लहसुन आधारित 3 उपचार वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन होने पर

24 जुलाई, 2018
इस पोस्ट में, हम वेजाइनल इन्फेक्शन होने पर लहसुन पर आधारित 3 घरेलू उपचार शेयर करने जा रहे हैं। लहसुन नेचुरल एंटी-फंगल है जो फंगल इन्फेक्शन को जल्दी और असरदार ढंग से खत्म करने में मदद करेगा।

बहुत सी महिलाओं के लिए वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन एक आम समस्या है, और कुछ महिलाएं बार-बार इस परेशानी से पीड़ित होती हैं। इस तरह के वेजाइनल इन्फेक्शन में खुजली या जलन होती है।

नतीजतन, ये तकलीफ़ आपकी दिनचर्या के साथ-साथ रोमांटिक रिश्ते में भी रुकावट पैदा करती है। इसलिए, जितनी जल्दी हो सके नेचुरल तरीके से वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन का इलाज करना बेहद ज़रूरी है।

रिसर्च से पता चला है कि लहसुन एक शक्तिशाली नेचुरल एंटी-फंगल है। इसलिए फंगल इन्फेक्शन से छुटकारा दिलाने में लहसुन बहुत फायदेमंद होता है। आगे हम वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन होने पर लहसुन आधारित 3 घरेलू ट्रीटमेंट की जानकारी शेयर करने जा रहे हैं।

वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन (Vaginal Yeast Infections)

वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन

ज्यादातर महिलायें समय-समय पर या अक्सर यीस्ट इन्फेक्शन से पीड़ित रहती हैं।

वैसे तो वेजाइना में सूक्ष्मजीवों की भरमार होती है, फिर भी समस्या तब होती है जब उनमें से कुछ की अधिकता कई कारणों से बढ़ने लगती है। उनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं।

  • हार्मोनल परिवर्तन (उदाहरण के लिए रजोनिवृत्ति या मीनोपॉज के दौरान),
  • एंटीबायोटिक्स, स्टेरॉयड और गर्भ निरोधक गोलियां,
  • अत्यधिक गर्मी और आर्द्रता या ह्यूमिडिटी,
  • डायबिटीज,
  • वजन ज़्यादा होना,
  • सिंथेटिक अंडरगार्मेंट पहनने से,
  • अधिक मात्रा में चीनी और रिफाइंड खाद्य पदार्थ

फंगल इन्फेक्शन के सबसे आम लक्षण जलन, खुजली, सूजन और सफेद द्रव का स्राव हैं

जब हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम ठीक से काम करता है, तो इन सूक्ष्मजीवों को संतुलित करने की ज़िम्मेदारी उचित रूप से निभाई जाती है। इन सूक्ष्मजीवों में कैंडिडा अल्बिकंस एक प्रमुख कारण है।

कैंडिडा अल्बिकंस (Candida albicans)

सबसे आम वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन कैंडिडा अल्बिकंस के कारण होता है। कई महिलाएं कुछ हद तक इससे प्रभावित होती हैं। असल में, कुछ को इसके होने का पता भी नहीं  चल पाता है।

हम यह बताना चाहते हैं कि लगभग सभी महिलाओं के शरीर में यह बैक्टीरिया होता है। हालांकि, यह आमतौर पर संतुलन में रहता है और अक्सर किसी स्वास्थ्य समस्या का कारण नहीं बनता है।

जब भी आपको ऐसे संक्रमण का कोई लक्षण दिखना शुरू हो, तो इन प्राकृतिक उपचारों या किसी अन्य उचित उपचार के साथ इन्फेक्शन का इलाज करना चाहिए।

कैंडिडिएसिस (candidiasis) को रोकना या इसका इलाज करना बहुत जरूरी है क्योंकि यह आपके शरीर के पाचन तंत्र, श्वसन प्रणाली या अन्य हिस्सों में भी फैल सकता है।

लहसुन के लाभ (Benefits of Garlic)

वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन: लहसुन के लाभ

लहसुन में औषधीय गुण होते हैं जिनका सदियों से कई बीमारियों के इलाज में उपयोग किया जाता रहा है। बिना किसी साइड इफेक्ट के यह कमाल के एंटीबायोटिक के रूप में जाना जाता है। साथ-साथ ब्लड सर्कुलेशन में सुधार और कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों को रोकने की क्षमता भी लहसुन में होती है।

लहसुन एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट भी है और फ्री रेडिकल्स से लड़ता है। इसके शुद्धिकरण गुण शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते हैं ।

यह सब चीजें मिलकर लहसुन को आपके उत्तम स्वास्थ्य के लिए एक महान निवारक औषधि बनाती हैं।

फंगल इन्फेक्शन के मामले में लहसुन एक शक्तिशाली औषधि है। इसका मुख्य कारण है लहसुन में मौजूद उच्च एलिसिन मात्रा, जिससे यह बैक्टीरिया और वायरस की एक बड़ी रेंज से लड़ने में सक्षम है

साथ ही हमें याद रखना चाहिए कि लहसुन खाकर हम इन सभी लाभों का आनंद ले सकते हैं। इसके अलावा हम इसका स्थानीय उपयोग भी कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:

7 ब्यूटी ट्रिक्स जो वैसलीन का उपयोग करके सौन्दर्य निखारेंगी

वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन के लिए तीन घरेलू उपचार

1. सीधे लहसुन का प्रयोग

वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन: लहसुन का प्रयोग

सबसे आसान घरेलू उपचार में आप ताजा कटे लहसुन की आधी कली सीधे वेजाइना पर रख सकती हैं

  • सुविधा के लिए, आप सुई का उपयोग कर एक धागे को लहसुन से बांध सकती हैं ताकि आप इसे आसानी से टैम्पन की तरह उपयोग कर सकें। ऐसा करके आप इसके भीतर अटकने से बच सकती हैं।

लहसुन को पूरी रात के लिए भीतर रहने दें, जब तक यह किसी गंभीर असुविधा या जलन का कारण नहीं बनता है। आप हल्की खुजली या जलन महसूस कर सकती हैं।

इस आसान उपाय से लहसुन धीरे-धीरे एलिसिन छोड़ेगा और वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन को खत्म कर देगा।

2. लहसुन की पोटली या पाउच

यदि आप थोड़ा और विस्तृत उपचार करना चाहती हैं, तो नीचे दिए नुस्खे को आज़मा सकती हैं:

  • लहसुन की दो या तीन कलियाँ कूट लें।
  • इसे एक स्टर्लाइज़ गॉज़ में लपेटें जैसे छोटी पोटली या पाउच बनाते हैं। इस पोटली को ठीक से बांध लें।
  • इस पाउच को वेजाइना में डालें जैसे टैम्पन को डाला जाता है, ध्यान रहे कि इसकी गाँठ और धागा बाहरी ओर हो।
  • इसे अधिक से अधिक 4 घंटों तक रहने दें। यह बेहद जरूरी है कि गंभीर जलन से बचने के लिए आप इसे लंबे समय तक न रहने दें।

3. लहसुन का तेल

वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन: लहसुन का तेल

यदि आप ज्यादा सुविधाजनक विकल्प चाहती हैं, तो लहसुन के तेल के कैप्सूल खरीद सकती हैं। यह सप्लीमेंट के रूप में स्टोर पर उन लोगों के लिए उपलब्ध है जिन्हें अपने आहार में लहसुन सप्लीमेंट की आवश्यकता होती है। हालांकि, आप स्थानिक उपयोग के लिए इसका लाभ उठा सकती हैं।

  • लहसुन के तेल का एक कैप्सूल खोलें और तेल को पैंटी लाइनर पर लगा दें।
  • पैंटी लाइनर को अपने अंडरवियर में चिपकाएं और प्राकृतिक गर्मी और आर्द्रता से लहसुन के तेल के मुख्य घटकों को सक्रिय होने दें
  • बिना लहसुन को भीतर डाले ये घटक गर्मी के माध्यम से सीधे आपकी वेजाइनल नलिका में प्रवेश करेंगे।