6 फायदे पैरों को सिरका में भिगोने के

27 फ़रवरी, 2019
क्या आप पैर की समस्या से पीड़ित हैं? सिरका आपकी मदद कर सकता है! जानिए कि यह शानदार प्राकृतिक नुस्खा आपकी क्या मदद कर सकता है और इसका इस्तेमाल कैसे करें।

हमारे पैर दिन भर हमारा बोझ उठाये रहते हैं। फिर भी अक्सर हम उन्हें अनदेखा करते हैं जब तक कि हमें किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या नहीं हो जाती है। क्या आप जानते हैं, अपने पैरों को सिरका में भिगोना आपके लिए मददगार हो सकता है?

आपके पैर नियमित रूप से रूखेपन, बैक्टीरिया, फंगस, फटी बिवाई और ऐसी दूसरी चीजों का शिकार होते हैं। ये लम्बी अवधि में कई समस्याओं का कारण बन सकती हैं, जो शरीर के इस हिस्से को बदसूरत और बीमार बना देता है।
खुशकिस्मती से, कुछ 100% प्राकृतिक नुस्खे हैं जो आपके पैरों की सुन्दरता को निखारने के साथ-साथ उन्हें पोषण देने और सुरक्षित रखने का काम भी कर सकते हैं
इन नुस्खों में से एक है सिरका। सिरके में बड़ी मात्रा में एसिड और एंटी-फंगल कम्पाउंड होते हैं। पैरों को सिरका में भिगोना अपनी त्वचा के pH को बनाये रखने में आपकी मदद करता है।
आज हम आपके पैरों के लिए सिरके के कुछ शानदार फ़ायदों के बारे में जानकारी शेयर करना चाहते हैं।

1. पैरों को सिरका में भिगोना फंगस से छुटकारा दिलाता है

पैरों को सिरका में भिगोना फंगस से छुटकारा दिलाता है

सिरके में मौजूद एसिटिक एसिड फंगस को खत्म करने में मदद करता है जो एथलीट फूट या नाखूनों के पीलेपन जैसी समस्याओं की वजह बन सकते हैं।

इसके एंटी-फंगल और एंटी-बैक्टिरीअल गुण संक्रमण को रोकते हैं। यह इन सूक्ष्मजीवों द्वारा भविष्य में होने वाले हमलों से बचने के लिये एक सुरक्षा कवच भी बनाता है।

इसे इस्तेमाल करने का तरीका

  • एक कटोरी गर्म पानी में एक कप सिरका मिलाएं और अपने पैरों को 15 से 20 मिनट के लिये इसमें डुबोएं।
  • इस उपचार को हफ्ते में दो से तीन बार दोहराएं।

इसे भी पढ़ें : पैरों के तकलीफदेह कैलस से छुटकारा पाने के बेहतरीन विकल्प

2. यह त्वचा को मुलायम बनाता है

सिरका का एक्सफोलिएटिंग गुण आपके पैरों को रूखे और खुरदरा बनाने वाले डेड स्किन सेल्स को हटा देता है।

इसे इस्तेमाल करने का तरीका

  • अपने पैरों को एक कटोरी पानी और सिरके के मिश्रण में 15 से 20 मिनट के लिए भिगायें।

3. यह मस्सों (warts) को खत्म करता है

सिरका मस्सों (warts) को खत्म करता है

सेब के सिरके में मौजूद एसिड आपके पैरों में मस्से पैदा करने वाले वायरस से मुकाबला करने के लिये बहुत ही कारगर होता है।

इसकी बनावट हर तरह के संक्रमण को बेअसर कर देती है और मस्सों को हल्का कर देती है। समय के साथ-साथ सेब के सिरके का ट्रीटमेंट मस्सों को पूरी तरह से ख़त्म कर सकता है।

इसे इस्तेमाल करने का तरीका

  • एक कटोरी गर्म पानी में आधा कप सेब का सिरका मिलाएं और 30 मिनट के लिए अपने पैरों को उसमें डुबो दें।
  • आप रूई से सेब के सिरके को सीधे मस्सों पर भी लगा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: पैर की सख्त कैलस निकालने के लिए एस्पिरिन आजमायें

4. खुजली कम करता है

PH असंतुलन रूखी त्वचा या पैर में फंगस का कारण बन सकता है। ये दोनों ही समस्याएं आपके पैरों में बहुत ज्यादा खुजली पैदा कर सकती हैं।

आपके जूते और मोज़े की बनावट भी पैरों में खुजली का कारण बन सकती है।

सेब का सिरका इस असुविधाजनक लक्षण को दूर कर सकता है और असली समस्या को नियंत्रित कर सकता है।

इसे इस्तेमाल करने का तरीका

  • सेब के सिरका और गर्म पानी को बराबर मात्रा में मिलाएं और 20 मिनट के लिये अपने पैरों को इसमें डुबो दें
  • जरूरत पड़े तो रोज़ाना इस नुस्खे को दोहराएं।

5. यह दुर्गंध को बेअसर करता है (It neutralizes bad odors)

सिरका दुर्गंध को बेअसर करता है

ज्यादा पसीना और बैक्टीरिया की मौजूदगी के चलते पैरों में बुरी दुर्गंध पैदा हो सकती है जिससे छुटकारा पाना मुश्किल होता है।

सिरका में पाए जाने वाले अम्ल नमी को कम करते हैं और बैक्टीरिया के विकास को भी रोकते हैं।

पैरों पर सिरका लगाना इस असुविधाजनक दुर्गंध को रोकने का एक नेचुरल तरीका है।

इसे इस्तेमाल करने का तरीका

  • एक कटोरे में दो भाग पानी और एक भाग सिरका मिलाएं और 15 मिनट के लिए अपने पैरों को उसमें डुबो दें।
  • अगर अभी भी तेज़ दुर्गंध आ रही है, तो इसमें टी ट्री ऑयल (tea tree essential oil) की कुछ बूंदें डाल दें।
  • दोबारा अपने जूते और मौजों को पहनने से पहले उन्हें अच्छी तरह से साफ़ कर लें

6. यह कॉर्न्स (corns) और कैलस (calluses) को मुलायम बनाता है

बड़ी मात्रा में मृत कोशिकाओं का इकट्ठा होना और जूते की रगड़ आपके पैरों पर कैलस (calluses) का कारण बन सकती है।

सिरके में मौजूद एसिटिक एसिड एक्सफ़ोलिएंट और शीतल करने का काम करते हैं, जो डेड स्किन को हटाने और कठोर हिस्सों को मुलायम बनाने में बहुत कारगर है।

पैरों को सिरके में भिगोने से आपकी त्वचा में नमी बढ़ जाती है। धीरे-धीरे यह पैरों की सुन्दरता में भी सुधार करता है।

इसे इस्तेमाल करने का तरीका

  • सफेद सिरका और गर्म पानी को बराबर मात्रा में मिलाएं और पैरों को 15 से 20 मिनट के लिए उसमें भिगोएँ।
  • इस ट्रीटमेंट को हर रात दोहराएं। एक प्यूमिस पत्थर का उपयोग इस ट्रीटमेंट के प्रभाव को और ज्यादा बढ़ा सकता है।

क्या आप इन अद्भुत नुस्खों से अपने पैरों की देखभाल करने के लिए तैयार हैं? इसे अपनी रेगुलर ब्यूटी रूटीन में शामिल करें!

  • Mota AC et al. “Antifungal Activity of Apple Cider Vinegar on Candida Species Involved in Denture Stomatitis”, J Prosthodont. 2015 Jun;24(4):296-302. doi: 10.1111/jopr.12207. Epub 2014 Sep 14.
  • Gopal J et al. “Authenticating apple cider vinegar‘s home remedy claims: antibacterial, antifungal, antiviral properties and cytotoxicity aspect”, Nat Prod Res. 2017 Dec 11:1-5. doi: 10.1080/14786419.2017.1413567.
  • Darshna Yagnik et al. “Antimicrobial activity of apple cider vinegar against Escherichia coliStaphylococcus aureus and Candida albicans; downregulating cytokine and microbial protein expression”, Sci Rep. 2018; 8: 1732.