गले में खराश के लिए 3 प्राकृतिक नुस्ख़े

06 अगस्त, 2020
गले में खराश आम समस्या है, लेकिन अगर यह मामूली है, तो आपको दवा की जरूरत नहीं होगी; नेचुरल प्रोडक्ट बड़ी मदद कर सकते हैं। यदि यह गंभीर है, तो डॉक्टर से मिलें।

आज हम आपको बताएंगे, गले में खराश के बारे में आपको क्या जानना चाहिए। फिर नेचुरल तरीके से राहत पाने के लिए आपको तीन तरीके बताएंगे। गले में खराश के लिए तीन नेचुरल समाधान की जानकारी के लिए इस लेख को पढ़ें।

गले में खराश की समस्या क्या है?

गले में खराश दरअसल ग्रसनी (pharynx) या टॉन्सिल (tonsils) की सूजन है और ज्यादातर लोगों को जीवन में कभी न कभी होती है।

गले का काफी हिस्सा गर्म और नम रहता है, इसलिए यह वायरस और बैक्टीरिया के प्रजनन के लिए एकदम सही जगह है। 80% से अधिक गले में खराश के मामले वायरस से होते हैं और 10% से 15% मामले संक्रमण के कारण होते हैं।

गले में खराश का कारण क्या है?

गले में खराश का कारण क्या है?

सोर थ्रोट (sore throat) या गले में खराश वायरल संक्रमण से होती है और सूक्ष्मजीव के एंटीबायोटिक दवाओं पर प्रतिक्रिया न देने के कारण और बिगड़ जाती है।

जुकाम और फ्लू अक्सर गले में खराश के कारण होते हैं।

गले में खराश के लक्षण

  • सूजन
  • कर्कश आवाज
  • खांसने की जरूरत
  • बुखार
  • थकान
  • निगलने में दर्द का होना
  • गले में सफेद या पीले धब्बे

इसे भी पढ़ें : गले में संक्रमण से राहत के लिए चार नुस्ख़े

क्या करें?

खराश अगर वायरस से हो तो इससे छुटकारा पाने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं के प्रिस्क्रिप्शन की जरूरत होगी।

ज्यादा पानी पीने की भी सलाह दी जाती है। दर्द निवारक दवाओं की सिफारिश तभी की जाती है जब दर्द बहुत ज्यादा हो।

हालांकि, कभी भी सेल्फ-मेडिकेशन न करें, क्योंकि एंटीबायोटिक्स के साइड इफेक्ट हो सकते हैं और बैक्टीरिया के प्रति आप रेजिस्टेंट बन सकते हैं। इसका मतलब है, आपको ज्यादा टॉक्सिक और और महंगी एंटीबायोटिक दवाओं की जरूरत होगी।

बेशक, बिना किसी रुकावट के या बिना रोक-टोक के इलाज का पूरा कोर्स करें। अन्यथा रिलैप्स हो सकता है और रोगाणु ताकतवर होंगे।

कब फ़िक्र करनी चाहिए?

यदि गले में खराश बनी रहे तो आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए, जो तब हो सकता है जब आपको स्ट्रेप थ्रोट (strep throat) था लेकिन उसे फेरिन्जाइटिस मानकर इलाज किया गया था।

फेरिन्जाइटिस या ग्रसनीशोथ का इलाज सिर्फ एंटीबायोटिक दवाओं के साथ किया जा सकता है। इसके लक्षण हैं:

  • निगलने में दर्द
  • नॉजिया
  • उल्टी
  • पेट में दर्द
  • दाने के साथ बुखार
  • मांसपेशियों में दर्द
  • खांसी
  • पोस्ट-नेजल ड्रिप

इन लक्षणों की स्थिति में आपको एक डॉक्टर से मिलना चाहिए, खासकर अगर बुखार कम न हो, क्योंकि प्राकृतिक इलाज स्थिति को जटिल बना सकते हैं।

गले में खराश के लिए प्राकृतिक इलाज

नीचे हम आपको गले में खराश के हल्के मामलों के लिए तीन 100% नेचुरल नुस्खे बताएँगे।

1. शहद के साथ एप्पल साइडर विनेगर

एप्पल साइडर विनेगर इस अंग के पीएच को कम करता है और आपके गले में मौजूद कीटाणुओं से छुटकारा पाने में मदद करता है।

हालांकि यह एक एक्सपेक्टोरेंट (expectorant) के रूप में भी काम करता है और शहद एक शक्तिशालीएंटीबायोटिक के रूप में काम करता है।

सामग्री

  • 1 बड़ा चम्मच एप्पल साइडर विनेगर (10 मिलीलीटर)
  • 1/2 नींबू का रस (5 मिली)
  • 1 बड़ा चम्मच शहद (15 ग्राम)
  • काली मिर्च स्वाद अनुसार
  • 1 कप पानी (125 मिली)

तैयारी

  • पानी उबाल लें
  • एप्पल साइडर विनेगर और नींबू का रस मिलाएं।
  • शहद डालें और घुलने तक मिलाएं।
  • अगर आपको पसंद है तो एक चुटकी काली मिर्च डालें।

कैसे इस्तेमाल करे

  • दर्द और खांसी को कम करने के लिए प्रत्येक भोजन के बाद एक कप पिएं।

इसे भी आजमायें : 6 प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स जिनके बारे में आप शायद नहीं जानते

2. हाइड्रोजन पेरॉक्साइड

गले में खराश का इलाज करने के लिए एक और प्राकृतिक तरीका है कि जैसे ही लक्षण दिखाई दें, हर कान में हाइड्रोजन पेरॉक्साइड की एक बूंद डालें।

कैसे इस्तेमाल करे

  • Q- टिप से दोनों कानों को ध्यान से साफ करें।
  • अपने सिर को पीछे झुकाएं और हर कान में हाइड्रोजन पेरॉक्साइड की एक बूंद डालें। आप एक बुदबुदाहट महसूस करेंगे, जो पूरी तरह से सामान्य है।
  • बुदबुदाहट को रुकने का इंतजार करें, ज्यादा से ज्यादा 10 मिनट।
  • एक कपड़े से साफ करें।

सिफ़ारिश

हम इस उपाय का उपयोग गले में खराश के पहले दो दिनों में दिन में एक बार आजमानें की सलाह देते हैं।

3. नींबू

नींबू को विटामिन C के एक शक्तिशाली स्रोत के रूप में जाना जाता है और यह एक नेचुरल एंटीबैक्टीरियल और एंटीबायोटिक है।

यह दर्द को दूर करने के लिए विभिन्न तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता है, चाहे इसे नमक पर छिड़का जाए और फिर निगल लिया जाए, या फिर इस तरह से:

सामग्री

  • 4 नींबू (40 मिलीलीटर रस)
  • 2 बड़े चम्मच शहद (30 ग्राम)

तैयारी

  • कम आंच पर नींबू डालें।
  • उन्हें निचोड़ें और फिर रस में शहद डालें।
  • अच्छी तरह से मिश्रित होने तक हिलायें।

कैसे इस्तेमाल करे

  • जब तक लक्षण दूर न हो जाएं, दिन में दो बार गार्गल करें।

गले में खराश के लिए कुछ और सिफारिशें

  • आराम करें।
  • कफ को तोड़ने और दर्द में मदद करने के लिए पर्याप्त तरल पदार्थ पिएं।
  • नमक और पानी से नेजल इर्रिगेशन करें।
  • ह्यूमिडिफायर या इनहेल स्टीम का इस्तेमाल करें।
  • धूम्रपान न करें।
  • बार-बार हाथ धोएं।
  • भीड़-भाड़ और बंद स्थानों से दूर रहें।
  • हर साल फ्लू का शॉट लें।
  • Del Mar, C. B., & Glasziou, P. P. (1998). Antibiotics for sore throats? Journal of Paediatrics and Child Health. https://doi.org/10.1046/j.1440-1754.1998.00304.x
  • Ballin, D., & Ghanea-Hercock, R. (2001). Back to nature. Computer Bulletin (London, 1986). https://doi.org/10.1093/combul/43.2.20
  • Thomas, M., Del Mar, C., & Glasziou, P. (2000). How effective are treatments other than antibiotics for acute sore throat? British Journal of General Practice.