8 टिप्स सनस्पॉट से बचने के लिए

अगस्त 22, 2019
सनस्पॉट का उभरना सेहत पर कोई बड़ा खतरा नहीं है। पर कई लोग उन्हें भद्दा समझते हैं और उनसे बचना ही पसंद करते हैं। इसके लिए यहां जानिए कुछ बेहतरीन टिप्स!

सनस्पॉट से बचने के लिए अपने डेली रूटीन में कुछ बुनियादी टिप्स को शामिल करना अहम है। हालांकि ये नुकसानदेह नहीं होते और सेहत पर कोई बड़ा खतरा नहीं है, तो भी ज्यादातर लोग सनस्पॉट से बचना पसंद करते हैं क्योंकि उन्हें वे भद्दे लगते हैं।

सनस्पॉट का उभरना कम करने के लिए आप उन प्रोडक्ट को लगा सकती हैं जो त्वचा पर यूवी किरणों के असर को कम करने में मदद करते हैं। पर खुले हुए अंगों की त्वचा की सुरक्षा करने के लिए उन्हें आसान तरीकों से सप्लीमेंट करना ज़रूरी है। इस पोस्ट में हम ऐसे आठ सुझाव देंगे।

सनस्पॉट क्या हैं?

सनस्पॉट को लिवर स्पॉट के रूप में भी जाना जाता है, जबकि उनका लीवर से कोई लेना-देना नहीं है। वे सपाट भूरे रंग के धब्बे हैं जो आमतौर पर त्वचा के उन भागों पर बनते हैं जो लगातार सूरज के सामने खुले होते हैं। अल्ट्रा वायलेट किरणें मेलानोसाइट्स (melanocytes) को कई गुना बढ़ा देती हैं, जिससे यह स्थिति सामने आती है।

उनकी शेप और साइज़ अलग-अलग होती है। वे चेहरे, गर्दन, कंधे और हाथों के पीछे जैसे क्षेत्रों में दिखाई देते हैं। वे पूरी तरह से हानिरहित होते हैं और उन्हें किसी विशेष इलाज की ज़रूरत नहीं होती है, भले ही वे कैंसरनुमा दिखते हों। इस तरह उन्हें रोकने और कम करने की ज़रूरत बस ब्यूटी के कारण होती है।

इसे भी पढ़ें : त्वचा के गहरे दाग-धब्बों से छुटकारा कैसे पाएं

सनस्पॉट से बचने के लिए आठ टिप्स

सूरज हमारी त्वचा पर कितना असर डालता है। इसलिए यूवी किरणों से होने वाली आक्रामकता को कम करने के लिए ढेर सारे इलाज और कॉस्मेटिक प्रोडक्ट हैं। हालांकि अगर आपका मकसद पूरी तरह से सनस्पॉट से बचना है, तो आपको दूसरी स्ट्रेट्जी अपनानी होगी।

1. साल भर सनस्क्रीन लगाएं

सनस्पॉट का उभरना रोकने के लिए आपको पूरे साल सनस्क्रीन लगाना चाहिए। इसे सिर्फ गर्मियों में न लगाएं। क्योंकि आपकी त्वचा बादलों के दिनों में भी सोलर रेडियेशन के नेगेटिव असर से पीड़ित हो सकती है।

अगर आप त्वचा के धब्बों से बचना चाहती हैं और मेलेनोमा का खतरा कम करना चाहती हैं, तो एसपीएफ़ 50 या इससे हाई सनस्क्रीन लगायें।अगर दिन में धूप ज्यादा हो तो इसे हर दो घंटे पर दोबारा लगाएं।

2. तेज धूप से बचें

कुछ मिनटों के लिए धूप में शरीर को सेंकना सेहतमंद हो सकता है, क्योंकि यह विटामिन D को बनाने में आपके शरीर की मदद करता है। हालांकि दिन के सबसे गर्म घंटों (सुबह 10 से दोपहर 3 बजे) में ऐसा करने से बचना सबसे अच्छा है। क्योंकि इस समय सूरज की किरणें वास्तव में तीव्र और आक्रामक होती हैं।

अगर आप उन घंटों के दौरान सूरज के रोशनी में आने से बच सकती हैं, तो आपको एक अच्छा सनस्क्रीन लगाना होगा, अपने हाथ-पैरों को ढकने वाले सुरक्षात्मक कपड़े पहनने होंगे। इसी तरह दूसरे समय में बाहरी की एक्टिविटी शेड्यूल करने की कोशिश करें।

3. हैट और सनग्लास लगाएं

सुरक्षात्मक कपड़ों का उपयोग करने के अलावा, टोपी और धूप का चश्मा पहनना भी एक अच्छा आईडिया है। ये यूवी किरणों को सीधे आपके सिर पर पड़ने से रोकते हैं। इससे आपके चेहरे पर सनस्पॉट का रिस्क कम होता है।

दरअसल यूवी कोटिंग वाले सनग्लास ज़रूरी हैं, क्योंकि वे रेडियेशन से आंखों की हिफाजत करते हैं और आँखों के आसपास की नाजुक त्वचा पर समय से पहले उम्र बढ़ने के असर को कम करते हैं।

ये सामन भरोसेमंद स्थान से खरीदें, क्योंकि सभी सनग्लास इस कोटिंग के साथ नहीं आते हैं।

4. सनस्पॉट से बचाव करने वाले सुगंधित प्रोडक्ट से बचें

ऐसे कॉस्मेटिक प्रोडक्ट और दवाओं पर नजर रखें जो लाइट सेंसिटिव रिएक्शन का कारण बन सकती हैं।

आपको सेंटेड प्रोडक्ट का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए। लोशन और इत्र में ऐसी चीजें होती हैं जो सनस्पॉट का कारण बन सकती हैं।

यह एक फोटोटॉक्सिसिटी रिएक्शन के कारण होता है, जो ज्यादा मेलानिन और अत्यधिक पिगमेंटेशन को ट्रिगर करता है। इस तरह अगर आप धूप में निकलने वाली हैं, तो इन विशेषताओं वाले किसी भी प्रोडक्ट को लगाने से बचें। इसके बजाय हाई एसपीएफ़ वाले सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें।

इसे भी पढ़ें : बढ़ती उम्र के दाग-धब्बे : एज स्पॉट से छुटकारा पाएँ

5. सनस्पॉट से बचने के लिए बिल्ट-इन सनस्क्रीन वाले मेकअप का इस्तेमाल करें

सूरज से स्किन की हिफाजत करने की ज़रूरत ने कई कंपनियों को बिल्ट इन सनस्क्रीन वाले प्रोडक्ट विकसित करने पर मजबूर किया है। इस कारण बिल्ट इन सनस्क्रीन वाले कई ब्यूटी प्रोडक्ट और मेकअप प्रोडक्ट बाजार में उपलब्ध हैं। वास्तव में कई अलग-अलग तरह के टिंटेड सनस्क्रीन हैं।

यह एक ट्रेंड बन गया है, क्योंकि इसमें पिगमेंट होते हैं जो त्वचा को और भी खूबसूरत बनाते हैं और धूप से भी बचाते हैं। अगर आप सनस्पॉट से बचना चाहती हैं, तो बेझिझक इन प्रोडक्ट को आज़माएं।

6. सनस्पॉट से बचने के लिए ज्यादा विटामिन C का सेवन करें

सनस्पॉट को रोकने के लिए इसकी अनदेखी नहीं करनी चाहिए। अच्छा पोषण त्वचा की सेहत में भी दिखाई पड़ता है।

इस मामले में हम विटामिन C लेने की सलाह देते हैं, क्योंकि यह आपकी स्किन को लगातार धूप से बचाने के लिए एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है।

खट्टे फल और जामुन जैसे खाद्य पदार्थ आपके शरीर को कोलेजन बनाने और कोशिकाओं को बहाल करने में मदद करते हैं। सलाद, स्मूदी और जूस में इनका सेवन कर सकती हैं।

7. हाइड्रेटिंग मास्क लगाएं

मास्क स्त्वकिन की नमी को बहाल करने में मदद करते हैं, साथ ही एंटीऑक्सिडेंट प्रदान करते हैं जो सनस्पॉट को रोकते हैं।

हाइड्रेटिंग मास्क के फायदों का मजा लेने के लिए आपको सूर्यास्त तक इंतजार करने की ज़रूरत नहीं है। अगर आप इनसे बचना चाहती हैं तो हफ्ते में एक या दो बार इन मास्क को लगाएं।

बाजार में कई अलग-अलग तरह के हाइड्रेटिंग मास्क मिल सकते हैं, लेकिन आप नेचुरल मास्क भी ट्राई कर सकती हैं। उदाहरण के लिए पके एवोकैडो, शहद और नारियल तेल को मिलाकर अपना हाइड्रेटिंग मास्क बना सकती हैं।

मास्क को धूप में खुले रहने वाले अंगों पर लगाएं, इसे 20 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर धो लें।

8. खूब पानी पिएं

सनस्पॉट को रोकने के लिए पानी खुद ज्यादा कुछ नहीं कर सकता। पर इसे अपनी रूटीन में शामिल करना आपकी स्किन को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।

दिन में दो लीटर (लगभग 8 गिलास) पानी पीने से सेल रिजेनेरेशन को बढ़ावा मिलता है और ड्राईनेस, सनस्पॉट और असमय बूढ़ा होने का खतरा कम हो जाता है।

निष्कर्ष

सनस्पॉट से बचने के लिए आप आसान आदतें अपना सकती हैं। सबसे अहम बात यह है कि यह कोशिश लगातार बनी रहनी चाहिए, क्योंकि सोलर रेडियेशन त्वचा को पूरे साल प्रभावित करता है।

  • D’Orazio, J., Jarrett, S., Amaro-Ortiz, A., & Scott, T. (2013). UV radiation and the skin. International Journal of Molecular Sciences. https://doi.org/10.3390/ijms140612222
  • Matsumura, Y., & Ananthaswamy, H. N. (2004). Toxic effects of ultraviolet radiation on the skin. Toxicology and Applied Pharmacology. https://doi.org/10.1016/j.taap.2003.08.019
  • Jablonski, N. G., & Chaplin, G. (2010). Human skin pigmentation as an adaptation to UV radiation. Proceedings of the National Academy of Sciences. https://doi.org/10.1073/pnas.0914628107
  • Antoniou, C., Kosmadaki, M. G., Stratigos, A. J., & Katsambas, A. D. (2008). Sunscreens – What’s important to know. Journal of the European Academy of Dermatology and Venereology. https://doi.org/10.1111/j.1468-3083.2007.02580.x
  • Gallagher R. P. (2005). Sunscreens in melanoma and skin cancer prevention. CMAJ : Canadian Medical Association journal = journal de l’Association medicale canadienne173(3), 244-5.
  • Heerfordt, I. M., Torsnes, L. R., Philipsen, P. A., & Wulf, H. C. (2018). Sunscreen use optimized by two consecutive applications. PloS one13(3), e0193916. doi:10.1371/journal.pone.0193916
  • Steinemann, A. (2016). Fragranced consumer products: exposures and effects from emissions. Air Quality, Atmosphere and Health. https://doi.org/10.1007/s11869-016-0442-z
  • Pullar, J. M., Carr, A. C., & Vissers, M. C. M. (2017). The roles of vitamin C in skin health. Nutrients. https://doi.org/10.3390/nu9080866
  • Al-Niaimi, F., & Zhen Chiang, N. Y. (2017). Topical Vitamin C and the skin: Mechanisms of action and Clinical applications. Journal of Clinical and Aesthetic Dermatology.
  • Williams, S., Krueger, N., Davids, M., Kraus, D., & Kerscher, M. (2007). Effect of fluid intake on skin physiology: Distinct differences between drinking mineral water and tap water. International Journal of Cosmetic Science. https://doi.org/10.1111/j.1467-2494.2007.00366.x