दालचीनी के फायदों के बारे में जानें, यह कामोद्दीपक भी है

13 जून, 2020
दालचीनी के अनगिनत फायदे हैं: यह एक एंटीकोगुलेंट अर्थात खून के थक्के बनने से रोकता है। यह आपके पाचन को दुरुस्त रखता है, और यह एक कामोत्तेजक भी है। इस आर्टिकल में और जानें!
 

क्या आपने दालचीनी के फायदों के बारे में सुना है? प्राचीन काल से इस मसाले के आरोग्यकारी गुणों को मान्यता मिली है।

दालचीनी पेड़ की छाल के अंदरूनी हिस्से से आती है। यह पेड़ भारत के दक्षिण में उगता है, हालांकि इसे म्यांमार, श्रीलंका और दक्षिण अमेरिका में भी उगाया गया है।

इसे 18 वीं शताब्दी की शुरुआत से दुनिया के कई हिस्सों में उगाया जा रहा है।

औषधीय गुणों के अलावा, यह एक कामोत्तेजक (aphrodisiac) भी है। यह कामेच्छा बढ़ाने और स्तंभन दोष (erectile dysfunction) का मुकाबला करने वाला माना जाता है।

इस लेख में और जानें!

दालचीनी के औषधीय लाभ (The medicinal benefits of cinnamon)

खाए जाने या ऊपरी तौर पर लगाने से दालचीनी में आरोग्यकारी लाभ होते हैं।

  • सबसे पहले यह पाचन प्रक्रिया को ठीक रखता है। पेट फूलना और उल्टी या पाचन की गड़बड़ी को ठीक करने में मदद करता है।
  • इसका उपयोग इर्रिटेबल कोलन के इलाज के लिए किया जाता है।
  • साथ ही, यह कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर लेवल को कम करता है। इसलिए यह टाइप 2 डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद हो सकता है।
  • एक एक्स्पेक्तोरेंट ( expectorant) के रूप में अपनी क्षमता के कारण, यह श्वसन प्रणाली को बेहतर बनाने में मदद करता है। ब्रोंकाइटिस, खांसी और जुकाम जैसी बीमारियों के लिए इसकी सिफारिश की जाती है।
  • इसके एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण सिर दर्द और मांसपेशियों के दर्द से राहत देते हैं।
  • अपनी प्रकृति से दालचीनी गर्म सीरत वाली और मसालेदार होती है। यह ब्लड सर्कुलेशन को उत्तेजित करता है।
  • यह धमनी संबंधी बीमारियों के इलाज के लिए भी अनुशंसित है। जो लोग खून ली जमावट की समस्याओं से पीड़ित हैं, उन्हें इसका सेवन नहीं करना चाहिए।
  • महिलाओं के लिए यह मेंस्ट्रुअल साइकल को नियमित करने और इसमें होने वाली तकलीफ दूर करने में मदद करता है। साथ ही, वेजाइनल इन्फेक्शन के इलाज में भी इसका उपयोग किया जाता है।
  • इसके औषधीय गुण मुंह के छालों और सांसों की दुर्गंध को ठीक करते हैं।
  • अंत में, यह एंटीसेप्टिक गुणों के कारण पैरों और नाखूनों पर फंगल इन्फेक्शन के इलाज के लिए भी उपयोगी है।

कामोद्दीपक के रूप में दालचीनी

कामोद्दीपक के रूप में दालचीनी
 

दालचीनी एक प्राकृतिक उत्तेजक है। यह याददाश्त जैसी ब्रेन फंशन को सुधारता है। हालांकि, इसकी उत्तेजक क्षमताएं कामुकता की दिशा में भी जाती हैं।

अपनी गंध से, यह पुरुषों और महिलाओं दोनों में कामेच्छा को बढ़ाती है। सुगंधित मोमबत्तियों या दालचीनी और हनी ऑयल का उपयोग करने से कपल में यौन इच्छा बढ़ जाती है।

पुरुषों के लिए नियमित रूप से दालचीनी की चाय पीने से टेस्टोस्टेरोन (testosterone) का स्तर बढ़ जाता है। रक्त प्रवाह को बढ़ावा देने की अपनी क्षमता के कारण, यह इरेक्शन को भी बढ़ावा देता है। अधिक मात्रा में खून की पम्पिंग करके यह उन्हें लम्बा खींच देता है। इस प्रकार, यह हल्के इरेक्टाइल डिसफंशन के लिए एक अच्छा इलाज है।

इसकी चाय स्तंभन दोष के लिए एक निवारक इलाज के रूप में काम करती है। नपुंसकता के मामलों में इसे दिन में 3 बार पीने की सलाह दी जाती है। हालांकि, इन मामलों में सबसे अच्छी बात एक एक्सपर्ट से मिलना है।

साथ ही, दालचीनी रेस्ट देने का भी काम करती है। कुछ मामलों में, स्ट्रेस यौन इच्छा को प्रभावित करता है।

दालचीनी अर्क आपकी मनोदशा को बेहतर बनाता है, थकान को कम करता है और शरीर को एक्टिवेट करता है। इस तरह यह कामुकता को बढ़ावा देता है।

दालचीनी के फायदे कैसे उठायें

  • एक लीटर पानी में एक चम्मच दालचीनी का सेवन पेट की गड़बड़ी से बचाता है। यह गैस और पेट फूलने को कम करता है।
  • दालचीनी के पानी से तैयार चाय मासिक धर्म को रेगुलेट करती है और दर्द से राहत दिलाती है।
  • यदि आप पाचन समस्याओं से पीड़ित हैं, तो आपको अपने भोजन में एक चौथाई चम्मच दालचीनी छिड़कनी चाहिए। यह मतली रोकने में भी मदद करता है।
  • चूंकि यह एक उत्तेजक है, इसलिए दालचीनी की चाय पीने से आपकी भूख बढ़ जाती है।
  • ब्रोंकाइटिस या श्वसन समस्याओं के मामले में, दालचीनी और शहद के अर्क से गरारा करें। इसमें नींबू अच्छी तरह से मिलाया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें : मसल स्ट्रेचिंग और मसल स्ट्रेंदेनिंग: आपके लिए कौन सा बेस्ट है?

दालचीनी के सेवन के जोखिम

दालचीनी के सेवन के जोखिम
 

किसी भी चीज की अधिकता तरह दालचीनी के सेवन के भी दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

एक शक्तिशाली एंटीकोआगुलंट

जैसा कि हमने पहले ही बताया है, दालचीनी का सेवन खून की जमावट की समस्या वाले लोगों के लिए या जो रक्तस्राव से पीड़ित हैं उनके लिए नुकसानदेह हो है।

सर्जरी से पहले इसकी सिफारिश नहीं की जाती है।

गर्भावस्था के दौरान समस्या

  • गर्भवती महिलाओं को दालचीनी के उपयोग से बचना चाहिए, विशेषकर गर्भावस्था के अंतिम चरण में।
  • दालचीनी में इमेनगॉग (emmenagogue) गुण होते हैं, इसलिए इसका सेवन करने से गर्भपात हो सकता है।

इस लेख पर जाएँ: 35 की उम्र के बाद माँ बनने के 6 फायदे

हृदय गति बढ़ाता है

इसके अलावा, इसका प्रभाव उन लोगों के लिए हानिकारक हो सकता है जो हाई ब्लडप्रेशर से पीड़ित हैं। एरिद्मिया या अक्सर टैकीकार्डिया वाले रोगियों पर भी यही बात लागू होती है।

त्वचा की जलन

त्वचा पर अत्यधिक या बड़ी मात्रा में इसका इस्तेमाल करने से एलर्जी हो सकती है।

आंतों की बीमारियों में उल्टा असर

पाचन प्रक्रियाओं के लिए दालचीनी की सिफारिश की जाती है। हालाँकि इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से बचना ज़रूरी है।

अधिक मात्रा में सेवन करने से आंतों में जलन हो सकती है।

 
  • Gruenwald, J., Freder, J., & Armbruester, N. (2010). Cinnamon and health. Critical Reviews in Food Science and Nutrition. https://doi.org/10.1080/10408390902773052
  • Mang, B., Wolters, M., Schmitt, B., Kelb, K., Lichtinghagen, R., Stichtenoth, D. O., & Hahn, A. (2006). Effects of a cinnamon extract on plasma glucose, HbA1c, and serum lipids in diabetes mellitus type 2. European Journal of Clinical Investigation. https://doi.org/10.1111/j.1365-2362.2006.01629.x
  • Rao, P. V., & Gan, S. H. (2014). Cinnamon: A multifaceted medicinal plant. Evidence-Based Complementary and Alternative Medicine. https://doi.org/10.1155/2014/642942