ग्रीन टी बनाने के ये तीन तरीके करेंगे वजन घटाने में आपकी मदद

ग्रीन टी के कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। विशेषकर, मेटाबोलिज़्म बढ़ाने और सूजन का मुक़बला करने की क्षमता के कारण इसे पेट की चर्बी कम करने वाला एक बेहतरीन सप्लीमेंट माना जाता है।
ग्रीन टी बनाने के ये तीन तरीके करेंगे वजन घटाने में आपकी मदद

आखिरी अपडेट: 25 जून, 2019

यूं तो वजन घटाने में मददगार ग्रीन टी (Green Tea) को बनाने के कई तरीके हैं। देखा जाए तो मोटापे का मुक़ाबला करने वाला यह कोई चमत्कारिक उत्पाद नहीं है पर अगर आप इसे अपनी डाइट का हिस्सा बना लें तो यह यह आपका मेटाबोलिज़्म बढ़ाती है और कमर बढ़ने नहीं देती है।

वैसे, ग्रीन टी (Camellia sinensis) चीन की संस्कृति की देन है। इसकी विशिष्टता यह है कि प्रसंस्कृत किए जाने के दौरान इसका ऑक्सीकरण नहीं होता है। इसे बनाने के लिए चीन के लोग ताज़ा पत्तियां एकत्र करते हैं और जिन्हें सुखाने के बाद दबाया, लपेटा और मसला जाता है।

पोषण की नज़र से ज़्यादा एंटीऑक्सीडेंट मात्रा और ज़रूरी खनिजों के कारण ग्रीन टी की हमेशा से अपनी एक अलग पहचान रही है। इसके अलावा, इसमें एंटी-इन्फ्लामेटरी और डिटॉक्सीफाइंग गुण भी होते हैं जो शरीर से टॉक्सिन बाहर निकालने में मददगार होते हैं।

सबसे अच्छी बात यह है कि यह एक बहुपयोगी पेय है जिसमें अन्य सामग्री मिलाने से इसका प्रभाव बढ़ाया जा सकता है। नीचे हम आपके साथ तीन ऐसी बेहतरीन रेसिपी साझा कर रहे हैं ताकि ग्रीन टी को आप अपने वजन घटाने की योजना में शामिल कर सकें।

आइए, डालते हैं एक नज़र!

ग्रीन टी क्यों पीनी चाहिए?

वैसे तो यह पेय कई शानदार स्वास्थ्य लाभ देता है लेकिन लोगों को वजन घटाने में मदद पहुंचाने की क्षमता के कारण इसे सबसे ज़्यादा पसंद किया जाता है।

मुख्य रूप से इन कारणों से यह प्रभावशाली होता हैः

  • ग्रीन टी कैलोरी खर्च बढ़ाने में मददगार होती है, जिससे आपको वजन घटाने में मदद मिलती है।
  • यह मेटाबोलिज़्म तेज़ करती है और पाचक एंजाइमों की गतिविधि बढ़ाती है।
  • ग्रीन टी में मूत्रवर्धक (diuretic) गुण होते हैं जो द्रव धारण शक्ति और सूजन का मुक़ाबला करते हैं।
  • इसमें मौजूद शुद्धीकरण यौगिक ख़ून साफ़ करने में मदद करते हैं और आपकी कोशिकाओं को प्रभावित करने वाले टॉक्सिन को तेज़ी से शरीर से बाहर निकालते हैं।
  • इसमें मौजूद एपिगैलोकैटेकिन गैलेट (epigallocatechin gallate- EGCG) और एल- थीएनीन (L-theanine) के कारण पेट पर कम चर्बी जमा होती है।

  वजन घटाने के लिए ग्रीन टी बनाने का सबसे अच्छा तरीका

ग्रीन टी स्वास्थ्य बनाए रखने और शरीर के वजन पर प्रभावी नियंत्रण के लिए जानी जाती है। इसे टी बैग्स के रूप में खरीदकर गर्म चाय, कोल्ड टी पीने या फिर गोलियों के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि इसका इसकी प्राकृतिक अवस्था में अन्य स्वास्थ्यवर्धक सामग्री के साथ मिलाकर भी सेवन किया जा सकता है।

इन्हें आज़मा कर देखें!

1. पुदीना के साथ ग्रीन टी

पुदीना उन प्राकृतिक चीज़ों में से है जो कि ग्रीन टी का प्रभाव बढ़ाता है और पेट की चर्बी कम करने में आपकी मदद करता है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इन्फ्लामेटरी यौगिकों के कारण यह पेय आपके वजन घटाने वाले डाइट प्लान का अहम हिस्सा बन जाता है।

सामग्री

  • 1 कप पानी (250 मिली.)
  • 1 चम्मच ग्रीन टी (15 ग्रा.)
  • 5 पुदीना की पत्तियां
  • 1 चम्मच शहद (25 ग्रा.)

तैयारी

  • पानी का कप गर्म करें। जब पानी उबलने लगे तो इसमें ग्रीन टी और पुदीना की पत्तियां मिलाएं।
  • आँच कम कर दें और इसे 5 मिनट तक यूं ही छोड़ दें।
  • इसके बाद इसे आँच से हटा लें और 15 और मिनट तक गाढ़ा होने के लिए छोड़ दें।
  • जब यह सेवन किए जाने के लिए उचित तापमान पर हो तो इसे छान लें और एक चम्मच शहद मिलाकर मीठा बना लें।

सेवन कैसे करें

  • लगातार 2 या 3 सप्ताह तक खाली पेट चाय पीयें।
  • एक सप्ताह का विराम लें और फिर दोबारा चाय पीनी शुरू कर दें।

2. एवोकैडो और ग्रीन टी स्मूदी

इस एवोकैडो और ग्रीन टी स्मूदी के मूत्रवर्धक और शुद्धीकरण (detoxifying) गुण आपकी कमर की चौड़ाई घटाने में बहुत मददगार होते हैं। इसके अलावा, अपने शक्तिवर्धक तत्वों के कारण यह स्मूदी आपके शारीरिक और मानसिक प्रदर्शन बढ़ाने के लिए आदर्श है।

दूसरी तरफ, यह ध्यान में रखना चाहिए कि इसमें शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट और फैटी एसिड होते हैं जो आपके मेटाबोलिज़्म में सुधार लाते हैं। ये मांसपेशियों के निर्माण को भी प्रोत्साहित करते हैं और खाने की इच्छा कम करने में मदद पहुंचाते हैं।

सामग्री

  • 1 चम्मच ग्रीन टी (5 ग्रा.)
  • 1/2 कप पानी (125 मिली.)
  • 1/2 पका हुआ एवोकैडो
  • 1 पका हुआ केला
  • 3 बादाम

तैयारी

  • सबसे पहले, आधा कप पानी में एक चम्मच ग्रीन टी मिलाएं। फिर, इसे उबालें।
  • जब यह उबलने लग जाए तो आँच बंद कर दें और 15 मिनट तक गाढ़ा बनने के लिए छोड़ दें।
  • इसके बाद, पेय को छान लें और इसे ब्लेंड में पहुंचाएं।
  • अब इसमें आधा एवोकैडो, कटा हुआ केला और बादाम मिलाएं।
  • सारी चीज़ों को तब तक ब्लेंड करें जब तक कि आपकी स्मूदी में बिना गांठों के एकसमान गाढ़ापन न आ जाए।

सेवन कैसे करें

  • इसे शेक को खाली पेट पीयें और नाश्ता करने से पहले कम से कम 30 मिनट तक इंतजार करें।
  • अगर आपकी इच्छा करे तो इसका दोपहर में भी जलपान के स्थान पर सेवन करें।
  • इसे सप्ताह में कम से कम तीन बार पीयें।

3. अनन्नास (Pineapple) और गुआराना (Guarana) ग्रीन टी

अनन्नास और गुआराना बहुत गुणकारी होते हैं और ये ग्रीन टी की पेट की चर्बी कम करने की क्षमता में सुधार लाते हैं। इन दोनों से बनी ग्रीन टी ख़ून की सफ़ाई और ऊतकों में बचा द्रव बाहर निकलाने में मददगार होती है।

दूसरी तरफ, इसके पोषक तत्व गुर्दों और यकृत की क्रियाविधि सुधारते हैं और इस तरह अत्यधिक टॉक्सिन के कारण उन्हें ख़राब होने से बचाते हैं। इसके अलावा ये कब्ज़ का मुक़ाबला करते हैं और पेट और हाथ-पैरों में सूजन घटाते हैं।

सामग्री

  • 2 कप पानी (500 मिली.)
  • 1 चम्मच ग्रीन टी (15 ग्रा.)
  • 1 स्लाइस कटे हुए अनन्नास की
  • 1/2 चम्मच गुआराना पाउडर (2.5 ग्रा.)

तैयारी

  • दो कप पानी गर्म करें। जब यह उबलने लग जाए तो इसमें ग्रीन टी, कटे हुए अनन्नास की एक स्लाइस और गुआराना पाउडर मिलाएं।
  • इसे कम आँच पर 5 मिनट तक उबलने दें और फिर बर्नर को बंद कर दें।
  • अंत में, इसे 15 और मिनट के लिए ठंडा होने दें और फिर छान लें।

सेवन कैसे करें

  • एक कप पेय खाली पेट पीयें और दोपहर में दोबारा पीयें।
  • इसे कम से कम सप्ताह में 3 बार या फिर लगातार दो सप्ताह तक पीयें।

वैसे क्या आपने अब तक ग्रीन टी को अपने वजन घटाने के प्लान का हिस्सा बनाने की कोशिश की है?

अगर नहीं, तो इसे अपनी डाइट में शामिल करने से न हिचकें। ऊपर बताए गए तरीकों से स्पष्ट है कि इसे बनाना आसान है और यह आपके वजन घटाने के प्लान में कई तरह से मददगार है।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
रोज़ाना ग्रीन टी पीने का हमारे शरीर पर क्या असर होता है?
स्वास्थ्य की ओर
इसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
रोज़ाना ग्रीन टी पीने का हमारे शरीर पर क्या असर होता है?

ग्रीन टी नाम की प्राकृतिक ड्रिंक कई शताब्दियों से चीन की पारंपरिक औषधि प्रणाली का हिस्सा रही है। वक़्त बीतने के साथ-साथ वह एशिया-भर में मशहूर होती ग...



  • Cheun, L. K., et al. (2002). El camino del té. London: Gaia Books.
  • Ody, P. (2000). Complete Guide to Medicinal Herbs. New York, NY: Dorling Kindersley Publishing.
  • Shimizu, M.; Kubota, M.; Tanaka, T., and Moriwaki, H. (2012). “Nutraceutical approach for preventing obesity-related colorectal and liver carcinogenesis”, International Journal of Molecular Sciences, 13 (1): 579-595.
  • Tomata, Y.; Kakizaki, M.; Nakaya, N., et al. (2012). “Green tea consumption and the risk of incident functional disability in elderly Japanese: the Ohsaki Cohort 2006 Study”, The American Journal of Clinical Nutrition, 95 (3): 732-739.