स्पेन में क्रीमियन-कांगो हेमोरेजिक फीवर के मामले

26 दिसम्बर, 2018
क्रीमियन-कांगो हेमोरेजिक फीवर नया नहीं है। फिर भी, हाल की घटनाओं के मद्देनजर इस बीमारी के बारे में सभी संभावित तथ्यों की जानकारी रखनी चाहिए। उदाहरण के लिए, इस वायरस के बारे में एक तथ्य यह है कि यह सिर्फ सीधे संपर्क में आने पर ही फैलता है।
 

25 अगस्त 2016 को स्पेन के मैड्रिड में एक 62 वर्षीय व्यक्ति की मौत क्रीमियन-कांगो हेमोरेजिक फीवर (CCHF) से हुई।

यह खबर मीडिया में पहुंची और अचानक स्पेन के लोगों को एक ऐसी बीमारी के बारे में पता चला जिसके बारे में लगभग किसी ने नहीं सुना था।

पहले हम बता दें, क्रिमियन-कांगो हेमोरेजिक फीवर (Crimean-Congo Hemorrhagic Fever) नया नहीं है। वास्तव में, यह स्पेन में पहले भी दिख चुका है।

उस 62 वर्षीय रोगी की देखभाल करने वाली नर्स की स्थिति भी गंभीर थी और वह आइसोलेशन में रहीं।

ऐसी खबरों के बावजूद विशेषज्ञों ने स्पेनियों को शांत रहने के लिए कहा है। हालांकि कई लोगों ने इस बीमारी की तुलना ईबोला से की है, इस गलत नतीजे पर आने का कोई कारण नहीं है।

याद रखना चाहिए कि दोनों चीजों का कोई सम्बन्ध नहीं है। इन मामलों में सबसे अहम बात यह है कि उपलब्ध जानकारी को इकठ्ठा किया जाए।

यहाँ हम क्रिमियन-कांगो हेमोरेजिक फीवर के बारे में सबसे प्रासंगिक जानकारी देने वाले हैं।

क्रिमियन-कांगो हेमोरेजिक बुखार क्या है?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) इस बीमारी की परिभाषा एक प्रकार के वायरल हेमोरेजिक बुखार के रूप में देता है, जिसमें मृत्यु दर 40% तक है।

क्रीमियन-कांगो हेमोरेजिक फीवर: WHO

क्रिमियन-कांगो हेमोरेजिक बुखार के बारे में हमें ये जानकारी प्राप्त है:

  • यह एक प्रकार का वायरस है जो बुनियावाइरीडे (Bunyaviridae ) फैमिली से जुड़ा है।
  • यह कुटकी (Tiks), मच्छर, रोडेंट आदि से फैलता है और संक्रमित पशुओं से भी।
  • यह लोगों में तभी फैलता है जब उनका रक्त, शरीर के स्राव या दूसरे शारीरिक द्रव से सीधा संपर्क हो।

इसके वायु में फैलने से इंकार किया गया है। अर्थात यह बीमारी हवा के माध्यम से नहीं फैल सकती है, लेकिन तरल पदार्थ के माध्यम से फैल सकती है। यह तथ्य इस बात की व्याख्या करता है कि संक्रमित रोगी की देखभाल करने वाली नर्स तक यह वायरस कैसे पहुंचा।

 
  • क्रिमियन-कांगो हेमोरेजिक फीवर अफ्रीका, बाल्कन, मिडिल ईस्ट और एशिया की स्थानीय बीमारी है।

50 डिग्री उत्तरी अक्षांश से नीचे वाले देशों में यह आम है।

इसे भी पढ़ें: 10 लक्षण ल्यूकेमिया के, जिन्हें हम कर देते हैं नज़रअंदाज

इस बीमारी के लक्षण क्या हैं?

कुटकी द्वारा काटे जाने या इस वायरस से संक्रमित जानवर के रक्त या अन्य तरल पदार्थ को छूने के बाद 3 दिन तक का इन्क्यूबेशन पीरियड होता है।

  • इसके बाद, संक्रमित व्यक्ति में थकान, मांसपेशियों में दर्द, सिरदर्द, चक्कर आने, गर्दन में सख्ती और प्रकाश की ओर से संवेदनशीलता की शिकायत देखी जाती है।
  • दूसरे लक्षणों में लीवर और स्प्लीन में सूजन (hepatomegaly), के अलावा लिम्फ नोड्स, हेमरेज, हाई फीवर और भ्रम के लक्षण भी शामिल हैं।

हमने पहले ही बताया है कि क्रिमियन-कांगो हेमोरेजिक फीवर में मृत्यु दर करीब 40% है। बीमारी का शिकार होने के बाद दूसरे हफ़्ते में ही बहुत से रोगी मर जाते हैं, लेकिन जो लोग बेहतर होने के लक्षण दिखाते हैं, वे 9वें दिन से सुधार दिखाने लगते हैं।

दुर्भाग्य से, इस बीमारी के लिए वर्तमान में कोई टीका नहीं है। फिर भी, बहुत कम मामलों में यह बीमारी पूरी तरह से विकसित हो पाती है।

क्या मुझे फिक्रमंद होना चाहिए?

क्रीमियन-कांगो हेमोरेजिक फीवर: लक्षण

संक्षेप में कहें तो नहीं। जैसा कि विशेषज्ञों ने हमें बताया है, क्रिमियन-कांगो हेमोरेजिक बुखार बहुत आसानी से नहीं फैलता है। इसके अलावा स्पेन जैसे देशों में इसे कोई पहली बार नहीं देखा गया है।

  • उदाहरण के लिए, 2011 में इस बीमारी के लिए जिम्मेदार पैथोजेन को स्पेन के कैस्रेस में हिरणों की आबादी में पाया गया था।
  • हमें याद रखना चाहिए कि यह वायरस केवल मनुष्यों में ही पूरी तरह से विकसित हो पाता है, जानवरों में नहीं। इसलिए, हिरण, गाय, सूअर, चूहे जैसे जानवरों में इसके कोई प्रकट लक्षण नहीं दिखते हैं।
  • इसलिए पशुओं के संपर्क में सीधे रहने वाले लोगों में ही इसका जोखिम ज्यादा होता है।
 
  • यह देखते हुए कि फ़ार्म में पशु चिकित्सा से जुड़ी जांच मौजूद रहती है, इस वायरस के दूर तक फैलने की बात बहुत आम नहीं है।

दरअसल हममें से कोई भी पशुओं के शारीरिक स्राव और उनके मल-मूत्र के सीधे संपर्क में नहीं आता। फिर भी हेल्थ प्रोफेशनल और फ़ार्म और कसाईखाने के कामगार निस्संदेह इस बीमारी के जोखिम वाले दायरे में रहते हैं।

मुद्दा यह है कि हमें शांत रहना चाहिए और क्रिमियन-कांगो हेमोरेजिक बुखार के बारे में जानकारी रखनी चाहिये।

इसे भी पढ़ें: 6 संकेत लीवर में सूजन के

यह वायरस स्पेन कैसे पहुंचा?

मैड्रिड के अस्पताल कार्लोस III के मेडिकल प्रोफेशनल, यह वही अस्पताल जो संक्रमित नर्स की देखभाल में हैं, बताते हैं कि वायरस पहले से ही हमारे रोजमर्रा के जोखिम में हैं।

उदाहरण के लिए, इन्टरनेशनल ट्रिप, पशुओं के आयात और वैश्वीकृत दुनिया जिसमें हम रहते हैं, कुल मिलाकर एक ऐसा वातावरण बनाते हैं, जिसमें वायरस रोगाणु आसानी से एक से दूसरे देशों में जा सकते हैं।

हालांकि, चिकित्सा अधिकारी क्रीमियनकांगो हेमोरेजिक बुखार के लिए अच्छी तरह से तैयार रहते हैं।

क्रीमियन-कांगो हेमोरेजिक फीवर: मौजूदा तैयारी

मिसाल के तौर पर, वर्तमान में उन्होंने सभी प्रोटोकॉल का पालन किया है और 190 लोगों को जांच के दायरे में रखा है जिनके संक्रमित रोगी के संपर्क में रहने की संभवना हो सकती हैं।

क्या क्रीमियन-कांगो हेमोरेजिक बुखार का इलाज किया जा सकता है?

हमने शुरुआत में ही बताया, इस वायरस के लिए कोई टीका नहीं है। फिर भी इसका इलाज हो सकता है।

  • डॉक्टर इस संक्रमण के इलाज के लिए रिबावायरिन (ribavirin) का उपयोग कर रहे हैं और इसके नतीजे अब तक संतोषजनक रहे हैं।

अंत में, यह बता देना अहम है कि इस लेख की शुरुआत में जिक्र किये गए रोगी की पिछली बीमारियों के कारण मौजूद कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण भी मृत्यु हुई हो सकती है।

जहां तक ​​हम सबकी बात है, तो आपको शांत, सजग और जानकार रहना चाहिए।

 
  • Whitehouse, C. A. (2004). Crimean-Congo hemorrhagic fever. Antiviral Research. https://doi.org/10.1016/j.antiviral.2004.08.001
  • Leggiadro, R. J. (2017). Autochthonous Crimean-Congo Hemorrhagic Fever in Spain. The Pediatric Infectious Disease Journal. https://doi.org/10.1097/inf.0000000000001737

  • Ergonul, O., Mirazimi, A., & Dimitrov, D. S. (2007). Treatment of Crimean-Congo hemorrhagic fever. In Crimean-Congo Hemorrhagic Fever: A Global Perspective. https://doi.org/10.1007/978-1-4020-6106-6_19

  • Bannister, B. (2010). Viral haemorrhagic fevers imported into non-endemic countries: Risk assessment and management. British Medical Bulletin. https://doi.org/10.1093/bmb/ldq022