बुखार पर काबू पाने के लिए घरेलू इलाज

29 मई, 2019
आपका शरीर समझदार है। इन्फेक्शन पर हमला करने के लिए शरीर की सबसे शानदार रणनीतियों में से एक है बुखार। शरीर का तापमान बढ़ जाने की स्थिति में घरेलू उपचार की मदद से अपने बुखार को कंट्रोल करना सेहत को बहाल करने का एक बढ़िया तरीका है।
 

आमतौर पर मानव शरीर का तापमान 36 से 37 °C (96.8 से 98.6 °F) के बीच होता है। लेकिन जब शरीर को किसी इन्फेक्शन की मौजूदगी का पता चलता है, तो शरीर सूक्ष्मजीवों की उपस्थिति को कम करने के लिए अपना तापमान बढ़ा देता है। इस स्थिति में बुखार पर काबू करना एक मुश्किल काम हो सकता है।

जब आपका शरीर खतरनाक बैक्टीरिया और वायरस को खत्म करने के लिए खुद को तैयार कर रहा होता हो तो उस समय आपके शरीर का तापमान अपने आप बढ़ जाता है। हालाँकि बुखार होना कोई समस्या नहीं है, यह शरीर की हीलिंग प्रोसेस (स्वस्थ होने की प्रक्रिया) का एक हिस्सा है। यह केवल उस समय एक समस्या बन जाती है जब आपका तापमान 38.5°C (101.3°F) से ऊपर चला जाता है।

ऐसे मामलों में, शरीर को उसकी सामान्य स्थिति में वापस लाने के लिए आपको उसके अनुसार ही व्यवहार और देखभाल करनी पड़ेगी।

बुखार पर कंट्रोल करने के लिए घरेलू उपाय (Home Remedies to Control Your Fever)

बुखार से पीड़ित महिला

प्राचीन यूनानी चिकित्सक हिप्पोक्रेट्स ने कहा था: “मुझे बुखार पैदा करने की शक्ति दे दो और मैं सभी बीमारियों को ठीक कर दूँगा”। ऐसा कहकर, वह गर्मी की मदद से अंदरूनी दुश्मनों को ख़त्म करने की शरीर की क्षमता के बारे में बता रहे थे। हिप्पोक्रेटिक दवाएँ शरीर की खुद को ठीक करने की क्षमता पर आधारित थी।

इसमें कोई शक नहीं है, बैक्टीरिया और वायरस आपके शरीर के अंदर आराम से रह सकते हैं क्योंकि इसका सामान्य तापमान उनके विकास के लिए एकदम सही है। मगर जब आपको बुखार होता है, तो उनकी प्रजनन करने की क्षमता ख़त्म हो जाती है, जिससे शरीर के डिफेन्स सिस्टम को एक बहुत ही असरदार तरीके से उनका मुकाबला करने में मदद मिलती है।

इसीलिये, बुखार आपके लिये एक दोस्त की तरह है। हालाँकि, अपने शरीर की नेचुरल इंटेलिजेंस की इस सुविधा के चलते आप अपने शरीर द्वारा अपने स्वास्थ्य को फिर से प्राप्त करने की इस लड़ाई में फँस सकते हैं। ऐसे में, घरेलू उपचार की मदद से अपने बुखार को कंट्रोल करना एक अच्छा विकल्प है।

 

इसे भी पढ़ें : दर्द से राहत पाने के लिए अदरक और ऑलिव ऑयल सिरप

आलू के छिलके का सूप (Potato Peel Broth)

आलू के छिलके का सूप (Potato Peel Broth)

जब अपने बुखार को कंट्रोल करने की बात आती है, तो आलू का सूप बहुत फ़ायदेमंद हो सकता है क्योंकि यह बहुत पौष्टिक होता है और यह शरीर को हाइड्रेट करता है। आलू के छिलके के सूप में विटामिन और मिनरल्स होते हैं जो आपके स्वास्थ्य को बनाये रखने में कारगर हैं।

पसीने के रूप में बहाये गये पानी की भरपाई करने के लिए आपको अपने शरीर को अच्छी तरह से हाइड्रेटेड करना होगा। इसलिए, आपको अपने इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए ऐसे सूप तैयार करने होगा जो पौष्टिक तत्वों से भरपूर हों।

जरूरी चीजें:

  • 3 मीडियम-साइज़ आलू
  • 1 गाजर
  • 4 कलियाँ लहसुन
  • 1 डंठल अजवाइन
  • 1 प्याज़
  • 4 कप पानी (1 लीटर)
  • कटा हुआ पार्स्ली (वैकल्पिक)
  • नमक और मिर्च (स्वाद के लिए)

बनाने का तरीका:

  • सबसे पहले, सब्जियों को धोयें और छील लें। आलू के छिलकों को किनारे रख दें।
  • फिर, सब्जियों को स्लाइस में काटें।
  • उसके बाद, सॉस पैन में पानी डालें। छिलके और दूसरी चीजें डालें।
  • इसे 30 से 45 मिनट तक उबलने दें जब तक कि सब्ज़ियाँ मुलायम न हो जाएं।
  • फिर, सब्जियों को पानी से निकालें और उन्हें ठंडा होने दें।
  • स्वाद के अनुसार नमक और मिर्च मिलाएं।
  • आखिर में, आप इसे और चटपटा बनाने और इसके पोषक तत्वों को बढ़ाने के लिए उसमें थोड़ा पार्स्ली डाल सकते हैं।

आलू और सिरका की पट्टी (Potato and Vinegar Compresses)

आप आलू का इस्तेमाल अपने बुखार को कंट्रोल करने के लिए एक और पुराना घरेलू नुस्खा बनाने के लिए भी कर सकते हैं।

इस मामले में, उनका सेवन करने के बजाय, उन्हें सीधे अपने शरीर पर लगायें ताकि उनकी हीलिंग पॉवर आपकी स्किन के जरिये आपके शरीर तक पहुँच सके। आप देखेंगे कि इन पट्टियों को लगाने के 20 मिनट बाद आपका बुखार कैसे उतरता है।

जरूरी चीजें:

 
  • 2 आलू
  • 2 कप सिरका (किसी भी प्रकार का) (500 मिली)

बनाने का तरीका:

  • शुरूआत आलू को छीलने और स्लाइस में काटने से करें।
  • फिर, उन्हें 1 घंटे के लिए सिरके में भिगोएँ।
  • अंत में, आलू को 10 मिनट तक सुखायें, उन्हें कपड़े में लपेटें और अपने माथे पर रख दें।

अदरक की चाय (Ginger tea)

जब बुखार से लड़ने की बात आती है, तो चाय न केवल आपको ठीक होने में मदद करेगी, बल्कि आपको अपनी आकर्षक सुगंध से आपका दिल भी ख़ुश कर देगी।

अदरक के कई गुणों में से एक, यह इम्यून सिस्टम को बनाये रखने में मदद करता है।

जब भी आपका बुखार बढ़ने लगे तो इस चाय को पियें। अगर आपको छह घंटे बीत जाने के बाद भी बुखार है, तो फिर से चाय पियें।

जरूरी चीजें:

  • 1 बड़ा चम्मच ताज़ा बारीक़ कटा हुआ अदरक (15 ग्राम)
  • 2 कप पानी (500 मिली)
  • शहद (स्वाद के लिए)

बनाने का तरीका:

  • एक बर्तन में पानी डालें और उसे उबलने दें।
  • फिर, पानी में ताज़ा बारीक़ कटा हुआ अदरक डालें और घोल को उसकी शुरुआती मात्रा का 1/4 गुना कम होने तक इंतजार करें।
  • इसे ठंडा होने दें और छान लें।
  • अंत में, प्रत्येक कप में शहद मिलायें और पियें।

इसे भी पढ़ें : यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन के लिए 7 प्राकृतिक नुस्ख़े

तुलसी की चाय (Basil Tea)

तुलसी की चाय (Basil Tea)

आपके भंडार (pantry) में कभी भी कैमोमाइल, थाइम, कैलेंडुला, तुलसी और अदरक जड़ जैसे कुछ बेहतरीन प्राकृतिक नुस्खों की कमी नहीं होनी चाहिए।

तुलसी में एंटीसेप्टिक, एंटी-इन्फ्लैमटॉरी और एंटीस्पास्मोडिक गुण होते हैं। अपने बुखार को नियंत्रित करने और अपने शरीर के तापमान को कम करने के लिए यह एक शानदार घरेलू उपाय है।

जरूरी चीजें:

  • 2 बड़े चम्मच तुलसी के पत्ते (30 ग्राम)
  • 1 कप पानी (250 मिली)

बनाने का तरीका:

  • सबसे पहले पानी को उबलने तक गर्म करें और फिर उसमें तुलसी डालें।
  • बाद में, बर्तन को ढक दें और छानने से पहले इसे कुछ मिनट ठंडा होने दें।
 
  • अंत में, इस मिश्रण में चीनी का इस्तेमाल न करें। बजाय इसके, इसे शहद की मदद से मीठा करना ज्यादा बेहतर होगा।

नेचुरल तरीके से अपने बुखार को कंट्रोल करने के लिए कुछ और सुझाव (Other Tips for Controlling Your Fever Naturally)

सुझाव 1: थोड़ा आराम करें

जब आपका शरीर ज़रूरत से ज़्यादा गर्म हो जाये, तो आपको सोने के अलावा और कोई काम नहीं करने चाहिए। एक बुखार होना आपके स्वास्थ्य को ठीक करने के लिए पूरी तरह से समर्पित (dedicate) होने का कारण हो सकता है।

इस समय, आपको हर 2 घंटे में अपने शरीर के तापमान पर नजर बनाये रखनी चाहिये ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आपका तापमान खतरनाक स्तर तक न पहुँचे।

सुझाव 2: गर्म पानी से शावर लें

यह आपके बुखार को नियंत्रित करने का एक पसंदीदा घरेलू उपाय है। गर्म पानी आपको अच्छा महसूस कराएगा और नहाना/शावर लेना आपके शरीर के तापमान को कम करने में मदद करेगा।

यहाँ पर, साबुन का इस्तेमाल करना जरुरी नहीं है। बस 5 से 10 मिनट तक पानी के नीचे रहें, जब तक कि आप फिर से तरोताज़ा (fresh) महसूस न करने लगें।

अगर आपका नहाने/शावर लेने का मन नहीं है, तो आप उन हिस्सों में ठंडे पानी की पट्टियाँ रख सकते हैं जहाँ बहुत गर्मी होती है जैसे बगल (armpits) और ग्रॉइन (groin)। आप अपने शरीर के तापमान को कम कर सकते हैं क्योंकि पानी भाप बन जाता है।

सुझाव 3: कुछ मसालों का इस्तेमाल करें

मिर्च के टुकड़ों या गर्म सॉस को अपने सूप और इन्फ़्यूज़न में डालना अपने बुखार को कंट्रोल करने के सबसे चमत्कारी घरेलू नुस्खों में से एक है। बेशक, मसालों का यह इस्तेमाल आपको पसीने, टॉक्सिन को बाहर निकालने, आपके शरीर के तापमान और आपके ब्लड फ्लो को संतुलित करने में मदद करेगा

अगर आप स्पाइसीनेस (spiciness) पसंद नहीं करते, तो आप इसे सीमित मात्रा में इस्तेमाल कर सकते हैं ताकि आपको इसका भरपूर फायदा मिले और इसे ज्यादा मात्रा में लेने से किसी भी तरह की परेशानी भी न हो।

चिकित्सकीय-सहायता कब लें (When to Get Medical-Help)

आपके बुखार को नियंत्रित करने वाले ये सभी घरेलू उपाय आपके शरीर के तापमान को नियंत्रित करके आपकी मदद करेंगे।

इसके विपरीत, अगर आपका बुखार तीन दिनों के बाद भी कम नहीं होता है और आपको इसके साथ में कोई दूसरे लक्षण जैसे फोड़े-फुंसी, साँस लेने में कठिनाई, मांसपेशियों में बहुत ज्यादा दर्द, या और भी कुछ दिखायी देते हैं, तो घर पर न रहें। यह मेडिकल सहायता लेने का समय होगा इसलिये आपको एक ज्यादा असरदार ट्रीटमेंट पाने के लिये किसी डॉक्टर के पास जाना चाहिये।

 

Ali, B. H., Blunden, G., Tanira, M. O., & Nemmar, A. (2008). Some phytochemical, pharmacological and toxicological properties of ginger (Zingiber officinale Roscoe): A review of recent research. Food and Chemical Toxicology. Elsevier Ltd. https://doi.org/10.1016/j.fct.2007.09.085

Suppakul, P., Miltz, J., Sonneveld, K., & Bigger, S. W. (2003, May 21). Antimicrobial properties of basil and its possible application in food packaging. Journal of Agricultural and Food Chemistry. https://doi.org/10.1021/jf021038t

Wong, P. Y. Y., & Kitts, D. D. (2006). Studies on the dual antioxidant and antibacterial properties of parsley (Petroselinum crispum) and cilantro (Coriandrum sativum) extracts. Food Chemistry97(3), 505–515. https://doi.org/10.1016/j.foodchem.2005.05.031