35 की उम्र के बाद माँ बनने के 6 फायदे

जून 19, 2019
"दादी माँ", “थकी हुई माँ”आम तौर पर 30 की उम्र के बाद माँ बनने पर ऐसा कहकर मज़ाक उड़ाया जाता है। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि युवावस्था में माँ बनने के मुकाबले देर से माँ बनने के कई फायदे हैं? ऐसे कौनसे फायदे हैं, उन्हें जानने के लिए आगे पढ़ें

35 की उम्र के बाद माँ बनना आसान नहीं होता है। समय के साथ, समाज ने बड़ी उम्र में बनी माँ को “कम जोशीली माँ” या “थकी हुई माँ” जैसे मखौल उड़ाने की प्रथा को स्थान दिया है।

केवल कुछ साल पहले तक, 30 की उम्र के बाद माँ बनने को जोखिम भरा माना जाता था। लोग यह मानते थे कि 30 साल बाद बनी माँ का उसके बच्चे के स्वास्थ्य पर नकारात्मक असर होता है। हालांकि, अब हम सभी जानते हैं कि ऐसी कोई बात नहीं है।

35 की उम्र के बाद माँ बनना: बढ़ता हुआ ट्रेंड

बढ़ती उम्र में प्रसूति जैसी जनसांख्यिकीय घटना विकसित देशों में बढ़ रही है। यह प्रवृत्ति उच्च दक्षता वाली गर्भनिरोधक विधियां, लैंगिक समानता और महिलाओं के शिक्षा प्राप्त करने में आई तेजी के कारण हुई है।

35 की उम्र के बाद माँ बनने के साथ आर्थिक पहलु भी जुड़ा हुआ है। उदाहरण के लिए, अब नौकरी के क्षेत्र में और आर्थिक सुरक्षा में महिलाओं की भी बड़ी हिस्सेदारी है।

तो क्या आप भी 35 की उम्र के बाद माँ बनना चाहेंगी?

हाल के अध्ययन क्या कहते हैं?

30 के बाद माँ-अध्ययन

कुछ अध्ययनों में कहा गया है कि बच्चे पैदा करने की सबसे सुरक्षित आयु सीमा अभी भी 20 से 35 वर्ष है। हालांकि, बस कुछ महीनों पहले, इंटरनेशनल जर्नल ऑफ एपिडेमियोलॉजी  ने 35 से अधिक उम्र की महिलाओं और उनके बच्चों के अध्ययन के परिणाम प्रकाशित किए।

इसके आश्चर्यजनक परिणाम थे। निष्कर्ष बताते हैं, कि जिन बच्चों की माँ 35 से 39 वर्ष की उम्र के बीच थीं, उन्होंने उन टेस्ट में काफी अच्छा स्कोर किया था, जो उनकी मौखिक संज्ञानात्मक क्षमता या वर्बल कॉग्निटिव एबिलिटी को मापते थे। वास्तव में, छोटी उम्र वाली माताओं की तुलना में उनका बेहतर स्कोर था।

हालांकि, पिछली सदियों की तुलना में ये परिणाम अब अलग कैसे हो गए? ये मतभेद कई कारकों पर निर्भर था, जैसे कि:

  • परीक्षण किए गए बच्चे परिवार के सबसे छोटे बच्चे थे। इसका यह मतलब निकलता है कि बच्चों को सीमित ध्यान और पालन-पोषण मिला।
  • आर्थिक स्थिति। अधिक बच्चों वाले परिवारों में अक्सर कम आमदनी और अवसर होते थे। उनकी इस स्थिति के कारण, उनके पास स्वस्थ आहार की कमी थी, साथ ही स्वास्थ्य सेवाएं ज्यादा नहीं थी। नतीजतन, संसाधनों की कमी का विकास पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा।

इसलिए, यदि आप 35 पार कर चुकी हैं और माँ बनने के बारे में सोच रही हैं, तो हम सिफारिश करते हैं कि आप नीचे दिए गए तर्क पढ़ें ताकि आप सही निर्णय लेने के लिए अधिक आश्वस्त और अवगत हो सकें।

1. अधिक परिपक्वता के साथ मातृत्व का सामना करना

इस बात का मतलब यह नहीं है कि युवा माताएं परिपक्व माता नहीं हो सकती हैं।

हालांकि, 35 की उम्र के बाद एक महिला गर्भावस्था की जटिलताओं के प्रति ज्यादा जागरूक होती है। वह खुद का ख्याल रखने के लिए कड़ी मेहनत करती है और, सबसे जरूरी बात, आने वाले संभावित जीवन परिवर्तनों के बारे में सोचकर योजना बनाती है।

इसे भी पढ़ें:

अपने बच्चों के सामने झगड़ने का नतीज़ा

2. बेहतर आर्थिक स्थिरता

30 की उम्र के बाद माँ-आर्थिक स्थिरता

आम तौर पर, 35 की उम्र के बाद लोगों के पास अधिक शैक्षिक और पेशेवर अनुभव होता है, जो अधिक स्थिर आमदनी का आश्वासन देता है नतीजतन, माता-पिता अपने बच्चों को अधिक समय और ध्यान दे सकते हैं।

3. अधिक अनुभव

अगर हम प्रसूति या प्रेगनेंसी के बारे में बात कर रहे हैं, तो अनुभव कभी पर्याप्त नहीं होता है। समझ, सहानुभूति, और धैर्य (एक-दूसरों के बीच) जैसी ताकतें माताओं को सकारात्मक मानसिकता के साथ मातृत्व की चुनौतियों का सामना करने में मदद करती हैं

इसके अलावा, विभिन्न प्रकार के तजुर्बे जो कि एक महिला को पूरे जीवन में मिलते हैं, वे बच्चों के लिए एक अच्छे उदाहरण के रूप में काम करने में मदद करते हैं।

4. भावनात्मक स्थिरता

भावनात्मक स्थिरता

उम्र के साथ, अपने बारे में हमारी बेहतर समझ होती है, जो युवाओं के मामले में थोड़ा मुश्किल है। हम सीखते हैं कि निर्णय कैसे लें, अपनी गलतियों को कैसे स्वीकारें, नम्र और अधिक स्थिर संबंध कैसे विकसित करें।

ये नींव हमारे बच्चों के साथ संबंधों और उनकी परवरिश को समृद्ध करती है। वास्तव में, यह उन्हें अधिक भावनात्मक स्थिरता प्रदान करती है। इस तरह का वातावरण एक स्वस्थ मनोवैज्ञानिक परिवेश, बेहतर सुरक्षा और बच्चों के लिए एक अच्छा उदाहरण प्रदान करता है।

इसे भी पढ़ें:

 बचपन में प्यार न मिलने पर बड़े होकर लोग कैसे बन जाते हैं

5. लंबे जीवन की उम्मीद बढ़ाता है

विभिन्न अध्ययनों के नतीजे बताते हैं कि 33 वर्ष के बाद जन्म देने वाली महिलाओं को उन लोगों की तुलना में अधिक समय तक जीवित रहने की संभावना है, जिन्होंने अपने सबसे छोटे बच्चे को 29 वर्ष में जन्म दिया था ।

दूसरे शब्दों में चलन के मुताबिक प्रचलित राय के विपरीत आपको बच्चों के साथ आनंद लेने के लिए और अधिक समय होगा।

6. स्वस्थ जीवनशैली

माँ-जीवनशैली

अक्सर, 35 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को अपने शरीर की जरूरतों की बेहतर समझ होती है। दूसरे शब्दों में,  वे अपने स्वास्थ्य पर अधिक ध्यान देते हैं। इसमें स्वस्थ आहार और एक्सरसाइज की आदतें शामिल हैं।

जब आप बच्चा पैदा करने का फैसला लेती हैं, तो आपको अपनी आदतों को विशेष रूप से बदलने की जरूरत नहीं होती है, क्योंकि आप पहले ही एक संतुलित और स्वस्थ जीवनशैली जीती हैं।

इसे भी पढ़ें:

नाती-पोते हमें ये 4 अद्भुत बातें सिखाते हैं

निष्कर्ष

अंत में, माँ के जीवन की गुणवत्ता का उनके बच्चों के विकास पर प्रत्यक्ष प्रभाव पड़ता है ।

इसके बारे में कोई संदेह नहीं है, 35 की उम्र के बाद माँ होने के कई फायदे हैं। हालांकि, इस बात को नकारना नहीं चाहिए कि बाद के वर्षों में गर्भावस्था जटिलताएं भी लाती है। इसलिए, किसी स्पेशलिस्ट से इस बारे में सलाह लें ताकि आप जान सकें कि आपको अपने बारे में विशिष्ट रूप से क्या जानने की आवश्यकता है ।

आप क्या सोचती हैं?

  • Bewley, S. and Davies, M. The most secure age for childbearing remains 20-35. BMJ, 2005; 331:588
  • Instituto Nacional de Estadística. [Internet]. Movimiento Natural de la Población (Nacimientos, Defunciones y Matrimonios). Indicadores Demográficos Básicos. Año 2016. Datos provisionales. 2017. Disponible en: http://www.ine.es/prensa/mnp_2016_p.pdf
  • Fangui Sun, Paola Sebastiani, Nicole Schupf, Harold Bae, Stacy L, Andersen, Avery McIntosh, Haley Abel, Irma T. Elo, and Thomas T.Perls. Extended Maternal Age at Birth of Last Child and Women’s
    Longevity in the Long Life Family Study. Menopause, 2015; 22(1): pp. 26–31.
  • Mills, M., Rindfuss, R.R., McDonald, P. and te Velde, E., on behalf of the ESHRE Reproduction
    and Society Task Force. Why do people postpone parenthood? Reasons and social policy incentives. Human Reproduction Update, 2011; 17(6): pp. 848–860.