क्या आपको एक दिन में पांच बार खाना खाना चाहिए?

22 अक्टूबर, 2020
इस दिलचस्प लेख में आर्टिकल में जानें कि क्या आपको एक दिन में पांच बार खाना खाना चाहिए। इस मामले में क्वालिटी भी महत्वपूर्ण है!

आपने शायद सुना है, आपको एक दिन में पांच बार खाना खाना चाहिए क्योंकि इससे आपको वजन कम करने में मदद मिलती है, या यह आपके मेटाबोलिज्म में तेजी लाता है या फिर क्योंकि आपको हर तीन घंटे पर खाना खाना चाहिए जिससे आपको भूख नहीं लगती।

लेकिन क्या यह सच है?

हम इस लेख में इस दिलचस्प सवाल का जवाब देंगे।

आपको दिन में कितनी बार खाना खाना हैं?

यह तथ्य कि आपको दिन में पांच बार खाना खाना चाहिए, पूरी तरह से सच नहीं है, क्योंकि यह प्रत्येक व्यक्ति और उनकी भूख, रूटीन, काम, कार्यक्रम और दूसरी गतिविधियों में लगने वाली फिजिकल एक्टिविटी पर निर्भर करता है।

यदि आप अपने को मिड मॉर्निंग और मिड डे स्नैक्स खाने के लिए मजबूर करते हैं, तो यह उन खाद्यों में बदल सकता है, जिन्हें आपको नहीं खाना चाहिए, जैसे कि मिठाई, जूस, कोल्ड दरिन ड्रिंक, चिप्स, सॉसेज, स्वीट मिल्क प्रोडक्ट… क्योंकि कई बार लोग इन विकल्पों को चुनते हैं जो स्वास्थ्यप्रद विकल्पों के बजाय इन स्नैक्स को चुनते हैं। इसलिए फ़ूड की क्वालिटी उसकी मात्रा के बजाय ज्यादा महत्वपूर्ण है। पांच अनहेल्दी फ़ूड की बजाय दिन भर में तीन हेल्दी मील ज्यादा बेहतर है।

तो क्या भोजन सबसे महत्वपूर्ण हैं? क्या ब्रेकफास्ट छोड़ना खराब है? कोई भी भोजन दूसरों की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण नहीं है। इसके अलावा इससे कोई फर्क नहीं कि अगर आपको भूख नहीं है और आप नाश्ता नहीं करते हैं या यदि आप सुबह सात बजे के बजाय दोपहर में नाश्ता करते हैं।

दिन में कितनी बार खाना खाना हैं?

क्या दिन में पांच बार खाने से मेटाबॉलिज्म तेज होता है?

यह विचार इस बात से आता है कि, जब आप खाना खाते हैं, तो आप भोजन को उसके बनाने वाले सभी तत्वों में तोड़ने और उन्हें पचाने के लिए एनर्जी खर्च करते हैं। इसे फ़ूड का थर्मिक इफेक्ट कहा जाता है।

हालांकि यह पता चला है कि पाचन के लिए आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली कैलोरी आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन और मैक्रोन्यूट्रिएंट्स की टाइप के अनुपात में कम या ज्यादा होती है। इसका मतलब यह है कि यदि आप दिन में 2,000 किलो कैलोरी वाली डाइट खाते हैं तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप तीन या पांच भोजन खा रहे हैं, क्योंकि थर्मिक इफेक्ट वही रहेगा।

जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन ने एक अध्ययन प्रकाशित किया जिसमें लेखकों ने निष्कर्ष निकाला कि यह कहने के लिए कोई ठोस वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि दिन भर में खाय जाने वाले भोजन की संख्या बढाना वजन घटाने में सहायता कर सकती है।

क्या होगा अगर आप उपवास करें?

जब आपको भूख लगे तो खाना ज़रूरी है। इसका कारण यह है कि आपमें भूख और तृप्ति तंत्र है जो गेरलिन और लेप्टिन हॉर्मोन द्वारा नियंत्रित है। यह सुनिश्चित करना भी महत्वपूर्ण है कि बच्चे भोजन करें।

हेल्दी एडल्ट विशेष परिस्थितियों के बिना, जैसे कि एथलीट या गर्भवती महिला, कई घंटे यहां तक ​​कि दिन भर खाये बिना रह सकते हैं। यदि आप कई घंटों तक फास्ट करते हैं और खून में मौजूद ग्लूकोज का सेवन कर लिया जाए तो फिर शरीर लिवर और मांसपेशियों के ग्लाइकोजन का उपयोग करता है। एक बार जब ये स्टोर ख़त्म हो जाए तो शरीर ग्लूकोनोजेनेसिस को एक्टिवेट करता है: प्रोटियोलिसिस (proteolysis) और लिपोलाइसिस (मांसपेशियों और फैट टिशू का विनाश) से ग्लूकोज का उत्पादन होता है, जो मूत्र में निष्कासित होने वाले कीटोन बॉडी (ketone bodies) को पैदा करता है।

दरअसल निश्चित अंतराल का उपवास (intermittent fasting) कुछ लोगों के लिए वजन घटाने का अच्छा माध्यम हो सकता है। इस उपवास में बिना भोजन के 16 घंटे शामिल होते हैं, जिसका अर्थ है नाश्ता भी छूटेगा। हालाँकि किसी प्रोफेशनल की देखरेख में ही यह फास्टिंग करनी चाहिए।

आपको यह भी पढ़ना चाहिए: 7 चीजें जो सुबह के समय आपके मेटाबोलिज्म को बढ़ाने में मदद कर सकती हैं

दिन में पांच बार खाना कब उचित होता है?

  • एंग्जायटी और भूख को कंट्रोल करने के लिए। यदि आप दिन में पांच बार खाना खाते हैं, तो आपको कम भूख लगेगी और भोजन की मात्रा पर बेहतर नियंत्रण कर पायेंगे। हालाँकि अगर आप भोजन छोड़ते हैं, तो आपको बहुत भूख लगेगी और उससे ज्यादा खा लेंगे जितना खाना चाहिए।
  • यदि आप कुछ रोगों जैसे कि डायबिटीज से पीड़ित हैं, हाइपोग्लाइसीमिया को रोकने और ब्लड शुगर लेवल को बनाए रखने के लिए।
  • यदि आप एथलीट हैं, जिसे बड़ी मात्रा में भोजन की जरूरत होती है। तीन की तुलना में पांच बार भोजन खाना आसान है और यह खाना खाने के सही वक्त को निर्धारित करना आसान बना देता है।

निष्कर्ष

खाना खाने की सही रूटीन बनाना अहम है। यदि आप दिन में पांच बार खाना खाते हैं, तो आपके लिए तीन भोजन करना मुश्किल होगा और इसके उलट भी उतना ही सच है। इसलिए हर मामला अलग होता है।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि स्वस्थ और तृप्तिदायक खाना खाएं। यदि आप स्वस्थ भोजन खाते हैं, तो दिन में कितनी बार खाना खायेंगे यह अहम नहीं हैं।

  • Patterson RE., Sears DD., Metabolic effects of intermittent fasting. Annu Rev Nutr, 2017. 37: 371-393.
  • Leidy, H. J., & Campbell, W. W. (2010). The effect of eating frequency on appetite control and food intake: brief synopsis of controlled feeding studies. The Journal of nutrition141(1), 154-157.
  • Tinsley GM., Bounty PM., Effects of intermittent fasting on body composition and clinical health markers in humans. Nutr Rev, 2015. 73 (10): 661-74.
  • ¡