6 घरेलू उपाय अत्यधिक वेजाइनल डिस्चार्ज को अलविदा कहने के लिए

अप्रैल 10, 2019
वेजाइनल डिस्चार्ज खीझ दिलाने वाली और शर्मनाक परेशानी हो सकती है। आमतौर पर यह समस्या आपकी हेल्दी वेजाइनल बैक्टीरिया के असंतुलन के कारण पैदा होती है। इन 6 प्राकृतिक घरेलू उपचारों से इसका इलाज करना सीखें!

वेजाइनल डिस्चार्ज यानी योनि से निकलने वाले स्राव स्त्री देह के प्राइवेट पार्ट की देख-रेख में बहुत अहम भूमिका निभाते हैं। इसमें स्वस्थ बैक्टीरिया होते हैं जो बैक्टीरिया या यीस्ट का संक्रमण रोकने में मदद करते हैं।

हालाँकि कुछ महिलाएँ इसे नापसंद कर सकती हैं, लेकिन सामान्य रूप से होने वाला यह डिस्चार्ज इस बात का संकेत है कि आपकी वेजाइना का pH ठीक है। यह पारदर्शी या सफेद रंग लिए होता है।

असल समस्या तब पैदा होती है, जब आपको अपने वेजाइनल डिस्चार्ज के टेक्सचर, रंग और गंध में बदलाव देखने को मिलते हैं। ये सभी बदलाव हानिकारक संक्रमण यानी बैक्टीरिया के मौजूद होनें का संकेत हो सकते हैं। यह स्थिति असहज इन्फेक्शन की ओर ले जाती है जो दर्दनाक होने के साथ-साथ आपके यौन-जीवन और आत्मसम्मान को प्रभावित कर सकती है।

अच्छी खबर यह है कि कई ऐसे नेचुरल समाधान मौजूद हैं जो आपके वेजाइनल फ़्लोरा पर नियंत्रण पाकर ज़रूरत से ज़्यादा होते वेजाइनल डिस्चार्ज पर काबू पाने में मदद कर सकते हैं।

हम ऐसे 6 अद्भुत प्राकृतिक उपचार की जानकारी साझा करेंगे, जिन्हें आप अपने वेजाइनल डिस्चार्ज में होने वाले बदलावों के सामने आने पर उपयोग में लाकर इस समस्या से निजात पा सकती हैं।

अत्यधिक वेजाइनल डिस्चार्ज को रोकने के सर्वश्रेष्ठ उपचार

1. सादी दही (Plain yogurt)

वेजाइनल डिस्चार्ज सादी दही (Plain yogurt)

सादी दही में वैसे ही जीवाणुओं की ग्रोथ या कल्चर पाई जाती है जैसी वनस्पतियाँ वेजाइनल फ्लोरा में मौजूद होती हैं। इसलिए यह संक्रमण के खिलाफ एक प्रभावी समाधान है। इससे अत्यधिक स्राव की समस्या को बढ़ने से रोका जा सकता है।

इसके प्रोबायोटिक्स इन्फेक्शन फ़ैलाने वाले एजेंटों पर अपना असर दिखाते हैं। इस प्रकार ये संक्रमण को बढ़ने से रोकते हैं और वेजाइना के नेचुरल बैलेंस को बहाल करते हैं।

कैसे उपयोग करें

  • सादी और बिना स्वाद वाली दही को वेजाइना के बाहरी हिस्सों में लगाने के लिए उपयोग करें। इसे मल-मल कर लगाना ठीक रहेगा।
  • इसके बाद इसे सूखने के लिए छोड़ दें और इस प्रक्रिया को दिन में 2 या 3 बार दोहराएँ।
  • इस ट्रीटमेंट के अच्छे लाभ पाने के लिए दही का सेवन करना भी एक अच्छा विचार है। हर दिन एक कटोरी दही खाएँ।

इसे भी पढ़ें : सर्वाइकल कैंसर के 8 अहम लक्षणों की पहचान करें

2. कैलेंडुला अर्क (Calendula infusion)

कैलेंडुला फूलों के एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीबायोटिक गुणों का इस्तेमाल करना इन्फेक्शन से छुटकारा पाने का एक वैकल्पिक उपाय हो सकता है। यह खराब गंध, जलन और अत्यधिक डिस्चार्ज की परेशानी से मुक्ति दिलाता है।

इसके कंपाउंड योनि की नाजुक त्वचा को किसी तरह की तकलीफ़ नहीं पहुंचाते हैं। इसके साथ-साथ ये लालिमा और खुजली को कम करते हैं।

कैसे उपयोग करें

  • कैलेंडुला के फ़ूलों से एक गाढ़ा अर्क तैयार कर लें। जब यह ठंडा हो जाए, इसे अपने प्राइवेट पार्ट को धोने के लिए इस्तेमाल में लाएं। आप ऐसा दिन में दो बार कर सकती हैं।

3. तेजपत्ते का अर्क (Sage infusion)

वेजाइनल डिस्चार्ज तेजपत्ते का अर्क (Sage infusion)

तेजपत्ते में वेजाइनल फ्लोरा को संतुलित करने, ज़रूरत से ज़्यादा होते डिस्चार्ज को कम करने और गंध को कम करने की खूबियाँ पाई जाती हैं। तेजपत्ते के इस्तेमाल से त्वचा की जलन से राहत पा सकती हैं और फंगल व बैक्टीरियल इन्फेक्शन से भी बच सकती हैं।

कैसे उपयोग करें

  • तेजपत्ते लें और उससे लगभग एक लीटर अर्क तैयार कर लें और फ़िर इसी लिक्विड से अपनी योनि के आस-पास के क्षेत्र को साफ़ करें।
  • जब तक राहत महसूस न करें, तब तक इस इलाज को दिन में 2 बार ज़रूर दोहराएं।

4. लहसुन का अर्क (Garlic infusion)

लहसुन एक शक्तिशाली एंटीबायोटिक है। इसका इस्तेमाल योनि के इर्द-गिर्द की त्वचा यानी गुप्तांग की सफ़ाई के लिए किया जा सकता है। यह वेजाइनल डिस्चार्ज के कारण होने वाले संक्रमण से बचने का एक प्रभावशाली तरीका है।

इसके सक्रिय कंपाउंड, यीस्ट और बैक्टीरिया को खत्म करते हैं और अत्यधिक वेजाइनल डिस्चार्ज को भी कम  करते हैं।

कैसे उपयोग करें

  • सबसे पहले, लहसुन की 2 से 3 कलियों को एक मूसल से मसल लें।
  • इसे एक लीटर उबलते पानी में 15 मिनट के लिए डाल दें।
  • इस पानी को छान लें।
  • इस अर्क को ठंडा होनें दें और इससे अपने गुप्तांग को अच्छी तरह से धोएं।
  • इस प्रक्रिया को एक हफ्ते तक हर रात दोहराएँ।

इसे भी पढ़ें : प्राकृतिक नुस्खों से वेजाइनल कैंडिडिऑसिस का इलाज कैसे करें

5. सेब का सिरका (Apple cider vinegar)

वेजाइनल डिस्चार्ज सेब का सिरका (Apple cider vinegar)

सेब के सिरके में पाया जाने वाला एसिड योनि के pH असंतुलन के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। ये पदार्थ वेजाइनल फ्लोरा के स्वस्थ बैक्टीरिया को विकसित करते हैं और हानिकारक सूक्ष्मजीवों से लड़ने में मदद करते हैं।

इसके अलावा, इसके एंटीफंगल और रोगाणुरोधी गुण दुर्गन्ध और डिस्चार्ज को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।

कैसे उपयोग करें

  • अपने नहाने के पानी में आधा कप एप्पल साइडर विनेगर मिलाएँ।
  • इस पानी से नहाएँ और इससे अपने गुप्तांग को धो लें।
  • इस ट्रीटमेंट को कम से कम एक सप्ताह के लिए दिन में दो बार करें।

6. बेकिंग सोडा

अंत में, बेकिंग सोडा में पाए जाने वाले कार्बनिक कंपाउंड ज़रूरत से ज़्यादा हो रहे ववेजाइनल डिस्चार्ज को रोकने और दुर्गन्ध को खत्म करने में मदद करते हैं।

ये योनि का pH बहाल करते हैं और नुकसान पहुंचाने वाले फंगस और कीटाणुओं से आपकी रक्षा करते हैं। इन कार्बनिक कंपाउंड की मदद से स्वस्थ बैक्टीरिया विकसित होते हैं।

  • 1 चम्मच बेकिंग सोडा (5 ग्राम)
  • 1 गिलास पानी (200 मिलीलीटर)

कैसे उपयोग करें

  • एक गिलास पानी में एक चम्मच बेकिंग सोडा मिलाएँ और इसे दिन में एक बार पियें।
  • बेहतर नतीजे पाने के लिए बेकिंग सोडा को पानी में मिलाएँ और इस पानी से 5 से 10 मिनट तक स्नान करें।
  • इस इलाज को एक सप्ताह के लिए या राहत न मिलने तक दोहराते रहें।

जैसा कि आपने देखा, ऐसे कई प्राकृतिक ट्रीटमेंट हैं जो वेजाइनल डिस्चार्ज और अन्य यीस्ट इन्फेक्शन से बचने में मददगार साबित हो सकते हैं। हमारी सलाह मानते हुए आप उस उपाय को अपनाएँ जो आपको सबसे अधिक पसंद आया हो!

  • Medina, Ruth, Adolfo Rechkemmer, and Marco Garcia-Hjarles. “Prevalencia de vaginitis y vaginosis bacteriana en pacientes con flujo vaginal anormal en el Hospital Nacional Arzobispo Loayza.” Revista Medica Herediana 10.4 (1999): 144-150.
  • Puentes Rizo, Elisa María, et al. “Comportamiento del Síndrome de flujo vaginal en el Consultorio 16, Policlínico Párraga.” Revista Cubana de Obstetricia y Ginecología 35.3 (2009): 11-23.
  • Vidal Borras, Emilio, and Crispina Justa Ugarte Rodríguez. “Síndrome de flujo vaginal.” Revista Cubana de Obstetricia y Ginecología 36.4 (2010): 594-602.