लहसुन-नींबू का नुस्खा जो दिलाए मस्सों से छुटकारा

13 मार्च, 2019
क्या आप उन बदसूरत मस्सों से छुटकारा पाने की कोशिश में हैं? इस नेचुरल स्वस्थ नुस्ख़े को आजमाइए, त्वचा की इस समस्या को गुडबाई कहिये!

मस्सों की ग्रोथ को रोकना अहम है। मस्से यानी वार्ट (Wart) से छुटकारा पाने में यह घरेलू लहसुन-नींबू का नुस्खा आपकी मदद करेगा और आपके प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करेगा। यह भविष्य में इनके विकास की संभावना को भी घटाएगा।

मस्से त्वचा पर होने वाले छोटे उभार हैं जो ह्युमन पैपिलोमा वायरस (HPV) के कारण होते हैं। इस वायरस ग्रुप में अलग-अलग 70 सब-ग्रुप हैं। यह वायरस कोशिका की वृद्धि में अचानक तेजी ला देता है। वक्त बीतते-बीतते यह बिना किसी नुकसान वाले दर्द रहित उभारों को जन्म देता है जो बाद में तेजी से फैल जाते हैं।

इनके उभरने का मतलब यह नहीं है कि शरीर में कुछ गंभीर गड़बड़ी चल रही है। तो भी यह एक कमजोर इम्यून सिस्टम का संकेत है जो वायरस के फैलाव को रोकने में असमर्थ है।

कई लोग सौंदर्य कारणों से मस्सों छुटकारा चाहते हैं। सौभाग्य से अब कई कमर्शियल और घरेलू उपचार उपलब्ध हैं। इनमें एक्टिव कम्पाउंड होते हैं। ये मस्सों को कम करने और यहाँ तक कि उन्हें पूरी तरह से ख़त्म करने की सहूलियत देते हैं।

 इन नुस्खों में, हम इस सहज-सरल आसान लहसुन और नींबू के नुस्ख़े को पाते हैं। कुछ समय के लिए नियमित इस्तेमाल किये जाने पर यह ट्रीटमेंट निशान छोड़े बिना इसे स्वस्थ करने में मदद करता है। आज ही इसे आज़माएं!

मस्सों से छुटकारा पाने के लिए लहसुन-नींबू का नुस्खा

लहसुन और नींबू का सदियों पुराना यह संयोजन त्वचा के संक्रमण में सबसे ज्यादा उपयोग किये जाने वाले प्राकृतिक एंटीबायोटिक और एंटीफंगल नुस्खों में शुमार है।

दोनों तत्व शक्तिशाली एक्टिव एजेंट हैं। इनका लेप करते ही ये एजेंट कई प्रकार के फंगस, वायरस और बैक्टीरिया को नष्ट कर देते हैं, उनका बढ़ना रोक देते हैं।

अगर यह वजह आपको तसल्ली नहीं दे पा रही है, तो जान लीजिये कि वे बहुत ही सस्ते और सुलभ हैं। उनमें इस समय उपलब्ध कमर्शियल विकल्पों वाले रासायनिक कम्पाउंड भी नहीं होते जिनके तमाम साइड इफेक्ट हैं।

जानिये : 5 प्राकृतिक औषधियाँ: HPV का इलाज करने के लिए

लहसुन के फायदे (The benefits of garlic)

प्रकृति में सबसे शक्तिशाली एंटीबायोटिक माना जाने वाले लहसुन उस संक्रमण को खत्म करने में बहुत ही असरदार साबित हुआ है जो मस्से पैदा करते हैं।

इसमें मौजूद एक्टिव एजेंट एलिसिन (allicin) इसके एंटीवायरल और ज्वलनरोधी (anti-inflammatory ) गुणों का कारण है। उंगलियों, गर्दन और शरीर के अन्य दिखने वाले अंगों पर उभर आते मस्सों को घटाने में आदर्श है।

इसे खाने और सीधे लेप करने, दोनों से ही इस भद्दी समस्या को ठीक करने में मदद मिलती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसके पोषक तत्व प्रतिरक्षा तंत्र को मारक बनाते हैं, और सूक्ष्मजीवों के हमलों के खिलाफ इम्यून प्रतिक्रिया को धारदार बनाते हैं।

सबसे अच्छी बात यह है कि यह सेल रिजेनेरेशन को बढ़ावा देता है। इससे मस्सों के खत्म होने के बाद वहाँ मौजूद दाग का रंग-रूप फीका पड़ जाता है।

इसे भी पढ़ें : 7 एसेंशियल ऑइल जो मस्सों से छुटकारा दिलाने में चमत्कारिक हैं

नींबू के फायदे (The benefits of lemon)

नींबू का रस एसिड कम्पाउंड से भरपूर है जो त्वचा के pH लेवल को संतुलित करने में मददगार है। इसलिए यह मस्सों जैसे दाग-धब्बोब के खात्मे को बढ़ावा देता है।

 इसकी वजह इसमें मौजूद एंटीफंगल, जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गुण हैं। ये सब ऐसे कई कीटाणुओं के खात्मे में मदद करते हैं जो अंदरूनी और बाहरी सेहत पर असर डालते हैं।

इसी कारण नींबू का रस त्वचा की ऐसी समस्याओं में आदर्श है जिसमें दर्द और परेशानी पैदा है। साथ ही इसका एक दिलचस्प हल्का करने वाले असर भी है। कुछ समय में यह दाग-धब्बे और दूसरे निशान के रंग-रूप को फीका कम कर देता है।

इसे भी पढ़ें : इन 5 घरेलू नुस्खों की मदद से मस्सों से छुटकारा पायें

लहसुन-नींबू वार्ट ट्रीटमेंट कैसे बनायें

लहसुन और नींबू ऐसी दो चीजें हैं जो ज्यादातर लोगों के हाथ के पास मौजूद होती हैं। क्योंकि किचन में रोजाना इस्तेमाल में आती हैं। इस तरह यह नुस्खा वाकई बहुत आसान है और इसके लिए बड़े निवेश की ज़रूरत भी नहीं है।

यह समझना जरूरी है कि एक बार लगाते ही आपको नतीजे नहीं दिखेंगे। असर देखने के लिए इसका रोजाना इस्तेमाल करना चाहिए।

सामग्री

  • 1 लहसुन की कली
  • आधे नींबू का रस
  • टेप (आवश्यकतानुसार)

 कैसे करूं?

  • सबसे पहले लहसुन की कली को तब तक पीसें जब तक आपको एक गाढ़ा पेस्ट न मिल जाए।
  • फिर इसे आधे नींबू से रस में मिलाएं।
  • कुछ मिनट इंतज़ार करें। जब सामग्री स्थिर हो जाए, इसे सीधे मस्से पर लगाएं।
  • प्रभावित क्षेत्र को कवर करना न भूलें। इसे रात भर असर करने के लिए टेप से सील करें।
  • अगले दिन ढेर सारे पानी से त्वचा को धोएं और अच्छी तरह से सुखा लें।
  • इसे हर रात दोहराएं जब तक कि मस्से गायब न हो जाएँ।

याद रखें

मस्से को जबरन हटाने की कोशिश कभी न करें। इससे जख्म और संक्रमण हो सकता है।

मस्सों के प्रसार को रोकने के लिए उन चीजों का दोबारा इस्तेमाल करना बंद क्र दें जिनका उनसे सीधा संपर्क रहा हो। यदि उनका इस्तेमाल करना ही पड़े, तो उन्हें पहले स्टेरेलाइज़ ज़रूर कर लें। मस्सों से जल्दी छुटकारा पाने के उद्देश्य वाले इस ट्रीटमेंट को पूरा करने के लिए, ऐसे भोजन और सप्लीमेंट्स खाएं जो इम्यून सिस्टम को ताकत देते हैं।

  • Abeck, D., & Fölster-Holst, R. (2015). “Quadrivalent human papillomavirus vaccination: A promising treatment for recalcitrant cutaneous warts in children”, Acta Derm Venereol, 95 (8): 1017-1019.
  • Bonnez, W. (2015) “Papillomaviruses”. In: J.E. Bennett, R. Dolin, M.J. Blaser (eds.), Mandell, Douglas, and Bennett’s Principles and Practice of Infectious Diseases. Philadelphia, PA: Elsevier. Chap. 146.
  • Habif, T.P. (2016). “Warts, herpes simplex, and other viral infections”. In: Habif, T.P. (ed.), Clinical Dermatology: A Color Guide to Diagnosis and Therapy. Philadelphia, PA: Elsevier. Chap. 12.