बच्चों में टेम्पर टैंट्रम रोकने के लिए पाँच सुझाव

जून 14, 2019
टेम्पर टैंट्रम बच्चों के भावनात्मक विकास का हिस्सा हैं। वे इसलिए आते हैं कि बच्चे भावनाओं को महसूस करना शुरू करते हैं जबकि उन्हें न तो जानते हैं और न ही उन पर नियंत्रण कर सकते हैं। वैसे आप अपने बच्चों को उन हालात्व से बचने में मदद कर सकते हैं जो इन्हें ट्रिगर करती हैं।

2 से 5 साल की उम्र तक किसी भी बच्चे को गुस्सा आ सकता है। क्रोध और हताशा के उन क्षणों में माता-पिता दोषी महसूस करते हैं। हालाँकि टेम्पर टैंट्रम को रोकने में बच्चों की मदद की जा सकती है।

आदर्श रूप से आपको उन स्थितियों से बचना चाहिए जो इन भावनाओं ​​को ट्रिगर करती हैं। कभी-कभी यह आपके लिए कारगर हो सकता है, और कभी ऐसा नहीं भी होगा। किसी भी स्थिति में, निराश न हों। शांत रहना ही सही स्ट्रेट्जी है।

बच्चों में टेम्पर टैंट्रम रोकने के लिए पाँच सुझाव

बच्चों में टेम्पर टैंट्रम

मूड से जुड़े नखरे बच्चों के भावनात्मक विकास का परिणाम होते हैं। बच्चे गुस्से, हताशा जैसी भावनाओं को महसूस करना, पहचानना और व्यक्त करना शुरू करने लगते हैं। भले ही बाद में जब वे युवा होंगे, उन्हें नियंत्रित करना सीख जायेंगे, लेकिन बहरहाल अभी भी वे यह नहीं जानते हैं कि इन भावनाओं पर काबू कैसे किया जाए।

दो साल की उम्र से बच्चे भी स्वतंत्र महसूस करना शुरू करते हैं। उन्हें एहसास होता है कि वे जो चाहते हैं, हमेशा वह माता-पिता के मुताबिक़ नहीं होता। टेम्पर टैंट्रम इसलिए उठते हैं क्योंकि बच्चे अपने भीतर नई-नई पैदा हुई “इच्छाशक्ति या विल” को थोपना चाहते हैं और अपने माता-पिता को टेस्ट करना चाहते हैं।

आपको यह भी समझना होगा कि ये नखरे कुछ बच्चों में दूसरों के मुकाबले ज्यादा होते हैं। हर बच्चे का अपना स्वभाव होता है, जो बताता है कि वे जि भावनाओं को महसूस करते हैं उन पर प्रतिक्रिया कैसे देते हैं। यहां तक ​​कि जो भाई-बहन इकट्ठे पाले जाते हैं, उनमें अलग-अलग तरह के टेम्पर टैंट्रम हो सकते हैं।

बच्चों में टेम्पर टैंट्रम : डराने-धमकाने

बच्चों में टेम्पर टैंट्रम रोकने के लिए यहां पांच बुनियादी सुझाव दिए गए हैं। हम आशा करते हैं, इससे पहले कि आपका बच्चा अपनी भावनाओं में बहने लगे आप उन पर अमल कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: भावनात्मक रूप से ज़ख्मी उस बच्चे के लिए एक पत्र जो जताता है कि सबकुछ ठीक है

1. अनावश्यक डराने-धमकाने से बचें

कुछ बातें हैं जिन्हें आपके बच्चे को “करना है” या “नहीं करना है।” लेकिन यह मूल्यांकन करें कि किसी विशेष वक्त में इन्हें करना ज़रूरी है या नहीं। हो सकता है, आप उन्हें कुछ मिनटों के लिए “अपने मनचाही चीज” के लिए छोड़ दें और फिर उनसे वह करने के लिए कहें जो आप चाहते हैं।

उदाहरण के लिए, सर्दियों में आपके बच्चे को जैकेट या कोट पहनना चाहिए। बच्चा मना कर सकता है। अगर आप कुछ मिनट इंतजार कर सकते हैं, जब बच्चा खुद उसे पहन लेगा, तो फिर इसी वक्त ऐसा करने के लिए अनावश्यक दबाव क्यों डालें?

जब आप उन्हें दीवार से टिका देते हैं, तो वे विस्फोटक हो जाते हैं क्योंकि उनके पास कोई दूसरा विकल्प नहीं होता। उन्हें “कोट” पहनने का फैसला करने का वक्त दें। फिर जब वे वास्तव में सर्दी महसूस करना शुरू करते हैं, कोट पहने लेंगे।

2. हताश करने वाले हालात को पहले से पहचानें

यदि बच्चे के साथ आपको लंबा दिन बिताना है, तो खुद को तैयार करें। अपने साथ कुछ खिलौने, पानी और स्नैक्स ले जाएं। बोरिंग एक्टिविटी से भरा दिन टेम्पर टैंट्रम का कारण बन सकता है।

यदि वे कुछ ऐसा कर रहे हैं, जो उन्हें पसंद है, जैसे कि पार्क में खेलना, और घर लौटने का वक्त हो चला है, तो इसके बारे में उन्हें पहले से बताएं कि आपको अब जल्द ही पार्क से लौटना होगा।उन्हें हैरान करते हुए अचानक खेल छोड़कर जाने से बचें।

बच्चों में टेम्पर टैंट्रम : हर वक्त रोक-टोक

कभी-कभी हम टेम्पर टैंट्रम का कारण बनते हैं क्योंकि हम बच्चों को अनावश्यक स्ट्रेस में डालते हैं, ऐसी स्थितियों में जिन्हें वे अभी समझ नहीं पाते या नापसंद करते हैं। कुछ पैरेंट अपनी यह गलती उस वक्त महसूस हैं जब बच्चे टेम्पर टैंट्रम की स्थिति में घुस चुके होते हैं।

3. “नहीं” शब्द से हमेशा सावधान रहें

“नहीं” शब्द का पैरेंट की ओर से लगातार उपयोग कई बार टेम्पर टैंट्रम का कारण बनता है। माता-पिता के इनकार के कारण बच्चों में विद्रोह पैदा होता है। इस पर गहराई से सोचें कि कब आप “हाँ” कह सकते हैं, और कब “नहीं” कहने के बजाय एक विकल्प पेश कर सकते हैं।

ऐसी स्थितियाँ होती हैं जहाँ आपको सीधे “नहीं” कहना होगा। मसलन अगर बच्चा एक मेटल की चीज को इलेक्ट्रिक आउटलेट में डाल रहा तो आपको तुरंत “नहीं” कहना होगा।

हालांकि सभी स्थितियां इतनी चरम या खतरनाक नहीं होती हैं। उन स्थितियों का आकलन करें जब आप उनकी इच्छाओं को मंजूरी दे सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : गौर कीजिये: ये लक्षण आपके बच्चे को पढ़ाई-लिखाई में हो रही मुश्किलों के संकेत हो सकते हैं

4. स्पष्ट और उचित सीमाएँ तय करें

बच्चे में नखरे पैदा होने से बहुत पहले, आपको उन सीमाओं को तय कर लेना होगा, जिनका बच्चों को सम्मान करना चाहिए और उन्हें उनके साथ एडजस्ट करना सीखना चाहिए।

जहाँ आप बच्चे द्वारा किए जाने वाले सभी कामों को कंट्रोल नहीं कर सकते, क्योंकि ज्यादा रोक-टोक उनके प्रयोग करने की स्वतंत्रत इच्छा में रुकावट डालता है, वहीं आप उन्हें बहुत अधिक आज़ाद भी नहीं छोड़ सकते। बच्चों को पता होना चाहिए कि ऐसी सीमाएँ हैं जिन्हें उन्हें पार नहीं करना चाहिए और यदि वे ऐसा करते हैं, तो नतीजे क्या होंगे।

5. उनकी शारीरिक असुविधा दूर करें

हालांकि टेम्पर टैंट्रम भावनात्मक असंतुलन हैं, लेकिन इसका कारण शारीरिक बीमारियाँ भी हो सकती हैं। एक बच्चा जिसका लांच टाइम या सोने का वक्त गुजर चुका है, उसमें गुस्सा भर सकता है क्योंकि वह नहीं जानता कि इस शारीरिक परेशानी से कैसे पेश आना है।

टेम्पर टैंट्रम से बच सकते हैं

इसलिए रूटीन आपकी सहयोगी है। उनके दोपहर के सोने, भोजन, नाश्ते और बाथरूम शेड्यूल का ध्यान रखें। यह नियमितता आपके बच्चे को सुरक्षित महसूस कराती है और उन्हें संतुष्टि देती है। इस तरह आप इन कारणों से पैदा होने वाले टेम्पर टैंट्रम से बच सकते हैं।

जब एक टैंट्रम शुरू होता है

इन सभी सलाहों पर अमल करने के बावजूद टेम्पर टैंट्रम पैदा हो सकता है। ऐसे में पहली चीज जो आपको करनी चाहिए वह है शांत रहना। परेशान होने से हालात खराब होंगे।

अक्सर उन भावनाओं के कारण बच्चे खुर हैरान होते हैं। यह सुनिश्चित करना अहम है कि वे टेम्पर टैंट्रम के दौरान खुद को या दूसरों को चोट न पहुँचाएँ। बच्चे को शांत करने के लिए आपकी मदद चाहिए।

धीरे-धीरे और बहुत धीमी आवाज में बोलें। उन्हें समझाएं कि उनके साथ क्या हो रहा है, आपकी स्थिति क्या है। उन्हें शांत होने के लिए कहें। जो कुछ वे मांग रहे हैं उन्हें देने से बचें क्योंकि इससे उन्हें गलत मैसेज मिलेगा, वे जो चाहें गुस्सा करके उसे पा सकते हैं।

यदि आप किसी पब्लिक प्लेस पर हैं, तो शायद कोई आपको अपने बच्चे को नजरअंदाज करने या यहां तक ​​कि उन्हें सजा देने के लिए भी कहे। हालाँकि, हम कहेंगे कि आपको उन सलाहों पर ध्यान नहीं देना चाहिए क्योंकि ये टेम्पर टैंट्रम भावनाओं के अतिरेक से होते हैं।

बच्चे को टैंट्रम के बीच नजरअंदाज करना या उनकी पिटाई करना कोई सकरात्मक नतीजा नहीं देगा। ऐसा करके आप उन्हें केवल अपनी भावनाओं को दबाना सिखायेंगे जिसके हमेशा ही गंभीर परिणाम होते हैं।

आपके बच्चे को शांत होने के लिए आपकी ज़रूरत है, इसलिए उन्हें अपने प्यार से वंचित न करें।

  • Eresmama.com Establecer límites en la educación de los niños [Online] Available at: eresmama.com/establecer-limites-la-educacion-los-ninos/