करिश्माई लोगों की 5 खूबियाँ: क्या आप भी उनमें से एक हैं?

करिश्माई व्यक्तित्व वाले लोगों की ज़िन्दगी में भी उतनी ही परेशानियाँ होती हैं, जितनी बाकी सब की ज़िन्दगी में होती हैं। हाँ, होंठों पर एक मुस्कान और मन में एक अच्छी सोच के साथ उन परेशानियों का सामना करने की कला उन्हें बखूबी आती है।
करिश्माई लोगों की 5 खूबियाँ: क्या आप भी उनमें से एक हैं?

आखिरी अपडेट: 20 नवम्बर, 2018

हम सभी जानते हैं, करिश्माई व्यक्तित्व वाले लोग कैसे होते हैं और उनकी संगति में हमें कैसा महसूस होता है। उनमें कुछ तो बात होती है – शायद कोई रोशनी, कोई आकर्षण या फ़िर एक ऐसी सुंदरता, जिसका उनके तन से कोई लेना-देना नहीं होता।

शुरू-शुरू में हो सकता है, हमें यही लगे कि दूसरों को आकर्षित करने की यह खूबी वे अपनी माँ के पेट से सीखकर आते हैं, और यह कि दूसरों के साथ पेश आने का उनका मनमोहक तरीका कुदरती है।

लेकिन यह सच नहीं है। आज जब ज़िन्दगी की दौड़ में सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ना सिखाने वाले “कोच” और गुरुओं की भरमार-सी है, हमें इस बात की अनदेखी नहीं करनी चाहिए कि एक करिश्माई व्यक्तित्व का सीधा संबंध उस इंसान की भावनात्मक सूझबूझ से होता है

यहाँ हम इस बात को भी साफ़ कर देना चाहेंगे कि इस गुण का हमारे रूप-रंग से कोई संबंध नहीं होता। इसके पीछे ऐसी गहरी और दिलचस्प बातों का हाथ होता है, जो हमारी शकल या शरीर से कहीं बढ़कर होती हैं।

हमारा इशारा दूसरों के साथ आपकी बातचीत, बर्ताव और यहाँ तक कि उन्हें प्रेरित करने के आपके तरीके की तरफ़ है।

आज हम आपको ऐसे लोगों की कुछ खूबियों के बारे में बताएँगे।

1. करिश्माई व्यक्तित्व वाले लोगों को दूसरों के साथ कनेक्ट करना आता है

करिश्माई व्यक्तित्व वाले लोगों दूसरों से जुड़ पाते हैं

भावनात्मक सूझबूझ के बारे में सबसे ज़्यादा किताबें लिखने वाले व्यक्तियों की सूची में ट्रेविस ब्रैडबेरी का नाम भी आता है।

उनके सारे लेखन-कार्य का एकमात्र लक्ष्य है दूसरों को उनकी काबिलियत से रूबरू करवाना, ताकि वे एक सफ़ल और खुशहाल जीवन जी सकें।

आपको यह भी लग सकता है कि करिश्माई व्यक्तित्व वाले लोग दूसरों के साथ इसलिए कनेक्ट कर पाते हैं क्योंकि उनमें कुछ “हटकर” होता है

उनमें अगर कुछ “हटकर” होता है, तो वे हैं कुछ ऐसे गुण जिन्हें कोई भी आसानी से अपना सकता है:

  • हमदर्दी: सामने वाले इंसान की कद्र करना वे जानते हैं।
  • करिश्माई लोग भावनात्मक रूप से खुले होते हैं और दूसरों के साथ गर्मजोशी से पेश आते हैं।
  • उनकी बातों और हाव-भाव में उनका आत्मविश्वास झलकता है।
  • अपने साथ वाले व्यक्ति को वे ख़ास महसूस करवाते हैं।

2. अपनी मर्यादा और सम्मान की उन्हें समझ होती है

करिश्माई लोगों को अपने सम्मान की परवाह होती है

करिश्माई लोग दूसरों को आकर्षित इसलिए करते हैं कि उनके दिल में अपने आसपास मौजूद लोगों के लिए भी उतना ही सम्मान होता है, जितना खुद अपने लिए।

  • वे अपनी कमज़ोरियों को बाहर नहीं आने देते, किसी को डराते-धमकाते नहीं, अपने व्यक्तित्व के आसपास कोई दीवार खड़ी नहीं करते और स्वार्थ से भरपूर कटाक्ष का इस्तेमाल नहीं करते।
  • वे यह भी समझते हैं कि सभी लोग सम्मान के हक़दार होते हैं। जहाँ सम्मान होता है, वहां रिश्ते “खिल” उठते हैं और अपनी खुशबू से माहौल को महका देते हैं।
  • इस बात की ओर हम सभी का ध्यान कभी न कभी गया ही होगा कि जब कोई हमारे साथ अच्छा व्यवहार कर हमारी कद्र करता है तो हमें भी अपनी अहमियत का एहसास होता है। हममें एक तरह की शक्ति का संचार हो जाता है।

3. अपनी व्यक्तिगत सीमाओं का बचाव करें

एक बात हमें सभी लोगों में पसंद आती है: दूसरों के वक़्त और प्राइवेट स्पेस की कद्र करना आना, सभी की व्यक्तिगत सीमाओं को समझकर उनका सम्मान करना।

  • ऐसे बहुत से लोग हैं, जो हमारे निजी मामलों में दखलंदाज़ी करना, हमसे एहसान माँगना और हमारे आत्मसम्मान और आत्मसंतुलन के साथ छेड़छाड़ कर हमारी मर्यादा का उल्लंघन करने को अपना हक़ समझते हैं।
  • लेकिन करिश्माई व्यक्तित्व वाले लोग आपके स्पेस की रक्षा कर उसका सम्मान करते हैं। किसी दिन अगर आप उनसे कह दें कि “आज मेरा बाहर चलने का मन नहीं है” या फिर “मैं तुम्हारी बात से सहमत नहीं हूँ” तो भी वे अपना आपा नहीं खोते।

बिन बोले भी किसी रिश्ते को सम्मान से भरकर हमें अपने साथ और अपनी कद्र का हकदार कैसा बनाना हैं, इस बात को वे बखूबी समझते हैं।

4. ज़िन्दगी के प्रति उनका एक सकारात्मक नज़रिया होता है

ज़िन्दगी में हमारा नज़रिया हमारे व्यक्तित्व को करिश्माई बनाता है
  • सकारात्मक शब्द किसी दुधारी तलवार जैसा होता है। ऐसे बहुत से लोग हैं जिनकी सकारात्मकता अवास्तविक-सी होती है। उन्हें लगता है कि हर परेशानी का समाधान खुद ही निकल आता है, या फ़िर सिर्फ़ चाहने से ही हमारे साथ सब कुछ अच्छा होने लग जाता है।
  • लेकिन करिश्माई लोग ऐसे नहीं होते। वे जानते हैं कि ज़िन्दगी का दूसरा नाम संघर्ष, मेहनत और चुनौतियों से लड़ना होता है।
  • उनकी हरेक हरकत से उम्मीद, हिम्मत और जोश से सींचा उनका सकारात्मक रवैया झलकता है।

उनकी ऊर्जा और उत्साह किसी फैलनेवाली बीमारी जैसे होते हैं।

5. मुश्किलों के तूफ़ान में वे उम्मीद की किसी किरण जैसे होते हैं

वे हमें दिलासा, हौसला और प्रेरणा देते हैं। करिश्माई लोगों को देखकर मुश्किल चीज़ें आसान लगने लगती हैं। उनका सादगीपूर्ण व्यवहार बदले में हमसे कुछ मांगे बगैर ही हमें बहुत कुछ दे जाता है।

  • मुश्किलों का सामना करने के लिए सबसे ज़रूरी चीज़ है इच्छाशक्ति: इसका मतलब यह भी होता है कि उन परिस्थितियों में मौकों को खोज निकालना, जहाँ दूसरों को सिर्फ़ और सिर्फ़ परेशानियां ही दिखाई देती हैं, सीमाओं को तोड़कर आगे बढ़ जाने की हिम्मत रखना और सभी के भले को ध्यान में रखते हुए फैसले लेना।
  • यह कोई बच्चों का खेल नहीं होता। दूसरों में अपनी झलक देखकर सभी के भले के बारे में सोचने वाले इस नज़रिये को अपना पाना हर किसी के बस की बात नहीं होती। आजकल दूसरों के प्रति यही सहिष्णुता तो गायब होती जा रही है।
  • रोज़मर्रा की अपनी ज़िन्दगी में एक करिश्माई व्यक्तित्व को अपना पाना एक टेढ़ी खीर हो सकती है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि उसे पाने की आप कोशिश ही न करें। ऐसा करने के लिए अपनी परवाह करना शुरू कर व्यक्तिगत तरक्की की उस राह को पकड़ लें, जो धीरे-धीरे आपको खुश रहना सिखाकर दूसरों की ख़ुशी का सबब बनने की भी प्रेरणा देगी।

जब कोई व्यक्ति खुद से खुश और संतुष्ट होता है तो यह उसके चेहरे पर साफ़-साफ़ दिखाई देता है। और तभी उसका जादू लोगों के सिर चढ़कर बोलने लगता है व सभी उसकी तरफ़ खिंचे चले आते हैं।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
5 खासियतें जो बनाती हैं एक मजबूत पर्सनालिटी: क्या ये आपके व्यक्तित्व में  हैं?
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
5 खासियतें जो बनाती हैं एक मजबूत पर्सनालिटी: क्या ये आपके व्यक्तित्व में हैं?

आम-तौर पर एक मजबूत पर्सनालिटी का होना थोड़ी असुविधा की वजह बन सकती है। कभी-कभी, हम मजबूत पर्सनालिटी वाले ऐसे लोगों से मिलते हैं जो कई चीजों के लिये ...



  • Bradberry, Travis. (2012). Inteligencia emocional 2.0: Estrategias para conocer y aumentar su coeficiente. Editorial Conecta.
  • Bradberry, Travis. (2007). El código de la personalidad. Grupo Editorial Norma.