बड़े होते बेटे की परवरिश में न करें ऐसी गलतियाँ

17 अक्टूबर, 2018
भले ही वे ज्यादा स्वतंत्र हो सकते हैं, लेकिन जब बात अपने बेटे को शिक्षित करने की आती है, तो उनकी जरूरतों को समझना और स्पष्ट बातचीत कायम करना अहम है जिससे वे आप पर भरोसा कर सकें।

किसी भी माता-पिता के लिए बेटे उनका खजाना हैं, जो अपनी झलक इस नए जीवन में देखते हैं। वे दुनिया को एक बहादुर युवा देने की भरपूर कोशिश करेंगे जो दूसरों को खुशियों से भरपूर हो और दूसरों को खुश रखे।

सभी बच्चे अनमोल और मूल्यवान होते हैं, चाहे वे लड़के हों या लड़कियां। हमें उन्हें प्यार करना चाहिए और उन्हें समान रूप से शिक्षित बनाना चाहिए।

फिर भी, एक छोटे लड़के का स्वभाव कभी-कभी बहुत अलग हो सकता है, और यह आम तौर पर हमसे ज्यादा समय मांगता है।

बच्चे कभी भी अपने माता-पिता की कार्बन कॉपी नहीं होते। उनके पास अपना निजी कैरेक्टर और आवाज होती है। आपको उन्हें जिम्मेदार, मेच्योर और खुशहाल बनाने के लिए गाइड करना सीखना चाहिए।

आइए जानें कैसे।

बेटे का होना: उनकी शिक्षा के लिए चुनौतियों और स्ट्रेट्जी

हम फिर से दोहराना चाहेंगे कि आपको लिंगभेद के रूढ़िवाद में नहीं फंसना चाहिए – लड़के और लड़कियों की शिक्षा पर समान रूप से जोर दिया जाना चाहिए।

जिन सलाहों को हम आज हाइलाइट करना चाहते हैं, वे प्रत्येक बच्चे की ज़रूरतों पर निर्भर करते हैं, लेकिन उनमें कुछ बुनियादी टूल्स शामिल हैं जो आपकी मदद और गाइड कर सकते हैं।

बेटे का होना

उसे सबसे मजबूत, बुद्धिमान, स्मार्ट या सबसे बहादुर बनने की शिक्षा न दें। उसे “वह” बनना सिखाएं

कई परिवार एक आम गलती करते हैं। हमें ऊपर जिसका जिक्र किया है, वे उस जेंडर स्टीरियोटाइप का शिकार हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें: 35 की उम्र के बाद माँ बनने के 6 फायदे

  • कुछ लोग चाहते हैं, उनका बेटा बेस्ट फुटबॉलर, क्लास में सबसे स्मार्ट, बहुत से दोस्तों के साथ सबसे साहसी बने। यह अच्छी रणनीति नहीं है।
  • अपने बेटे के साथ वही करें जो आप अपनी बेटी के साथ करेंगे: उसे जो होना चाहता है, उसे अपने लिए चुनने दें, उसे वह करने दें जो वह अपने खाली समय में करना चाहता है, और उसे अपने लिए वे सपने पालने दें जिन्हें वह हासिल करना चाहता है।
  • आपको अपनी दिलचस्पी वाले उस ख़ास स्पोर्ट्स की ओर उसे नहीं झोंकना है जिसमें उसकी रुचि न हो।

अपने बच्चे को समझें और याद रखें कि वह आपकी एक कोई कॉपी नहीं है।

आप उसे अपनी पसंद की चीजों के बारे में शिक्षा दे सकते हैं, कुछ रुचियों की ओर उसे गाइड कर सकते हैं, और आप उसे कुछ चीजों की जानकारी दे सकते हैं, लेकिन उस पर ऐसी कोई चीज न थोपें जो वह नहीं चाहता

आपके बेटे को उदास होने का अधिकार है

बेटियों के मुकाबले बेटे पैदाईशी मजबूत नहीं होते हैं, न ही वे अजेय हैं। कुछ माता-पिता एक और गलती करते हैं, जब वे अपने बेटे को कहते हैं, रोओ मत, तुम एक पुरुष हो और आंसू बहाए बिना आपको मजबूत होना होगा।”

  • लड़कियों की तरह ही लड़कों को अपनी भावनाओं को बाहर निकालने की जरूरत है। जरूरत पड़े तो उन्हें रोने दें।
  • यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने बेटे से पर्याप्त भावनात्मक संवाद बनाने के लिए प्रोत्साहित करें। उनके साथ एक भरोसेमंद रिश्ता बनायें
  • उन चीज़ों का कभी मजाक न उड़ायें, जो वे आपको बताते हैं। इसमें उनके विचार, सपने, भावनाएं और चाहतें शामिल हैं। अगर आपका बेटा देखता है कि आप उसकी आलोचना करते हैं या उसका मज़ाक उड़ाते हैं, तो वह आप पर भरोसा करना बंद कर सकता है।

यह भी पढ़ें: हाइपर पेरेंटिंग: दुनिया को नाखुश बच्चे देने का तरीका

बेटे का स्पेस

बेटा जल्दी ही अपने स्पेस की तलाश करेगा

बेटों का रुझान पैम्परिंग और लगाव की ज़रूरतों के बीच तैरने और अपने अधिकारों और आजादी का उपयोग करने के लिए अकेले रहने की जबरदस्त ख्वाहिश रखते हैं। यह बहुत जल्दी शुरू हो जाएगा।

  • आपको पेशेंस बनाए रखना चाहिए। किसी किस्म का प्रतिबंध लगाये जाने पर बेटे नेगेटिव प्रतिक्रिया देंगे, इसलिए आपको उन्हें यह समझने के लिए राजी करना होगा कि वे अभी वे चीजें क्यों नहीं कर सकते।
  • अपने बेटे को यह भी सिखाना महत्वपूर्ण है कि अगर वह अधिक स्पेस या कुछ अधिकारों की मांग कर रहा है, तो उसके लिए ज़िम्मेदारी कैसे स्वीकार करना है
  • इसलिए जैसा आप एक बेटी के साथ करेंगे, आपको उसे कम उम्र में ही जिम्मेदारियां देने की ज़रूरत है।

कुछ कार्य और जिम्मेदारियां हैं जिनके लिए उन्हें जिम्मेदार होना पड़ेगा। इनमें अपने कमरे को साफ रखने, घर की सफाई में मदद करने, पालतू जानवरों की देखभाल करने या अपनी चीजों की देखभाल करना शामिल है।

बेटे के साथ खिलवाड़

निष्कर्ष यह है कि, एक बेटा होना जहाँ एक खजाना है वहीं चुनौती भी है। उसकी शिक्षा आपकी उनकी जरूरतों और उनसे अच्छे भावनात्मक संवाद बनाने की आपकी समझ पर आधारित होगी। यह उसे हमेशा आप पर भरोसा रखने में मदद करेगा।

वह कौन है और वह रोजमर्रा के आधार पर क्या पसंद करता है, उसका सम्मान करके आप उसके समें एक अच्छा उदाहरण पेश करेंगे। वह स्वतंत्र होने और अपने सपनों के लिए लड़ने के लिए पर्याप्त मेच्योर होने पर जिनका अनुसरण कर सकता है। उसे पता है, हर दिन के उसके संघर्ष में साथ देने के लिए आप उसके साथ होंगे।

मां और पिता के रूप में हम अपने बेटों और बेटियों को जहाँ समान रूप से प्यार करते हैं, वहीं उन्हें यह शिक्षा देनी होगी कि दोनों के अधिकार और जिम्मेदारियों समान हैं। यह अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण है।

  • Cuervo Martinez, Á. (2010). Pautas de crianza y desarrollo socioafectivo en la infancia. Diversitas. https://doi.org/10.15332/s1794-9998.2010.0001.08
  • Raya, A. F., Pino, M. J., & Herruzo, J. (2009). La agresividad en la infancia: el estilo de crianza parental como factor relacionado. European Journal of Education and Psychology. https://doi.org/10.30552/ejep.v2i3.28
  • Izzedin Bouquet, R., & Pachajoa Londoño, A. (2009). Pautas, prácticas y creencias acerca de crianza… ayer y hoy. Liberabit.
  • Gottman, J. (2011). Estilos de crianza. Talaris Institute.
  • Mestre Escrivá, M., Samper García, P., Tur, A., & Díez, I. (2001). Estilos de crianza y desarrollo prosocial de los hijos. Revista de Psicología General y Aplicada: Revista de La Federación Española de Asociaciones de Psicología.