टॉक्सिक पैरेंट के दस लक्षण

05 अक्टूबर, 2020
हम यह मान सकते हैं कि हमारे बच्चों को पूरी  आजादी देना उनके लिए अच्छा होता है, लेकिन सच्चाई यह है कि यह एक टॉक्सिक पैरेंट का रवैया बच्चे के भविष्य को नुकसान पहुंचा सकता है। इस बारे में और जानें।

टॉक्सिक पैरेंट यह नहीं जानते कि उनका व्यवहार उनके बच्चे को फायदा पहुंचाने के बजाय नुकसान पहुंचा रहा है। अच्छे पैरेंट बनने की इच्छा में वे गंभीर गलतियाँ करते हैं।

हमें यह याद रखना चाहिये कि हम बिलकुल दोषमुक्त नहीं हैं और हमारा व्यवहार दूसरों की मदद करने के बजाय नुक्सान पहुंचा सकता है।

आज हम टॉक्सिक पैरेंट के 10 लक्षणों की बात करेंगे जिन्हें आपको पहचानना सीखना होगा।

दिमाग को खुला रखना महत्वपूर्ण है और अगर आप अभिभावक हैं, तो यह स्वीकार करें कि आप अपनी गलतियों से सीख सकते हैं।

टॉक्सिक पैरेंट के दस लक्षण

1. अपनी इच्छा पूरी करने के लिए तिकड़म करना

क्या आप तिकड़मी पैरेंट हैं? हालांकि यह विश्वास करना मुश्किल लग सकता है, पर कुछ माता-पिता ऐसे हैं जो अपने बच्चों का उपयोग उन चीजों में हेरफेर करने के लिए करते हैं जो वे चाहते हैं।

भले ही आप सोच सकते हैं कि आपके बच्चे को यह नहीं मालूम होगा, लेकिन सच्चाई यह है कि वह इसे जानता है और यह व्यवहार उस पर गहरे, भावनात्मक घाव का कारण बन सकता है जो भविष्य में उन्हें प्रभावित करेगा।

इस प्रकार के टॉक्सिक पैरेंट बच्चे को बुरा महसूस करवाएंगे, यहां तक ​​कि अपराधबोध से भर देगा, बस उनसे अपनी बात मनवाने के लिए बच्चे को बुरा महसूस कराना, पूरी तरह से अपनी दया पर ला देना, बच्चे को अपनी इच्छा अनुसार कुछ न करने और सोचने देना।

2. कभी-कभी ढीला पड़ जाना

नहीं हम सिर्फ शारीरिक शोषण की बात नहीं कर रहे हैं, हम मौखिक दुर्व्यवहार की भी बात कर रहे हैं।

इस प्रकार के टॉक्सिक पैरेंट अपमानजनक और आहत करने वाले शब्दों को उजागर करते हैं, जिससे उनके बच्चे में आत्मविश्वास और आत्म-सम्मान की कमी होती है।

हो सकता है कि थकान या काम और घर की जिम्मेदारियां माता-पिता को उत्तेजित करते हैं और इसके पीछे जीवन में आने वाली समस्याओं को ठीक से संभालने के लिए जरूरी धैर्य की कमी भी होती है।

“तुम बेवकूफ  हो”, “तुम मूर्ख हो”, “तुम नहीं जानते, कैसे व्यवहार करना है”, “कैसे बात करना है” … ऐसी बातें छोटे बच्चे के विकास के लिए विनाशकारी हैं।

इसे भी पढ़ें : 5 लक्षण जो बताते हैं, आप एक टॉक्सिक इंसान हैं

3. तुम जानते हो मैं यह चाहता हूं, मुझे यह क्यों बता रहे हो?

स्नेह की कमी बाद में भावनात्मक गड़बड़ियों को जन्म दे सकती है, जिससे भावनात्मक निर्भरता बढ़ जाती है।

इसके अलावा यह पारस्परिक संबंधों में अविश्वास और कठिनाइयों को पैदा करता है जो भविष्य में उनके साथ लंबे समय तक जारी रहेगा।

स्नेह बहुत महत्वपूर्ण है। हमें यह नहीं मान लेना ​​चाहिए कि हमारा बच्चा जानता है कि हम उन्हें प्यार करते हैं, पर हमें इसे दिखाने की भी जरूरत है। इससे बच्चा बड़ा होकर खुश और स्वस्थ रहेगा।

4. मुझे तुम्हें परेशान करने में कोई दिलचस्पी नहीं है

क्या आपको याद है कि जब आपके पैरेंट आपकी बात नहीं मानते थे कि यह कैसा अनुभव होता था? क्या आप उनमें विश्वास कर लेते थे? कम्युनिकेशन की कमी तब अविश्वास पैदा करती है जब हम स्वतंत्र रूप से खुद को व्यक्त करने में सक्षम नहीं होते हैं।

असुविधाजनक पैरेंट अपने बच्चे के अपनी भावनायें छिपाने का कारण बनते हैं, जो बाद में खराब भावनात्मक स्थिति को जन्म देगा और उन्हें अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का तरीका सीखे बिना छोड़ देगा।

बच्चों को सुनने, उनकी बातों पर ध्यान देने से उन्हें प्यार और देखभाल का अहसास होता है। एक्टिव लिसेनिंग वास्तव में महत्वपूर्ण है।

5. मैं तुम्हारे दोस्तों की तरह नहीं हूं

आपका बच्चा उन दोस्तों या ग्रुप में किसे चुनता है, जिसमें वे सहज महसूस करते हैं, उसे आप कंट्रोल नहीं कर सकते… अपने दोस्तों को स्वीकार नहीं किये जाने से वे विद्रोही हो जाएंगे।

आपके बच्चे आपके जैसे नहीं हैं। हो सकता है वे एक ग्रुप से जुड़ गए हों, उनके ऐसे दोस्त हैं जो स्मोकिंग करते हैं या आप उन्हें पसंद नहीं करते … हालांकि, ये ऐसी चीजें हैं जो आपके कंट्रोल से बाहर हैं।

जब तक आपका बच्चा सम्मानपूर्ण, खुश और सहज है तब तक हमें उन्हें उनकी इजाजत देनी चाहिए जो वे चाहते हैं।

6. तुम्हें और स्टडी करनी चाहिए…

कभी-कभी अपने बच्चों से हमारी कुछ उम्मीदें होती हैं: हम चाहते हैं वे डॉक्टर, प्रोफेसर या वकील बनें … लेकिन क्या आपने बच्चे से पूछा है कि वह क्या बनना चाहता है?

कई बार समस्या इसकी नहीं होती कि बच्चा क्या  चाहता है, लेकिन समस्या उसकी क्षमता की होती है। यदि आपका बच्चा गणित या विज्ञान पसंद नहीं करता है, तो वह कभी डॉक्टर कैसे बनेगा?

यह आपको बहुत हताश करेगा, आपकी फैमिली भी स्वीकृति नहीं देगी। बच्चा जो कुछ भी होना चाहता है, उसे होने दें।

डिस्कवर: टॉक्सिक फैमिली और उनकी विशेषताएं

7. तुम ऐसा नहीं कर सकते, लेकिन मैं कर सकता हूं

टॉक्सिक पैरेंट की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक अपने बच्चों को ऐसा अच्छा व्यवहार सिखाने की कोशिश करना है जो वे खुद नहीं करते।

उदाहरण के लिए दूसरों के लिए बेईमानी, बदजुबानी और गलत भाषा का उपयोग करना। हम अपने बच्चों को वह करने के लिए सिखाने की कोशिश करते हैं, जो हम खुद नहीं करते, फिर हम उनसे ऐसा करने की उम्मीद किसे कर सकते हैं?

8. टॉक्सिक पैरेंट के दस लक्षण : तुम्हे A ग्रेड मिलना चाहिए था

कुछ टॉक्सिक पैरेंट वास्तव में बहुत डिमांड करते हैं। उस बच्चे को याद करें जो A+ नहीं पाने पर रो रहा था, जबकि आप C पाकर भी खुश थे?

माता-पिता को अपनी उम्मीदों पर ध्यान देने की आवश्यकता है। हां A+, A से बेहतर है। लेकिन अपने बच्चे को यह अहसास न कराएं कि उन्हें हर बार A+ हासिल करना चाहिये।

ऐसे कई फैक्टर हैं जो किसी विषय में उनके ग्रेड पर असर डाल सकता है: शायद वे उस सब्जेक्ट को पसंद नहीं करते हैं या हो सकता है कि वह उनके लिए बहुत खराब दिन रहा हो। अगर आपको कम ग्रेड मिले या फेल भी हो जाए तो यह दुनिया का अंत नहीं है।

शिक्षा सीखने के लिए है, कम्पटीशन के लिए नहीं।

9. फ़िक्र मत करो, मैं तुम्हारी हिफाजत करूंगा

ओवरप्रोटेक्टिव होना सबसे खराब व्यवहार है। यह बच्चों को खुद फैसले लेने और अपने स्तर पर नतीजों से निपटना सीखने से रोकता है।

समस्या तब पैदा होती है जब वे अपने दम पर कुछ करते हैं। अगर ओवरप्रोटेक्टिव पैरेंट हैं तो तो वे जीवन की स्थितियों का सामना करने में खुद को असमर्थ होते  हैं।

अपने बच्चे को एक प्रोटेक्टिव बबल में रखना ठीक नहीं है, जहां कोई भी उन्हें नुकसान नहीं पहुंचा सकता है। आखिरकार जीवन अपनी सीख को गलतियों के माध्यम से सिखाता है।

10. जो चाहे खाओ, पियो

अपने बच्चे को अस्वास्थ्यकर आदतें सीखने देना अच्छी बात नहीं है। उनके लिए कम उम्र में शराब पीना, धूम्रपान करना या जंक फूड खाना नुकसानदेह होगा।

यह उनमें बिना नियमों और असंयमित दुनिया की अवधारणा पैदा करता है। दरअसल यह बहुत कम उम्र में समस्याएं पैदा कर सकता है, जैसे कि ज्यादा वजन।

टॉक्सिक व्यवहार बच्चे और माता-पिता दोनों के लिए नुकसानदेह होता है। इसलिए उन्हें अपनी आँखें खोलने और यह ध्यान रखने की ज़रूरत है कि वे बड़ी गलतियाँ कर रहे हैं।

बच्चे अपने बुरे व्यवहार के लिए दोषी नहीं हैं।

  • Ramírez, M. A. (2005). PADRES Y DESARROLLO DE LOS HIJOS: PRACTICAS DE CRIANZA. Estudios Pedagógicos (Valdivia). https://doi.org/10.4067/S0718-07052005000200011
  • Rodrigo, M. J., Máiquez, M. L., García, M., Mendoza, R., Rubio, A., Martínez, A., & Martín, J. C. (2004). Relaciones padres-hijos y estilos de vida en la adolescencia. Psicothema. https://doi.org/doi:10.1258/shorts/2012.011173
  • Ángeles González, M. ed. (1996). Guía para madres y padres. Orinetación para el uso en el ambiente familiar del material para actividades y juegos educativos. https://doi.org/http://dx.doi.org/10.1016/j.annals.2007.06.004
  • Morales, D. T. (2011). Educación Emocional. Revista Padres y Maestros. https://doi.org/10.1017/CBO9781107415324.004