डायटोमेसियस मिटटी से पिस्सू से छुटकारा कैसे पायें

10 मई, 2020
डायटोमेसियस अर्थ पिस्सू (fleas) और कुटकी से छुटकारा पाने का सबसे सुरक्षित तरीका है। एक तरह जहाँ यह पैरासाईट के लिए घातक है, वहीं मनुष्यों और पालतू जानवरों के लिए हानिरहित है।
 

ज्यादातर पेट्स रखने वाले लोगों को कभी न कभी पिस्सू से निपटना पड़ता है। ये जीव बाहरी परजीवी हैं जो गर्म खून वाले जानवरों के शरीर में रहते हैं। उन्हें कुत्तों या बिल्लियों में पाया जाना बहुत आम है।

इनसे छुटकारा पाना मुश्किल हो सकता है। एक प्राकृतिक उत्पाद जो उनसे निपटने के लिए अच्छा हो सकता है, वह है डायटोमेसियस मिट्टी।

जब घर पर पिस्सू की महामारी हो, तो ये जीव आपके पालतू जानवरों पर हमला करते हैं। इसलिए उनसे छुटकारा पाना आपके लिए प्राथमिकता होनी चाहिए।

बेशक, बाजार में कई प्रोडक्ट हैं जो बहुत असरदार हैं। लेकिन इनमें बड़ी मात्रा में केमिकल होते हैं। ये आपके पेट्स और आप दोनों को प्रभावित कर सकते हैं।

  • एक वैकल्पिक लेकिन असरदार इआज डायटोमेसियस मिट्टी है।
  • यह एक किस्म की चट्टान है जो बहुत कठोर खोल वाले जीवाश्मों से मिले अवशेषों से बनती है।
  • यह इंसानों और जानवरों के इस्तेमाल के लिए सुरक्षित है। लेकिन अपनी तेज धारियों की वजह से यह कीटों और परजीवियों के लिए घातक हो जाती है। दरअसल यह उन्हें डिहाइड्रेट करके सुखा देती है।

पिस्सू का फैलना

जब मादा पिस्सू आपके पेट्स के फर में घर बनाती है तो उसका उद्देश्य वहाँ अंडे देना है।

यह कोई बड़ी समस्या नहीं है। अंडे आसानी से गिर जाते हैं। वे आपके सोफे, फर्नीचर और उ जगहों पर बिखर जाते हैं, जहाँ पेट्स बैठते-उठते  हैं।

यह भी पढ़ें: 7 घरेलू उपाय: घरेलू मक्खियों से छुटकारा पाने के लिए

जहां कहीं भी पेट्स जाते हैं, पिस्सू के अंडे वहाँ बिखरते हैं।

इससे आपको छिपे हुए लार्वा का सामना करना पड़ता है। आप उन्हें तकिए, कुशन, ईजी चेयर, यहां तक ​​कि अपने फर्श की दरारों में भी देख सकते हैं।

इनसे छुटकारा पाने के लिए आपको लगातार इनका इलाज करना होगा। क्योंकि वे आपके पालतू जानवर और घर दोनों को फिर से संक्रमित कर सकते हैं।

अगर आपको अभी भी पिस्सू से छुटकारा पाने का कोई उपाय नहीं मिला है, तो आज हम आपको डायटोमेसियस मिट्टी वाला एक बेहतरीन ट्रीटमेंट बताएँगे।

 

पिस्सू के लिए डायटोमेसियस मिट्टी ट्रीटमेंट

पिस्सू के लिए डायटोमेसियस मिट्टी ट्रीटमेंट

इस ट्रीटमेंट का फोकस उन क्षेत्रों पर होना चाहिए जहां आपके पेट्स रहते हैं। इसका मतलब है, उनका बिस्तर, तकिया, जहां वे सोते हैं, या यहां तक ​​कि आपके यार्ड की घास भी।

डायटोमेसियस मिट्टी हार्डवेयर स्टोर, नर्सरी और यहां तक ​​कि गार्डेन शॉप में भी पाई जाती है।

यह बहुत ज़रूरी है कि आप पूल के लिए किस तरह का सामान न खरीदें। इसे फूड ग्रेड डायटोमेसियस अर्थ होना चाहिए।

इसका उपयोग करने के लिए इन स्टेज का पालन करें:

  • ग्लव्स और एक सुरक्षात्मक मास्क का इस्तेमाल करें, थोड़ी मात्रा में मिट्टी ही लें। इसे अपने पालतू जानवरों पर छिड़कें। इसे इसके फर में रगड़ें।
  • कंघी से पेट्स को ब्रश करें ताकि यह उसके फर पर फैल सके।

ध्यान रहे, पेट्स के कानों में पदार्थ न जाए।

  • तकिए पर या बिस्तर पर उस डायटोमेसियस मिट्टी को फैलाएं जिस पर आपका पेट सोता है। यह महत्वपूर्ण है कि ऐसा करते समय आपका जानवर घर से बाहर हो। उन्हें तब तक बाहर रहना चाहिए जब तक कि धूल बैठ न जाए।
  • मिट्टी को दीवार और फर्श के कोनों और दरारों तक पहुंचने की जरूरत है। तकिए पर उसे कुछ घंटों के लिए रहने दें। रात भर धूल को छोड़ना ठीक रहेगा। बाद में, धूल हटा दें।

तकिए को हिलाकर आप धूल हटा सकते हैं। हालांकि, सबसे अच्छा विकल्प अपने पेट्स की सुरक्कोषा के लिए एक वैक्यूम क्लीनर का उपयोग करना है।

इसे भी पढ़ें ; पोलेन और एलर्जी से मुकाबले में मदद कर सकता है एयर प्यूरीफायर

किसी भी क्षेत्र को छोड़ें नहीं!

 

  • पिस्सू और कुटकी जिन जगहों पर रहती हैं, वहाँ डायटोमेसियस मिट्टी से एक बैरियर बनायें। उन्हें अपने घर में घुसने से रोकें।
  • इसे बाहर दरार में और विशेष रूप से अपने यार्ड में रगड़ें। घास और पौधों में सामान्य रूप से पिस्सू के रहने की अधिक संभावना है। इस वजह से इस मिट्टी को अपने यार्ड में फैलाएं।
  • यार्ड में पेड़ हैं, तो इस मिट्टी को उनके छाल पर छिड़क दें। इसके अलावा, इसे अपनी झाड़ियों, बाड़ और उस जगह छिड़कें जहाँ पेट्स इस पैरासाईट को ले जा सकते हैं।
  • अगर पेट्स कार में है, तो उसकी सीट, फर्श और तकिये में डायटोमेसियस मिट्टी को छिड़कना चाहिए। यह किसी भी पिस्सू ऊआआ कुटकी को मारता है।

फिर यहाँ भी वही करें जो आपने अपने घर में कुशन के साथ किया था: उन्हें कुछ घंटों के लिए छोड़ दें और फिर उन्हें वैक्यूम करें।

  • सबसे अच्छी बात पिस्सू से छुटकारा पाने के लिए हर दो हफ्ते में इस प्रक्रिया को दोहराना है।
 
  • Luz, C., Rodrigues, J., & Rocha, L. F. N. (2012). Diatomaceous earth and oil enhance effectiveness of Metarhizium anisopliae against Triatoma infestans. Acta Tropica122(1), 29–35.
  • Korunic, Z. (1998). Review Diatomaceous earths, a group of natural insecticides. Journal of Stored Products Research34(2-3), 87-97.
  • Quarles, W. (1992). Diatomaceous earth for pest control. IPM practitioner14(5/6), 1-11.