फैट बर्न करने वाले खाद्य जो लोकल फैट घटाते हैं

27 नवम्बर, 2018

फैट गलाने वाले ऐसे खाद्य हैं जो लोकल फैट बर्न करने में आपकी सहायता करते हैं। हालांकि शरीर के विशेष क्षेत्रों या अंगों में जमा होने के कारण लोकल फैट को हटा पाना बहुत मुश्किल होता है। लेकिन ऐसे भोजन खाकर आप अपना सामग्रिक फैट मास घटा सकते हैं। इस तरह आप अपने फिगर को बारीक शेप में ढाल सकते हैं।

फैट बर्न करने वाले खाद्य

अक्सर आप नितंबों, जांघों और पेट के आसपास की वसा घटाने की कोशिश करते हैं। इस कोशिश में आप खुद से सवाल करते हैं, क्या फैट बर्न करने वाले खाद्य कुछ कर सकते हैं?

खाद्य जो लोकल फैट घटाते हैं

यह सही है कि फैट गलाने वाले खाद्यों के बारे में ढेरों सूचना पाई गई है। लेकिन असल में वजन कम करने में उनका असर साबित करने वाले प्रमाण नहीं मिले हैं। कुछ लोगों का मानना है, कुछ खाद्य आपके मेटाबोलिज्म को थोड़ा तेज कर सकते हैं। ये खाद्य वजन कम करने में आपकी मदद कर सकते हैं।

फिर भी, उनका असर बहुत ही कम है। सिर्फ उन्हें अपने डाइट में शामिल कर लेने से वजन कम होने के नतीजे दिखाई देना मुमकिन नहीं लगता।  

पेट के आसपास बनने वाला फैट स्वास्थ्य के लिए खतरे पैदा कर सकता है। इससे आर्टरीज ब्लाक होने की संभावना होती है। यह फैट कार्डियक समस्याएँ भी खड़ी कर सकता है। इसलिए पुरुषों की कमर का माप 102 सेंटीमीटर से ज्यादा नहीं होना चाहिए। महिलाओं के लिए यह 88 सेंटीमीटर से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

अपनी डाइट में फैट बर्न करने वाले खाद्य के बेहतर नतीजे पाइए। नीचे दिए गए खाद्यों पर विचार करें।

आपके लिए यह पढ़ना दिलचस्प होगा : जानिए, अदरक का इस्तेमाल करके का पेट की चर्बी कैसे घटायें

लोकल फैट घटाते हैं साइट्रस फल

उदाहरण

  • कम फैट वाले डेयरी प्रोडक्ट : इस ग्रुप में मलाई निकाला गया दूध, दही और लो फैट चीज़ शामिल हैं। इनमें ज्यादा कैल्शियम है जो फैट कोशिकाओं को तोड़ने में मदद करता है।
  • साइट्रिक फल : संतरा, चुकंदर और नीबू जैसे साइट्रिक फलों में विटामिन C का स्तर बहुत ऊँचा होता है। यह फैट को ज्यादा तेजी से प्रोसेस करने और इन्सुलिन रेगुलेट करने में शरीर की मदद करता है। ये यही कारण हैं जिनसे वजन बढ़ता है।
  • खरबूज (Melon) : खरबूज में पोटैशियम की बहुतायत होने के कारण यह फल सोडियम लेवेल को रेगुलेट करता है। इससे फूलने की समस्या से छुटकारा मिलता है।
  • अखरोट (Walnuts) : इसकी खूबी यह है कि इसमें ओमेगा-3 की मौजूदगी ज्यादा है। अखरोट कोर्टिसोल जैसे स्ट्रेस हॉर्मोन को कम करने में मदद करता है।
  • बादाम (Almonds): ये नट्स कैल्शियम, प्रोटीन, फाइबर और ओमेगा-3 से भरपूर हैं। इससे यह ऊर्जा का बढ़िया स्रोत बन जाता है। इसके अलावा, ये शुगर लेवेल नियंत्रित करने और आपका मेटोबोलिज्म बढ़ाने में मदद करते हैं।
  • ओट्स (Oats): ओट्स में फाइबर और प्रोटीन का लेवेल बहुत ज्यादा है जिनसे कोलेस्ट्रॉल लेवेल कम करने में मदद मिलती है। इसी तरह इनमें फैट्स और टॉक्सिन ट्रैप करने वाले पदार्थ ज्यादा हैं। इनकी वजह से वे खून की सफ़ाई करते हैं। इनसे फैट और टॉक्सिन को शरीर से बाहर निकाल फेंकना ज्यादा आसान हो जाता है।
  • सामन मछली(Salmon): इस मछली को खाना इसलिए अच्छा है कि इसमें ओमेगा-3 और प्रोटीन की मात्रा ज्यादा होती है। इनसे अच्छा कोलेस्टरॉल (HDL) बनाने में मदद मिलती है जिससे आपका मेटाबोलिज्म बढ़ जाता है। इसलिए शरीर को पेट का फालतू फैट बर्न करने में मदद होती है। 
  • ऑलिव ऑयल : ऑलिव ऑयल अनसैचुरेटेड फैट से भरपूर होता है जो कि आपके शरीर के लिए अच्छा है। यह आपके शरीर को न्यूट्रिएंट्स को सोखने और कोलेस्टरॉल लेवेल को कम करने में भी मदद करता है।

यह लेख भी पढ़िए : ये 9 खाद्य खाकर प्राकृतिक तरीके से अपनी धमनियों की सफ़ाई करें

जांघों और नितंबों के आसपास फैट गलाने वाले खाद्य

खाद्य जो लोकल फैट घटाते हैं

पेट की तरह जांघों और हिप्स पर जमा फैट को गलाने वाले खाद्य भी हैं। कुछ उदाहरण नीचे दिए गए हैं :

  • साबुत अन्न (Whole grains) : ब्राउन राइस, ओट्स, होल ग्रेन ब्रेड और पास्ता, पॉपकॉर्न।
  • दाल (Legumes) : कुछ बढ़िया उदाहरण हैं मटर, बीन्स और लेन्टिल्स।
  • लीन प्रोटीन (Lean proteins) : स्किनलेस चिकेन, अंडे, लो-फैट डेयरी प्रोडक्ट, व्हाइट फिश, टोफू।
  • फाइबर : सेव, आलू, स्ट्रॉबेरीज़ या ब्रोकली प्रचुर फाइबर वाले खाद्य हैं।

ये सभी खाद्य खाकर अपने स्वास्थ्य में सुधार करें। आपके शरीर के कुछ भागों से फैट बर्न करने के लिए आपका डाइट हरदम संतुलित होना चाहिए। शरीर की कुछ विशेष जगहों से फैट गलाने के लिए नियमित शारीरिक एक्सरसाइज भी एक जरूरी हिस्सा है।

  • Champagne CM, Broyles ST, Moran LD, et al. Dietary intakes associated with successful weight loss and maintenance during the Weight Loss Maintenance trial. J Am Diet Assoc. 2011;111(12):1826–1835. doi:10.1016/j.jada.2011.09.014
  • Roby, F. B. (1962). Effect of exercise on regional subcutaneous fat accumulations. Research Quarterly of the American Association for Health, Physical Education and Recreation. https://doi.org/10.1080/10671188.1962.10613202
  • Aguilar-Salinas, C. A. (2007). Mesa redonda XXV. Adiposidad abdominal como factor de riesgo para enfermedades crónicas. Salud pública de México49, 311-316.
  • Bouza, A., Bellido, D., Rodríguez, B., Pita, S., & Carreira, J. (2008). Estimacíon de la grasa abdominal visceral y subcutánea en pacientes obesos a través de ecuaciones de regressíon antropométricas. Rev Esp Obes6(3), 153-62.
  • Pérez Miguelsanz, M., Cabrera Parra, W., Varela Moreiras, G., & Garaulet, M. (2010). Distribución regional de la grasa corporal: Uso de técnicas de imagen como herramienta de diagnóstico nutricional. Nutrición Hospitalaria25(2), 207-223.
  • Blaak, E. (2001). Gender differences in fat metabolism. Current Opinion in Clinical Nutrition and Metabolic Care. https://doi.org/10.1097/00075197-200111000-00006