टॉक्सिक फैमिली और उनकी विशेषताएं

29 जुलाई, 2020
ज्यादातर मामलों में जो लोग आमतौर पर एक टॉक्सिक फैमिली में सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं, वे बच्चे हैं। विभिन्न प्रकार के जहरीले परिवारों के बारे में यहाँ जानें और समस्या होने पर कैसे पता करें।

टॉक्सिक फैमिली छोटे द्वीपों की तरह होती है जिनमें संघर्ष और गड़बडी से भरा हुआ घर होता है जो परिवार के सभी सदस्यों को प्रभावित करता है।

हम जानते हैं, इन दिनों “टॉक्सिसिटी” शब्द का बहुत ही ज्यादा उपयोग किया जाता है। आखिरकार हमने “मेरा रिलेशन टॉक्सिक है” या “मेरा पार्टनर टॉक्सिक है” जैसी बातों का इस्तेमाल किया जाता है।

हालाँकि, हमें यह याद रखना चाहिए कि यह लेबल किसी भी क्लिनिकल डायग्नोसिस के अनुरूप नहीं है। कोई मनोवैज्ञानिक मैनुअल नहीं है जो इसे परिभाषित करता हो या इस शब्द से जी पैथोलॉजी या गड़बड़ी।

हालांकि इसका लोकप्रिय उपयोग पूरी तरह से उन सभी प्रक्रियाओं को पूरा करता है जो टॉक्सिक शब्द में बहुत अच्छी तरह फिट होते हैं।

क्यों? ऐसे लोग हैं, जो अपने व्यक्तित्व, व्यवहार या सम्प्रेषण शैली के कारण हमारे आत्मसम्मान को ठेस, और नुकसान पहुंचाते हैं।

दुर्भाग्य से, हम अक्सर उन छोटे, अंतरंग सामाजिक ग्रुपों के बारे में बात नहीं करते हैं जिन्हें हम परिवार कहते हैं। आखिरकार हम अक्सर मानते हैं कि यह प्यार, आराम और सपोर्ट की जगह है।

हालाँकि यह हमेशा फिट नहीं होता। परिवार एक बहुत ही बंद संस्था है जहाँ ऐसी बातें होती हैं जो हमेशा अच्छी नहीं होती।

आज हम इस विषय और विभिन्न प्रकार के टॉक्सिक फैमिली और उनकी विशेषताओं के बारे में गहराई से देखना चाहते हैं।

टॉक्सिक फैमिली के प्रकार

टॉक्सिक फैमिली के प्रकार

फैमिली की डायनेमिक्स में काम करने वाले मनोवैज्ञानिक और विशेषज्ञ हमें याद दिलाते हैं कि टॉक्सिक फैमिली पर फोकस करने के बजाय हमें “टॉक्सिक पैरेंट” के बारे में बात करनी चाहिए।

पिता और माता दोनों फैमिली में में पॉवर पोजीशन रखते हैं। उनकी पर्सनालिटी घर के बाकी लोगों पर असर डालती, चाहे बच्चे हों या बड़े रिश्तेदार जैसे दादा-दादी आदि।

इसके अलावा, “टॉक्सिसिटी” का केंद्र सिर्फ फैमिली के एक मेंबर तक सीमित नहीं है।

कई बार कपल के बीच का रिश्ता घर के माहौल को नेगेटिव रूप से प्रभावित करता है। इस प्रकार भावनाओं के साथ तनावपूर्ण माहौल और हाई लेवल एंग्जायटी पैदा होती है।

आइए देखते हैं कि किस प्रकार की टॉक्सिक फैमिली होती हैं।

इसे भी पढ़ें : 5 लक्षण जो बताते हैं, आप एक टॉक्सिक इंसान हैं

नार्सिसिस्ट, मैनिपुलेटिव और कम सहिष्णुता वाले परिवार

ऐसे परिवार हैं जहां शिथिलता की वजह परिवार के किसी सदस्य पर टिकी होती है जिसका व्यवहार नार्सिसिस्ट और मैनिपुलेटिव होता है।

  • इस व्यक्ति के लिए ऐसी परिस्थितियाँ पैदा करना आम है जहाँ वे कंट्रोल करते हैं, आजादी पर अंकुश लगाते हैं, असम्मान दिखाते हैं, और बहुत असहिष्णुता जताते हैं।
  • इस तरह जीने की ऊंची कीमत है। बच्चों को लगेगा कि न तो उनकी देखभाल की जाती है और न ही उनका सम्मान किया जाता है। इस प्रकार वे टॉक्सिक, नेगेटिव पावर के खिलाफ रियेक्ट करें तो कम आत्मसम्मान या यहां तक ​​कि बड़े ही चुनौतीपूर्ण व्यवहार विकसित कर लेते हैं।

परिपक्व पैरेंट और बच्चे जो अपने माता-पिता की केयर करते हैं


दूसरे तरह की टॉक्सिक फैमिली भी होती है जहाँ माता-पिता या तो एक या दोनों – सभी तरह से बहुत ही अपरिपक्व होते हैं।

कम जिम्मेदारी, रूचि की कमी, लापरवाही या आवेगों पर काबू न कर पाने से वे अविश्वसनीय बन जाते हैं।

इस मामले में यह सामान्य है कि बच्चे वयस्क जिम्मेदारियों को बहुत पहले अपना लेते हैं। यह कुछ ऐसा है जो न तो उचित है और न ही स्वस्थ है।

बच्चों को अपनी स्वाभाविक गति से बड़ा होना होगा और उन्हें तेजी से बढ़ने के लिए मजबूर करना ठीक नहीं है।

माता-पिता जो दूसरों पर अपनी कुंठा निकालते हैं

पीड़ित की तलाश करती हताशा से बुरा मनोवैज्ञानिक हथियार कुछ और नहीं है। दरअसल अपने अपराध, भय, असफलताओं को बच्चों या अपने साथी पर प्रोजेक्ट करना निराश माता-पिता के लिए आम है।

ये सभी डायनामिक्स अपनी छाप छोड़ते हैं। कुछ चीजें किसी बच्चे के लिए उतनी ही थका देने वाली हो सकती हैं जितना कि अपने माता-पिता के सपनों को पूरा करने के लिए मजबूर होना या उनके असंतोष का टार्गेट होना।

जो माता-पिता अपने पार्टनर के खिलाफ अपने बच्चों का इस्तेमाल करते हैं

इसके अलावा, ऐसे समय होते हैं जब माँ या पिता अपने बच्चों को अपने साथी के खिलाफ “हथियार” के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।

ये अक्सर ऐसी स्थितियां होती हैं जो डिवोर्स के दौरान दिखाई देती हैं। हालांकि, वे रोजमर्रा की जिंदगी में भी होते हैं जब बच्चों को कुछ हासिल करने के लिए एक तरफ या दूसरे से जुड़ने के लिए कहा जाता है।

इन डायनेमिक्स में ब्लैकमेल का बोलबाला है, जो एक बच्चे के दिमाग के लिए बहुत विध्वंशकारी हो सकता है।

इसे भी पढ़ें : गलत आदमी के साथ रहने से बेहतर है अकेले रहना

टॉक्सिक फैमिली के कारण

टॉक्सिक फैमिली के कारण

टॉक्सिसिटी या रुग्ण परिवार में समस्या की जड़ को जानना स्पष्ट रूप से चीजों को बदलने, स्ट्रेटजी को विकसित करने और कुछ सद्भाव स्थापित करने के लिए एक अच्छा शुरुआती बिंदु है।

हालाँकि, यह आसान नहीं है। भावनात्मक कीमत आमतौर पर बहुत अधिक है।

इसके अलावा, रातोरात बदलाव नहीं होते हैं। खासकर तब जब हम एक निश्चित तरीके से कम्यूनिकेट करने के आदी हैं या अगर बिलकुल ही संवाद नहीं है।

हालांकि, हर कोशिश माता-पिता और बच्चों दोनों के लिए बेहतर सह-अस्तित्व, सम्मान और खुशी की दिशा में मददगार होगा।

चलो एक नज़र देखते हैं, टॉक्सिक फैमिली के पीछे कारण क्या हैं:

  • किसी भी फैमिली मेंबर में एक संभावित मनोवैज्ञानिक गडबडी या लत।
  • सत्ता का दुरुपयोग और सत्तावादी शैली।
  • अनुपस्थित माता या पिता जो अपनी जिम्मेदारियों की उपेक्षा करते हैं।
  • स्नेह की कमी, या कम लगाव।
  • शारीरिक या मनोवैज्ञानिक दुर्व्यवहार।
  • ठीक से कम्युनिकेशन न होना, या तो इसके स्किल की कमी, उदासीनता।
  • माता-पिता में से किसी एक की ओर से असावधानी या अविश्वसनीयता।
  • पिता या माता में कम आत्मसम्मान।
  • ऊँची महत्वाकांक्षाएं और दंपति और बच्चों दोनों के लिए उन्लिहें पूरा करने की मजबूरी।

अंत में, बहुत संभव है कि हममें से कुछ इन लक्षणों की पहचान करेंगे। इसलिए जहाँ तक हो सके हमें एक बेहतर माहौल और बेहतर रिश्ते बनाने के लिए अपना रोल अदा करना चाहिए।

हालाँकि, अगर हम जानते हैं कि इस रिश्ते का असर बहुत नेगेटिव होता है, तो हमें अपने भावनात्मक संतुलन और गरिमा को सुरक्षित रखने के लिए एक अलग तरह का निर्णय लेना होगा।