ल्यूपस रोग के बारे में आपको क्या जानना चाहिए

जुलाई 1, 2019
क्या आपने कभी ल्यूपस रोग के बारे में सुना है? यदि इस रोग से परिचित नहीं हैं तो इसके बारे में यहाँ जानिए! हम इस रोग और इसके इलाज के बारे में जानकारी देंगे।

दुनिया भर में रोगों की सूची अंतहीन है। इनमें से कुछ तो बाकियों के मुकाबले ज्यादा परेशान करने वाले हैं। बाद में ये ज्यादा खतरनाक हो जाते हैं। इनकेलक्षणों की सूची बढ़ती ही जाती है। फिर भी यदि हम दूसरे रोगों को देखें, तो इनकी शक्ति कम होना शुरू करती है। एक शानदार उदाहरण ल्यूपस रोग है।

शायद आपने इस साइट पर इसके बारे में पहले पढ़ा है। शायद आप इससे पीड़ित रहे हैं और अब तक आपको इसके बारे में जानकारी नहीं है। जो भी हो, हम यहाँ इस बारे ब्यौरेवार चर्चा करने वाले हैं।

ल्यूपस रोग क्या है?

ल्यूपस रोग क्या है

इसे मानव शरीर में सबसे सबसे खतरनाक और अस्थिर रोगों में से एक माना जाता है। इसका श्रेय इसके अहम गुण को दिया जाता है : यह एक ऑटोइम्यून रोग है।

इसके मामलों में लक्षण बिरले ही एक जैसे होते हैं और इनका पूर्वानुमान नहीं किया जा सकता। याद रखिए, यह आपके इम्यून सिस्टम पर असर होने के कारण होता है।

ल्यूपस आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यून सिस्टम पर हमला करता है, इसकी अहम कोशिकाओं पर असर डालता है।

ल्यूपस आपके शरीर की रक्षा-प्रणाली को नष्ट कर देता है। यह इसे ऐसा बना देता है कि आप बैक्टीरिया और दूसरे जहरीले पदार्थों से लड़ने की क्षमता खो देते हैं।

इम्यून सिस्टम और ल्यूपस रोग

हमने अभी जो कहा वहीं से शुरू करते हैं। साधारणतः ये लक्षण एक-दूसरे से जुड़े होते हैं। आइए हम आपके इम्यून सिस्टम और आपके शरीर के लिए इसकी अहमियत के बारे में कुछ बातें करते हैं।

  • इम्यून सिस्टम कुछ विशेष अंगों की कोशिकाओं, टिशू और प्रोटीन से बना है।
  • ये सभी साथ मिलकर बाहरी हमलावरों से आपके पूरे शरीर की रक्षा करने का अहम काम करते हैं
  • इनमें सबसे ध्यान देने लायक तत्त्वों में बैक्टीरिया, रोगाणु, और सूक्ष्म-जीवाणु  शामिल हैं। हम जहाँ भी जाते हैं, ये लगभग उन सभी जगहों पर पाए जा सकते हैं।

संक्षेप में, आपका इम्यून सिस्टम उन सभी अनिवार्य कामों का मेल है, जो आपके शरीर की रक्षा करते हैं। पर इसका ल्यूपस जैसे रोग से क्या लेना-देना है? 

संक्रामक रोग नहीं होने के बावजूद यह आपके शरीर की प्रतिरक्षा पर असर करता है। यह आपके शरीर के इम्यून सिस्टम के साथ इसके नजदीकी संबंध की व्याख्या करता है। धीरे-धीरे यह आपकी कोशिकाओं और टिशू पर हमला करता है।

इसे भी पढ़ें : जोड़ों के दर्द के 7 संभावित कारण

ल्यूपस रोग के प्रकार

ल्यूपस रोग के प्रकार

1. सिस्टेमिक ल्यूपस एरिदेमैटोसस (Systemic Lupus Erythematosus)

यह अपने संक्षिप्त नाम “SLE” से जाना जाता है। यह सबसे सामान्य प्रकार का ल्यूपस है। विशेषज्ञ इसे सिर्फ “ल्यूपस” कहते हैं, बाकी नाम का इस्तेमाल नहीं करते।

यह आपके सबसे अहम सिस्टम्स पर नियमित असर डालता है। इसमें विशेष रूप से हृदय, दिमाग, और किडनीज़ जैसे आपके अंगों शामिल हैं।

इसके लक्षण हैरतअंगेज तरीके से बदलते हैं। कुछ लोगों को चरम लक्षण हो सकते हैं, दूसरों को इतने कठोर रिऐक्शन नहीं होते।

2. क्रॉनिक क्यूटेनियस ल्यूपस एरिद्मैटोसस (cutaneous lupus erythematosus)

जैसे कि “क्यूटेनियस” शब्द से पता चलता है, यह रोग खासकर आपकी त्वचा के टिशूज़ पर असर करता है।

इसे ध्यान में रखिए कि त्वचा आपके शरीर की 100% सतह को ढकती है। आपकी त्वचा के किसी भी भाग पर इसका असर हो सकता है। और इसके लक्षण आपके चेहरे और सिर की त्वचा पर दिखाई दे सकते हैं

खास लक्षण हैं त्वचा में लाली दिखाई देना या त्वचा के टोन में बदलाव।

3. ड्रग-इनड्यूस्ड ल्यूपस एरिद्मैटोसस (Lupus Erythematosus)

इस तरह का ल्यूपस रोग सिस्टेमिक ल्यूपस के समान है। फिर भी, यह शरीर द्वारा कुछ दवाइयों को खारिज किए जाने के कारण होता है।

सौभाग्यवश, इस इलाज को बंद कर देना आपके लक्षणों को कम करने के लिए काफी हो सकता है। क्योंकि वे बहुत जल्दी गायब हो जाते हैं।

ड्रग इनड्यूस्ड ल्यूपस के लक्षण सिस्टेमिक ल्यूपस के लक्षणों से कम प्रबल हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : 6 बातें हाशिमोतो थायरॉइडिटीज के बारे में जिन्हें आपको जान लेना चाहिए

क्या ल्यूपस रोग को पहचानना संभव है?

ल्यूपस रोग को पहचानना संभव है

यह रोग जटिल है। सिर्फ उन लोगों के लिए ही नहीं जो इससे भुगतते हैं, बल्कि हेल्थ प्रोफेशनल्स के लिए भी।

कभी-कभी, ल्यूपस रोग का ठीक निदान देना कठिन होता है।

इसके बावजूद, ल्यूपस के कुछ संकेत हैं जो इसे पहचानने में मदद करते हैं।

उनमें से सबसे सामान्य नीचे दिए गए हैं :

  • जोड़ों का दर्द
  • जोड़ों की सूजन
  • अकारण चरम थकावट
  • बाल झड़ना
  • थकावट के साथ चरम एंग्जायटी
  • चेहरे की त्वचा की समस्याएँ
  • सीने में दर्द

ध्यान में रखने की चीजें

इन लक्षणों का दिखाई देना आउटब्रेकस कहलाता है। वे दिखाई देते हैं और गायब हो जाते हैं। सलाह दी जाती है कि आप अपने भरोसे के डॉक्टर से बात करें।

ल्यूपस रोग किसी में भी दिखाई दे सकता है। हम नहीं जानते कि यह कहाँ से आता है, परंतु यह जेनेटिक कारणों से संबंधित है

इस तथ्य के बावजूद कि इससे निरोग नहीं हो सकते, ल्यूपसल्यूपस रोग का इलाज करने के कई उपाय हैं। इन इलाजों के लिए हमें किसी विशेषज्ञ से बात करने की जरूरत है।

इस रोग से पीड़ित दूसरे रोगियों से बातें करना, इस रोग को बरदाश्त करने में आपकी मदद कर सकता है।

मुख्य छवि © wikiHow.com के सौजन्य से

  • Fasano, A (2011 Jan). «Zonulin and its regulation of intestinal barrier function: the biological door to inflammation, autoimmunity, and cancer». Physiol Rev 91 (1): 151-75.
  • Gatto M, Zen M, Ghirardello A, et al. Emerging and critical issues in the pathogenesis of lupus. Autoimmun Rev. 2013;12(4):523-36
  • Galindo Izquierdo M. Lupus eritematosos sistémico. En: Manual SER de las enfermedades reumáticas (5.ª edición). Editorial médica Panamericana (2008)
  •  E. Cieza-Díaz, J.A. Avilés-Izquierdo, C. Ceballos-Rodríguez, R. Suárez-Fernández: Lupus eritematoso cutáneo subagudo refractario tratado con rituximabActas dermosifiliográficas