तम्बाकू के बारे में 8 सबसे खतरनाक मिथकों के बारे में जानें

13 मई, 2020
क्या आप जानते हैं, तंबाकू वास्तव में कितना नुकसानदेह होता है? तम्बाकू से जुड़े 8 सबसे खतरनाक मिथकों के बारे में जानिये। यदि आप खुद या आपका कोई प्रिय व्यक्ति स्मोकिंग करता है, तो अब इसे छोड़ देने का वक्त है!

तम्बाकू सेवन अभी भी सबसे बुरी आदतों में से एक है। शरीर पर खतरनाक असर की चेतावनियों के बावजूद आज भी सबसे बड़ी तादाद में लोग इसके शिकार हैं। तम्बाकू के बारे में कुछ खतरनाक मिथकों के बारे में कुछ बातें साफ़ करना ज़रूरी है जो कुछ लोगों के लिए भ्रम पैदा करती हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार धूम्रपान सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए मुख्य खतरों में से एक है। यह बताता है कि धूम्रपान से संबंधित बीमारियों के कारण आधे से ज्यादा स्मोकर अपनी जान देते हैं।

सबसे ज्यादा चिंताजनक यह है कि हजारों धूम्रपान करने वाले अपनी लत को जायज ठहराने की कोशिश करते हैं, इससे होने वाले नुकसान को कम करके आंकने की कोशिश करते हैं, या इस बात की अनदेखी करते हैं कि यह शरीर के टिशू और कोशिकाओं के लिए कितना खतरनाक है।

तम्बाकू से जुड़े सबसे खतरनाक मिथक

1. स्मोकिंग आराम देता है

तम्बाकू से जुड़े सबसे खतरनाक मिथक

हजारों लोग तंबाकू की लत के शिकार हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि यह एंग्जायटी और स्ट्रेस से निपटने का एक अछा माध्यम है। यहां तक ​​कि ऐसे लोग भी हैं जो पहले से ही ज्यादा स्मोकिंग करते हैं, जो इसे छोड़ना नहीं चाहते, क्योंकि उन्हें लगता है, तंबाकू छोड़ने से तनाव से निपटना बहुत मुश्किल होगा।

सच्चाई यह है कि, शरीर को आराम देने की बजया इसके जहरीले तत्व नर्वस सिस्टम को प्रभावित करते हैं और अचानक मूड में बदलाव लाते हैं। हालांकि यह राहत की क्षणिक मिथ्या भावना ज़रूर पैदा कर सकता है, पर वक्सत बीतने पर यह अवांछित प्रभाव पैदा करेगा।

2. सिर्फ कुछ सिगरेट पीने से कोई नुकसान नहीं होता

दिन में सिर्फ कुछ सिगरेट पीने से भी सेहत की क्षति होती है, हालांकि यह उतनी आक्रामक नहीं होती है जितनी इसे बड़ी मात्रा में सेवन करने पर होता है।

अत्यधिक तम्बाकू के सेवन से फेफड़े के कैंसर से पीड़ित होने का जोखिम खतरनाक रूप से बढ़ जाता है, लेकिन धूम्रपान हृदय रोगों से जुड़ा है।

और पढ़ें: 10 नेचुरल चीजें जो धूम्रपान का खतरनाक असर घटाएंगी

3. अगर आप तंदरुस्त हैं तो तम्बाकू नुकसानदेह नहीं होता

सावधान रहे! तम्बाकू के बारे में सबसे खतरनाक मिथकों में से एक होने के नाते, इसने कई लोगों को यह विश्वास दिलाया है कि वे सिगरेट में पाए जाने वाले जहरीले तत्वों के नुकसानदेह दुष्प्रभावों का ह्सिकार हुए बिना स्मोकिंग कर सकते हैं।

जिन लोगों की सेहत अच्छी होती है वे अपनी रूटीन में तम्बाकू शामिल कर जीवन की क्वालिटी को कम कर देते हैं।

4. “हल्के” सिगरेट कम हानिकारक हैं

पॉपुलर “हल्के” सिगरेट में निकोटीन और तार की कम मात्रा होती है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वे इन चीजों से मुक्त हैं। इस किस्म का तंबाकू अभी भी सेहत के लिए दुश्मन है क्योंकि इसके धुएं और जहरीले तत्व साँस प्रणाली पर असर डालते हैं।

5. एक्सरसाइज तंबाकू के जहरीले तत्वों को ख़त्म करती है

एक्सरसाइज तंबाकू के जहरीले तत्वों को ख़त्म करती है

यह सच है कि एक्सरसाइज के दौरान पैदा होने वाले पसीने के जरिये तम्बाकू के कई जहरीले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। पर इसका एक अहम हिस्सा खून और शरीर के उत्सर्जन अंगों में बचा रहता है।

ये पदार्थ टिशू में जमा होते हैं और समय के साथ एथलेटिक प्रदर्शन को कम करते हैं।

और पढ़ें: दो स्पैनिश अस्पताल‌ एक नई स्पैनिश कैंसर की दवा ‌का परीक्षण कर रहे हैं

6. धूम्रपान रोकना असंभव है

यह सच नहीं है! हम “विथड्रॉल’ या इसे छोड़ने पर पैदा होने वाले लक्षणों के अस्तित्व से इनकार नहीं कर सकते, पर धूम्रपान छोड़ना संभव है।

नशेड़ी को इन लक्षणों से उबरना होगा। एंग्जायटी और नर्वस होने के लक्षण दिखेंगे क्योंकि मस्तिष्क सिगरेट से मिलने वाले निकोटीन की मांग करता है।

इसके बावजूद, सही सपोर्ट और सलाह से धीरे-धीरे आदत को छोड़ना संभव होता है। आखिरकार आपको स्मोकिंग करना जरूरी नहीं लगेगा।

7. “अगर नुकसान हो ही चूकाे हेै… तो क्यों छोड़ा जाए?”

तंबाकू छोड़ने में कभी भी देर नहीं हुई है, भले ही किसी ने सालों तक दिन में कई सिगरेट पिया हो।

ऐसा करने की इच्छाशक्ति रखने वाले लोग सकारात्मक परिवर्तनों की पूरी श्रृंखला को महसूस कर सकते हैं:

  • कैंसर और फेफड़ों की बीमारियों का खतरा कम हो जाता है।
  • सरकुलेटरी हेल्थ में सुधार होता है।
  • दिल बेहतर तरीके से काम करने लगता है।
  • रक्तचाप फिर से दुरुस्त हो जाता है।
  • त्वचा अपनी सेहत ठीक करने लगती है।
  • आम तौर पर आप बहुत उम्दा महसूस करेंगे।

9. “हम सभी को एकदिन मरना है”

धूम्रपान करने वाले अपनी लत को सही ठहराने के लिए यह दोहराते हैं। हालाँकि … क्या आप किसी क्रोनिक बीमारी के साथ जीने के लिए तैयार हैं?

इस तरह की बात पर विचार करना ज़रूरी है। क्योंकि जो लोग ऐसा कहते हैं वे ऐसे लोग हैं जिन्होंने अभी तक उन लक्षणों का अनुभव नहीं किया है जो तब होते हैं जब तंबाकू सेहत पर असर डालने लगता है।

क्या आप धूम्रपान करते हैं या आपने स्मोकिंग करने के बारे में सोचा है? यदि हां, और यदि तम्बाकू के बारे में इन खतरनाक मिथकों को आपने सुना है, तो जितना संभव हो उतना इसे टालना चाहिए जिससे आपके जीवन की गुणवत्ता समय के साथ कम न हो।