नाक्टर्नल पैनिक अटैक : कारण और इलाज

15 जून, 2020
भले ही वह स्वस्थ्याजनक या मनोवैज्ञानिक कारणों से हो, कभी भी रात के पैनिक अटैक का शिकार होने पर अपने डॉक्टर को बताना ज़रूरी है जिससे वे इसे हल करने में मदद कर सकें
 

नींद के बीच में नाक्टर्नल पैनिक अटैक (Nocturnal Panic Attacks) अप्रत्याशित रूप से उभरते हैं। वे घुटन की भावना, टैकीकार्डिया (tachycardia) और पसीने से साथ उभरते हैं।

क्लिनिकल दृष्टिकोण से, यह उन रोगियों में भी होता है जो दिन में भी पैनिक अटैक से पीड़ित होते हैं।

हालांकि, यह मालूम है कि रात में होने वाले पैनिक अटैक अधिक तीव्रता और पीड़ा के साथ उभरते हैं।

इनके बारे में एक दिलचस्प बात को उजागर करना भी महत्वपूर्ण है। 10% लोग जो एंग्जायटी से पीड़ित हैं, और जो स्ट्रेस में हैं और अपनी लाइफस्टाइल की वजह से हाई लेवल स्ट्रेस से पीड़ित हैं, वे समय-समय पर नाक्टर्नल पैनिक अटैक से भी पीड़ित हो सकते हैं।

दूसरी ओर, समाज में दूसरे ग्रुप हैं जो व्यक्तिगत फैक्टर और मेडिकल कंडीशन के कारण इस तरह की स्थितियों के प्रति ज्यादा संवेदनशील हैं।

कभी-कभी, ये मामले एक वास्तविक समस्या बन सकते हैं।

आइए कुछ और जानकारी पर नजर डालें।

नाक्टर्नल पैनिक अटैक : इनसे कौन पीड़ित हो सकता है?

नाक्टर्नल पैनिक अटैक : इनसे कौन पीड़ित हो सकता है?

हम रात के पैनिक अटैक के बारे में ज्यादा बात नहीं करते हैं … बहुत से लोग तो इनके बारे में सुनकर हैरान होते हैं।

जब हम पैनिक अटैक के बारे में बात करते हैं, तो हम आमतौर पर किसी ऐसे व्यक्ति की कल्पना करते हैं जो डर में कैद है। हम एक ऐसे व्यक्ति की तस्वीर बनाते हैं जो कुछ दिन की स्थिति में लकवाग्रस्त और टैकीकार्डिया से पीड़ित है। हम शायद मानते हैं कि इसके पीछे कोई खतरा है या दबी हुई पीड़ा।

रात में और अगर ज्यादा सही कहें तो अपने बिस्तर के संदर्भ में, यह कल्पना करना मुश्किल है कि हमें इस तरह की स्थिति का अनुभव हो सकता है। पर यह जितना हम सोच सकते हैं उससे कहीं ज्यादा आम है।

आइए देखें कि किस तरह के लोग नाक्टर्नल पैनिक अटैक के हमलों से पीड़ित होने के लिए अतिसंवेदनशील हैं:

  • जो मरीज पहले से ही दिन के किसी भी समय पैनिक अटैक से पीड़ित हैं
 
  • जो लोग ऐसी परिस्थितियों में हैं जो उन पर बहुत ज्यादा मनोवैज्ञानिक या भावनात्मक दबाव डालती हैं
  • हाइपरथायरायडिज्म या हाइपोथायरायडिज्म वाले लोग
  • जो लोग एपनिया से पीड़ित हैं
  • Gastroesophageal Reflux भी इसका कारण बन सकता है
  • जो लोग अभी-अभी एक दर्दनाक घटना से गुजरे हैं : किसी प्रियजन का नुकसान, किसी दुर्घटना का शिकार होना या किसी हादसे का  गवाह होना।

नाक्टर्नल पैनिक अटैक के लक्षण

नाक्टर्नल पैनिक अटैक के लक्षण

नाक्टर्नल पैनिक अटैक नींद के गैर-आरईएम चरण (non-REM phase) में दिखाई देते हैं। यह तब होता है जब हम सबसे ज्यादा शांत, उत्सुक, और सबसे ज्यादा रिलैक्स होते हैं। (सुबह लगभग 2 बजे होना सबसे आम है)

हम अचानक जागते हैं, जैसे कि किसी ने एक ऐसे मेकेनिज्म को एक्टिवेट कर दिया हो, जो अचानक हमारी नींद से “हमें खींच” लाता है।

जागने के साथ तेज खौफ़, घबराहट की भावना आती है, एक घुटन भरी भावना, टैकीकार्डिया और पसीना।

व्यक्ति की लगता है कि स्थिति लंबे समय तक चली है। पर यह काफी छोटी अवधि होती है, कभी भी 15 से 20 मिनट से ज्यादा नहीं।

यह बताना भी महत्वपूर्ण है कि इन स्थितियों को दिन के पैनिक अटैक की तुलना में ज्यादा भ्रम के साथ अनुभव किया जाता है।

वे हमारे आराम के क्षणों में अचानक जैसे “शून्य” से उभरते हैं। वे इस अचेतन, आराम की दुनिया से बाहर आते दिखाई देते हैं जब हम पैनिक अटैक की बिलकुल भी उम्मीद नहीं करते।

नियंत्रण की कमी का भुत ज्यादा बोध होता है। यह भ्रम भय और परेशानी को और भी बढ़ा देता है, जिससे एंग्जायटी भी बढ़ जाती है।

इसे भी पढ़ें : विटामिन D की कमी के 12 लक्षण

नाक्टर्नल पैनिक अटैक से निपटने और उसे कम करने के लिए हम क्या कर सकते हैं?

जैसा कि हमने पहले ही बताया है, नाक्टर्नल पैनिक अटैक कई कारणों से हो सकते हैं। हालांकि, हम दो मुख्य कारणों में फर्क कर सकते हैं: मेडिकल और साइकोलॉजिकल।

 

चिकित्सा कारणों से नाक्टर्नल पैनिक अटैक

थायरॉइड की समस्या, एपनिया और रिफ्लक्स जैसे फैक्टर इन हिंसक और थकाऊ रात के दौरों को जगा सकते हैं।
इस तरह निम्नलिखित रणनीतियों पर अमल करना उचित है:

  • अपने डॉक्टर को बताएं कि क्या हो रहा है।
  • अपनी बीमारी के लिए सही ट्रीटमेंट जारी रखें: थायराइड की समस्या, गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स…
  • रात की अच्छी नींद पाने के लिए चिकित्सीय सिफारिशों का पालन करें।
  • पता करें कि आप जो दवा ले रहे हैं वह आपकी नींद की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकती है या नहीं।
  • एक एक्टिव जीवन जीने की कोशिश करें, क्योंकि व्यायाम एंग्जायटी अटैक पर काबू करता है।
  • नाक्टर्नल पैनिक अटैक के बाद उठने और कुछ गैर-उत्तेजक डेली रूटीन करने की सिफारिश की जाती है: कुछ साफ करें, अपने दाँत या बालों को ब्रश करें …
  • ऐसे में टीवी देखा या नहाना कोई अच्छा विचार नहीं है, क्योंकि इस मामले में आपको वापस सोने में परेशानी होगी।

पढ़ें: 9 मेलानिन युक्त खाद्य जो बेहतर नींद पाने में मददगार हैं

भावनात्मक या मनोवैज्ञानिक कारणों से घबराहट

  • अपनी भावनात्मक समस्याओं की उत्पत्ति या चिंता के कारणों की पहचान करें।
  • एक डॉक्टर की मदद से या उचित व्यक्तिगत तंत्र के जरिये अपनी भावनात्मक दुनिया का मैनेजमेंट करना सीखें।
  • सोने से पहले किसी तरह की श्वास या विश्राम टेकनीक की प्रैक्टिस करें।
  • इन स्थितियों से निपटने के लिए माइंडफुलनेस बहुत उपयुक्त है।
  • योग भी बहुत उपयोगी है।
  • प्राकृतिक वातावरण में तैरना, नृत्य करना या वाकिंग इस तरह के विकारों के लिए उपयुक्त गतिविधियाँ हैं।

निष्कर्ष के तौर पर अपने डॉक्टर को किसी भी तरह की नींद की समस्या के बारे में बताने से संकोच न करें।

रात के इस अत्त्च्क की जड़ें हमेशा ऑर्गनिक या मनोवैज्ञानिक होती हैं जिसे पहचानना महत्वपूर्ण है।

 
  • Mario R. Garcia Palmieri. Lo Que Debes Saber Sobre Tu Salud. La Editorial, UPR, 2000.
  • Pablo Manzano. Temperamento y Personalidad – Libros Ilustrados. SteelBrush, 2014.
  • JP Nicolais. Soluciones Simples a los Trastornos del Sueño: Cómo Sacar Provecho de Sus Sueños. Alchemy Solutions LLC, 2014.