फ्लू शरीर पर कैसे असर डालता है

वैज्ञानिक स्टडी ने एक्सपर्ट  विशेषज्ञों को यह पता लगाने की अनुमति दी है कि फ्लू शरीर को कैसे प्रभावित करता है।  ज्यादातर लोग जो पहले भी इस स्थिति से पीड़ित हुए हैं और जानते हैं कि यह सुखद नहीं है। इस आर्टिकल में आपको पता चलेगा कि फ्लू जैसे लक्षण कहां से पैदा होते हैं।
फ्लू शरीर पर कैसे असर डालता है

आखिरी अपडेट: 26 अक्टूबर, 2020

इन्फ्लुएंजा एक वायरल बीमारी है जो मौसमी भी है। कई लोग जो इससे पहले भी पीड़ित हो चुके हैं, जानते हैं कि फ्लू शरीर पर कैसे असर डालता है। कुछ बॉडी मेकेनिज्म संक्रमण के खिलाफ एक्टिव होते हैं और लक्षणों के लिए जिम्मेदार होते हैं।

क्लासिकल रूप से फ्लू के लक्षण बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द और थकान हैं। जब यह सामान्य रूप से किसी जटिलता के बिना उभरता है, तो ये लक्षण स्थायी समस्याओं को पैदा किए बिना अपने दम पर ख़त्म किये जा सकते हैं। हालांकि कुछ फ्लू के मामले ज्यादा गंभीर होते हैं। जब वायरस इम्यूनोसप्रेस्ड बॉडीज (immunosuppressed bodies) पर हमला करता है, तो ज्यादा उम्र के कारण या अन्य अंदरूनी बीमारियों की मौजूदगी के कारण यह मौत का कारण भी हो सकता है।

आपको यह भी पता होना चाहिए कि फ्लू कोल्ड की तरह नहीं है। कोल्ड बहुत मामूली होता है और नतीजे मामूली और ऊपरी होते हैं। यह इस बात से अलग है कि फ्लू शरीर पर कैसे असर डालता है क्योंकि बाद वाला अधिक आक्रामक होता है।

फ्लू वायरस का सामाजिक असर भी है। फ्लू के लक्षणों वाले दस में से चार लोग बीमारी के दौरान काम से छुट्टी लेते हैं, और उनमें से लगभग सभी स्पोर्ट्स और सोशल ऐक्टिविटी में कमी लाते हैं।

विभिन्न सर्वे के अनुसार व्यक्ति को सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाले लक्षणों में थकावट की भावना है। आधे लोग जो फ्लू से पीड़ित हैं, उनमें कुछ समय के लिए सुस्ती रहती है। तो थकान सबसे अधिक ध्यान देने योग्य और परेशान करने वाला लक्षण है, और आपको पता चलेगा कि यह बुखार और मांसपेशियों में दर्द के कारण भी होता है। इसके लिए जिम्मेदार टिशू में सूजन है।

फ्लू की माइक्रोस्कोपिक प्रक्रिया

बाहरी तौर पर जो संकेत और लक्षण प्रकट होते हैं वे उसका ही प्रतिफलन है कि फ्लू माइक्रोस्कोपिक लेवल पर शरीर को कैसे प्रभावित करता है। कई सेलुलर मेकेनिज्म बुखार, सिरदर्द और मायेल्जिया की घटना की व्याख्या करते हैं।

एक बार जब फ्लू वायरस शरीर में घुस जाता है तो इंसान के इम्यून सिस्टम द्वारा इसका पता लगाने से पहले इसके पास बढ़ने के लिए लगभग आठ घंटे का वक्त होता है। यह हवा में साँसों के जरिये शरीर में जाता है और फेफड़ों के एपिथेलियल सेल में रहता है। जैसे-जैसे यह इंसान की कोशिकाओं में प्रवेश करता है, वायरस कोशिका के उन छोटे-छोटे अंगों पर काबू पा लेता है जो प्रोटीन उत्पन्न करते हैं, और उन्हें अपनी ओर से काम में लगा देता है। संक्षेप में यह जीवित रहने के लिए होस्ट सेल के संसाधनों का लाभ उठाता है। इसके बाद इससे पैदा हुए नए वायरस दूसरी कोशिकाओं को संक्रमित करना चाहते हैं।

जब इम्यून सिस्टम फ्लू वायरस से लड़ने के लिए एक्टिव होता है, तो यह कई तरह के रिएक्शन को ट्रिगर करता है। ये प्रतिक्रियाएं फ्लू के लक्षणों को पैदा करती हैं और बताती हैं कि फ्लू शरीर पर कैसे असर डाल रहा है।

सबसे पहले वाईट ब्लड सेल्स एक्टिवेट होते हैं। ये कोशिकाएं इन्फ्लेमेटरी मीडिएटर साइटोकिन्स के एक्टिवेशन का काम करती हैं: । ये छोटे हार्मोन हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली में एक संदेश ले जाते हैं। उनका मिशन शरीर से वायरस को जल्द से जल्द खत्म करने के लिए अंगों और टिशू को एक्टिवेट करना है।

फ्लू शरीर को कैसे प्रभावित करता है: बुखार

प्रतिरक्षा प्रणाली रोग को रोकती है लेकिन फ्लू के लक्षण भी उत्पन्न करती है।

पढ़ते रहिए: 5 बुनियादी बातें अपने भीतर एक मजबूत मनोवैज्ञानिक इम्यून सिस्टम विकसित करने के लिए

फ्लू शरीर को कैसे प्रभावित करता है: बुखार

बेशक, हमें बुखार के बारे में बात करनी चाहिए। यह बीमारी बुखार का कारण बनती है, जो इसकी पहचान है।

बुखार तब होता है जब हाइपोथैलेमस शरीर के तापमान को बढ़ाने का आदेश देता है। हाइपोथैलेमस निर्देश जारी करता है क्योंकि यह पाइरोजेन (pyrogens) नाम के पदार्थों की उपस्थिति को महसूस करता है। पाइरोजेनिक पदार्थों में बैक्टीरिया, वायरस और साइटोकिन्स (cytokines) के तत्व होते हैं।

जब शरीर का तापमान बढ़ता है, तो श्वेत रक्त कोशिकाएं ज्यादा कुशल हो जाती हैं। वास्तव में बुखार एक पैथोलॉजिकल परिणाम के बजाय एक डिफेन्स मेकेनिज्म है। इसके अलावा हाई टेम्परेचर पर सूक्ष्मजीवों का प्रजनन कठिन हो जाता है।

सिरदर्द

यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है कि फ्लू सिरदर्द का कारण क्यों बनता है। हालांकि यह समझ में आया है कि बुखार होने पर सिरदर्द होना तर्क संगत है; पर यह केवल फ्लू की विशेषता नहीं है।

साइटोकिन्स को सिरदर्द से भी जोड़ा गया है। विशेष रूप से जिसे इंटरल्यूकिन -1 (interleukin-1 ) कहा जाता है, वह इंटरफेरॉन (interferon) की तरह एक इन्फ्लेमेटरी साइटोकिन है। साइटोकिन्स और हाई बॉडी टेम्परेचर दोनों ही वासोडिलेशन की ओर ले जाते हैं। बॉडी वेसेल्स बड़ी हो जाती हैं और ऐसे में ब्लड फ्लो माइग्रेन की तरह ही सिरदर्द पैदा करता है।

बुखार और सिरदर्द दो क्लासिक फ्लू के लक्षण हैं।

इस लेख में खोज जारी रखें: सर्दियों में फ्लू क्यों फैलता है

मांसपेशियों में दर्द

अंत में  मायेल्जिया (myalgia) या मांसपेशियों में दर्द फ्लू की विशेषता भी है। वैज्ञानिक अध्ययनों ने मांसपेशियों में दर्द के लिए एक जेनेटिक व्याख्या की खोज की है और साइटोकिन्स का एक्शन भी इसकी व्याख्या करता है।संक्रमण के दौरान शरीर कुछ जीन अभिव्यक्तियों  को बढ़ाता है जो मायोसाइट्स (Myocyte) के नाश को बढ़ावा देते हैं। मायोसाइट सेल्स मसल टिशू  सेल्स हैं।

वायरस से लड़ने के लिए इन्फ्लेमेटरी साइटोकिन्स मांसपेशियों की सूजन को बढाता है। मांसपेशियों में सूजन दर्दनाक होती है और मांसपेशियों को थका देती है, क्योंकि कोशिकाएं वायरस से लड़ने पर केंद्रित होती हैं। इस प्रकार फ़्लू पीड़ित को थकावट महसूस होता है।

निष्कर्ष

हम उन तंत्रों के बारे में पर्याप्त जानते हैं जो बताते हैं कि फ्लू शरीर को कैसे प्रभावित करता है, लेकिन जांच के लिए और भी बहुत कुछ है। सच्चाई यह है कि, जब आप संक्रमण से पीड़ित होते हैं, तो बुखार, सिरदर्द और मांसपेशियों में दर्द होता है।

लक्षण बताते हैं कि प्रतिरक्षा प्रणाली वायरस से लड़ रही है। साथ ही आपको उचित आराम और सही समय पर मेडिकल परामर्श से प्रक्रिया में तेजी लाने में मदद करना चाहिए।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
खांसी, एलर्जी या फ्लू के इलाज में मदद के लिए प्याज का इस्तेमाल करें
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
खांसी, एलर्जी या फ्लू के इलाज में मदद के लिए प्याज का इस्तेमाल करें

प्याज के इस ख़ास इस्तेमाल पर बात करने से पहले बता दें कि मौसमी बदलाव आपके शरीर के इम्यून सिस्टम को कमजोर कर सकते हैं।



  • Nicholson, K. G. “Clinical features of influenza.” Seminars in respiratory infections. Vol. 7. No. 1. 1992.
  • Stöhr, Klaus. “Influenza—WHO cares.” The Lancet infectious diseases 2.9 (2002): 517.
  • Bouvier, Nicole M., and Peter Palese. “The biology of influenza viruses.” Vaccine 26 (2008): D49-D53.