प्यार से बच्चों की परवरिश उनके डर को दूर भगाती है

सितम्बर 20, 2018
स्नेह के साथ हम अपने बच्चों में आत्मविश्वास भर सकते हैं जिससे वे अपने हर प्रोजेक्ट में, हर कदम पर घर-परिवार का सपोर्ट अपने साथ महसूस कर सकें।

प्यार वह इंजन है जो माता-पिता और उनके बच्चों के बीच के बंधन को ईंधन देता है। बच्चों की परवरिश में इसका बहुत बड़ा स्थान है।

दुनिया में आने वाले प्रत्येक बच्चे को भोजन, घर और सुरक्षा के अलावा भी आवश्यकताएं होती हैं। प्यार इतना जरूरी है कि अगर यह बच्चे के जीवन में अनुपस्थित हो या अपर्याप्त हो, तो यह उसके विकास में गंभीर समस्याएं पैदा करता है।

आपने शायद पहले अटैचमेंट डिसऑर्डर के बारे में सुना होगा। यह एक नाज़ुक और जटिल मुद्दा है जिसे पूरी तरह से समझने के लिए और खोज की आवश्यकता है।

आज हमारे पेज पर, हम आपको हमारे साथ इस दिलचस्प विषय का पता लगाने के लिए आमंत्रित करना चाहते हैं। बच्चों को हर दिन बिना किसी शर्त के प्यार देना उन्हें परिपक्व व् जिम्मेदार वयस्कों में विकसित होने की ताकत और मार्गदर्शन प्रदान करेगा जिससे भविष्य में अपनी खुशी का निर्माता बन सकें।

माता-पिता और उनके बच्चे के बीच का बंधन नाज़ुक लेकिन शक्तिशाली होता है

एक मां और उसके बच्चे के बीच संबंध गर्भाशय में गर्भानाल के साथ शुरू होते हैं जो विकासित बच्चे को पोषण प्रदान करता है। गर्भ की गर्माहट माँ और बच्चे के बीच भावनाओं का आदान प्रदान कर इस बंधन को और भी गहरा बनाती है।

माँ की त्वचा से बच्चे का स्पर्श

जन्म से शुरू होने वाला बंधन

हाल के वर्षों में, यह पता चला है कि नवजात शिशुओं के लिए जितना संभव हो सके उनकी मां की त्वचा के करीब समय व्यतीत करना ज़रूरी है।

यह भी पढ़ें:आपके बच्चों को प्रदान करने हेतु 4 सबसे महत्वपूर्ण गुण

आजकल जन्म के समय इतने सारे प्रोटोकॉल का पालन किया जाता है कि बच्चे को माँ की बेहोशी से जागने से पहले ही कई अलग- अलग हाथों में दे दिया जाता है।

इसे भी जानें: 4 कारण जो बताते हैं, बच्चों के लिए देर से सोना ख़राब क्यों है

निम्नलिखित निष्कर्षों के साथ इस विषय पर कई अध्ययन आयोजित किए गए हैं:
  • नवजात शिशु मां की त्वचा के संपर्क में भावनात्मक सम्बन्ध की मजबूती के लिए होना ही चाहिए।
  • शिशु अपनी इंद्रियों के माध्यम से दुनिया को महसूस करते हैं, और मां की छाती का तापमान बच्चे को सुरक्षा का एहसास कराता है जो तुरंत बच्चे को शांत करता है।

  • माँ का दिमाग तुरन्त ऑक्सीटॉसिन नामक हॉर्मोन जारी करता है, जो प्यार से जुड़ा है और मां और बच्चे के बीच देखभाल और स्नेह के लिए आवश्यक है।

  • जब एक बच्चा अपनी मां का दूध पहली बार पीता है, तो ऑक्सीटॉसिन माँ के शरीर में अधिक दूध पैदा करता है।

एक बच्चे के लिए अपनी मां की त्वचा के संपर्क में रहना बेहद जरूरी है। यह दोनों के बीच प्रगाढ़ रिश्ता बनाने का एक असाधारण तरीका है।

अटैचमेंट डिसऑर्डर

हम सभी जानते हैं कि खालीपन, सच्चे स्नेह की कमी, दुर्व्यवहार या उतार-चढ़ाव से भरे एक अस्थिर पालन पोषण से बच्चे में गंभीर भावनात्मक समस्याओं उत्पन्न हो सकती हैं।

अटैचमेंट डिसऑर्डर उनके विकास के शुरुआती चरणों के दौरान बच्चे और माता-पिता के बीच भावनात्मक सम्बन्ध में दरार के परिणामस्वरूप होता है।

इन सब के बच्चे के विकास पर गंभीर परिणाम होते हैं, जो अक्सर अति सक्रियता, पोस्ट-आघात संबंधी तनाव विकार, क्रोध की भावनाओं जैसे परिस्थितियों की ओर अग्रसर होते हैं …

दुखी इमोशनल बच्चा

अब, जो विश्वास करना मुश्किल हो सकता है वो यह है कि बच्चे कभी-कभी देखभाल की कमी की कमी से ग्रस्त हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, निम्नलिखित स्थितियों पर विचार करें:

  • कुछ बच्चों को उनके माता-पिता अपनी जिम्मेदारियों के कारण नौकरी पर जाने की वजह से बहुत कम उम्र में ही दिन भर बाल देखभाल केंद्र में छोड़ देते हैं। हालांकि, बाद में यह उनके लिए चिंता का एक बड़ा कारण बनता है।

  • हर बच्चे की अपनी जरूरत होती है। और जब एक ही परिवार में कई बच्चें हो, तो यह ईर्ष्या और दूसरों की तुलना में “अधिक स्नेह” प्राप्त करने की आवश्यकता पैदा कर सकता है।

  • कुछ बच्चों को जन्म के तुरंत बाद इनक्यूबेटर में रखा जाता है जो मां से अलग होने के परिणामस्वरूप तनाव प्रतिक्रिया उत्पन्न कर सकता है।

कई अलग-अलग स्थितियों की वजह से बच्चे में अटैचमेंट डिसऑर्डर हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: बच्चों में विद्रोह की भावना को कैसे रोकें

हमें खुद को दोष नहीं देना चाहिए। जैसा कि हमने पहले उल्लेख किया है, कुछ बच्चों को दूसरों की तुलना में अधिक जरूरत होती है और यह ऐसा कुछ है जिसे हर माता-पिता को पता होना चाहिए।

अपने बच्चों का प्यार से पोषण करें और उनके डर हमेशा के लिए भाग जायेंगे

loving-mother

हम अटैचमेंट डिसऑर्डर से सच्चे स्नेह और एक मजबूत, स्वस्थ बंधन के साथ सम्मान और सुरक्षा के आधार पर लड़ सकते हैं जिसे निम्नलिखित तरीकों से मजबूत किया जा सकता है:

  • अपने नवजात शिशु के साथ शारीरिक स्पर्श बनाए रखें: स्तनपान वास्तव में एक सकारात्मक चीज़ है, साथ ही साथ, गले लगाना और प्यार भरे शब्दों का इस्तेमाल ..

  • अपने बच्चे के रोने पर ध्यान दें।

  • जैसे-जैसे वे बढ़ते हैं, उन्हें यह बताने में संकोच न करें कि आपको उनकी परवाह है। उनसे बात करें, उनके सैकड़ों प्रश्नों का उत्तर दें, अपने डरों को छोड़ दें, उनके सपनों को पंख दें, उन्हें सुरक्षा प्रदान करें और उन्हें अपने आत्म-सम्मान को मजबूत करने के लिए आवश्यक मदद प्रदान करें।

माता-पिता और बच्चे के बीच का सम्बन्ध प्यार से पोषित एक अदृश्य बंधन है। यह गर्भनाल है जो हमेशा उन्हें एक साथ रखेगी।

एक मजबूत, प्रेमपूर्ण बंधन मजबूत, प्यार भरे बच्चों को बनाता है और उन्हें अपने सपनों को पूरा करने के लिए आवश्यक साहस देता है।