घर से सीलन ख़त्म करने के 5 तरीके

जून 21, 2019
घर की दीवारों को खराब कर देने वाली सीलन के धब्बे बदसूरत तो होते ही हैं, हमारे आसपास रह रहे लोगों की सेहत पर भी बुरा असर डाल सकते हैं। इन उपायों की मदद से आप अपने घर को सीलन-मुक्त बना सकते हैं।

कई लोगों के लिए उनके घर की सीलन किसी बड़े सिरदर्द जैसी होती है, विशेषतः उन लोगों के लिए जिनके घर नम जगहों में होते हैं। खुशकिस्मती से, कुछ आसान उपायों को अपनाकर आप सीलन व उसके दुष्प्रभावों से छुटकारा पा सकते हैं।

बाहर ही की तरह, घर के अंदर भी 60 या 70% से ऊपर की नमी को ज़्यादा ही माना जाता है। इससे कई परेशानियां हो सकती हैं, जैसे कि:

  • कुटकियां
  • दुर्गंध
  • बैक्टीरिया और फफूंद
  • दीवारों और कोनों में उगती फफूंद
  • घर व अन्य चीज़ों का विकृत होना

लोगों पर बुरी छाप छोड़ने और उन्हें बीमार कर देने के अलावा सीलन उन लोगों को सबसे ज़्यादा प्रभावित करती है, जो किसी एलर्जी या सांस की बीमारी से ग्रस्त होते हैं।

इसीलिए सीलन से छुटकारा पाने के लिए हमें जल्द से जल्द कोई ठोस कदम उठाने चाहिए। इन उपायों की मदद से आप अपने घर से सीलन का नामोनिशान मिटा सकते हैं:

अपने घर से सीलन को हटाने के उपाय

सीलन को हटाने के उपाय

1. वेंटिलेशन

सबसे ज़रूरी उपाय यही है। आपको यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि आपके घर में हवा आसानी से आ-जा रही है, विशेषतः अगर आप उन जगहों में रहते हैं जहाँ नमी से संबंधित समस्याएं खड़े हो जाने की अधिक संभावना होती है। कोशिश करें कि आपके घर की खिड़कियाँ ज़्यादा से ज़्यादा खुली रहें। अगर इससे भी बात न बने तो पंखा चलाकर अपने घर में ताज़गी का माहौल बनाए रखें।

दूसरी तरफ, एयर कंडीशनर की मदद से आप अपने घर के उन हिस्सों को नमी-मुक्त रख सकते हैं, जहाँ हवा शायद ही कभी पहुँचती हो। लेकिन ए.सी. का ज़रुरत से ज़्यादा इस्तेमाल न करें। बीमारियों और नाक बंद होने जैसी समस्याओं से बचे रहने के लिए हमारे फेफड़ों में जाने वाली हवा में थोड़ी-सी नमी का होना ज़रूरी जो होता है।

इसे भी पढ़ें:  बाथरूम से मिनरल डिपॉज़िट हटाने के घरेलू उपाय

2. सीलन की जड़ तक पहुंचें

अगर आपको अपने घर के किस्सी हिस्से में सीलन होती दिखाई देती है, तो आपको उसके कारण का पता लगाना चाहिए। अगर कहीं कोई पाइप टूट गई है या पानी लीक हो रहा है तो दीवारों पर धीरे-धीरे बढ़ने वाले धब्बों के रूप में उसका असर दिखाई देने लगेगा।

ध्यान रखें कि इन लीकेजों को समय रहते ठीक न करवाने से स्थिति बद से बदतर हो सकती है व आपके घर में पानी टपकने जैसी सम्सयाएं भी पैदा हो सकती हैं। ऐसा न होने दें!

डीह्युमिडीफायर

3. डीह्युमिडीफायर का इस्तेमाल करें

बरसाती या ठंडे इलाकों के लिए यह उपकरण उपयुक्त होता है। ऐसी जगहों पर घर को स्थायी रूप से वेंटिलेट कर देने की कम संभावना की वजह से नमी आसानी से जमा हो जाती है।

ऐसे में, अगर आप अपने घर को सीलन से मुक्त करना चाहते हैं तो इस उपकरण की मदद से आप नमी को आसानी से सोखकर उसे निकाल बाहर कर सकते हैं। अपने बिजली के बिल की चिंता न करें। यह उपकरण भी किसी एयर कंडीशनर जितनी ही बिजली खींचता है। यह अलग-अलग साइज़ और कैपेसिटी में आता है।

इसे भी पढ़ें: आपकी कई बीमारियों का अचूक इलाज़ है शहद में घुला बेकिंग सोडा

4. नमक का इस्तेमाल कर सीलन से मुक्ति पाएं

क्या आपको पता था कि आप ऐसा भी कर सकते हैं? आपको एक छिछले डिब्बे और एक किलो नमक के अलावा और किसी चीज़ की ज़रुरत नहीं है। नमक को डिब्बे में रखकर आप देखेंगे कि बस दो ही दिनों में उसने काफ़ी सारी नमी को सोख लिया है।

नमक में सोखने की अद्भुत क्षमता होती है। घर को सीलन से छुटकारा दिलाने के अलावा उसका इस्तेमाल कपड़ों के दाग-धब्बों को हटाने के लिए भी किया जा सकता है। जब आप देखें कि नमक काफ़ी गीला हो चुका या फिर उसका रंग काला पड़ चुका है, तो समझ लें कि अब उसे बदलने का समय आ गया है।

5. सीलन से बचने की अन्य तरकीबें

ऊपर दिए उपायों के अलावा अपने घर में सीलन को होने से रोकना बेहद ज़रूरी होता है। बस इन सरल-से उपायों का पालन करें:

  • खाना बनाते वक़्त चिमनी को ऑन रखें।
  • कभी भी हीटर को 20º से ऊपर न चलाएं क्योंकि इससे दीवारों और अन्य जगहों पर सीलन हो जाती है।
  • अपने कपड़ों को बाहर डालकर सुखाएं। उन्हें अंदर छोड़ देने से पूरे कमरे में नमी फ़ैल जाती है।
  • एक ही जगह पर कई पौधों को न रखें। इससे कुछ चीज़ों से उठने वाली भाप, जिसे हम कुहरा कहते हैं, उत्पन्न हो सकती है।

अंत में, आपको अपने घर में प्राकृतिक रोशनी और हवा की पर्याप्त मात्रा बनाए रखनी चाहिए। आपके घर में ऐसे खिड़की-दरवाज़े भी होने चाहिए, जिनसे सूरज की रोशनी अंदर आ सके। आपको अपने घर के फर्नीचर की जगह भी बदलती रहनी चाहिए ताकि हवा घर के कोने-कोने तक जा सके।

इन टिप्स का पालन करने से सीलन से बचना व छुटकारा पाना बच्चों के खेल जैसा हो जाता है। ऐसा करने के बाद, आपकी सेहत और जेब, दोनों पर ही अच्छा असर पड़ेगा क्योंकि बार-बार पेंट करवाने पर आपको कोई खर्चा नहीं करना पड़ेगा।

  • Torén, K., Albin, M., & Järvholm, B. (2010). Systematiska kunskapsöversikter; 1. Betydelsen av fukt och mögel i inomhusmiljö för astma hos vuxna. Arbete Och Hälsa.
  • Åberg, N. (1995). Atopiska sjukdomar hos skolbarn i relation till boendefaktorer och förkylningsfrekvens. SLS.
  • Straube, J. F. (2002). Moisture in buildings. ASHRAE Journal.