योग अभ्यास करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

जून 5, 2019
योग के सभी फायदों का लाभ लेने के लिए इसे अपनी दिनचर्या में शामिल करना और इसे एक निश्चित अनुशासन के साथ करना ज़रूरी होता है।

योग एक प्राचीन डिसिप्लिन है जिसका जन्म भारत में हुआ। इसका लक्ष्य शारीरिक-मानसिक संतुलन और खुशी पाना है। इसके लिए व्यक्ति विश्राम लेता है और मेडिटेशन में रहकर अपने आत्म से जुड़ने की कोशिश करता है। लेकिन योग अभ्यास का सही तरीका क्या है? इसका सबसे उपयुक्त समय कब होता है?

इस पोस्ट में हम आपको योग अभ्यास की तकनीक की बारीकी में जाने के लिए आमंत्रित करते हैं जिससे आप इसका अधिकतम लाभ उठा सकें, भले ही इसे ग्रुप में करें या व्यक्तिगत रूप से। अपने को योग के प्रेम में पड़ने दीजिये, उन लोगों के लिए अब यह लाइफस्टाइल बन गया है जो अंदर और बाहर दोनों तरह से अपने को विकसित करना चाहते हैं।

योग अभ्यास कितनी देर तक करना चाहिए?

जब योग अभ्यास करने की बात आती है तो इसका कोई सख्त नियम नहीं हैं। यह बहुत ही व्यक्तिगत मामला है। इसका लक्ष्य मन, शरीर और आत्मा के बीच संतुलन बनाना है, इसलिए इस पर समय की पाबंदी नहीं लगाईं जा सकती है।

योग आमतौर पर एक लॉन्ग टर्म प्लान जो पूरी लाइफस्टाइल को संयोजित करने की मांग करता है।

इसलिए अपनी ख़ास हालात पर तवज्जो देते हुए, आदर्श बात यह है कि हफ़्ते में नियमित इसका अभ्यास करें। कई लोग सप्ताह में तीन बार 20 से 30 मिनट का सेशन चुनते हैं। हालांकि यह प्रत्येक व्यक्ति की व्यक्तिगत स्थितियों (वर्कप्लेस की मांग, फैमिली की प्रतिबद्धताओं, आदि) पर निर्भर करेगा।

योग करने का सबसे उपयुक्त समय क्या है?

कई लोग अपनी डेली रूटीन शुरू करने से पहले सुबह में योग की प्रैक्टिस करते हैं। योग देह-मन को विश्राम देता है, मेडिटेशन और विभिन्न योगाभ्यासों के माध्यम से सर्वोत्तम तरीके से इसे संभव बनाने का काम करता है।

हालाँकि सुबह योग करना बड़े त्याग और समर्पण की मांग करता है क्योंकि इसका मतलब है, आपको तड़के उठा होगा। फिर भी योग इस त्याग के योग्य है क्योंकि यह आपको बहुत ज्यादा एनर्जी देता है।

कुछ मिनटों के योग के लिए दिन का अंतिम पहर चुनने की भी प्रथा भी है। उस समय इसकी प्रैक्टिस करके आप अपने दिलो-दिमाग को रोजमर्रा की उठापटक के बाद तुरंत शांत कर सकते हैं। योग की बदौलत लाखों लोगों ने इंसोम्निया, स्ट्रेस और एंग्जायटी से नजात पाया है।

इस लेख पर नज़र डालें: 5 योगासन अभ्यास करें, यदि आप ज्यादा फ्लेक्सिबल नहीं हैं

किसी भी वक्त योग अभ्यास करें

किसी भी वक्त योग अभ्यास करें

मेडिटेशन और विश्राम की इस तकनीक का एक बड़ा लाभ जो योग अभ्यास आपको देता है वह है, यह आपको अपने दिमाग को कुछ हद तक बंद करने की सहूलियत देता है। एक शांत और प्रशांति भरा दिमाग ज्यादा आकर्षक, व्यवस्थित और सुसंगत विचारों का माध्यम बनेगा। क्योंकि जब आपका मन ज्यादा अभिभूत या दबाव में हो तो तो आपके लिए बहुत प्रोडक्टिव रहना कठिन होता है।

योग उन सभी मानसिक भटकावों को शांत करने में मदद करता है जो आपकी एनर्जी बर्बाद करते हैं। योग अपने जेहन को खाली करने और अपने निजी शरीर पर ध्यान केंद्रित करने का माध्यम है। इस तरह आप अपने भीतरी आत्म से जुड़ते हैं और उदाहरण के लिए अपने दिल की धड़कनें भी सुन सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : योग ने बदला 87 वर्षीय इस वृद्धा की जिंदगी

धीरे-धीरे आगे बढ़ें

चंद दिनों में ही योग से आश्चर्यजनक परिणाम पाने की उम्मीद नहीं करनी चाहिए। इसमें कुछ वक्त लगता है और फिर आपको ये फायदे दिखाई पड़ते हैं :

  • हृदय की सेहत में सुधार
  • लचीलापन
  • टोन्ड मांसपेशियां
  • बेहतर नर्वस सिस्टम
  • योग कैलोरी जलाता है
  • समग्र स्वास्थ्य में सुधार

इसलिए  योग के मामले में धैर्य और शांतिपूर्ण रवैया रखना ठीक होता है। इसे लाइफस्टाइल बनायें और रोज की रूटीन में शामिल करें।

योग अभ्यास करना हो तो पानी ज़रूर पियें

योग अभ्यास करना हो तो पानी ज़रूर पियें

ऐसा लग सकता है कि योग बहुत साधारण एक्सरसाइज है जिसमें बस थोड़े शारीरिक प्रयास की ज़रूरत होती है, लेकिन बात ऐसी नहीं है। योग की कौन सी टाइप आप आजमा रहे हैं, उस पर ही निर्भर करेगा कि कितनी कैलोरी जलेगी। योग की कई श्रेणियाँ है, आसान से आसान और कठिन से कठिन। हठ योग के अभ्यास सबसे कठिन होते हैं और इसमें भारी मेहनत की ज़रूरत होती है। लेकिन ये आम लोगों के लिए नहीं हैं।

इसलिए अपने शरीर को अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रखना और दिन में दो लीटर पानी पीना बहुत महत्वपूर्ण होगा खासकर प्रैक्टिस के दौरान। इस तरह आपके टिशू और अंग बेहतर ढंग से काम करेंगे और आप कुछ चोटों से बच जायेंगे जो पानी की कमी से होते हैं।

यह  डिसिप्लिन शरीर को शुद्ध करने का एक अच्छा तरीका भी मानी जाती है। इसलिए पानी पीने से आपके शरीर को विषाक्त पदार्थों से छुटकारा मिलेगा। अगर आप सुबह इसकी प्रैक्टिस करते हैं, तो यह आपके शरीर को सक्रिय करने में मदद करता है। रात में यह आपके शरीर में विषहरण यानी डिटॉक्सिफ़िकेशन की प्रक्रिया में सहायता करेगा।