विटामिन D की कमी के 12 लक्षण

21 मई, 2020
क्या आप थका हुआ महसूस कर रहे हैं? क्या आपकी रोग प्रतिरोधी क्षमता कमजोर है? आपको विटामिन D की कमी हो सकती है! इस आर्टिकल में विटामिन D की कमी के लक्षणों के बारे में जानें।

विटामिन D फैट में घुलने वाला पोषक तत्व है, जो दूसरे विटामिन और मिनरल के साथ आपके शरीर की अहम प्रणालियों के कामकाज को नियमित करने में मदद करता है।

त्वचा पर धूप पड़ने से आप इसे प्राकृतिक रूप से हासिल करते हैं, हालांकि यह कुछ खाद्य पदार्थों और डाइट सप्लीमेंट में भी पाया जा सकता है।

यह कैल्शियम और फास्फोरस, दो मिनरल के अवशोषण के लिए अनिवार्य माना जाता है जो आपकी हड्डियों और दांतों को मजबूत रखते हैं।

विटामिन D आपकी मांसपेशियों, मस्तिष्क, हृदय और दूसरे अंगों के लिए ज़रूरी है जो तंदरुस्त वर्क लाइफ की गारंटी देते हैं।

समस्या यह है कि हर किसी को इस पोषक तत्व की पर्याप्त मात्रा नहीं मिल पाती है। यह कुछ लक्षणों और स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। अगर वक्त रहते आपने इन्हें ठीक नहीं किया तो समस्या बदतर हो जाती है।

यह जानना महत्वपूर्ण है कि विटामिन D की कमी की पहचान कैसे करें और हर दिन इसकी पर्याप्त मात्रा लेने के लिए आवश्यक उपाय कैसे करें।

विटामिन D की कमी के लक्षण

1. मांसपेशियों और हड्डियों की कमजोरी

विटामिन D लेवल काफी कम होने पर हो जाता है तो आपकी मांसपेशियां और हड्डियां कमजोर हो जाती हैं।

क्योंकि यह मैग्नीशियम के स्तर में असंतुलन को बढ़ा सकता है, जो इन्हें मजबूत और स्वस्थ रखने के लिए एक मौलिक मिनरल है।

यह भी पढ़े: आपकी स्पाइन और दूसरे अंगों का आपसी सम्बन्ध

2. डिप्रेशन

इस आवश्यक पोषक तत्व की कमी से चिड़चिड़ापन, अवसाद और अचानक मूड बदलने से पीड़ित होने की प्रवृत्ति बढ़ती है।

विटामिन D वेलनेस हार्मोन के स्राव में शामिल है, इसलिए इसकी कमी आपके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है।

3. सूजन और दर्द

कई अन्य आवश्यक पोषक तत्वों की तरह, विटामिन D शरीर की सूजन प्रक्रियाओं पर काबू पाने में मददगार होता है, और आपको दर्द या जॉइंट समस्याओं के लिए संवेदनशीलता जैसी समस्याओं से बचने में मदद करता है।

इसकी कमी इन समस्याओं से पीड़ित होने के जोखिम को बढ़ा सकती है, जिससे क्रोनिक पेन से लड़ना मुश्किल हो जाता है।

4. विटामिन D की कमी से हो सकती है दांतों की समस्या

जैसा कि हमने पहले ही बताया था, विटामिन D की कमी दांतों में कैल्शियम के अवशोषण और उपयोग में बाधा डालती है, जिससे आपके संक्रमण और दाँत के क्षय होने का खतरा बढ़ जाता है।

यह सूजन की समस्याओं के अलावा लालिमा, जलन और मसूड़ों से खून निकलने जैसे लक्षण पैदा कर सकता है।

4. हाई ब्लड प्रेशर

आपका ब्लडप्रेशर बढ़ने पर एक बात पर गौर करना चाहिए कि कहीं पोषण की कमी तो इससे नहीं जुड़ी है।

हालांकि यह कार्डियोवैस्कुलर समस्या  कई कारणों से हो सकती है, पर विटामिन D की कमी कॉम्प्लिकेशन बढ़ा सकती है।

5. थकान

विटामिन D का खराब अवशोषण आपके शारीरिक और मानसिक प्रदर्शन को प्रभावित कर सकता है, जिससे थकान की प्रबल भावना पैदा होती है।

आमतौर पर व्यक्ति अपने उन कामों को सामान्य रूप से करने में असमर्थ महसूस करता है जो वह आमतौर पर करता है।

6. वजन बढ़ना

विटामिन D फैट में घुलनशील न्यूट्रीशन है, इसलिए जो लोग ज्यादा मोटे हैं हैं उन्हें इसे ज्यादा मात्रा में अवशोषित करने की ज़रूरत होती है।

इसकी कमी होने पर मेटाबोलिक एक्टिविटी जटिल हो सकती है, जिससे स्वस्थ वजन बनाए रखना मुश्किल हो जाता है।

7. दमा

विटामिन D की कमी अस्थमा के इलाज में समस्या खादी कर सकती है क्योंकि यह फेफड़ों के कमजोर कामकाज से जुडा है।

इसका पर्याप्त अवशोषण अस्थमा से जुड़ी समस्याओं को नियंत्रित करने में मदद करता है क्योंकि यह उन प्रोटीनों को ब्लाक करता है जो फेफड़ों के टिशू में सूजन पैदा करते हैं।

8. विटामिन D की कमी से बढ़ सकता है कोलेस्ट्रॉल

आपके शरीर में इस विटामिन के कई कामों में से एक है आपके रक्तप्रवाह से खराब कोलेस्ट्रॉल (LDL) को हटाना है।

विटामिन D के पर्याप्त स्तर को बनाए नहीं रखने वाले लोगों में हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या का खतरा अधिक होता है।

9. जुकाम और फ्लू विटामिन D की कमी के लक्षण

जब आपमें विटामिन D का स्तर कम होता है, तो यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा एंटीबॉडी बनाने की प्रक्रिया को प्रभावित करता है। इससे आपको सर्दी और फ्लू से पीड़ित होने की अधिक संभावना होती है।

आपमें पर्याप्त नहीं होने पर आपके श्वसन मार्ग और उसके टिशू आसानी से समस्याग्रस्त हो जाते हैं।

इस लेख पर जाएँ: क्या ग्लूटेन और फाइब्रोमायेल्जिया के बीच कोई सम्बन्ध है?

10. आंतों की समस्याएं

फैट के अवशोषण की समस्या विटामिन D की कमी से जोड़ी जा सकती है, जो बदले में आंतों की समस्यायें ओं के विकास को प्रभावित करता है।

निम्नलिखित होने पर आपके विटामिन डी अवशोषण में सुधार करना आवश्यक है:

  • लस के प्रति संवेदनशीलता (सीलिएक या गैर-सीलिएक)
  • क्रोहन रोग
  • पेट दर्द रोग
  • बहुत ज़्यादा पसीना आना

इस पोषक तत्व के कम अवशोषण के साथ, हार्मोनल परिवर्तन हो सकते हैं जो अत्यधिक पसीने जैसे लक्षण पैदा करते हैं।यह अपर्याप्त विटामिन डी से पीड़ित व्यक्ति के लिए आम है, विशेष रूप से सिर पर अधिक पसीना आना।

क्या आपने इनमें से कोई भी लक्षण देखा है? यदि आपको संदेह है कि आपके पास इस पोषक तत्व में कमी है, तो उन खाद्य पदार्थों की खपत को बढ़ाने की कोशिश करें जिनमें यह शामिल है और थोड़ा अधिक सूरज जोखिम भी मिलता है।

ध्यान रखें कि धूप सेंकते समय आपको हमेशा सावधानी बरतनी चाहिए, क्योंकि सूर्य की किरणें विस्तारित और असुरक्षित प्रदर्शन के बाद हानिकारक प्रभाव डाल सकती हैं।

  • McKenna, M. J., & Murray, B. (2014). Vitamin D deficiency. In Endocrinology and Diabetes: A Problem-Oriented Approach. https://doi.org/10.1007/978-1-4614-8684-8_23
  • Jakobsen, J., & Jäpelt, R. B. (2012). Vitamin d. In Handbook of Analysis of Active Compounds in Functional Foods. https://doi.org/10.1201/b11653
  • Holick, M. F., & Chen, T. C. (2008). Vitamin D deficiency: A worldwide problem with health consequences. American Journal of Clinical Nutrition.
  • Thacher, T. D., & Clarke, B. L. (2011). Vitamin D insufficiency. Mayo Clinic Proceedings. https://doi.org/10.4065/mcp.2010.0567
  • Pearce, S. H. S., & Cheetham, T. D. (2010). Diagnosis and management of vitamin D deficiency. BMJ (Online). https://doi.org/10.1136/bmj.b5664
  • Judd, S. E., & Tangpricha, V. (2009). Vitamin D deficiency and risk for cardiovascular disease. American Journal of the Medical Sciences. https://doi.org/10.1097/MAJ.0b013e3181aaee91
  • Prentice, A. (2008). Vitamin D deficiency: A global perspective. Nutrition Reviews. https://doi.org/10.1111/j.1753-4887.2008.00100.x