन्ही बेटी एक मजबूत महिला होगी।

  • Harris, K. M., & Morgan, S. P. (1991). Fathers, sons, and daughters: Differential paternal involvement in parenting. Journal of Marriage and the Family, 531-544.
  • Cowan, P. A., Cowan, C. P., & Kerig, P. K. (1993). Mothers, fathers, sons, and daughters: Gender differences in family formation and parenting style.
  • McKinney, C., & Renk, K. (2008). Differential parenting between mothers and fathers: Implications for late adolescents. Journal of Family issues29(6), 806-827.
  • O’Donnell, L., Stueve, A., Duran, R., Myint-U, A., Agronick, G., San Doval, A., & Wilson-Simmons, R. (2008). Parenting practices, parents’ underestimation of daughters’ risks, and alcohol and sexual behaviors of urban girls. Journal of Adolescent Health42(5), 496-502.
  • McBride, B. A., Schoppe, S. J., & Rane, T. R. (2002). Child characteristics, parenting stress, and parental involvement: Fathers versus mothers. Journal of Marriage and Family64(4), 998-1011.
  • Chang, L., Schwartz, D., Dodge, K. A., & McBride-Chang, C. (2003). Harsh parenting in relation to child emotion regulation and aggression. Journal of family psychology17(4), 598.