फोड़े क्या हैं? उनसे छुटकारा पाने के लिये 7 सुझाव

जुलाई 1, 2019
अगर आपको अक्सर फोड़े-फुंसी होते रहते हैं, तो अपनी साफ-सफ़ाई की आदतों पर आपको पूरा ध्यान देना चाहिए और फोड़े-फुंसियों के संभावित कारणों को जानने के लिए किसी डर्मेटोलॉजिस्ट से मिलें।

अगर उचित देखभाल न की जाए तो वे दर्दनाक, असुविधाजनक और खतरनाक हो सकते हैं। फोड़े-फुंसी का होना त्वचा के लिए तकलीफ़देह होता है और य हर किसी को होते हैं। हालांकि उन्हें रोकने के कई तरीके हैं। फोड़े-फुंसियों (boils) से छुटकारा पाने के लिए यहां कुछ नुस्ख़े दिए गए हैं।

“फोड़े” को त्वचा के घाव के रूप में जाना जाता है। यह किसी संक्रमित हेयर फॉलिकल (रोम) के कारण उभरता है, जो कि बालों को उगाने वाली त्वचा की संरचनाएं होती हैं। प्रभावित क्षेत्र में सूजन आती है और यह एक दर्दनाक गेंद बन जाता है जो मवाद और मृत कोशिकाओं से भरा होता है।

मवाद (pus) की मात्रा बढ़ते ही शरीर इसे निकालने का कोई तरीका खोजने की कोशिश करेगा। आखिरकार एक सफेद या पीले रंग का उभार सूजन वाले क्षेत्र में दिखाई देगा, जैसे मुँहासे में होता है।

इन रोमकूपों में संक्रमित होने की संभावना होती है, विशेष रूप से बहुत से गीले बालों वाले क्षेत्रों में और जिन अंगों में घर्षण होता है, जैसे कि बगल, नितंब, जांघ, चेहरा, गर्दन और कमर।

अन्य मामले जो त्वचा संक्रमण का कारण बन सकते हैं, वे हैं:

  • मच्छर का काटा
  • घर्षण से बने घाव जो कपड़ों या त्वचा से त्वचा के संपर्क में आने पर होते हैं
  • छोटी शेविंग कट्स
  • खरोंच

फोड़े क्यों उभरते हैं?

फोड़े क्यों उभरते हैं?

सभी को चोट लगने का खतरा होता है। जब भी त्वचा का कोई घाव खुला रहता है, इसके त्वचा की सतह पर रहने वाले जीवाणुओं द्वारा संक्रमित होने का खतरा होता है। सभी त्वचा के घावों में फोड़े नहीं होते क्योंकि आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता बैक्टीरिया से लड़ने में सक्षम होगा।

फोड़ा न केवल एक संक्रमित हेयर फॉलिकल को प्रभावित करता है, बल्कि इसके आस-पास के टिशू पर भी असर डालता है।

भले ही आप फोड़े से छुटकारा पाने के लिए इन टिप्स को अपना सकते हैं, लेकिन कुछ ऐसे पहलू हैं जो आपको इस प्रकार के संक्रमणों का शिकार बना सकते हैं। इसी तरह, आपको फॉलिकुलिटिस (folliculitis) भी हो सकता है, जो अक्सर कई फोड़े में विकसित हो जाता है।

नीचे कुछ ऐसे कारण बताए गए हैं जिनसे आपको फोड़े होने की संभावना ज्यादा हो सकती है:

  • आनुवंशिक प्रवृतियां
  • साफ़-सफ़ाई की गलत आदतें
  • मधुमेह
  • खराब किडनी
  • सिरोसिस (Cirrhosis)
  • औषधियाँ
  • एचआईवी
  • पुरानी त्वचा के रोग
  • मोटापा
  • ज्यादा उम्र
  • चुस्त कपड़े पहनना

इस लेख को भी पढ़ें: हाई हील्स को दर्द-मुक्त बनाने के लिए 7 टिप्स

बार-बार फोड़े क्यों होते हैं?

बार-बार फोड़े क्यों होते हैं?

आम तौर पर फोड़े-फुंसी के कई मामले ऊपर बताये गए कारणों से होते हैं, या पूर्व संक्रमण के पर्याप्त इलाज न होने के कारण होते हैं।

इस प्रकार फोड़े से छुटकारा पाने के लिए एक सुझाव अपने कपड़ों, चादर और कंबल को हल्के साबुन से धोना है क्योंकि वे प्रभावित क्षेत्र के संपर्क में रहे होंगे। आप उन्हें साबुन से धोकर दूसरे संक्रमण को रोक सकते हैं।

अगर 10 दिनों में सूजन स्वाभाविक रूप से दूर नहीं होती और कई फोड़े दिखाई देने लगें, या बुखार आये तो एक डर्मेटोलॉजिस्ट से मिलें। वे सही इलाज से उन्हें सुखाने में सक्षम होंगे।

इस लेख को भी देखें: 5 कारण: पैरों के कैलस कैसे निकालें: DIY दही और विनेगर की रेसिपी

फोड़े से छुटकारा पाने के सात उपाय

फोड़े से छुटकारा पाना संभव है। आपको बस कुछ अच्छी आदतों पर अमल शुरू करना होगा जो फोड़े को खत्म करने और उन्हें रोकने में पर्याप्त सक्षम हों। इसलिए अपनी त्वचा पर पूरा ध्यान देकर इसकी शुरुआत करें। अब नोट करें!

  1. यदि आपको फोड़ा हुआ है, तो दर्द और सूजन को कम करने के लिए दिन में कम से कम तीन बार हॉट कॉम्प्रेस का उपयोग करें और कैमोमाइल टी या तुलसी की चाय पियें। कॉम्प्रेस साफ़ होना चाहिए और हर बार नए कॉम्प्रेस का उपयोग करें।
  2. फोड़ा जब तक ठीक न हो, एंटीसेप्टिक साबुन से रोज नहायें।
  3. फोड़े अक्सर कुछ दिनों बाद अनायास ही उग जाते हैं। यदि आपके साथ ऐसा होता है, तो एक स्टेराइल गॉज, साबुन और पानी से उस हिस्से को साफ करें। इससे मवाद को त्वचा के अन्य क्षेत्रों को संक्रमित करने से रोका जा सकेगा
  4. संक्रमण से बचाव के लिए अपनी त्वचा के ज्यादा बालों वाले क्षेत्रों को साफ़ और सूखा रखें।
  5. उन कपड़ों के उपयोग से बचें जो बहुत तंग हैं या जो आपके शरीर के संवेदनशील क्षेत्रों में घर्षण पैदा करते हैं। इस तरह, आप उन घावों को रोक सकते हैं जो बाद में फोड़े में तब्दील हो जाते हैं।
  6. नाखूनों से अपने फोड़े न निकालें। इससे संक्रमण और भी बदतर होगा। इसे अपने आप खत्म होने दें। अगर ऐसा न हो तो आपको डर्मेटोलॉजिस्ट से मिलना चाहिए।
  7. अगर ऊपर बताये तमाम उपायों से भी संक्रमण बार-बार होने का रुझान दिख रहा है, तो हम सलाह देंगे कि अपनी एक सामान्य जाँच करवायें जिससे मालूम हो कि आपकी त्वचा को कौन सा फैक्टर प्रभावित कर रहां है।

अच्छी साफ़-सफाई और त्वचा की सही देखभाल फोड़े से छुटकारा पाने और उन्हें फिर उभरने से रोकने में अहम भूमिका निभाते हैं। इन पर अमल करना पूरे शरीर की देखभाल करने का एक अच्छा तरीका है। इसलिए यदि आप ऐसे संक्रमण रोकते हैं, तो अपने खून और दूसरे अंगों की हिफाजत कर पायेंगे।

साथ ही, ऐसा करना आपको ज्यादा आरामदायक और कम दर्दनाक जीवन की सुविधा देता है।