मेन्सट्रुअल क्रैम्प और दूसरी मेन्सट्रुअल समस्याओं के लिए नेचुरल ट्रीटमेंट

17 जून, 2020
ये इलाज विभिन्न मेन्सट्रुअल समस्याओं को कम करने या ख़त्म करने में मदद करेंगे, लेकिन कुछ मामलों में रिएक्शन होने की वजह से अपने गाइनेकॉलोजिस्ट की देखरेख में उन्हें आज़माना ही सबसे अच्छा होगा।
 

तकलीफ़देह पीरियड, ऐसे पीरियड जो बहुत हेवी हों, पीरियड मिस करना… मेन्सट्रुअल समस्याओं का कोई अंत नहीं है।

महिलाओं में मासिक धर्म की समस्याएं बहुत आम हैं। फिर भी, उनके समाधान के लिए बहुत कम इलाज हैं।

आज के लेख में हम आम मेन्सट्रुअल समस्याओं और उनके इलाज के लिए कुछ प्राकृतिक इलाज और आहार संबंधी सुझावों की जानकारी शेयर करना चाहते हैं।

मेन्सट्रुअल समस्याएं आम नहीं होतीं

हालांकि कई गाइनेकोलॉजिस्ट कहेंगे कि मेन्सट्रुअल समस्याएं आम हैं, पर सच्चाई यह है कि किसी भी अनियमितता का एक कारण ज़रूर होता है।

इसका मतलब यह नहीं है कि आपको कोई गंभीर स्वास्थ्य समस्या है। हालांकि, आपको हार्मोन समस्या हो सकती है जिसे आप गर्भनिरोधक गोलियों का सहारा लिए बिना प्राकृतिक रूप से इलाज करने की कोशिश कर सकती हैं।

अब हम चार सबसे आम मेन्सट्रुअल समस्याओं और कुछ प्राकृतिक नुस्खों का जिक्र करेंगे।

1. मेन्सट्रुअल समस्यायें : हेवी पीरियड


इन्हें मेनोरेजिया (menorrhagia) या हेवी पीरियड के रूप में जाना जाता है। वे या तो आठ दिनों से अधिक तक रहते हैं या प्रति साइकल 80 मिलीलीटर से ज्यादा खून बह जाता है।

इस तरह की मेन्सट्रुअल समस्या किसी भी गंभीर बीमारी के बिना भी पीड़ित व्यक्ति को एनीमिया, थकान और दूसरे लक्षणों के साथ बहुत सी असुविधाओं में डाल सकती है।

इसलिए प्राकृतिक रूप से इसका इलाज करने की कोशिश करना महत्वपूर्ण है। ये चाय मदद कर सकती हैं:

  • अश्व पुच्छा (Horsetail)
  • किरात (Gentian)
  • बिच्छू बूटी (Nettle)
  • येरो (Yarrow)
  • चीनी एंजेल या डोंग क्वाई (Chinese angel or Dong Quai)
  • गेंदे का फूल
  • सेज

प्रिमरोज़ ऑयल (primrose oil) और बोरेज़ ऑयल (and borage oil) में पाए जाने वाले एसेंशियल फैटी एसिड बहुत फायदेमंद हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : रूमेटाइड आर्थराइटिस से राहत पाने के लिए औषधीय नुस्ख़े

2. मेन्सट्रुअल समस्यायें : हल्के पीरियड

 

इसके विपरीत मामले में, आपको बहुत हल्के पीरियड हाइपरमेनोरिया (hypermenorrhea) आते हैं। इसकी विशेषता ऐसे पीरियड हैं जो सिर्फ एक या दो दिनों तक चलते हैं या 50 मिलीलीटर से कम खून निकलता है।

यह सिर्फ तब सामान्य है जब यह मासिक धर्म के पहले वर्षों में किशोरावस्था के दौरान या मेनोपाज के आसपास होता है।

दूसरी स्थिति में बांझपन, मोटापा, पॉलीसिस्टिक ओवेरी, एनीमिया और अन्य समस्याओं की जांच करानी चाहिए।

मेन्सट्रुअल समस्याओं के लिए इन प्राकृतिक उपचारों को आजमायें, विशेष रूप से मेंन्सट्रुअल  प्रवाह को बढ़ाने की कोशिश के लिए:

  • लहसुन
  • प्याज
  • कैमोमाइल
  • पार्सले

3. पीरियड्स न होना

जब आपको पास हर 24 से 35 दिनों में नॉर्मल पीरियड नहीं हो, या बिना किसी स्पष्ट कारण के एक और डेढ़ महीने से ज्यादा की देरी हो, तो यह एमनोरिया के बारे में बात करने का समय है।

हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि चिकित्सक की दृष्टि से तीन मिस होने वाले पीरियड की स्थिति में ही इससे जुड़ा माना जाता है।

एमनोरिया (Amenorrhea) इनसे संबंधित हो सकता है:

  • वजन में कमी
  • तनाव
  • वजन ज़्यादा होना
  • गहन एक्सरसाइज
  • पॉलीसिस्टिक ओवेरी या अन्य समस्याएं।

अपने पीरियड की शुरुआत को ट्रिगर करने के लिए आप अजमा सकती हैं:

  • ओरिगैनो
  • कैमोमाइल
  • पार्सले
  • दालचीनी
  • Ginseng
  • केसर

4. गंभीर मेन्सट्रुअल क्रैम्प

डिसमेनोरिया (Dysmenorrhea) या दर्दनाक पीरियड प्राकृतिक इलाज ढूँढने के सबसे अहम कारणों में से एक है। आखिरकार, ज्यादातर महिलाएं जो दर्दनाक पीरियड से पीड़ित हैं, उन्हें एक निश्चित समाधान खोजने में परेशानी होती है।

वे अक्सर ओरल गर्भ निरोधकों या एंटी इन्फ्लेमेटरी, एनाल्जेसिक दवाओं का सहारा लेती हैं। हालाँकि, ये आपके स्वास्थ्य पर गलत असर भी डालते हैं।

डिसमेनोरिया कुछ हार्मोन गड़बड़ियों (एस्ट्रोजन की अधिकता या कमी), तनाव या एंडोमेट्रियोसिस, अन्य चीजों से संबंधित हो सकता है।

 

हम आपको मेन्सट्रुअल समस्याओं के प्राकृतिक इलाज के लिए ये सिफारिशें कर सकते हैं, खासकर दर्दनाक ऐंठन के लिए। दर्द को कम करने के लिए आपको निम्नलिखित इलाज कई महीनों तक करना चाहिए:

  • नागदौना (Sagebrush)
  • हल्दी
  • जिन्कगो बिलोबा (Ginkgo biloba)
  • नागदौन (Wormwood)
  • सेज

अधिक जानना चाहते हैं? मैग्नीशियम कैसे आपकी मानसिक क्षमताओं में सुधार करता है

मेन्सट्रुअल समस्याएं : हार्मोन सेहत के लिए आम दिशानिर्देश

इसके अलावा मेन्सट्रुअल समस्याओं को नियंत्रित करने और समग्र स्वास्थ्य में सुधार लाने में मदद करने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं:

  • मैदा और सफेद आटे (ब्रेड और पेस्ट्री, पास्ता, पिज्जा, आदि) का सेवन घटाएं।
  • भोजन (तले हुए खाद्य पदार्थ, मार्जरीन, डेयरी उत्पाद, सॉसेज, आदि) से नुकसानदेह फैट को हटा दें और उन्हें हेल्दी फैट (जैतून का तेल, नारियल का तेल, एवोकैडो, नट्स, बीज, ब्लू फिश) के साथ बदलें।
  • फलों और सब्जियों जैसे भरपूर फाइबर वाले खाद्य पदार्थ खाएं।
  • मैका सप्लीमेंट लें या इसे भोजन (जूस, स्मूदी, सूप) में मिलाएं, क्योंकि यह हार्मोन को रेगुलेट करने में मदद करता है और इसमें एंटीऑक्सिडेंट गुण भी होते हैं।
  • दिन में कम से कम डेढ़ लीटर पानी पिएं।
  • हर दिन कुछ समय के लिए पांच या 10 मिनट के आसपास धूप में निकलें।
  • टॉक्सिक हैबिट से बचें, जैसे तंबाकू या शराब पीना।
  • शरीर को कम समय या लॉन्ग टर्म में नुकसान पहुंचाने वाले स्ट्रेस का मुकाबला करें।