तैलीय बालों को धोने की बेस्ट टिप

कभी-कभी स्कैल्प की सीबेसियस ग्लैंड में बदलाव होता है और वे सामान्य से ज्यादा सीबम पैदा करती हैं। नतीजतन आपके बाल तैलीय और गंदे दिखते हैं। इस आर्टिकल में जानिए, बालों को कैसे धोना है और कैसे इसे कम तैलीय बनाना है।
तैलीय बालों को धोने की बेस्ट टिप

आखिरी अपडेट: 11 जनवरी, 2021

तैलीय बालों को धोने के टिप्स के बारे में बताने से पहले यह जाने लें कि अगर आपके बाल तैलीय हैं, तो इसे ठीक से धोने के लिए कुछ सिफारिशों पर अमल करना होगा। स्कैल्प से ज्यादा सीबम पैदा होने के कारण, आपको मालूम होना चाहिए कि बालों के तैलीय और गंदे दिखने से बचने के लिए सही प्रोडक्ट का चुनाव कैसे करें। आपको और क्या देखना चाहिए?

सबसे पहले यह जानना अहम है कि बालों में तेल क्यों बनता है और कौन से फैक्टर इसे बदतर बना सकते हैं। फिर आप इसे बेहतर दिखाने के लिए कुछ आसान उपाय कैसे कर सकती हैं।

उन्हें जानने के लिए पढ़ते रहें!

तैलीय बालों के कारण क्या हैं?

नॉर्मल कंडीशन में स्वस्थ बाल निश्चित मात्रा में सीबम का स्राव करते हैं जिससे स्कैल्प का हाइड्रेशन सुनिश्चित हों और स्ट्रैंड स्वस्थ रहें। दरअसल सीबम को बालों की जड़ों के संवेदनशील हिस्से के लिए एक डिफेंसिव सिस्टम माना जाता है।

भले ही इस स्राव की मात्रा लोगों में अलग-अलग होती है, गलत हाइजीन, ज्यादा पसीना और अन्य जीवन शैली फैक्टर से ज्यादा सीबम हो सकता है। नतीजा? गंदे दिखने वाले बाल जिन्हें स्टाइल करना और ट्रीट करना मुश्किल होता है।

तैलीय बालों

हार्मोनल बदलाव, अतिरिक्त पसीना, और सही हेयर प्रोडक्ट का चुनाव न करना आपके बालों को तैलीय बना सकता है।

लेकिन कुछ लोगों के बालों में चिकनाई क्यों होती है जबकि दूसरों में नहीं होता है? सीबम की मात्रा बढ़ने का क्या कारण है?

कई संभावित फैक्टर हैं। नीचे हम सबसे आम कारणों के बारे में विस्तार से बताएंगे।

हार्मोनल बदलाव

इन बदलावों के कारण ओवर एक्टिव स्कैल्प सीबेसियस ग्लैंड हो सकती है। नतीजतन वे आपके बालों को गंदा कर सकते हैं। यह गर्भवती महिलाओं, किशोरियों या बर्थ कंट्रोल पिल्स लेने वाली महिलाओं में आम है।

बालों को अक्सर धोना

हालांकि तैलीय बालों वाले लोग इसे ज्यादा रेगुलर रूप से धोते हैं, लेकिन इसे बहुत अधिक धोने का असर उल्टा हो सकता है। क्योंकि हर बार जब आप हेयर प्रोडक्ट से बालों को धोती हैं, तो आपकी स्कैल्प ज्यादा सीबम पैदा करने के लिए एक संकेत ग्रहण करती है।

बालों की टाइप

स्कैल्प की बदली हुई स्थिति सीबम के स्राव को भी प्रभावित कर सकती है। हालांकि पतले और सीधे बाल रखने वालों में सीबम जमा होने का खतरा ज्यादा होता है। बाल लहराने वाले न होने पर सीबम ज्यादा आसानी से शाफ्ट के नीचे सरक जाता है।

हेयर प्रोडक्ट का दुरुपयोग

तैलीय बालों को धोने के लिए सही प्रोडक्ट का चुनाव करना जरूरी है। इसकी विशेषताओं के कारण इसे सिर्फ पानी से धोने से सीबम को नहीं हटाया जा सकता। आपने ऑयल बेस्ड प्रोडक्ट से भी आपको साफ-स्वच्छ लुक नहीं मिलेगा। सीबम को तोड़ने वाले कम्पाउंड वाले शैम्पू चुनना महत्वपूर्ण है।

आपको बहुत ज्यादा कंडीशनर का उपयोग नहीं करना चाहिए। दरअसल आपको इसे सिर्फ बालों के मध्य से सिरों तक लगाना चाहिए। यह सुनिश्चित करें कि इसमें जहां तक हो कम चिकने पदार्थ हों।

दूसरे संभावित कारण

  • तेज एक्सासरसाइज (अत्यधिक पसीने के कारण)।
  • अत्यधिक हेयर ट्रीटमेंट
  • नम बालों के साथ बाहर जाना।
  • बालों को धूप या हीट के संपर्क में लाना।

अधिक जानने के लिए पढ़ें: समुद्री शैवाल कैसे खाएं, इसका न्यूट्रिशनल वैल्यू क्या है

तैलीय बालों को सही तरह से कैसे धोएं

क्या आपने कभी सोचा है कि तैलीय बालों को धोने के लिए आपको क्या कदम उठाने चाहिए? इसकी प्रक्रिया बहुत आसान है। इसकी बुनियादी बात स्कैल्प में पीएच बैलन्स को उत्तेजित करना और सीबम उत्पादन को रेगुलेट करना है। इसे हासिल करने के लिए आपको यह जानना होगा कि सही हेयर प्रोडक्ट का चुनाव कैसे करें और उन्हें सही तरीके से लगाया कैसे जाए। इन स्टेप्स का पालन किया जा सकता है:

1. हेयर प्रोडक्ट के मामले में सावधान रहें

ज्यादातर हेयर प्रोडक्ट सामान्य या ड्राइ हेयर के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। उनकी बनावट बालों को चमकदार बनाने में मदद करती है और नमी को बढ़ाती है। जो कि तैलीय बालों के साथ सही नहीं होता। अगर आप इस समस्या को रोकने के कोशिश कर रही हैं, तो कोई सटीक फार्मूला खोजना सबसे अच्छा है।

सौभाग्य से आजकल आपको कई प्रोडक्ट मिल सकते हैं जो सीबम उत्पादन को रेगुलेट कर सकें। उदाहरण के लिए ग्रीन टी, खट्टे फल या एलोवेरा से बने प्रोडक्ट अच्छे विकल्प हैं।

2. गुनगुने या ठंडे पानी का इस्तेमाल करें

पानी का तापमान भी मायने रखता है। अगर सटीक रूप से कहें तो आपको बालों को गर्म पानी से धोने से बचना चाहिए। हालांकि यह गंदगी और ग्रीस को तो हटाता है, लेकिन बाद में यह सीबम उत्पादन को भी बढ़ा सकता है।

इसलिए गुनगुने या ठंडे पानी का उपयोग करना सबसे अच्छा है। एक अच्छा विकल्प यह है कि बालों को गुनगुने पानी से धोना शुरू करें और हेयर क्यूटिकल को सील करने के लिए फिर इसे ठंडे पानी से धोएं।

3. कोई प्रोडक्ट कैसे लागएं

आपको सबसे महत्वपूर्ण जिन पहलुओं पर ध्यान देना है वह हेयर प्रोडक्ट को कब लगाना है। सबसे पहले शैम्पू की मात्रा पर विचार कर लेना  चाहिए। यह इस बात पर निर्भर करेगा कि आपके बाल कितने लंबे और घने हैं। आपको एक से दो बड़े चम्मच का इस्तेमाल करना चाहिए।

उसके बाद आपको यह भी ध्यान देना है कि आप इसे कैसे लगायेंगे। अपने सिर पर पूरे शैम्पू को फैलाना और वहां जमा होने वाले अवशेषों को साफ करने के लिए अपनी उंगलियों से स्कैल्प की मालिश करना सबसे अच्छा है। और धोने के बाद लंबाई के बींचोबीच से सिरे तक कंडीशनर लगाएं।


जब आप प्रोडक्ट को लगाती हैं, तो उन्हें अपनी उंगलियों से मालिश करना जरूरी है। यह स्कैल्प से अवशेषों को हटाने में मदद करता है।

4. बार-बार बाल धोना

तैलीय बालों को बार-बार धोने की जरूरत नहीं है। जैसा कि हमने ऊपर बताया है, यह पीएच को बदल देता है और उलटा असर पैदा कर सकता है। इस तरह इसे हर दूसरे दिन धोना सबसे अच्छा है। गंदे बालों के एहसास से बचने के लिए आप ड्राई शैंपू भी आज़मा सकती हैं।

5. हेयर रूटीन को सप्लीमेंट करें

ऊपर बतायी गयी टिप्स के अलावा बालों की केयर करने के लिए आपको स्वच्छ और स्वस्थ बाल पाने में मदद कर सकती है। उदाहरण के लिए तैलीय बालों के लिए सही इन्ग्रेडिएंट वाले मास्क लगाना अच्छा विचार है। आप स्कैल्प स्क्रब भी आज़मा सकती हैं, अगर यह ऑयल फ्री हो।

बालों को तैलीयता में कैसे कमी लायें

सही धुलाई से आपके बालों की चिकनाई कम हो सकती है। फिर भी, आप अपने बालों को बेहतर बनाने और ओवर एक्टिव सीबम उत्पादन से बचने के लिए दूसरी टिप्स पर अमल कर सकती हैं। आज ही उन्हें आजमाने की कोशिश करें!

एसेंशियल ऑयल का उपयोग करें

स्कैल्प पर ज्यादा सीबम उत्पादन को नियंत्रित करने के लिए अपने बालों पर एसेंशियल ऑयल लगाना फायदेमंद हो सकता है। इसके गुण सीबम को तोड़ते हैं और बालों के रोम-कूपों को साफ करते हैं।

सबसे ज्यादा सिफारिश किये जाने वाले प्रोडक्ट ये हैं:

  • टी ट्री एसेंशियल ऑयल
  • पेपरमिंट एसेंशियल ऑयल
  • कैमोमाइल एसेंशियल ऑयल

पानी में या आमतौर पर आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले शैम्पू में इन तेलों की कुछ बूंदों को डाल दें। एक अन्य विकल्प रोज़मेरी ऑयल है, जो स्वस्थ बालों की ग्रोथ से भी जुड़ा हुआ है।

तैलीय बालों को ट्रीट करने के लिए एप्पल साइडर विनेगर लगाएं

आज तक बालों पर एप्पल साइडर विनेगर के लाभ पर कोई सबूत नहीं है। हालांकि उपाख्यानों में उपलब्ध आंकड़ों से पता चलता है कि इसका उपयोग करने से बाल कम तैलीय होंगे और यह रूसी जैसी समस्याओं को रोक सकता है।

  • आपको बस इतना करना है कि दो लीटर पानी में एक बड़ा चम्मच एप्पल साइडर विनेगर डालें।
  • फिर मिश्रण से अपने बालों को धोएं।
  • अंत में अपने बालों को शैम्पू से धोएं और कंडीशनर लगाएं।
  • इस उपाय को आप हफ्ते में दो से तीन बार लगा सकती हैं।

एलोवेरा मास्क लगाएं

अन्य घरेलू ट्रीटमेंट की तरह अभी भी कोई वैज्ञानिक सबूत बालों की तैलीयता से लड़ने में एलोवेरा की प्रभावशीलता पर नहीं है। फिर भी लोगों ने इसे नेचुरल कास्मेटिक में अतिरिक्त सीबम, रूसी और क्षतिग्रस्त या विभाजित बालों के सिरों  से लड़ने में सहायक माना है।

इसे कैसे लगायें

  • सबसे पहले एलोवेरा की पत्ती से ताजा जेल निकालें।
  • फिर इसे अपने स्कैल्प पर कोमल गोलाकार मालिश के साथ लगाएं।
  • इसे 20 मिनट के लिए छोड़ दें और धो लें।
  • आप इसे हफ्ते में दो या तीन बार लगा सकती हैं।

नेचुरल कास्मेटिक में एलोवेरा जेल बालों को स्वस्थ और साफ रखने में पसंदीदा प्रोडक्ट में से एक है।

तैलीय बालों में ड्राई शैम्पू लगाएं

एक्सरसाइज करने के बाद या गर्म दिन में जड़ों पर ड्राई शैम्पू लगाना अच्छा होता है, इसलिए यह सीबम को सोख सकता है। आप कई अलग-अलग तरह के कॉस्मेटिक ब्यूटी स्टोर या फ़ार्मेसी में पा सकती हैं। हालाँकि आपको इसका ज्यादा उपयोग नहीं करना चाहिए।

कॉर्नस्टार्च या बेबी पाउडर का उपयोग करें

कॉर्नस्टार्च या बेबी पाउडर पसीने या गर्मी के कारण होने वाली चिकनाई को कम कर सकता है। वे ड्राई शैंपू की तरह हैं लेकिन उनमें नेचुरल फार्मूला है। बस चुने हुए प्रोडक्ट की थोड़ी मात्रा को अपने सिर पर लगाएं और मालिश करें।

वाश लेने के बीच ब्रश करने से बचें

अत्यधिक ब्रश करने से तैलीय बाल प्रभावित होते हैं। ब्रश करने से सीबम निकलता है और खोपड़ी से क्यूटिकल्स की तरफ पसीना आता है। अपने बालों को बहुत ब्रश नहीं करना सबसे अच्छा है।

बालों को कैसे बचाएं

अत्यधिक सीबम उत्पादन कई अलग-अलग फैक्टर पर निर्भर करता है। हालाँकि सही धुलाई और कुछ होम ट्रीटमेंट को अपनाकर आप अपने बालों की बनावट में सुधार कर सकती हैं।

बेशक याद रखें कि हमारे द्वारा साझा की गई टिप्स को अपनी डेली हेयर केयर रूटीन में शामिल करना महत्वपूर्ण है।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
40 की उम्र तक अपनी त्वचा को जवां बनाए रखने के लिए टिप्स
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
40 की उम्र तक अपनी त्वचा को जवां बनाए रखने के लिए टिप्स

40 की उम्र के बाद महिलाओं को तमाम शारीरिक बदलावों का अनुभव करना शुरू हो जाता है, खासकर हार्मोन में कमी के कारण। यदि आप पहले से ही 40 की उम्र पार कर...



  • Nayak BS, Ann CY, Azhar AB, Ling ECS, Yen WH, Aithal PA. A Study on Scalp Hair Health and Hair Care Practices among Malaysian Medical Students. Int J Trichology. 2017;9(2):58-62. doi:10.4103/ijt.ijt_76_16
  • Szöllősi AG, Oláh A, Bíró T, Tóth BI. Recent advances in the endocrinology of the sebaceous gland. Dermatoendocrinol. 2018;9(1):e1361576. Published 2018 Jan 23. doi:10.1080/19381980.2017.1361576
  • Draelos ZD. Essentials of Hair Care often Neglected: Hair Cleansing. Int J Trichology. 2010;2(1):24-29. doi:10.4103/0974-7753.66909
  • Hoover E, Aslam S, Krishnamurthy K. Physiology, Sebaceous Glands. [Updated 2020 Jun 8]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2020 Jan-. Available from: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK499819/
  • Bassino E, Gasparri F, Munaron L. Protective Role of Nutritional Plants Containing Flavonoids in Hair Follicle Disruption: A Review. Int J Mol Sci. 2020;21(2):523. Published 2020 Jan 14. doi:10.3390/ijms21020523
  • Vardy, D., Cohen, A., Tchetov, T., Medvedovsky, E., & Biton, A. (1999). A double-blind, placebo-controlled trial of anAloe vera (A. barbadensis)emulsion in the treatment of seborrheic dermatitis. Journal of Dermatological Treatment, 10(1), 7–11. https://doi.org/10.3109/09546639909055904
  • Lawrence R, Tripathi P, Jeyakumar E. Isolation, Purification and Evaluation of Antibacterial Agents from Aloe vera. Braz J Microbiol. 2009;40(4):906-915. doi:10.1590/S1517-838220090004000023
  • D’Souza P, Rathi SK. Shampoo and Conditioners: What a Dermatologist Should Know?. Indian J Dermatol. 2015;60(3):248-254. doi:10.4103/0019-5154.156355
  • Gavazzoni Dias MF. Hair cosmetics: an overview. Int J Trichology. 2015;7(1):2-15. doi:10.4103/0974-7753.153450