स्नेह भरा स्पर्श दिल को राहत देता है

स्नेह भरा स्पर्श संबंधों को मजबूत करता है, एहसास और भावनाओं को दूसरों तक पहुँचाता है। हालांकि हम स्नेह की इस अद्भुत भावना को दिखाने का उतना अभ्यास नहीं करते जितना करना चाहिए।
स्नेह भरा स्पर्श दिल को राहत देता है

आखिरी अपडेट: 05 नवम्बर, 2018

स्नेह भरा स्पर्श स्नेह जताने और रिश्तों को मजबूत करने, एहसास और भावनाओं को जगाने का एक तरीका है। हमारी त्वचा में अनगिनत रिसेप्टर हैं जो एंग्जायटी से छुटकारा दिलाते हैं, खुशी की भावना को बढ़ाते हैं और संबंधों को मजबूत करते हैं।

अब हम जानते हैं, हर तरह के स्पर्श हमें अच्छे नहीं लगते और यह भी कि सभी शारीरिक संपर्क आरामदेह या सुखद नहीं होते। स्नेह भरा स्पर्श विशेष रूप से उन लोगों के लिए होता है जिनके लिए हमारे दिल में एक ख़ास जगह होती है। आप विश्वास करें या नहीं, यह लगभग किसी “पोषण” की तरह ही जरूरी है।

एक बच्चे को स्नेह भरा स्पर्श की ज़रूरत होती है जिससे वह प्यार को महसूस कर सके और उसके दिमाग की संरचनाएँ ठीक से विकसित हो सकें।

एक साथी जो स्पर्श के आर्ट की जरूरत को नहीं समझ पाता वह अपने रिश्ते की पूरी तरह से सराहना नहीं कर सकता – वे साधारण से भाव और प्रेम भरे शब्द जो एक जोड़े के जीवन में चमत्कार करते हैं।

आज हम स्नेह से जुड़े स्वास्थ्य संबंधी फायदों के बारे में बात करेंगे।

इंद्रियों और दिल से किया हुआ स्पर्श

आपकी त्वचा में 5 मिलियन से ज्यादा न्यूरॉन होती हैं जो आपके पर्यावरण से प्राप्त भावनाओं और संवेदनाओं को ट्रांसमिट करती हैं।

त्वचा ठंड, गर्मी, घ्रणा, खुशी, मनोदशा और कई प्रकार की भावनाओं की संवेदनाओं को ट्रांसमिट करती है। ज़रा सोचिये, अपने बच्चे को बीमारी में जल्दी ठीक करने की क्षमता रखताने वाले एक माँ के स्नेह भरे स्पर्श, सपोर्ट देने के लिए एक मित्र के स्पर्श या प्रेम और स्नेह जताने के लिए आपके साथी के सच्चे प्रेम भरे स्पर्श के बारे में।

यह भी पढ़ें: दूरियाँ अपनों को गले लगाने से रोक लेकिन भावनाओं को नहीं

हम इस तथ्य को भी नहीं भूल सकते कि सभी जीवित प्राणी दूसरों के स्पर्श की तलाश करते हैं और इसका आनंद भी लेते हैं। पशु एक दूसरे को प्रेम से स्पर्श करते हैं और हमारे पालतू जानवर भी हमारे प्रति स्नेह दिखाते हैं। यह एक प्रकार की भाषा है जो भावनात्मक मस्तिष्क से सीधे आती है, जो स्पर्श के लाभों को समझती है।

स्नेह भरा स्पर्श सहानुभूति की कला है

जो कोई भी प्यार भरा स्पर्श देता है वह समझता है, यह कितना सुखद है। जिससे आप प्यार करते हैं उसकी त्वचा के स्पर्श का एहसास एक सकारात्मक और स्वस्थ संबंध बनाता है।

  • अब हमें यह बताना होगा, कुछ लोग प्रेम भरे स्पर्श को विशेष रूप से फोरप्ले या यौन उत्तेजना और उत्तेजना के पहले चरण के साथ जोड़ते हैं।

  • प्रेम पूर्ण स्पर्श की कला विशेष रूप से सेक्स तक सीमित नहीं है; यह मानवीय व्यवहार और सम्प्रेषण का एक अनिवार्य हिस्सा है। यह एक सम्बन्ध को शेयर करने का एक तरीका है, चाहे वह परिवार के किसी सदस्य, करीबी दोस्त या किसी अन्य महत्वपूर्ण व्यक्ति के साथ हो।

  • मैं आपको लालाड़-दुलार करता हूं क्योंकि मुझे पता है, आपको इसकी आवश्यकता है। मुझे पता है, यह आपको समझने में मदद करेगा कि मैं आपको कितना प्यार, सपोर्ट और सराहना करता हूँ। यह सब किसी ऐसे व्यक्ति से आने वाली सहानुभूति को दर्शाता है जो आपको बेहतर महसूस करने में मदद करना चाहता है। हालांकि हमें यह भी ध्यान में रखना चाहिए कि कुछ लोग प्रेम पूर्ण स्पर्श और आलिंगन का खुदगर्ज़ी के रूप में उपयोग कर सकते हैं और यह आपके लिए समस्या बन सकता है।

प्रेमभरा स्पर्श: हाथों से भावनाओँ का आदान प्रदान

जिन्दा जीवों के रिश्ते की गोंद ऑक्सीटोसिन

एक हार्मोन होने के साथ ही ऑक्सीटोसिन एक न्यूरोट्रांसमीटर है। इसे “गोंद” के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जो प्रेम, स्नेह और देखभाल को बढ़ावा देकर जीवित प्राणियों को एकसाथ बांधता है; तनाव को कम करता है; एक जोड़े और मां और बच्चे के बीच के बंधन को मजबूत करता है।

  • ऑक्सीटोसिन हाइपोथैलमस में उत्पन्न होता है और पूरे शरीर में फैलने से पहले पिट्यूटरी ग्रंथि से गुजरता है।

  • यह आकर्षक रसायन सहानुभूति, देखभाल, करुणा, साथ ही बढ़ती यौन इच्छाओं और यहां तक ​​कि स्तनपान कराने वाली माताओं में दूध उत्पादन जैसे व्यवहार को प्रोत्साहित करता है।

  • हमारे शरीर में जितना अधिक ऑक्सीटोसिन होगा, हमारा व्यवहार उतना कम आक्रामक होगा। यह वास्तव में अद्भुत है।

यह भी पढ़ें: खुद को दिलचस्प लोगों के घेरे में रखें दिलचस्पी लेने वालों के नहीं 

प्रेमभरा स्पर्श: गले लगाना

उन लोगों को छूने के डर को जाने दें जिन्हें हम प्यार करते हैं

कुछ लोग शर्मीले, असुरक्षित और शारीरिक स्पर्श से अपरिचित होते हैं। इस वजह से उनके लिए दूसरों के साथ समृद्ध संबंध बनाने में मुश्किल हो सकती है अगर वे इस प्रकार के ट्रांसमिशन का उपयोग नहीं करते हैं।

आपको पढ़ना चाहिए: अपने तरीके से खुश रहें, न की जैसा दूसरे लोग आपसे कहें

प्यार जो छूने, झुकाव, चुंबन या गले लगाने के माध्यम से व्यक्त नहीं किया जाता है वह आधे-अधूरे किस्म का प्यार होता है जो अक्सर अपने पीछे पीड़ितों को छोड़ देता है।

  • शब्दों के बिना इस प्रकार के ट्रांसमिशन मीडियम को अपनाने में संकोच न करें। इन रोज़मर्रा के इशारों को आज़माएं। गाल पर प्यार से हाथ फ़ेरना, सुबह अलविदा कहते समय गले लगाना या एक अप्रत्याशित चुंबन जो वैसे तो मामूली चीज है पर हमें एकसाथ रखता है।

  • अपने बच्चों के साथ ख़ास बंधन बनाना ना भूलें यह सुनिश्चित करें कि जब तक शिशु हैं, वे अपनी माँ के शरीर का स्पर्श प्राप्त करें, फिर जैसे-जैसे बड़े होने लगें, उन्हें ढेर सारा प्यार दें और गले लगायें
  • हम जानते हैं, एक समय ऐसा आएगा जब वे इन सबसे बचना चाहेंगे।, लेकिन असलियत में हर किसी को किसी प्रियजन द्वारा किया गया स्नेह भरा स्पर्श आनंदित करता है।

यह एक इशारा है जो आपका समर्थन दिखाता है, जैसे कि आप कहना चाहते हों, “मैं हमेशा तुम्हारे लिए रहूँगा” या “आप मेरे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।”

It might interest you...
आलिंगन के मनोवैज्ञानिक लाभ
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
आलिंगन के मनोवैज्ञानिक लाभ

जब आप मायूस होते हैं, जश्न मनाना चाहते हैं या किसी से अपने प्यार का इज़हार करना चाहते हैं तो किसी को गले लगाने से अच्छा तोहफा और कोई नहीं हो सकता। आ...



  • Gulledge, A. K., Gulledge, M. H., & Stahmannn, R. F. (2003). Romantic physical affection types and relationship satisfaction. The American Journal of Family Therapy31(4), 233-242.
  • Dainton, M., Stafford, L., & Canary, D. J. (1994). Maintenance strategies and physical affection as predictors of love, liking, and satisfaction in marriage. Communication Reports7(2), 88-98.