फाइब्रोमायेल्जिया की ट्रीटमेंट टिप्स

जुलाई 11, 2018
फाइब्रोमायेल्जिया ऐसी बीमारी है जिसके कारण अभी अज्ञात हैं। इसमें स्थायी रूप से हड्डियों और मांसपेशियों में दर्द होता रहता है।
फाइब्रोमायेल्जिया का ट्रीटमेंट इस समय चिकित्सा जगत की सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है। वर्तमान में, इस बीमारी का कारण अज्ञात है।यह इसके ट्रीटमेंट में एक बड़ी सीमा है।
इसके बारे में हम जो जानते हैं, वह यह है कि इससे पीड़ित लोगों के लिए बड़ी असुविधाएं होती हैं। फाइब्रोमायेल्जिया सामान्य और स्थायी दर्द, विशेष रूप से मुस्कुलोस्केलेटल दर्द के कारण जाना जाता है।
अब तक, विज्ञान यह निर्धारित करने में सक्षम हुआ है कि यह रूमटोलॉजिक मूल (rheumatologic origin) का है। यह भी स्थापित किया जा चुका है कि फाइब्रोमायेल्जिया डिसऑर्डर से दर्द एक न्यूरोट्रांसमीटर में असंतुलन के कारण होता है। हालांकि, फाइब्रोमायेल्जिया के बारे में यह सबसे स्पष्ट है कि इसके उपचार में कई तरीके अपनाये जाने चाहिए।

फाइब्रोमायेल्जिया के सामान्य पहलू

फाइब्रोमायेल्जिया एक ऐसी बीमारी है जो कभी-कभी किसी व्यक्ति को गंभीर रूप से अक्षम कर देती है। इसमें सबसे असहनीय चीज इसमें होने वाला दर्द या “फाइब्रोमायेल्जि” है, जो सामान्य दर्द से ज्यादा तेज़ और लंबा होता है। यह दर्द फैलता भी  है और एक ही समय में शरीर के विभिन्न हिस्सों को प्रभावित करता है।
फाइब्रोमाल्जिया के सामान्य पहलू
फाइब्रोमायेल्जिया की डायग्नोसिस में बड़ी कठिनाइयां होती हैं। अभी तक इसका पहचान करने वाली कोई लैबोरेटरी टेस्ट नहीं है। बीमारी की डायग्नोसिस के लिए आमतौर पर डॉक्टर शरीर के 18 प्रेशर पॉइंट के अन्वेषण पर निर्भर करते हैं।
निम्नलिखित लक्षणों पर विचार करना महत्वपूर्ण है:
  • थकान
  • कठोरता
  • स्लीप डिसऑर्डर
  • संज्ञानात्मक गिरावट
  • डिप्रेशन और एंग्जायटी
  • गैस्ट्रो-इंटेसटीनल समस्याएं
फाइब्रोमायेल्जिया ट्रीटमेंट की सुविधा के लिए, विशेषज्ञों ने फाइब्रोमायेल्जिया को चार ग्रुप में वर्गीकृत किया है:
  • I: इसके साथ कोई दूसरी बीमारी मौजूद नहीं है
  • II: जब रूमेटिक और ऑटोइम्यून बीमारियां एकसाथ मौजूद होती हैं
  • III: गंभीर साइकोपैथोलॉजिकल बदलाव मौजूद हैं
  • IV: ऐसे मरीज जिनमें होने की आशंका होती है

इसे भी जानें:

फाइब्रोमायेल्जिया: 10 मुख्य लक्षण जिनसे सतर्क रहना चाहिये

फाइब्रोमायेल्जिया का ट्रीटमेंट यह है

फाइब्रोमायेल्जिया ट्रीटमेंट  वर्तमान में उपचारात्मक उद्देश्य से काम नहीं करता, बल्कि सिर्फ उसके लक्षणों को कम करने में मदद करता है। दूसरे शब्दों में, अंतिम लक्ष्य केवल लक्षणों को कम करना होता है, जिससे रोगी सामान्य कार्यों को कर सके और जीवन की संभवतः सर्वोत्तम गुणवत्ता का आनंद ले सके।
कई विशेषज्ञ थोड़े समय वाली कोगनिटिव बेहविएरल साइकोथेरेपी को आज़माने की सलाह देते हैं।
इसके अलावा, फाइब्रोमाल्जिया के ट्रीटमेंट में इकट्ठे उपचार के कई एक्शन प्लान की आवश्यकता होती है। असल में, ये तीन पहलु अहम होते हैं:
  • दर्द प्रबंधन
  • कार्यक्षमता में वृद्धि
  • रोगी की मनोवैज्ञानिक स्थिति
उपचार के सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में से एक रोगी को शिक्षित करना है। इसलिए, रोगी के पूर्ण और सचेत सहयोग के बिना, वास्तव में काम करने के लिए किसी भी उपचार के लिए यह व्यावहारिक रूप से असंभव है। इसके अलावा, जितना अधिक प्रतिबद्ध रोगी उपचार के साथ होता है, उतना ही ठीक होने की संभावनाएं होती है।

फार्माकोलॉजिक फाइब्रोमायेल्जिया ट्रीटमेंट

फाइब्रोमाल्जिया ट्रीटमेंट में फार्माकोलॉजिक घटक शामिल होता है। इस मामले में, डॉक्टर एनाल्जेसिक और/या एंटी-इंफ्लैमेटरी दवाओं की खुराक का उपयोग करते हैं। जिन दवाइयों को वे आमतौर पर लिखते हैं, वे हैं ट्रामडोल, पैरासिटामोल या दोनों।
दर्द के प्रबंधन में NSAIDs (नोस्टेरॉइडल सूजन काम करने की दवाएं) इतने प्रभावी नहीं हैं। उन्हें आम तौर पर एक पूरक उपाय के रूप में निर्धारित किया जाता है, और वह भी लगभग हमेशा अल्पकालिक आधार पर।
अन्य असामान्य प्रकार की दवाओं में बेंजोडायजेपाइन, मांसपेशियों को आराम देने वाले, एंटी सीज़र दवाएं, एंटीड्रिप्रेसेंट्स और स्टेरॉयड शामिल हैं। इसके अलावा, इन मामलों में खुद से दवा लेना बहुत खतरनाक है और दवाओं की प्रभावशीलता हमेशा सीमित होती है।
इसे भी पढ़ें:

शारीरिक गतिविधि

अक्सर फिजिकल एक्टिविटी फाइब्रोमायेल्जिया ट्रीटमेंट के लिए एक आवश्यक घटक है। न केवल रोगी की शारीरिक क्षमता को लाभ पहुंचाता है, बल्कि यह थोड़े समय में लक्षणों को कम करने में भी योगदान देता है।
फाइब्रोमाल्जिया उपचार
व्यायाम और खेल का अभ्यास प्रत्येक व्यक्ति की जरूरतों के अनुसार करना चाहिए। यह एक डॉक्टर के द्वारा निर्देशित होना चाहिए, जो धीरे-धीरे बढ़ना चाहिए। सबसे अच्छा व्यायाम एरोबिक होगा, क्योंकि यह शरीर के समग्र बेहतर प्रदर्शन में महत्वपूर्ण योगदान देता है।
तैरना और हाइड्रोथेरेपी और हाइड्रो जिम्नास्टिक के अन्य रूपों ने फाइब्रोमायेल्जिया के रोगियों पर बहुत सकारात्मक प्रभाव डाला है। ताइ-ची और योग जैसे आरामदेह तकनीकों की भी सिफारिश की जाती है।

मनोचिकित्सा और अन्य प्रभावी उपाय

बेशक, रोगियों में अपनी बीमारी की दिशा में रचनात्मक दृष्टिकोण विकसित करना फाइब्रोमायेल्जिया ट्रीटमेंट के दौरान बहुत महत्वपूर्ण है। साथ ही, इस बीमारी से पीड़ित लोगों में चिड़चिड़ाहट का होना एक बहुत आम बात है। वे उदासी या अवसाद के शिकार हो सकते हैं। नतीजतन, यह उनके लक्षणों को और बिगाड़ देता है।
फार्माकोलॉजिक फाइब्रोमाल्जिया उपचार
इसलिए, विशेषज्ञ इन प्रभावों का सामना करने के लिए कोगनिटिव व्यवहार चिकित्सा की सलाह देते हैं।
असल में, यह रोगी को फाइब्रोमायेल्जिया के कारण खुद को अलग करने या उनके पारस्परिक संबंधों को प्रभावित करने वाले कारक में बदलने से रोकेगा।
अंत में, कुछ रोगियों में एक्यूपंक्चर, कैरोप्रैक्टिक उपचार और होमथेरेपी के इलाज के बाद भी सुधार की बातें सामने आयीं हैं। जो भी इनका पालन करने का फैसला करता है, उसे पहले यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें लाइसेंस प्राप्त डॉक्टर की सलाह ही लेनी है।