सोरायसिस क्या है, यह कितने तरह की होती है?

05 दिसम्बर, 2018
हालांकि सोरायसिस (Psoriasis) कोई घातक बीमारी नहीं है। यह अनुवांशिक रूप से विरासत में मिलने वाली बीमारी है, जिसका गंभीर संक्रमण आपके आत्म-विश्वास को प्रभावित कर सकता है।
 

आपने कई बार दवाओं के ऐड में इसके बारे में सुना होगा और शायद अपने आप से पूछा होगा, सोरायसिस आखिर क्या है? यह एक क्रॉनिक त्वचा रोग है जो आमतौर पर खुजली वाले लाल धब्बों का कारण बनता है। इसके कारण त्वचा में “पपड़ी” भी छूट सकती है जिनकी रंगत सफ़ेद से लेकर रूपहले रंगों रंग के बीच की हो सकती है। ज्यादा जानकारी के लिए आगे पढ़ना जारी रखें।

सोरायसिस क्या है (What is psoriasis)?

यह एक ऑटोइम्म्यून रोग है, जो श्वेत रक्त कोशिकाओं को बहुत तेजी से काम करने का कारण बनता है। इससे त्वचा की परतों के पुनर्जन्म की दर सामान्य सेल ग्रोथ के मुकाबले बहुत तेज़ हो जाती है। यह स्थिति त्वचा में घाव (skin lesions) पैदा करती है जिसमें खुजली और जलन होती है।

सोरायसिस आमतौर पर वंशानुगत होती है। इसका मतलब है, अगर आपके परिवार में इस बीमारी का कोई इतिहास नहीं है, तो आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है। आपके लिए इसे अर्जित करने की संभावना बहुत कम है।

सोरायसिस आमतौर पर शारीरिक और मनोवैज्ञानिक थकावट के कारण होती है, जो मन और शरीर पर बहुत ज्यादा स्ट्रेस डालते हैं। अनियमित लाइफस्टाइल, काम की या व्यक्तिगत समस्याएँ अगर लम्बे समय तक बनी रहें तो वे ट्रिगर का काम कर सकती हैं।

सोरायसिस की किस्में

दुर्भाग्यवश इस बात का पता लगा लेना उतना आसान नहीं है जितना यह जानना कि “सोरायसिस क्या है?”  इस बीमारी की कई क़िस्में हैं। इसके सही इलाज के लिए आपके लिए यह जानना ज़रूरी है, कि आपकी बीमारी किस क़िस्म की है।

प्लैक सोरायसिस (Plaque psoriasis)

सोरायसिस: प्लाक सोरयासिस

यह सोरायसिस का सबसे आम रूप है। इसके नाम के पीछे का तथ्य यह है कि यह त्वचा पर लाल रंग के प्लैक बनाती है। यह आमतौर पर घुटने, कोहनी, चेहरे, कान और पीठ पर उभरती है

यह सामान्य चकत्ते (रैश) के रूप में शुरू होती है। लेकिन जब आप बिना पर्ची वाली क्रीम लगाते हैं तो ये चकत्ते दूर नहीं होते। चकत्ते बाद में लाल रंग और परतदार बनावट वाले हो जाते हैं। चकत्तों की धारियों पर स्किन पैचेज भी हो जाते हैं।

 

प्लैक सोरायसिस बहुत खुजली का कारण बनती है और कुछ मामलों में अत्यधिक रूखेपन या खरोंचने से खून भी बह सकता है।

अगर यह आपके स्कैल्प में है, तो इसमें सफेद पपड़ियां भी जरूर होंगी जो डैंड्रफ़ की तरह दिखेंगी। यदि यह आपके नाखूनों में है, तो वे टूटना शुरू कर देंगे और कुछ मामलों में पूरी तरह से बाहर भी आ सकते हैं।

यह भी पढ़ें: अपनी अंडरआर्म्स को डेटॉक्स करें, ब्रैस्ट कैंसर रोकें 

चित्तीदार सोरायसिस (Guttate psoriasis)

सोरायसिस: गुट्टाट सोरयासिस

इस प्रकार की सोरायसिस आमतौर पर धड़ और पैर, दोनों पर छोटे लाल धब्बे पैदा करती है। सौभाग्य से यह बड़े क्षेत्र में नहीं फैलती।

यह कान, चेहरे और स्कैल्प को भी प्रभावित कर सकती है। 30 साल से कम उम्र के लोगों में यह ज्यादा आम है।

यह घावों का भी कारण बनती है, हालांकि वे प्लैक सोरायसिस की वजह से होने वाले घावों की तरह मोटे नहीं होते।

जो लोग स्ट्रेप (ग्राम पॉजिटिव बैक्टीरिया) के वाहक हैं या अनुवांशिक रूप से इस रोग के लिए संवेदनशील हैं। आमतौर पर ठंडे मौसम में उनमें यह विकसित हो सकती है, क्योंकि इसमें त्वचा रूखी हो जाती है।

पस्चलर सोरायसिस (Pustular psoriasis)

इस प्रकार की सोरायसिस मुख्य रूप से वयस्कों को चपेट में लेती है। इसमें गैर-संक्रामक मवाद वाली फुंसियां या छाले बनते हैं, और आसपास की त्वचा में लाली आ जाती है।

फफोले बनने से पहले त्वचा आम तौर पर लाल दिखती है, और प्रभावित क्षेत्र में अक्सर इसमें खुजली और दर्द होता है।

एरिथ्रोडर्मिक सोरायसिस (Erythrodermic psoriasis)

विशेषज्ञ इसे इस रोग के सबसे खतरनाक रूपों में से एक मानते हैं। यह त्वचा के बड़े क्षेत्र में फैल जाती है। यह पस्चलर सोरायसिस के साथ-साथ लाल-लाल धब्बों के रूप में उभर सकती है।

यह उन लोगों में ज्यादा आम है जिनमें अस्थिर प्लैक सोरायसिस हो और घाव अनिश्चित काल तक बने रहते हैं

रिवर्स सोरायसिस (Reverse psoriasis)

 

त्वचा के बल जैसे बगलों, ग्रोइन या स्तनों के नीचे यह रोग बहुत आम है। यह बहुत ही असुविधाजनक होती है क्योंकि इन अंगो में पसीने की नमीत्वचा को बहुत संवेदनशील रखती है।

यह आमतौर पर बड़े पैच के रूप में में दिखाई देती है, लेकिन इस प्रकार के सोरायसिस में पपड़ियाँ नहीं निकलती। इसका पता लगाना भी बेहद आसान है। स्किन-फोल्ड के आसपास यह त्वचा के बड़े क्षेत्र में फैलती है।

यह भी पढ़ें : गठिया में उपकारी 5 पौष्टिक नाश्ते, इनका सेवन जरूर करें 

नाखून की सोरायसिस (Nail psoriasis)

अगर नाखूनों में खुजली हो, या उनमें अनियमित सतहें विकसित हो जाएँ या फिर वे अपनी जड़ों से बाहर निकल रहे हों, तो शायद यह नेल सोरायसिस है। यह आमतौर पर स्कैल्प या प्लैक सोरायसिस के समान होती है।

इसके लक्षणों में नाखूनों की सतह में अनियमितता, नाखूनों में किरचें उभरना या पूरे नाख़ून का उखड़ आना शामिल हो सकता है।

स्कैल्प सोरायसिस (Scalp psoriasis)

इस प्रकार की सोरायसिस को अक्सर ग़लतफहमी से गंभीर डैंड्रफ़ समस्या समझ लिया जाता है। जिन लोगों को अन्य प्रकार की सोरासिस होती है, वे आम तौर पर इस टाइप के भी शिकार हो सकते हैं।

यह बारीक पपड़ियां निकलने के साथ शुरू होती है, फिर घनी, मोटी पपड़ियां बन जाती हैं। वे पूरे स्कैल्प और आसपास के क्षेत्र जैसे गर्दन, कान और माथे पर फैल सकती हैं।

सोरायटिक आर्थराइटिस (Psoriatic arthritis)

सोरायसिस की इस टाइप वाले लोग आमतौर पर 30 से 50 वर्ष की उम्र के बीच वाले होते हैं। इसके आम लक्षण ये हैं :

  • सूजन
  • जोड़ों और उनके आसपास दर्द
  • कठोर या लॉक्ड जॉइंट्स जॉइंट्स
  • थकान, चलने-फिरने में कमी
  • लाल आंखें
  • टेंडन में बहुत ज्यादा कठोरता

जोड़ों की स्थाई क्षति से बचने के लिए वक्त रहते इस टाइप की सोरायसिस की डायग्नोसिस औ ट्रीटमेंट ज़रूरी है।

सोरायसिस और डिप्रेशन

सोरायसिस और डिप्रेशन

कुछ प्रकार की सोरायसिस वाले लोगों में डिप्रेशन के लक्षण दिखना आम बात है। क्योंकि घावों का  बदसूरत रूप अक्सर दूसरे लोगों का ध्यान खींचता है, जिससे मरीज के आत्म-विश्वास पर चोट लग सकती है

 

इसलिए अगर आप इनमें से किसी एक या एकाधिक प्रकार की सोरायसिस से पीड़ित हैं, तो सहानुभूति, जानकारी और प्रोत्साहन पाने के लिए परिवार और दोस्तों का सपोर्ट हासिल करना अहम है।

याद रखें, खुद ही इसका इलाज करना समाधान नहीं है। आपका इम्यून सिस्टम दूसरे लोगों से बहुत अलग है, और दूसरों के मुकाबले अलग किस्म की दवाएं आप पर बेहतर असर कर सकती हैं।

क्या अब आपको ऐसा लगता है, कोई अगर आपसे पूछे, “सोरायसिस क्या है”, तो आप इसका जवाब दे पायेंगे? अगर यह खुद आपको या आपके किसी परिजन को है, तो आप जानकारी फैलाने में मदद कर सकते हैं और इस स्थित्ति में लोगों को इतनी निराशाजनक स्थिति में जाने से बचा सकते हैं।

  • López-Estebaranz, J. L., de la Cueva-Dobao, P., de la Torre Fraga, C., Galán Gutiérrez, M., González Guerra, E., Mollet Sánchez, J., & Belinchón Romero, I. (2018). manejo de la psoriasis moderada-grave en condiciones de práctica habitual en el ámbito hospitalario español. Actas Dermo-Sifiliográficas. https://doi.org/10.1016/j.ad.2018.02.015.
  • Saraceno, R., Chiricozzi, A., & Chimenti, S. (2015). Psoriasis. In European Handbook of Dermatological Treatments, Third Edition. https://doi.org/10.1007/978-3-662-45139-7_81.
  • Capon F. (2017). The Genetic Basis of Psoriasis. International journal of molecular sciences, 18(12), 2526. https://doi.org/10.3390/ijms18122526
  • Badri, T., Kumar, P., & Oakley, A. M. (2020). Plaque psoriasis. StatPearls (). Treasure Island (FL): StatPearls Publishing. Retrieved from http://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK430879/
  • Saleh D, Tanner LS. Psoriasis, Guttate. In: StatPearls. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2020 Jan-. Available from: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK482498/
    Benjegerdes, K. E., Hyde, K., Kivelevitch, D., & Mansouri, B. (2016). Pustular psoriasis: pathophysiology and current treatment perspectives. Psoriasis (Auckland, N.Z.), 6, 131–144. https://doi.org/10.2147/PTT.S98954