बोल्डो : इस आसान नुस्ख़े से अपने लीवर की सेहत सुधारें

19 अप्रैल, 2019
अपनी खूबियों के चलते बोल्डो आपके लीवर को प्राकृतिक ढंग से डीटॉक्सिफाई कर उसकी सूजन को कम करने में मददगार साबित हो सकता है। इस नुस्खे के साथ-साथ एक संतुलित आहार का सेवन करना व एक स्वस्थ वज़न बनाए रखना बेहद ज़रूरी होता है।

प्रकृति के अद्भुत पौधे और जड़ी-बूटियाँ स्वस्थ रहने में हमारी मदद कर सकती हैं। इस लेख में हम चिली में पाए जाने वाले बोल्डो (boldo) पेड़ के बारे में बात करने जा रहे हैं। छः फुट तक की लम्बाई वाले इस पेड़ में हमारे लीवर की सेहत और कामकाज में सुधार लाने वाली खूबियाँ होती हैं।

इस पेड़ के सारे के सारे औषधीय गुण इसकी पत्तियों में होते हैं। उनका इस्तेमाल चाय बनाने के लिए किया जाता है। प्राचीन काल से ही बोल्डो वाली चाय को दवाइयों के एक विकल्प के तौर पर देखा जाता रहा है। उसका सबसे पहला इस्तेमाल जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द के खिलाफ किया गया था। आज यह जड़ी-बूटी लीवर की समस्याओं, बदहज़मी और गॉल ब्लैडर (पित्ताशय) की परेशानियों के इलाज में कारगर साबित होती है

बोल्डो, मेडिटरेनीयन जलवायु वाले देशों व हेल्थ फ़ूड स्टोर्स में भी पाया जाता है।

बोल्डो की रासायनिक संरचना

बोल्डो की रासायनिक संरचना

इस पेड़ की पत्तियों में एसेंशियल ऑयल्स और फ्लेवोनोइड्स के भारी मात्रा मौजूद होती है। इसीलिए बोल्डो की पत्तियां एंटीमाइक्रोबियल होती हैं

बोल्डो में ढेर सारे अल्कालॉयड्स भी होते हैं। उन्हीं में से एक होता है बोल्दीन, जो हमारे शरीर में बाइल (पित्त) के बाहर निकाले जाने, बनने या स्रावित होने के प्रक्रिया को बढ़ावा देता है। बाइल की वजह से हमारा शरीर चरबी को कहीं ज़्यादा आसानी से पचा पाता है। इस अल्कालॉयड की भारी मात्रा से युक्त न होते हुए भी बोल्डोकी लोकप्रियता के पीछे बोल्दीन का ही सबसे बड़ा हाथ है।

इसे भी आजमाएं : इन प्राकृतिक नुस्खों से करें यूरिनरी इन्फेक्शन का इलाज

अपने लीवर की सेहत को बेहतर बनाने के लिए एक संतुलित आहार का सेवन करें

अपने लीवर को अच्छी-ख़ासी अवस्था में बनाए रखने के लिए आपको मोटापे से दूर रहना चाहिए। इसके लिए आपको फैट और शुगर-रहित आहार का सेवन करना चाहिए।

आपको इन चीज़ों से भी परहेज़ करना चाहिए:

  • अत्यधिक मात्रा में एनिमल प्रोटीन का सेवन करना
  • शराब
  • तंबाकू
  • मिठाई (ख़ासकर चॉकलेट)

इन सभी बातों का सीधा-सीधा मतलब यह है कि सभी सेल टिशूज़ को रीजेनरेट करने के लिए अपने शरीर को ज़रूरी पोषक तत्व देने के लिए आपको एक एल्कलाइन आहार का पालन करने की कोशिश करनी चाहिए

बोल्डो को अपने आहार में आपको आख़िर क्यों शामिल करना चाहिए?

इस पौधे के कई फायदे होते हैं। अपने दैनिक आहार में इसे शामिल कर लेने से आपको ये लाभ होंगे:

  • आप फैटी और सूजे हुए लीवर, हेपेटाइटिस, सिरोसिस और बदहज़मी का मुकाबला कर सकेंगे।
  • अपने गॉलब्लैडर में सूजन हो जाने के खतरे को आप कम कर सकेंगे। ऐसा करके आप कोलेलिस्टाइटिस की चपेट में आने के जोखिम को कम कर सकेंगे।
  • बाइल के उत्पादन को बढ़ावा देकर टॉक्सिन्स के जमा हो जाने से गॉलब्लैडर में होने वाली सूजन के जोखिम को आप कम कर देंगे।
  • बोल्डो में मौजूद फ्लेवोनोइड्स और बोल्दीन आपके लीवर की रक्षा करते हैं।
  • अपने लीवर को डीटॉक्सिफाई करें। अगर आप शराब पीते हैं, कई सारी दवाइयां लेते हैं या भारी भोजन करते हैं तो बोल्डोआपके लीवर की सफाई कर सकता है।

अपने लीवर की सेहत के लिए बोल्डो को बनाने और पीने की विधि

बोल्डो वाली चाय

हमारा सुझाव है कि अपने हरेक प्रमुख मील के बाद आपको बोल्डो वाली चाय पीनी चाहिए। इस चाय के सेवन के साथ आपको यह भी सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि आप एक सेहतमंद और संतुलित आहार का सेवन कर रहे हैं।

सामग्री

  • एक कप पानी (250 मिलीलीटर)
  • एक चम्मच बोल्डो की पत्तियां (15 ग्राम)
  • शहद (स्वादानुसार)

बनाने की विधि

  • पानी को गर्म कर लें। जब वह उबलने लगे तो उसमें बोल्डो की पत्तियां डाल दें।
  • इन्फ्यूशन को ढंककर उसे पीने से पहले 10 मिनट के लिए उसे स्टीप हो जाने दें
  • अगर वह आपको बहुत कड़वा लगता है तो आप उसमें थोड़ी-सी शहद भी डाल सकते हैं।

नींबू के साथ

इस जड़ी-बूटी का इस्तेमाल नींबू के साथ करने पर यह और भी कारगर हो जाती है। ये दोनों ही चीज़ें मिलकर आपके लीवर की कारगर ढंग से सफाई जो कर देती हैं।

नींबू और बोल्डो की यह जोड़ी लीवर की सूजन, लीवर के ज़हरीलेपन या पीलिये के जोखिम से आपको बचाए रख सकती है। उपर्युक्त विधि के मुताबिक़ बोल्डो की चाय बनाकर उसमें एक नींबू का रस डाल दें।

बिलियरी कोलिक के लिए

इस अवस्था से निपटने के लिए बोल्डो की चाय बनाने के बजाये उसके नेचुरल एक्सट्रेक्ट का इस्तेमाल करें। ऐसा करके धीरे-धीरे आप उसके लक्षणों पर काबू पा लेंगे। पर साथ ही, आपको किसी डॉक्टर की सलाह भी ले लेनी चाहिए

सामग्री

  • एक कप गर्म पानी (250 मिलीलीटर)
  • दो चम्मच बोल्डो का नेचुरल एक्सट्रेक्ट

बनाने की विधि

  • एक कप गर्म पानी में बोल्डो के नेचुरल एक्सट्रेक्ट के दो चम्मच डाल दें।
  • इसका सेवन दिन में तीन बार करें।

गॉलस्टोन्स (पित्त की पथरी) के लिए

गॉलस्टोन्स से छुटकारा पाने के लिए भी बोल्डो काफी फायदेमंद हो सकता है। उसे इस प्रकार बनाएं:

सामग्री

  • बोल्डो की तीन से पांच पत्तियां
  • चार कप पानी (1 लीटर)

बनाने की विधि

  • चार कप पानी में रातभर के लिए बोल्डो की तीन से पांच पत्तियों को छोड़ दें। अगले दिन उस मिश्रण को छानकर तरल को गरम कर लें।
  • पहले कप को खाली पेट लें व दिन में अपने हरेक मील के बाद उसे पीते रहें।

पेट दर्द से बचने के लिए

पेट दर्द से बचने के लिए बोल्डो का उपयोग किसी क्रीम के तौर पर करके भी आप उसकी खूबियों का फायदा उठा सकते हैं।

  • आपको बस इतना करना है कि बोल्डो की चाय बनाकर पट्टियों को उसमें भिगो देना है।
  • फिर उन पट्टियों को अपने पेट वाली जगह पर रख दें। ऐसा करके आपकी नसों को आराम व आपको गैस से छुटकारा मिलेगा।

इस नुस्खे को अपनाकर आप ज़्यादा हल्का और रिलैक्स्ड महसूस करेंगे। नतीजतन अपने बाकी काम-काज में आप अपना ध्यान लगा सकेंगे।

इसे भी आजमायें : 7 खाद्य पदार्थ: लीवर और पैंक्रियाज़ की सूजन से लड़ने के लिए

बोल्डो की पत्तियां

सही खुराक

हम आपको बोल्डो वाली चाय को सुबह, अपने नाश्ते से एक घंटा पहले पीने का सुझाव देंगे। यहाँ आपको इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि यह इलाज लगातार नौ दिनों से ज़्यादा लंबा नहीं होना चाहिए। इसके पूरा हो जाने के बाद आपको तीन हफ़्तों तक इससे ब्रेक ले लेना चाहिए।

इसके अलावा, आप बोल्डो की कैप्सूल्स, सिरप्स और एक्सट्रेक्ट भी खरीद सकते हैं। अगर आपने बोल्डो का सिरप खरीदा है तो अपने लीवर को डीटॉक्सिफाई करने के लिए आप दिन में तीन बार उसका एक-एक चम्मच ले सकते हैं। लेकिन अगर आप सिरप की जगह कैप्सूल लेना चाहते हैं तो नशे से बचने के लिए दिन में दो ही कैप्सूल्स लें।

बोल्डो से जुड़े कुछ विधि-निषेध

कुछ परिस्थितियों में आपको इस औषधि के सेवन से परहेज़ करना चाहिए। इसके ओवरडोज़ से ये समस्यायें पैदा हो सकती हैं:

  • उलटियाँ
  • दस्त
  • चक्कर आना
  • जी मचलना
  • मतिभ्रम होना

दूसरी तरफ़, इन लोगों को बोल्डो का सेवन नहीं करना चाहिए:

  • गर्भवती या स्तनपान कराने वाली मातायें।
  • लीवर के गंभीर रोगों से जूझते मरीज़।
  • 12 साल से कम की आयु के बच्चे।
  • किडनी के रोगी।
  • थक्कारोधी दवायें लेते मरीज़, क्योंकि बोल्डो से उनके खून के बहने का खतरा बढ़ जाता है।

आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि किसी भी उपाय का सेवन एक संतुलित ढंग से किया जाना चाहिए। इस औषधि को अपनी खुराक में शामिल करने से पहले आपको अपने डॉक्टर की सलाह ले लेनी चाहिए। आपके लिए सही डोज़ क्या है, यह उनसे बेहतर आपको कोई नहीं बता सकता।

हमें उम्मीद है कि अपनी सेहत के लिए बोल्डो के फायदों के बारे में जानकर आपको मज़ा आया होगा!

  • Simirgiotis, M. J., & Schmeda-Hirschmann, G. (2010). Direct identification of phenolic constituents in Boldo Folium (Peumus boldus Mol.) infusions by high-performance liquid chromatography with diode array detection and electrospray ionization tandem mass spectrometry. Journal of Chromatography A. https://doi.org/10.1016/j.chroma.2009.11.014
  • Arora, D. S., Kaur, G. J., Irani, M., Sarmadi, M., Bernard, F., Ebrahimi pour, G. H., … Hensel, A. (2004). Evaluation of Selected Medicinal Plants Extracted in Different Ethanol Concentrations for Antibacterial Activity against Human Pathogens. Journal of Ethnopharmacology. https://doi.org/10.1016/j.jep.2007.11.037
  • Quezada, N., Asencio, M., Valle, J. M., Aguilera, J. M., & Gómez, B. (2006). Antioxidant Activity of Crude Extract, Alkaloid Fraction, and Flavonoid Fraction from Boldo (Peumus boldus Molina) Leaves. Journal of Food Science. https://doi.org/10.1111/j.1365-2621.2004.tb10700.x