ऑटोइम्यून बीमारियों में क्या खायें और किन खाद्यों से परहेज करें

05 सितम्बर, 2018
यदि आपको कोई ऑटोइम्यून बीमारी है, तो आपको उसके इलाज के लिए उचित आहार अपनाना चाहिए।

ऑटोइम्यून बीमारियों के लिए सही डाइट प्लान के कुछ सुझाव यहां दिए गए हैं। इस मामले में कुछ खाद्य पदार्थों की सिफारिश की जाती है और कुछ से परहेज करना होता है। यदि आपको ऑटोइम्यून बीमारी है तो आप जो खाना खाते हैं, वह बहुत महत्वपूर्ण है। अपने शरीर को बेहतर तरीके से चलाने की कोशिश करना और यहां तक ​​कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए ट्रीटमेंट ढूंढना भी महत्वपूर्ण है।

ऑटोइम्यून रोग क्या होते हैं?

ऑटोइम्यून बीमारियां शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण होती हैं। शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली खुद शरीर की अपनी कोशिकाओं पर ही हमला करती है। इसलिए शरीर की अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली कुछ अंगों और टिश्यू पर हमला करती है और उन्हें नष्ट कर देती है। अभी तक 80 से अधिक ऑटोइम्यून रोगों की खोज की जा चुकी है। इनमें से कुछ सबसे आम बीमारियाँ हैं – सेलिएक रोग (celiac disease), रूमेटोइड आर्थराइटिस और एकाधिक स्क्लेरोसिस (sclerosis)।

ऑटोइम्यून बीमारियों के लिए उचित आहार - गठिया से बचाव

“ऑटोइम्यून प्रोटोकॉल” ऑटोइम्यून रोगों के प्रभावों को रोकने का एक अच्छा साधन है। यह एक आहार है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को ठीक करने में मदद करता है।

इसे भी पढ़ें: 8 खाद्य पदार्थ जो 30 दिन में लीवर को देंगे नया जीवन, घटाएंगे वज़न

ऑटोइम्यून प्रोटोकॉल क्या है

इस आहार की सिफारिश उन लोगों के लिए की जाती है, जो ऑटोइम्यून बीमारियों से पीड़ित हैं। लेकिन यह एक  स्वस्थ व्यक्ति के लिए भी पूरी तरह उपयुक्त है, अगर वह इसका पालन करना चाहे तो। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस आहार में सभी खाद्य पदार्थ पूरी तरह स्वास्थ्यवर्धक हैं।

ऑटोइम्यून प्रोटोकॉल पैलियो डाइट के कई सिद्धांतों को साझा करता है। डाइट की शुरुआत में AIP (ऑटोइम्यून प्रोटोकॉल) कुछ  खाद्य पदार्थों पर पूरी तरह प्रतिबन्ध लगाता है। इनमें शामिल हैं, अनाज, फलियां, डेयरी उत्पाद और शुगर। इसके अलावा पाचन तंत्र में सूजन पैदा करने वाले अन्य खाद्य पदार्थों को लेने की भी मनाही होती है।

परेशानी पैदा करने वाले कुछ अन्य संभावित खाद्य पदार्थ भी हैं। इनमें शामिल हैं, अंडे, सूखे फल और मेवे, आर्टिफीसियल स्वीटनर, शराब, मसाले, कॉफी, और कोको। इन्हें भी रोगी के खाने से हटा दिया जाता है। जैसा कि ऊपर बताया गया है, ये खाद्य पदार्थ केवल आहार की शुरुआत में ही हटाए जाते हैं। यह प्रोटोकॉल धीरे-धीरे आंतों की दीवार और ‘लीकी गट सिंड्रोम’ को ठीक कर देता है।

यही कारण है कि शरीर गलती से अपनी स्वयं की कोशिकाओं पर हमला करता है। आप अपने शरीर की सूजन प्रतिक्रियाओं का विश्लेषण करते हैं। तब धीरे-धीरे अपने आहार में इन खाद्य पदार्थों को एक-एक करके जोड़ना शुरू करते हैं।

ऑटोइम्यून रोगों के मामलों में अन्य प्रतिबंधित खाद्य पदार्थ

सबसे पहले आपको स्नैक्स और औद्योगिक रूप से प्रोसेस्ड फ़ूड को अपने भोजन से हटाना होगा। आम तौर पर इन खाद्य पदार्थों को खाना हर किस्म की डाइट में मना होता है। लेकिन उन लोगों के लिए तो यह विशेष रूप से बुरा होता है, जो ऑटोइम्यून बीमारी से ग्रस्त हैं।

दूसरी ओर हम मांस उत्पादों को छोड़ देने की भी सिफारिश करते हैं। उदहारण के लिए सॉसेज, कीमा और सामन या ट्यूना जैसी मछलियाँ। इसका कारण इनमें मौजूद मेटल्स की भारी मात्रा है।

ऑटोइम्यून बीमारियों के लिए उचित आहार - मिंस मीट

ऑटोइम्यून प्रोटोकॉल के परिणाम

ऑटोइम्यून बीमारियों के लिए उचित आहार प्रोटोकॉल का पालन करने से अधिकाँश लोगों को फायदा होता है। यहां तक ​​कि कई बार तो बीमारी पूरी ठीक भी हो जाती है। हालांकि यह पूरी तरह से उस व्यक्ति की बीमारी की स्थिति और टाइप पर निर्भर करता है।

इन बीमारियों का कोई इलाज नहीं होता। इसलिए आपको इस खाने की योजना का केवल कुछ समय के लिए ही पालन नहीं करना चाहिए। आपको इसे अपनी जीवन शैली का स्थायी आहार बना लेने पर विचार करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: मेमोरी लॉस से लड़ने वाले प्राकृतिक खाद्य

स्वस्थ खाद्य पदार्थ जो ऑटोइम्यून रोगों को रोकते हैं

ऑटोइम्यून बीमारियों से लड़ने के लिए सबसे उचित आहार वे हैं, जो आपको बहुत सारी ऊर्जा देते हैं। आलू, कसावा, जमीकंद, शकरकंद, और टैपिओका जैसे ग्लूटेन मुक्त कार्ब से भरपूर भोजन काफी लाभदायक होते हैं। वे स्वस्थ नाश्ते के विकल्प हैं और आप उन्हें सूप, क्रीम वाली सब्जियों, सलाद आदि में डाल सकते हैं। यहां तक ​​कि आप उन्हें चिप्स के रूप में भी खा सकते हैं।

ऑटोइम्यून बीमारियों के लिए उचित आहार - कसावा

 

एवोकैडो, मछली का तेल, बीज, और वनस्पति तेल स्वस्थ वसा से भरपूर खाद्य पदार्थ हैं। ये भी ऑटोइम्यून बीमारियों के लिए उचित आहार माने जाते हैं। आमतौर पर लोग “वसा” शब्द सुनते ही दूर भागते हैं। लेकिन इन उत्पादों में जो लिपिड होते हैं, वे स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं।

इन खाद्य पदार्थों से आप ओमेगा-3 और ओमेगा-6 जैसे पोषक तत्व प्राप्त कर सकते हैं। ये  शक्तिशाली दाहक-रोधी एजेंट होते हैं और ऑटोइम्यून बीमारियों के लिए उचित आहार हैं। हालांकि, आपको सभी तले हुए खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए। इसलिए, तेल को गर्म करके नहीं, बल्कि कच्चा खाना ही बेहतर रहता है।

  • Gauree G. Konijeti et al. “Efficacy of the Autoimmune Protocol Diet for Inflammatory Bowel Disease”, Inflamm Bowel Dis. 2017 Nov; 23(11): 2054–2060.
  • Fasano, A (2012 Oct). «Intestinal permeability and its regulation by zonulin: diagnostic and therapeutic implications». Clin Gastroenterol Hepatol 10 (10): 1096-100
  • Fasano, A (2011 Jan). «Zonulin and its regulation of intestinal barrier function: the biological door to inflammation, autoimmunity, and cancer». Physiol Rev 91 (1): 151-75.
  • Facundo Bitsh, “¿Nuevas terapias para librarse de las enfermedades autoinmunes” en blog medicapanamericana.