ज्यादा नमक या चीनी: आपकी सेहत के लिए कौन ज्यादा खतरनाक है?

07 फ़रवरी, 2020
नमक और चीनी का ज्यादा सेवन कई क्रोनिक बीमारियों के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है। हालांकि, कुछ लोग जानना चाहते हैं ज्यादा नमक या चीनी, कौन सा ज्यादा नुकसानदेह है। इस आर्टिकल में इसका जवाब पायें!
 

हाल के सालों में डॉक्टरों ने नमक और चीनी के ज्यादा उपयोग को कई तरह की बीमारियों से जोड़ा है। दरअसल आज सामान्य सेहत की तंदरुस्ती के लिए एक्सपर्ट इनका कम सेवन करने की सलाह देते हैं। हालांकि कुछ लोग अभी भी जानना चाहते हैं, इनमें कौन सा ज्यादा बदतर है, ज्यादा चीनी या ज्यादा नमक।

लंबे समय से लोग नमकीन खाने और फैट को बड़ी संख्या में बीमारियों के लिए जिम्मेदार मानते थे। हालांकि जैसे-जैसे विज्ञान और फ़ूड स्टडी  ने तरक्की की है, इनमें से कई विचार गलत साबित हुए हैं।

आजकल डॉक्टर कई जटिल बीमारियों को ज्यादा शुगर खाने से जोड़ते हैं। तो इनमें ज्यादा नुकसानदेह कौन सा है? नीचे हम इस मुद्दे पर ब्यौरेवार चर्चा करेंगे।

ज्यादा नमक या चीनी: आपकी सेहत के लिए कौन ज्यादा खतरनाक है?

नमक

नमक एथेरोस्क्लेरोसिस और हाई ब्लड प्रेशर से जुड़ा हुआ है। सच्चाई यह है कि ‘द अमेरिकन जर्नल ऑफ मेडिसिन‘ की ओर से प्रकाशित एक स्टडी समेत कुछ नए लेख इस रिश्ते पर सवाल उठाते हैं।

नमक जीवन में नर्व सिग्नल के ट्रांसपोर्ट के लिए एक ज़रूरी तत्त्व है। मनुष्यों को कम से कम नमक का सेवन करना चाहिए ताकि शरीर अपने अहम कामकाज ठीक से कर सके।

इसके अलावा शरीर इसे अपने भीतर नहीं पैदा कर पाता है। आपको अपनी डाइट के जरिये ही इसे लेना होगा। इस मामले में शरीर में इसकी कमी कई जटिलतायें पैदा कर सकती है, जिनमें से कुछ थायरॉयड ग्लैंड और इसमें गड़बड़ी से जुड़ी हैं।

पहले जो समस्याएं नमक खाने से जुड़ी मानी जाती थीं, वे अब अनहेल्दी लाइफस्टाइल से जुड़ी हैं। मोटापा, सुस्त जीवनशैली और हाई कैलोरी डाइट एथेरोस्क्लेरोसिस के रिस्क फैक्टर हैं। इसके अलावा यह ब्लड प्रेशर में बदलाव ला सकता है।

नमक के अत्यधिक सेवन से बचना जहाँ ज़रूरी है, वहीं इसे कम मात्रा में पर खाना भी ज़रूरी है जिससे शरीर कुछ महत्वपूर्ण कार्यों को ठीक से कर सके।

 

इसे भी पढ़ें : हाई ब्लड प्रेशर को कम करने वाले अन्न, फल और सब्जियां

चीनी

यह फ़ूड इंडस्ट्री की पसंदीदा सामग्री में से एक है। अपने स्वाद और टेक्सचर के कारण अधिकांश प्रोसेस्ड फ़ूड में यह होता है। WHO चीनी की न्यूनतमज़रूरी मात्रा तो तय नहीं करता लेकिन यह अधिकतम मात्रा के बारे में निर्देश ज़रूर देता है

चीनी ज्यादातर ग्लूकोज से बनी है, जो जीवन और एनर्जी मेटाबोलिज्म के लिए एक ज़रूरी तत्व है। हालांकि यह एक ऐसा पोषक तत्व है जिसे  शरीर प्रोटीन और फैटी एसिड से हुड बना सकता है। इसलिए यह निहायत ज़रूरी चीज नहीं है।

वैसे भले खेल-कूद की गतिविधियों में इसकी जरूरतें बदलती हैं, फिर भी हमारी आबादी में चीनी सेवन ज़रूरी मात्रा से बहुत ज्यादा है

यह ज्ययादा मात्रा मोटापे अतिरिक्त वजन और मोटापे की बढ़ती संभावनाओं से जुड़ी है। यह डायबिटीज और कुछ कैंसर जैसी कई जटिल बीमारियों के लिए भी एक स्पष्ट रिस्क फैक्टर है, जैसा कि PLOS One जर्नल में प्रकाशित एक स्टडी ने नोट किया है

दोनों में कौन ज्यादा नुकसानदेह है?

निश्चित रूप से चीनी का सेवन ज्यादा खतरनाक है। क्योंकि यह कोई एसेंशियल न्यूट्रीएंट तो है। इसका सेवन कई बीमारियों से जुड़ा है। सिर्फ स्पोर्ट्स करने पर ही यह ज़रूरी तत्व बन जाता है, लेकिन नमक भी इन मामलों में एक एसेंशियल न्यूट्रीएंट है।

चीनी का सेवन कम करना, या यहाँ तक कि इसे अपनी डाइट से पूरी तरह से हटा देना सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद है। सबसे पहले तो इससे डायबिटीज का खतरा टल सकता है।

इसके अलावा यह मोटापे की रेट घटाएगा। नतीजतन इसे जुड़ी कई समस्याएं, जैसे कि कार्डियोवैस्कुलर प्रॉब्लम नहीं होंगी। यह कुछ पाचन तंत्र सेजुड़े कैंसर को भी कम करेगा।

एक्सपर्ट क्रोनिक बीमारियों के बढ़ते जोखिम के साथ हाई शुगर को जोड़ते हैं। यह नमक से भी बदतर है क्योंकि यह ज़रूरी नहीं है और इसे अपनी डाइट से हटाना आपको कई तरह से फायदा पहुंचा सकता है।

यहाँ और अधिक जानें: 5 नेचुरल जूस जो ब्लड शुगर कंट्रोल करने में हैं मददगार

चीनी का सेवन कैसे घटाएं

चीनी का सेवन कैसे घटाएं
 

जब आप अपने चीनी कम करने की कोशिश करते हैं, तो मुख्य समस्या यह हो सकती है कि आपकी थाली इसकी आदी होती है। सबसे अच्छी बात यह है कि शुगर प्रोसेस्ड प्रोडक्ट की जगह उनके शुगर-फ्री वर्जन का इस्तेमाल किया जाए

फिर स्वीटनर के रूप में चीनी का उपयोग किए बिना उन्हें घर पर बनाना शुरू करना एक बढ़िया विकल्प हो सकता है। फलों का उपयोग करना खाने को मीठा बनाने का एक शानदार तरीका है।

शुरुआत में यह आपके लिए वाकई मुश्किल होगा। हालांकि आखिरकार इंडस्ट्रियल प्रोडक्ट इस्तेमाल करने की आपकी ज़रूरत ख़त्म हो जाएगी और आप बेहतर हेल्थ का मजा लेंगे।

जो भी हो इस बारे में बहस के बाद कि ज्यादा चीनी या ज्यादा नमक में कौन ज्यादा नुकसानदेह है, सच्चाई यह है कि आपको किसी भी खाने को ज्यादा मात्रा में नहीं खाना चाहिए। सबसे अच्छी बात जो आप कर सकते हैं, वह है सभी खाद्यों को संयमित मात्रा में खाए। इसलिए एक लचीला डाइट संतुलित मात्रा में चीनी और नमक का सेवन करने की सहूलियत देती है।

  • Frisoli TM., Schmieder RE., Grodzicki T., Messerli FH., Salt and hypertension: is salt dietary reduction worth the effort? Am J Med, 2012. 125 (5): 433-9.
  • Fuchs MA., Sato K., Niedzwiecki D., Ye X., Saltz LB., Mayer RJ., Mowat RB., Whittom R., Hantel A., Benson A., Atienza D., et al., Sugar-sweetened beverage intake and cáncer recurrence and survival in CALGB 89803 (Alliance). PLos One, 2014. 9 (6).
  • Gupta L, Khandelwal D, Dutta D, Kalra S, Lal PR, Gupta Y. The Twin White Herrings: Salt and Sugar. Indian J Endocrinol Metab. 2018;22(4):542–551. doi:10.4103/ijem.IJEM_117_18
  • Wada J. Salt and sugar: Bad company. J Diabetes Investig. 2017;8(1):32–33. doi:10.1111/jdi.12553