5 प्राकृतिक औषधियाँ: HPV का इलाज करने के लिए

अगस्त 3, 2018
इस आर्टिकल में हम आपको ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (HPV) के इलाज के लिए कुछ नेचुरल तरीकों के बारे में बतायेंगे। ये प्राकृतिक नुस्खे HPV वायरस से होने वाले संक्रमण को आसानी ख़त्म करने में बहुत कारगर होते हैं।

ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (HPV) एक यौन संक्रमित बीमारी है। कुछ खास मामलों में तो यह कैंसर की वजह भी बन जाता है। इसका ठीक से ईलाज किया जाना बहुत जरूरी है ताकि यह फिर से वापस न आए।

HPV के इलाज में मददगार कुछ प्राकृतिक औषधियों के बारे में जानने के लिए इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ते रहें।

HPV के बारे में आपको जो मालूम होना चाहिये

सबसे पहले यह बहुत जरूरी है कि आप इस रोग के पैदा होने के कारणों के बारे में जानें। फिर, उद्देश्य यह होना चाहिये कि इसे फैलने और बढ़ने से रोका जाये।

HPV आमतौर पर सबसे ज्यादा होने वाले यौन संक्रमण (sexually transmitted) में से एक है। इसकी सबसे बुरी बात यह है कि जिन्हें इन्फेक्शन होता है, उनमें से ज्यादातर लोगों को इसकी कोई जानकारी नहीं होती है। दरअसल कई बार इसके कोई भी लक्षण सामने नहीं आते।

कुल मिलाकर, ह्यूमन पैपिलोमा वायरस ग्रुप में लगभग 100 तरह के वायरस हैं। लेकिन, इनमें से कुछ वायरस ऐसे हैं जो दूसरों की तुलना में ज्यादा खतरनाक हैं। अगर इनका सही इलाज नहीं किया गया, तो ये कैंसर की वजह भी बन सकते हैं।

HPV बलगम (mucous) और स्किन में, खासकर पुरुष (male) या स्त्री (female) जननांगों में मस्से या गाँठ के रूप में संक्रमण पैदा करता है।

ये संक्रमण अस्थायी होते हैं और लम्बे समय के लिये इनका कोई खास महत्व नहीं होता है। सही इलाज की मदद से ये एक साल में ही गायब हो जाएंगे।

इसलिए, नियमित रूप से गाइनकलाजिकल परीक्षणों से गुजरना जरूरी है: अगर किसी महिला के गर्भाशय पर मस्सा है तो पैप टेस्ट और कॉलोनोस्कोपी दोनों से ही इसकी मौजूदगी का पता लगाया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: 6 गजब के उपचार जो मस्सों से छुटकारा दिलाकर बढ़ायेंगे आकर्षण

HPV की रोकथाम और उपचार

HPV ह्यूमन पैपिलोमा वायरस

अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन की रिपोर्ट के अनुसार, HPV का सीधा सम्बन्ध उम्र और यौन गतिविधियों से है। यही वजह है कि, इस इन्फेक्शन का सबसे ज्यादा असर 20 से 24 साल तक की उम्र के लोगों पर होता है।

जैसे-जैसे लोग बूढ़े होते जाते हैं, ऐसे मामलों की संख्या कम होती जाती है। डॉक्टरों का मानना है कि ऐसा इसलिए क्योंकि उनके रिश्ते ज्यादा स्थिर और मोनोगमस (monogamous) होते हैं।

किसी भी मामले में, रोकथाम बहुत जरूरी है। डॉक्टर सलाह देते हैं कि आप शारीरिक सम्बन्ध बनाने के दौरान सुरक्षा का ध्यान रखें और समय-समय पर जांच करवाते रहें (पुरुष और महिलाएं दोनों)।

एक टीका है जो किशोर लड़कियों को दिया जाता है। हालांकि, इसकी पक्की जानकारी नहीं कि ये टीका असरदार है या नहीं। इसके अध्ययन 100% निर्णायक नहीं हैं।

केवल महिलाएं ही इस वायरस की इकलौती वाहक नहीं होती हैं। कई वैज्ञानिक स्टडी ये बताती हैं कि लड़कों को भी यह इंजेक्शन लेना चाहिये।

जब जननांगों पर मस्से दिखाई देते हैं, तो गाइनकालजिस्ट खास एसिड, क्राइओथेरपी (क्षेत्र को ठंडा करने) या इलेक्ट्रो-सर्जिकल इन्सिश़न (हाई-वोल्टेज बिजली के द्वारा) की मदद से उन्हें हटा सकते हैं।

सच तो यह है कि, ऐसा कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं है जो HPV को जड़ से खत्म करता है। फिर भी, ऐसे कई अलग-अलग नेचुरल तरीके हैं जो इन्फेक्शन और मस्से को लौटने से रोकते हैं।

कई अलग-अलग कारणों (जैसे हार्मोनल और भावनात्मक परिवर्तन) की वजह से HPV वापस लौट जाता है और घाव पैदा करता है। नीचे दिए गए घरेलू नुस्खों का मकसद है कि आपका इम्यून सिस्टम मजबूत हो जाये और वायरस को “फिर से वापस आने” का मौका न मिले।

1. लहसुन (Garlic)

HPV का इलाज लहसुन

लहसुन में बहुत बड़ी संख्या में ऐसे गुण मौजूद होते हैं जो आपके स्वास्थ्य को फायदे पहुंचते हैं।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह एन्टीमाइक्रोबिअल होता है। इसका कारण इसके मुख्य घटकों में एलिसिन की क्रिया है।

  • आप रिफाइंड लहसुन कैप्सूल (हेल्थ फ़ूड स्टोर्स में पाए जाते हैं) ले सकते हैं या अपने खाने में इस्तेमाल होने वाले कच्चे लहसुन की मात्रा बढ़ा सकते हैं।

2. टी ट्री ऑयल (Tea Tree Oil)

HPV का इलाज टी ट्री ऑयल

यह उन नुस्खों में से एक है जो जननांगों के मस्सों के इलाज के लिए काफी ज्यादा इस्तेमाल किए जाते हैं।

आखिरकार, टी ट्री तेल एंटीवायरल, एंटी-फंगल और एंटीबैक्टीरियल जो होता है। यह घावों से कीटाणुओं को ख़त्म करता है, इन्फेक्शन का इलाज करता है, और त्वचा पर कोई नुकसानदेह असर भी नहीं डालता है।

  • इलाज बहुत आसान है: चाय के पौधे के तेल में एक रुई के गुच्छे को भिगो दें और इसे सोने से ठीक पहले प्रभावित भाग में लगायें

इसे भी पढ़ें:  7 कारण जो गर्भाशय के कैंसर के जिम्मेदार हो सकते हैं

3. अरंडी का तेल (Castor Oil)

HPV का इलाज अरंडी का तेल (Castor Oil)

इस मामले में, यह देसी नुस्खा है और इसके लिये बेकिंग सोडा भी चाहिये है। दोनों में ही मस्से को धीरे-धीरे गायब कर देने की ताकत है।

हालांकि, ध्यान रखें कि यह चुभन या जलन का कारण बन सकता है। इसके अलावा यह HPV वायरस को ख़त्म भी नहीं करेगा, यह केवल मस्सों का इलाज करने में सहायक है।

  • एक चम्मच बेकिंग सोडा के साथ अरंडी के तेल की सिर्फ दो या तीन बूँदें मिलायें।
  • इसे तब तक मिलाते रहें जब तक यह यह पेस्ट न बन जाए और फिर इसे प्रभावित जगह पर लगा लें

4. शहद और प्रोपोलिस (Honey and Propolis)

HPV का इलाज शहद और प्रोपोलिस (Honey and Propolis)

मधुमक्खी से मिलने वाले प्रोडक्ट आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए बहुत ही बढ़िया होते हैं। यही कारण है कि अगर आपको HPV की समस्या है, तो आपको इन चीजों का इस्तेमाल करना चाहिए। इससे वायरस ताकतवर नहीं हो पायेगा।

  • यह बहुत आसान है: बस हर सुबह (नाश्ते से पहले) बिस्कुट या टोस्ट में एक चम्मच प्रोपोलिस या शहद डालकर खाएं।
  • कुछ लोग इसे चाय में मिलाते हैं, हालांकि इसे उबालने से इसके कई गुण ख़त्म हो जाते हैं।

5. जूस

HPV का इलाज संतरे

आपके शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने और ह्यूमन पैपिलोमा वायरस से निपटने में मदद करने का एक और आसान तरीका जूस और फल (खासकर साइट्रस फल) हैं।

संतरे, अंगूर और नींबू में मौजूद विटामिन C किसी भी बैक्टीरिया या वायरस से होने वाली बीमारी को रोकने का सबसे अच्छा घरेलू उपाय है। हर दिन फलों का जूस पियें। बेहतर होगा अगर आप इसे नाश्ते से पहले लें और इसे खुद ही बनायें।

  • Walboomers, J. M. M., Jacobs, M. V., Manos, M. M., Bosch, F. X., Kummer, J. A., Shah, K. V., … Muñoz, N. (1999). Human papillomavirus is a necessary cause of invasive cervical cancer worldwide. Journal of Pathology. http://doi.org/10.1002/(SICI)1096-9896(199909)189:1<12::AID-PATH431>3.0.CO;2-F
  • Braaten, K. P., & Laufer, M. R. (2008). Human Papillomavirus (HPV), HPV-Related Disease, and the HPV Vaccine. Reviews in Obstetrics & Gynecology.
  • Carr, A.C.,Maggini, S. (2017).Vitamina C and immune function. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4976131/
  • Becerra Torrejón, Darwin José., Cabrera Ureña, Janette Claudia.,Solano, Marco. (2016). Efecto antibacteriano de la miel de abeja en diferentes concentraciones frente a Staphylococcus aureus. http://www.scielo.org.bo/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S1817-74332016000200007
  • VV.AA. (2015). Efectos secundarios de la aplicación tópica de un aceite de esencial. Dermatitis alérgica de contacto a aceite de árbol de té.http://scielo.isciii.es/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S1137-66272015000100023
  • VV.AA. (2011).Investigating Antibacterial Effects of Garlic (Allium sativum) Concentrate and Garlic-Derived Organosulfur Compounds on Campylobacter jejuni by Using Fourier Transform Infrared Spectroscopy, Raman Spectroscopy, and Electron Microscopy.https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3147487/
  • VV.AA. (2015).Tratamiento de las verrugas genitales: una actualización.https://scielo.conicyt.cl/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S0717-75262015000100012
  • VV.AA. (2010).Examen de papanicolaou: factores que influyen a las mujeres a no recibir el resultado.http://scielo.isciii.es/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S1695-61412010000300007