5 अन्तरंग आदतें गुप्तांग स्वच्छता की, जो उतनी हेल्दी नहीं हैं जितना आप समझती हैं

01 नवम्बर, 2018
भले ही हम इसे स्वच्छता से जुड़ा अभ्यास मानें, गुप्तांग के आसपास बालों को शेव करने के कई नुकसान भी हैं। दरअसल ये बाल बैरियर का काम करते हैं और कई तरह के संक्रमण को फैलने से रोकते हैं।

यह स्वाभाविक है कि बहुत सी महिलाएँ गुप्तांग स्वच्छता से जुड़ी जानकारी में विशेष दिलचस्पी रखती हैं। इस जिज्ञासा के दो मुख्य कारण हैं। वे योनि के संक्रमण के खतरों से डरी रहती हैं। दूसरा, उन्हें गुप्तांगों की अप्रिय गंध की फ़िक्र भी होती है।

वेजाइना से किसी किस्म की अप्रिय गंध या फ्लूइड डिस्चार्ज से बचने के प्रयास में कई बार वे कुछ गलत आदतें अपना बैठती हैं। इससे वेजाइनल हेल्थ पर असर पड़ सकता है।

वेजाइना स्त्री-शरीर का सबसे नाज़ुक अंग है। इस वजह से इसकी साफ़-सफ़ाई रखने में कठिनाई भी आड़े आ सकती है।
  • केमिकल प्रोडक्ट और कुछ विशेष प्रकार के इनरवियर के उपयोग से कई बार शरीर के इस अंग का pH लेवल घट-बढ़ सकता है।

इसलिए हो सकता है, जिन आदतों को स्वास्थ्यकर समझ कर अपनाया जा रहा ही, वे नुकसानदेह साबित हों। ऐसी आदतों से बचाव की जानकारी होना बहुत ज़रूरी है।

इनके बारे में और ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ बने रहिए और आगे पढ़िए!

1. गुप्तांग स्वच्छता: जरूरत से ज़्यादा गहन साफ़-सफ़ाई

गुप्तांग स्वच्छता: गहन सफ़ाई

संभव है, योनि से आने वाली अप्रिय गंध और बैक्टीरिया को रोकने के लिए कुछ लोग अपने गुप्तांग की गहन सफ़ाई करते हैं। आपको लग सकता है कि यह साफ़-सफ़ाई का अच्छा तरीका है। लेकिन ऐसा करने से फ़ायदा कम और नुकसान ज़्यादा हो सकता है।

  • गहन सफ़ाई से स्वस्थ वेजाइनल बैक्टीरिया में बदलाव आ सकता है। नतीजन यह संक्रमण का कारण बन सकता है। 
  • अंदरूनी साफ़-सफ़ाई का दावा करते कई प्रोडक्ट भी स्वस्थ्य वेजाइनल बैक्टीरिया की ग्रोथ में असंतुलन पैदा कर देते हैं।
  • यह इस अंग को रोगजनक कारकों यानी पैथोजेनिक एजेंट (pathogenic agents) के सामने कमज़ोर कर देता है।

आप इस विषय में क्या कर सकती हैं?

  • गुप्तांग के आसपास ज़्यादा तीव्रता से सफ़ाई न करें।
  • इस अंग के आसपास की बाहरी जगह को किसी मुलायम साबुन से साफ़ करें।

इसे भी पढ़ें: गुप्तांग की खुजली और जलन के उपचार

2. पैंटीलाइनर्स (pantyliners) का इस्तेमाल 

महिलाओं के इस्तेमाल के लिए बने प्रोडक्ट से जुड़ा उद्योग एक विशेष बात पर विश्वास रखता है।

  • इसके अनुसार फ्लूइड डिस्चार्ज और अप्रिय गंध जैसी परेशानियों से बचने के लिए पैंटीलाइनर्स और अन्य प्रोडक्ट का इस्तेमाल करना बेहद ज़रूरी है।
  • जबकि सच तो यह है कि इन उत्पादों का नियमित उपयोग इस समस्या को और खराब कर देता है।
  • इनके इस्तेमाल से न केवल गुप्तांग के आसपास घुटन होती है, बल्कि खुजली और जलन जैसी अन्य परेशनियाँ खड़ी हो जाती हैं।

ऐसे में आप क्या कर सकतीं हैं?

  • इन प्रोडक्ट का उपयोग सीमित ही रखें।
  • उदाहरण के तौर पर, आप इन्हें केवल पीरियड के पहले या उसके बाद ही उपयोग में लाएं।
  • योनि के आसपास की जगह को साफ़-सुथरा बनाए रखने के लिए कॉटन इनरवियर/पैंटीज का इस्तेमाल करें।

3. गुप्तांग स्वच्छता: परफ्यूम या बेबी पाउडर का इस्तेमाल

बेबी पाउडर या परफ्यूम का इस्तेमाल

लम्बे समय से एक और गलत आदत अपनाई गयी है। हमे लगता है, परफ्यूम, बेबी पाउडर और स्वच्छता का दावा करते अन्य हाइजीन प्रोडक्ट से हमें लाभ होगा।

असल में ऐसे सभी वेजाइनल इचिंग को बढ़ाते हैं।

वर्षों पूर्व हमारी धारणा थी कि किसी भी तरह के रिसाव और अप्रिय गंध को दूर करने के लिए सुंगंधित उत्पादों का इस्तेमाल करना एक उत्तम विकल्प है। लेकिन आज हमें मालूम है, इनका इस्तेमाल करने के अनचाहे परिणाम भी हो सकते हैं।

  • ये pH संतुलन खत्म कर देते हैं।
  • इन्हें लगातार इस्तेमाल में लाते रहने से वेजाइना के बाहरी ओर खुजली शुरू हो जाती है।
  • कई बार तो ये बैक्टीरियल इन्फेक्शन होने का कारण बन जाते हैं।

इस बारे में क्या करें?

  • शर्मिंदा न महसूस करें: वेजाइना की अपनी एक नेचुरल गंध होती है और आपको उसे बेअसर करने की कोई आवश्यकता नहीं है।
  • अगर लगता है कि गुप्तांग से आने वाली गंध बहुत तीव्र है, तो अपने डॉक्टर से मिलकर ये निश्चित कर लें कि कहीं आप किसी प्रकार के संक्रमण से तो ग्रस्त नहीं है।

इसे भी पढ़ें: वेजाइनल इचिंग या जलन के लिए नेचुरल ट्रीटमेंट

4. गोपनीय अंगों के साथ कठोरता से पेश आना

सावधान रहिए! योनि की ऊपरी त्वचा शरीर का एक बहुत ही नाज़ुक हिस्सा है।

इसे ख़ास देखभाल की ज़रूरत है।

  • गुप्तांग के आसपास सफाई बनाए रखने के उद्देश्य से महिलाएँ इस हिस्से को बहुत कठोरता से साफ़ करती हैं।
  • ऐसा करने से छोटे और खुले ज़ख्म हो सकते हैं जिनसे संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है।

इस मामले में क्या करें?

  •  साबुन का उपयोग करते समय सावधानी बरतें और हल्के हाथ से गुप्तांग को धीरे-धीरे साफ़ करें।

5. प्यूबिक हेयर हटाना  (pubic hair)

गुप्तांग स्वच्छता: बालों को हटाना

 

आजकल महिलाओं का ऐसा मानना है, गुप्तांग स्वच्छता बनाए रखने के लिए जाँघों के बाल यानी प्यूबिक हेयर को हटाना बड़ी स्वस्थ आदत है।

लेकिन सच इससे अलग है।

  • प्यूबिक हेयर शरीर का ही हिस्सा हैं और इनकी भी अहम भूमिका है।
  •  ये वेजाइना को बैक्टीरिया, यीस्ट और अन्य वायरस से बचाते हैं जो आगे चलकर इन्फेक्शन का कारण बन सकते हैं।
  • इसके साथ-साथ, बाल हटाने के कई तरीके बहुत कठोर होते हैं और गोपनीय अंग की त्वचा में खुजली और घाव का कारण बन सकते हैं।

निस्संदेह ये कोई न कोई नयी समस्या का कारण बन जाते हैं।

इस विषय में क्या करें?

  • बालों को हटाने के लिए ऐसा तरीका चुनें जो वेजाइना के इर्द-गिर्द कम से कम नुकसान पहुंचाए।
  • बाज़ार में कई हेयर रिमूवल क्रीम और नेचुरल प्रोडक्ट उपलब्ध हैं। इन्हें इस्तेमाल में लाएँ।
  • सारे बाल न हटाएँ। थोड़े से बाल छोड़ देने से गुप्तांग के आस पास की जगह सुरक्षित रह सकती है।
  • यदि आप रेज़र का इस्तेमाल करती हैं, तो हर इस्तेमाल के बाद इसे साफ़ करके और सुखाकर ही रखें।