किसी से प्रेम करने से पहले ख़ुद से प्यार करना सीखना होगा

सितम्बर 27, 2018
आप ख़ुद ख़ुश रहें, और जिन्हें आप प्यार करते हैं उन्हें हर ख़ुशी दे सकें, आपकी यह ख़्वाहिश पूरी तभी होगी जब आप पहले अपने आप से प्यार करना सीखेंगे।

लोगों कहते हैं हर कोई किसी न किसी से प्यार करता है। मुझे भी करना होगा। लेकिन आज तक किसी ने मुझे यह नहीं बताया कि उससे भी पहले मुझे ख़ुद से प्यार करना होगा।

लोग यह भी कहते हैं, सबका का एक न एक हमसफ़र होता है, जो उसका जीवन खुशियों से भर देता है। उसके अधूरेपन को पूरा करता है। लेकिन, किसी ने मुझे यह नहीं बताया कि किसी और से प्यार करने से पहले मुझे ख़ुद से प्यार करना सीखना होगा।

अगर आसक्ति की बात करें तो हममें से हर कोई धोखा खा जाता है। आश्चर्य की बात यह है कि अगर हम ख़ुद से प्यार करना नहीं जानते हैं तो फिर किसी से आसक्ति कैसे हो सकती है।

इसी तरह, आपके मन में भी यह सवाल उठ सकता हैः जब आप खुद से ही प्यार नहीं करते तो किसी और से कैसे प्यार कर सकते हैं?

आप सिर्फ़ ख़ुद के बिना जिंदा नहीं रह सकते

आप किसी से इतना प्यार करते हैं कि उसके बिना जिंदा नहीं रह सकते हैं। क्या वाकई ऐसा है? क्या आपको लगता है, अगर आप अपनी ज़िंदगी अपने हिसाब से जियेंगे तो आसमान गिर जाएगा?

दरअसल, आप यह नहीं समझते कि आप ही वह इकलौते व्यक्ति हैं जिसके बगैर आप जिंदा नहीं रह सकते।

ख़ुद से प्यार करना सीखना होगा

इंसानों में आम तौर पर स्वाभिमान की कमी होती है। इस कमज़ोरी को वे किसी के प्यार का सहारा लेकर दूर करने की कोशिश करते हैं। हालांकि कई बार सकारात्मक नतीजे निकलने के बजाय इससे समस्याएं पैदा हो जाती हैं। हम भावनात्मक रूप से दूसरे व्यक्ति पर निर्भर हो जाते हैं।

किसी के प्यार में खुद को भूल जाना बहुत ख़ूबसूरत अहसास है। बावजूद इसके, आप अच्छी तरह जानते हैं, जिस व्यक्ति को आपको सबसे पहले प्यार करना चाहिए, वह आप ख़ुद हैं।

अगर आप ख़ुद से प्यार नहीं करते, आपको खुद पर भरोसा नहीं है तो आप किसी और के साथ ऐसा कैसे कर सकते हैं?

बेशक, कभी-कभी आप अकेलापन महसूस करते हैं। आपको डर लगता है। पर आप उन सभी बातों से बाहर जाकर दुनिया देखते हैं जो आपको सिखाई गईं हैं। धीरे-धीरे आप ख़ुद से प्यार करना सीखने लगते हैं। यही सबसे ज़रूरी भी है।

पहले ख़ुद से शुरुआत करें, फिर दूसरों से प्यार करें। एक बात बिलकुल स्पष्ट होनी चाहिएः आप ही वह इकलौते व्यक्ति हैं जिसके बगैर आप जिंदा नहीं रह सकते।

इसे भी पढ़ें: ‘मुझे तब तुमसे प्यार था, पर अब नहीं है’

ख़ुद से प्यार करना है पहला कदम

हो सकता है, आप सोच रहे हों, ख़ुद से प्यार करना कैसे संभव है? दरअसल किसी ने आपको बताया ही नहीं, ऐसा कैसे करना है। सच है कि यह कर पाना मुश्किल है लेकिन यह असंभव नहीं। हम उम्मीद करते हैं, आज हम आपको जो टिप्स देंगे, उनकी मदद से आप ख़ुद से और प्यार करने लगेंगे।

ध्यान रखें, इस दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण आप हैं।

ख़ुद से प्यार करना है पहला कदम

अकेलेपन से डरें नहीं

बिना कारण अकेलेपन से डरना आसान है। क्योंकि आपको सिखाया गया है, अकेलापन दुखी होने का संकेत है। लेकिन अगर आप अकेले में ख़ुश नहीं रह पाते हैं तो यह भी बड़ी समस्या है।

क्या यह सच है कि आप अकेले में ख़ुश नहीं रह सकते या फिर सिर्फ़ दूसरों की वज़ह से आप ऐसा मानने लगे हैं?

बेहतर होगा आप अपने अकेलेपन का फ़ायदा उठाकर सारा समय ख़ुद को दें।

आप बहुत कुछ सीखेंगेः आपका स्वाभिमान बढ़ेगा, आप ख़ुद पर भरोसा करेंगे, अपने आप से बेपनाह प्यार करने लगेंगे।

अपने अकेलेपन को व्यर्थ न जाने दें क्योंकि इसी में आप ख़ुद को खोज पाएंगे, अपने आप को प्यार करना सीखेंगे।

इसे भी पढ़ें: सच्चा प्यार करने वाला आपको सुकून और स्थिरता का भरोसा देता है

दिखावा न करें

जो ख़ुद से प्यार करते हैं, वे दिखावा बिलकुल नहीं करते। अगर आप इसी चिंता में डूबे रहेंगे कि लोग क्या सोचेंगे तो आपको असुरक्षा की भावना जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। अगर आप जानते हैं कि आप कौन हैं और क्या चाहते हैं तो आपको इस बात से फ़र्क नहीं पड़ता कि लोग क्या कहेंगे।

अपने दोस्तों का ध्यान रखें

कभी-कभी जब आपकी किसी के साथ जोड़ी बन जाती हैं तो आप दोस्तों को नज़रअंदाज कर देते हैं। हालांकि आपको ऐसा कभी नहीं करना चाहिए। जोड़ियां बनती और बिगड़ती रहती हैं, दोस्त नहीं। अगर आप अपने दोस्तों का ध्यान रखेंगे तो वे आपकी मदद के लिए हमेशा मौजूद रहेंगे।

प्यार को कभी दोस्ती से ज़्यादा अहमियत न दें। वह इस लायक नहीं है।

जब आप अपने आप से प्यार करते हैं और अपनी कीमत समझते हैं तो जान जाएंगे कि आप बिना किसी का साथ पाए भी ख़ुश रह सकते हैं। आप यह समझ जाएंगे कि ज़िंदगी सिर्फ़ आपके पार्टनर से शुरू होकर उसी पर ख़त्म नहीं होती।

अपने दोस्तों पर ध्यान दें। दोस्त जो आपको कभी निराश नहीं करते हैं और जिन पर आपको पूरा भरोसा है। वास्तव में वे आपके लिए बेशकीमती हैं।

ख़ुद से प्यार करना

दूसरों के लिए सबकुछ न गंवाएं

जो कुछ भी करें, अपने लिए करें, दूसरों के लिए नहीं। इस दुनिया में आप ही सबसे महत्वपूर्ण हैं। आपको खुद पर भरोसा रखते हुए, अपने आप से प्यार करते हुए, पूरे अभिमान और सम्मान के साथ अपने लक्ष्य की ओर कदम बढ़ाना होगा।

किसी और के लिए अपना सबकुछ कभी न गंवाएं क्योंकि इसका नतीजा अकेले आपको ही भुगतना पड़ेगा।

इन बातों की वजह से आप सोच सकते हैं, आप स्वार्थी इंसान बन रहे हैं। लेकिन शायद आप यह नहीं समझते कि असल में आप एक अच्छा काम कर रहे हैं। आप सिर्फ़ कुछ समय अपने आपको देना चाहते हैं।

जब कभी इन बातों को भूल जाएं तो ये शब्द दोहराएंः “तुमसे प्यार करने से पहले मैं खुद से प्यार करूंगा।” ताकि आप दूसरों से सच्चा प्यार कर सकें… ख़ुश रहें।

  • Fehr, B. (2012). Friendship. In Encyclopedia of Human Behavior: Second Edition. https://doi.org/10.1016/B978-0-12-375000-6.00174-9
  • Locke, E. A., Kenner, E., Antoniou, A.-S. G., Cooper, C. L., Chrousos, G. P., Spielberger, C. D., & Eysenck, M. W. (2009). How altruism undermines mental health and happiness. In Handbook of managerial behavior and occupational health.