मैग्नीशियम कैसे आपकी मानसिक क्षमताओं में सुधार करता है

04 मई, 2020
क्या आप जानते हैं, मैग्नीशियम आपकी मानसिक क्षमताओं को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। यह आपके शरीर को स्ट्रेस से निपटने में भी मदद कर सकता है।

मैग्नीशियम अहम पोषक तत्व है जिसके बारे में आजकल हर कोई बात कर रहा है। यह मिनरल बहुआयामी है और हमारी अच्छी तंदरुस्ती की कुंजी भी है।

यह कोई अतिशयोक्ति नहीं है कि इंसानी देह में, इंसानी बायोकेमिकल रिएक्शन के बड़े हिस्से में मैग्नीशियम (Magnesium) का बहुत महत्व है। इस मिनरल की बदौलत आपका शरीर 300 एंजाइम प्रक्रियाओं को अंजाम देता जिसमें कुछ विशेष भी हैं, जैसे कि ऊर्जा का उत्पादन।

पर अगर हम आपको बताएं कि यह मिनरल आपकी मनोवैज्ञानिक तंदरुस्ती के लिए भी ज़रूरी है?

बेशक यह दिलचस्प तथ्य है:मेजर डिप्रेशन वाले रोगी, उदाहरण के लिए मैग्नीशियम-आधारित सप्लीमेंट से बहुत लाभान्वित होते हैं।

जो लोग एंग्जायटी, मूड की गड़बड़ी, ऐंठन, कन्वल्सन, एटेक्सिया और साइकोसिस के एपिसोड से से पीड़ित हैं, उनका जीवन स्तर बेहतर होने की संभावना बढ़ जाती है।

आज इस लेख में हम यह बताना चाहते हैं कि मैग्नीशियम आपकी मानसिक सेहत को कैसे बेहतर बनाने में सक्षम है और यह आपकीमानसिक क्षमताओं को कैसे बढ़ाता है।

मैग्नीशियम से अपनी मानसिक सेहत सुधारें

1. मैग्नीशियम याददाश्त में सुधार करता है

मैग्नीशियम आपकी याददाश्त में सुधार करता है

यह हम अक्सर पढ़ते हैं, औद्योगिक देशों में आधी आबादी मैग्नीशियम की न्यूनतम ज़रूरी मात्रा नहीं लेती।

  • जब हम अधेड़ उम्र में पहुंचते हैं तो इस कमी का असर पड़ता है। जीवन के इस स्टेज में हमारे कई कॉगनिटिव कामकाज धीमे होने लगते हैं।
  • यह ध्यान में रखना अच्छा है कि मैग्नीशियम आपके सिनैप्स को बनाता है जो हिप्पोकैम्पस में मौजूद हैं। यह आपके मस्तिष्क का वह हिस्सा है जो आपको लॉन्ग टर्म मेमोरी को बनाए रखने में मदद करता है।
  • यह मिनरल प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स में एक महत्वपूर्ण काम करता है।
  • मैग्नीशियम की बदौलत आपका मस्तिष्क उन्हें याद कर सकता है जो आपकी शार्ट टर्म मेमोरी में रहते हैं (जैसे कि मैंने चाबी कहाँ छोड़ दी थी, ओवन बंद करना, कुछ ज़रूरी चीज खरीदना …)।

मैग्नीशियम सिनैप्टिक नर्व के सिरों को भी मजबूत करता है जो दूसरी बातों के साथ-साथ सूचना, स्मृति और डेटा के आदान-प्रदान के लिए जिम्मेदार हैं।

इसे भी पढ़ें : मैग्नीशियम की कमी के 8 कारण और इसकी पूर्ति के उपाय

2. मैग्नीशियम आपके सीखने की क्षमता बढ़ाता है

हम में से बहुत से लोग सोच सकते हैं, सीखने की क्षमता वक्त के साथ खो जाती है।

यह साफ़ है कि 70 साल के होने पर आपकी सीखने की क्षमता 3 साल के बच्चे के बराबर नहीं होती। हालांकि, हमें अपने दिमाग का ख्याल रखने की  जरूरत है क्योंकि यह अविश्वसनीय क्षमता वाला अंग है।

  • इसकी प्लास्टिसिटी, नए कनेक्शन बनाने की इसकी संभावनाएं कभी नहीं रुकती। दूसरे शब्दों में, अगर हम इसका उपयोग करते हैं और हम अपनी मसल्स की तरह इसका ध्यान रखते हैं, तो हम गारंटी देते हैं कि यह लम्बी उम्र तक अच्छी स्थिति में रहेगा।
  • ऐसा करने का एक तरीका मैग्नीशियम की खुराक है।
  • इस मिनरल की बदौलत हम अपनी नर्व सेल्स को ठीक रक्ख सकते हैं। हम अपनी याददास्त, मूड और नई जानकारी पाने के क्षमता को बेहतर बनाते हैं।

3. यह स्ट्रेस कम करने में मदद करता है

तनाव ग्रस्त होने पर हमारेखून कोर्टिसोल बढ़ जाता है।

कोर्टिसोल की अधिकता मस्तिष्क की संरचना में बहुत ठोस तरीके से नुकसान करती है: खासकर हिप्पोकैम्पस को।

इससे याददाश्त में कमी आती है। इससे ध्यान केंद्रित करना कठिन होने अगता है। यह आपकी नेगेटिव भावनाओं को बढाता है।

यह जानना दिलचस्प है कि मैग्नीशियम हमारे हार्मोन पर कोर्टिसोल घटाने और तनाव की प्रतिक्रिया को नियंत्रित करने की दिशा में भी काम करता है।

मैग्नीशियम खून-ब्रेन बैरियर के रूप में काम कर सकता है। दूसरे शब्दों में, यह स्ट्रेस के लिए जिम्मेदार हार्मोन को आपके मस्तिष्क में जाने से रोकता है।

इसे भी पढ़ें : एंग्ज़ाइअटी और वजन घटाने के लिए सीखें मैग्नीशियम क्लोराइड बनाना

4. मैग्नीशियम अल्जाइमर को रोक सकता है

मैग्नीशियम किसी में अपे आपमें अल्जाइमर रोग विक्सि होने से नहीं रोकता है।

  • हालांकि, यह एक दिलचस्प तथ्य है कि इसके विकास के जोखिम को कम करने वाले एक रक्षक के रूप में यह काम कर सकता है।
  • उदाहरण के लिए, यह मिनरल मस्तिष्क के हिप्पोकैम्पस में अमाइलॉइड प्लेक (amyloid plaque) को जमा होने से रोकता है।
  • यह प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स में इस प्लेक की मौजूदगी को भी कम करता है।

बेशक यह दिलचस्प डेटा है। यह हमें इस मिनरल सेजुड़ी कमी के भरपाई करने के लिए डाइट में सुधार करने पर जोर देता है।

5. मैग्नीशियम एंग्जायटी घटाता है और ज्यादा ‘एकाग्रचित्त’ होने की सुविधा देता है

मैग्नीशियम एंग्जायटी घटाता है

हम सभी निश्चित ही ऐसे वक्त से गुजरे हैं, जिसमें हमारा दिमाग समय के मुकाबले बहुत तेजी से काम करता है। हम उत्तेजना को महसूस करते हैं, और कोई भी घटना कोई उद्दीपन जो उभरता है, हमें नियंत्रण खोने पर मजबूर कर देता है।

  • हम पर जो भी गुजरता है, हम घबराहट, अनिद्रा और एक अभिभूत होने की भावना महसूस करते हैं।
  • हमारे रोजमर्रा की ज़िन्दगी को बेहतर तरीके से मैनेज करके एंग्जायटी के इन अटैक को रोका जा सकता है। अपने शरीर में मैग्नीशियम लेवल का ख़याल रखकर भी उन्हें रोका जा सकता है।
  • हम यह नहीं भूल सकते कि मैग्नीशियम हमारी सेल्स में सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में से है। क्योंकि यह बायोलॉजिकल प्रोसेस के लिए “ईंधन” के रूप में कार्य करता है।
  • जिस अंग को सबसे ज्यादा एनर्जी की ज़रूरत होती है वह है आपका ब्रेन। इसे मैग्नीशियम की ऊँची खुराक चाहिए।
  • अगर हम एंग्जायटी के तेज दौरेका शिकार हुए हैं तो स्थिति सुधरने के लिए “मैग्नीशियम डाइट” खाने से बेहतर कुछ भी नहीं है।
  • दूसरे शब्दों में, हमें उन खाद्य पदार्थों को खाना चाहिए जो इस मिनरल से समृद्ध हैं। पर सप्लीमेंट और रेकमेंडेड डाइट लेना अच्छा रहेगा या नहीं इसके लिए अपने डॉक्टरों से ज़रूर बात कर ली चाहिए।

कुछ हफ़्तों से कम वक्त में ही आप देखेंगे, आपकी नर्व में सुधार हो रहा है। मांसपेशियों का तनाव कम होगा। इसके अलावा अब आपका ध्यान ज्यादा केन्द्रित होगा।