अपने माता-पिता को क्षमा करें; क्योंकि उन्होंने अपना सबसे बेहतरीन किया है, जो वे कर सकते थे

08 मार्च, 2019
अपने माता-पिता को क्षमा कर दीजिये। आप मानें या न मानें, उनकी गलतियों का परिणाम सकारात्मक ही हुआ है। इसका प्रमाण यह तथ्य है कि आप अब उनके बारे में जानते हैं। इस तरह आप अब उनसे अलग और बेहतर रास्ता अपना सकते हैं।

अपने माता-पिता क्षमा कर दें; अपने प्रति स्नेह में किसी भी कमी के लिए, किसी खराब अनुभव के लिए, उस तमाम दर्द और दुर्व्यवहार के लिए जो आपने झेला है। हम जानते हैं, अब आपको लगता है कि आप उनके नतीजे भुगत रहे हैं। हम समझते हैं कि उन्होंने आपको चोट पहुंचाई है। उन्होंने आपमें अपने खिलाफ एक गुस्सा पैदा किया है।

हालांकि, वे जो सबसे अच्छा कर सकते थे, उन्होंने वही किया है। यदि आप उन अनुभवों और स्थितियों से गुजरे होते, तो शायद आपने वही किया होता।

माता-पिता को क्षमा करें, क्योंकि वे जो सबसे अच्छा कर सकते थे, उन्होंने वही किया

माता-पिता को क्षमा करें, क्योंकि वे जो

अपने माता-पिता को माफ कर दें, क्योंकि किसी ने उन्हें नहीं सिखाया कि उन्होंने जिस महत्वपूर्ण भूमिका को लेने का फैसला किया है, उसे कैसे पूरा करना है।

हम उन बातों को जानते हैं जो आपके दिमाग में कई मौकों पर आती हैं: “अच्छा होता, अगर उन्होंने मुझे पैदा नहीं किया होता!”

यह अनुचित है। यह कुछ ऐसा है जिसे आपके माता-पिता सुनने के हकदार नहीं थे। ज़रा अपने आपको उनकी जगह पर रखिये। अपने आपसे पूछिए कि अगर आपके बच्चे ने आपके लिए ऐसा कहा, तो आप कैसा महसूस करेंगे!

अपने माता-पिता को क्षमा करके दरअसल आप अपनी ही मदद करेंगे

अपने माता-पिता को क्षमा करके आप अपनी मदद कैसे करेंगे, यहाँ उसके बारे में कुछ बाते हैं:

  • जब आप खुद को वैसी ही गलतियाँ करते पायें तो स्वयं को क्षमा कर पाएंगे। क्योंकि गलतियों से कोई भी मुक्त नहीं है। यह ऐसे आदमी के लिए विशेष रूप से सच है जिस पर दूसरे इंसान को पालने की जिम्मेदारी हो।
  • आप भावनात्मक और शारीरिक दोनों रूप से बेहतर महसूस करेंगे। क्रोध, कड़वाहट और आक्रोश दरअसल भारी बोझ होते हैं। यदि आप उन भावनाओं को बाहर न निकालें तो आपके शरीर और मन को इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी।
  • आप स्वस्थ संबंधों को बनाए रखने में सक्षम होंगे। बचपन की तकलीफ़ों से पीछा छुड़ाना बहुत मुश्किल होता है, लेकिन ऐसा करने से आपको भावनात्मक रूप से स्टेबल होने में मदद मिलेगी। तभी आप एक वयस्क के रूप में दुख के चक्र को तोड़ना पाएंगे।
  • जीवन को नया अर्थ मिलेगा। अब अपने जीवन को उस रूप में परिभाषित नहीं करेंगे जब आप एक बच्चे के रूप में पीड़ित थे। इससे आप जीवन का एक बड़ा नजरिया बना पायेंगे और आपकी आत्मा में सहानुभूति और करुणा के लिए जगह बनेगी।

इसके अलावा, अपने माता-पिता को क्षमा करें, क्योंकि आप मानें या न मानें, उनकी गलतियों का पॉजिटिव नतीजा निकला है।

आपको मालूम है, कि वह क्या है? यह तथ्य कि अब जब आप उनके बारे में जानते हैं, तो एक अलग रास्ता अपना सकते हैं। अब आप उनके बारे में बेहतर जानते हैं।

यदि आपके दिल में आक्रोश बना रहे तो आप इसे महसूस किए बिना भी वही गलतियाँ दोहराएंगे।

इसे भी पढ़ें : बचपन में प्यार न मिलने पर बड़े होकर लोग कैसे बन जाते हैं

इस बोझ से पीछा छुड़ाए

माता-पिता को क्षमा करें: भावनात्मक

कभी-कभी माता-पिता के कारण होने वाले विनाशकारी बचपन के बारे में आपके मन में गुस्सा बना रह सकता है, और वर्षों तक आपका पीछा कर सकता है। इससे आपको सच्ची खुशी नहीं मिल सकती है। ऐसा कुछ हो सकता है जिसे आप देखना या उसे ठीक करना नहीं चाहते।

आपका अभिमान कभी-कभी आपको क्षमा का पहला कदम उठाने से रोक सकता है। आप उनसे माफी मांगने का इंतजार करते हैं।

अपने दुख को इतना लंबे समय तक क्यों बने रहने दें? यह तो आपकी अपनी खुशी है जो दांव पर है। आप जिस रास्ते पर चलना चाहते हैं, उसे चुनना आपकी ज़िम्मेदारी है। अब आप अपने माता-पिता की दया पर रहने वाला कोई छोटा बच्चा नहीं हैं। अब आप वयस्क हैं, जिसे किसी और का इंतज़ार किए बिना पहला कदम उठाना होगा।

यह आपके द्वारा किए गए सबसे अच्छे फैसलों में से एक होगा, क्योंकि यह आपको उस भारी बोझ से आज़ाद करेगा जो आपकी दुनिया को घने अंधेरे में घेरे हुए है।

इसे भी पढ़ें : भावनात्मक रूप से ज़ख्मी उस बच्चे के लिए एक पत्र जो जताता है कि सबकुछ ठीक है

वह सबकुछ जो आप सीख सकते हैं

माता-पिता की गलतियों से सीखें

हो सकता है, आपके माता-पिता ने उस दर्द से कोई सीख नहीं लिया जिसने आपको पीड़ित किया है। फिर भी, कोई ऐसा व्यक्ति है जो इसे समझ रहा है — और वह आप हैं

जो नुकसान हुआ, वह आपको गहरी चोट पहुँचा सकता है, लेकिन आश्वस्त रहें कि यह सबकुछ अच्छा था। आखिरकार, यह आप तय करते हैं कि सबकुछ को एक नया मोड़ देना है या उस बोझ को ढोते रहना है जिससे आप वही सब कदम उठाएंगे जो आपको नुकसानदेह लगता है।

अगर जीवन में सब कुछ सही होता, तो हम कभी नहीं सीखते। हम अक्सर अपने सबसे नेगेटिव अनुभवों से सीखते हैं। वे हमें बढ़ने, परिपक्व होने और बेहतर इंसान बनने में मदद करते हैं।

कभी आप एक छोटे बच्चे थे जिसमें चीजों को बदलने की शक्ति नहीं थी। अब आप एक वयस्क हैं जो अपने रास्ते को बदलने में सक्षम है। आप यह तय कर सकते हैं कि अपने माता-पिता को माफ कर दें और उस भयावह अतीत को दूर कर दें। या अपने जीवन को उस नाराजगी और नफरत के साथ चलने दें, उन दो लोगों के खिलाफ जो बेहतर नहीं जानते हैं।

तो आप क्या फैसला करेंगे?

  • María Martina Casullo. (2005). La capacidad para perdonar desde una perspectiva psicológica. Revista de Psicologia de La PUCP.
  • García, J. A. (2013). Perdonar y pedir perdón.