कपल में एक जैसी सोच उतनी महत्वपूर्ण नहीं जितना कि एक अच्छी टीम होना

24 अक्टूबर, 2018
एक अच्छी जोड़ी को एक-दूसरे का पूरक होना चाहिए। हो सकता है कि आपकी पसंद-नापसंद एक जैसी न हों, कुछ बातों को लेकर आपका नज़रिया भी अलग हो सकता है। बावजूद इसके, एक अच्छी टीम बनाने के लिए आपको कई बार झुकना पड़ता है, सामने वाले की बात माननी पड़ती है।

कई बार देखने को मिलता है, कुछ लोग अपने जीवनसाथी की खोज में पूरी ज़िंदगी बिता देते हैं। उन्हें एक ऐसे इंसान की तलाश होती है जिसकी पसंद-नापसंद, शौक और आदतें ठीक उसके जैसी हों। दूसरी ओर, व्यावहारिक जीवन में एक जैसा होना नहीं बल्कि एक अच्छी टीम होना ज़्यादा महत्वपूर्ण होता है।

इस बात से फ़र्क नहीं पड़ता कि जब आप डिनर करने बाहर जाते हैं तो आपका पार्टनर घर पर रहना पसंद करता है। या आपको खेलना पसंद है लेकिन आपके पार्टनर को रोमांटिक फिल्में देखना अच्छा लगता है।

सबसे अहम बात है, आप एक-दूसरे का सम्मान करें। ज़रूरत पड़ने पर तालमेल बैठाना सीखें और एक-दूसरे से सीखते हुए एक अच्छी टीम बनें।

एक अच्छे कपल का अर्थ यह कतई नहीं है कि आपको हर बार 100% सहमत होना है या फिर दोनों का सोचने और समझने का नज़रिया एक जैसा हो।

अच्छे कपल का अर्थ है, आप दोनों अपने विरोधाभासी व्यक्तित्वों के बावजूद ऐसा मजबूत रिश्ता बनाएं जो ख़ुशहाल और टिकाऊ हो।

आज हम आपको बताएंगे, एक अच्छी, बल्कि सबसे अच्छी टीम बनाने में किन बातों की मुख्य भूमिका होती है।

मतभेदों के बावजूद हम हैं अच्छी टीम

आप सिर्फ़ इसलिए निराश नहीं हो सकते कि आप दोनों एक ही चीज पसंद नहीं करते, दोनों को एक जैसी किताबें, फिल्में या खानपान पसंद नहीं है।

आपको चिंता तो तब होनी चाहिए जब आप किसी मुद्दे पर सहमत ही न हो सकें। जब आप खुद को दूसरे की जगह रखकर उसकी भावनाएं न समझ पाएं, जब आप केवल अपनी राय और फैसले थोपने पर उतारू हो जाएं।

आइए, इस बारे में विस्तार से जानते हैं।

आपके संस्कार निभाते हैं सबसे महत्वपूर्ण भूमिका

एक अच्छी टीम में आपके राजनीतिक विचार अलग-अलग हो सकते हैं। आपका व्यक्तित्व भी अलग-अलग हो सकता है। अंतर्मुखी स्वभाव के लोग बहिर्मुखी व्यक्तित्व वालों के अच्छे जोड़ीदार बन सकते हैं और इसका उलटा भी हो सकता है।

इन सबके बीच, जिस एक पहलू पर आप दोनों को सामंजस्य बैठाने का तरीका अवश्य ढूंढ़ना चाहिए वह है आपके संस्कार

  • संस्कारों के कारण ही आप दोनों की आपके रिश्ते में प्यार या परिवार की अहमियत को लेकर एक जैसी सोच होती है।
  • एक जैसे संस्कार आपकी अापसी मतभेद समझने और उनका सम्मान करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, आप अपने पार्टनर का अलग नज़रिया भी समझते हैं, उसकी बात पर ध्यान देते हैं और उससे सीखते हैं।

अलग सोच ग़लत नहीं, यह बात समझें

रुचियां भी अलग-अलग हो सकती हैं। अगर आपके पार्टनर को बिल्ली से प्यार है और आपको कुत्ते पसंद हैं तो इसका यह मतलब नहीं है कि वह आपसे कम प्यार करता है। अगर वह शाकाहारी है और आप नहीं हैं, तो यह न सोचें कि वह आपसे नफ़रत करने लगेगा।

  • अलग सोच का यह अर्थ बिल्कुल नहीं है कि आपका एक-दूजे के प्रति प्यार घट जाएगा। इसका मतलब तो यह है कि आप एक-दूसरे का सम्मान करते हैं और स्वतंत्रता देते हैं। यानी आपको अपनी तरह ज़िंदगी जीने का पूरा मौका मिलता है।
  • एक बात आपको हमेशा ध्यना रखनी चाहिए। आपके पार्टनर को कभी यह अधिकार नहीं है कि वह आपके सोचने का तरीका बदले या अपनी पसंद-नापसंद, शौक और आदर्श आप पर थोपे।
  • इसका कारण स्पष्ट है, एक टीम बनाने के लिए प्रत्येक सदस्य के लिए यह समझना ज़रूरी है कि बिना सम्मान कोई जोड़ी नहीं बन सकती है। एक-दूसरे की भिन्नताओं को समझे बिना जुड़ाव संभव नहीं है।

इसे भी पढ़ें: दूसरों से बहुत उम्मीद रखने से बचने के 4 सबक

मतभेद बनाते हैं आपका जीवन समृद्ध

  • आपकी पेशेवर जिंदगी का एक अलग दायरा होता है। घर के बाहर आप अलग परिस्थितियों में अपना दिन बिताते हैं। जब आप सभी बातों को भूलकर अपने मूल व्यक्तित्व में घर पहुंचते हैं तो माहौल ख़ुशनुमा हो जाता है। इस समय घर में दो ऐसे इंसान होते हैं जो एक-दूसरे से प्यार करते हैं।
  • आपके बीच मतभेद हैं, आप अलग-अलग रास्तों पर चलते हैं। फिर भी, घर आकर आप अपने पार्टनर को यह बताते हैं कि आपका दिन कैसे बीता। आप एक-दूसरे से सीखते हैं, नज़रिया समझते हैं।
  • इस बात से फ़र्क नहीं पड़ता कि कुछ बातों पर आप कभी एकमत नहीं होते हैं। हो सकता है, आपका पार्टनर आपकी बात न माने और कहीं शहर से दूर घर खरीद ले और वह आपके साथ हर वीकेंड पर बाहर घूमने जाए।

तालमेल कैसे बैठाएं, यह आप जानते हैं

एक अच्छी टीम बनाने के लिए आपको तालमेल कायम करना आना चाहिए। अपने साझा लक्ष्यों को हासिल करने के लिए परस्पर प्रभावशाली संवाद कैसे किया जाए, यह जानना भी आपके लिए महत्वपूर्ण है।

अपने पार्टनर की बात सम्मान और दिलचस्पी से सुनें: केवल जवाब देने के लिए नहीं बल्कि अच्छी तरह समझने के लिए सुनें।

  • सामने वाले व्यक्ति के विचार को समझें। कुछ बातों पर हम सभी का अलग मत होता है, लेकिन आपको हमदर्दी दिखानी चाहिए। ख़ुद को अपने पार्टनर के स्थान पर रखकर यह समझने की कोशिश करें कि वह क्या अनुभव करता है। वह जो कर रहा है, उस पर इतना अडिग क्यों हैं।
  • बात मान लेने का अर्थ हारना नहीं है; इसका मतलब है, आप नई संभावनाएं आज़मा रहे हैं। एक अच्छी टीम बनाने के लिए आपको एक बात स्पष्ट रूप से समझनी चाहिएः जोड़ी में न तो कोई हारता है और न जीतता है।
  • एक कामयाब ज़िंदगी के लिए आपको हर कदम पर कुछ न कुछ त्याग भी करना पड़ सकता है।
  • इस तरह, आप रोज़ाना कदम से कदम मिलाकर नहीं चलते। कई बार आप थोड़ा झुकते हैं तो ऐसी नई बातों के बारें में पता चलता है जिनके बारे में आपने कभी सोचा तक न था। ये बातें आप दोनों का जीवन समृद्ध बनाती हैं।

एक बात हमेशा ध्यान में रखनी चाहिए। सबसे अच्छे जोड़े में गहरा आत्मीय संबंध होता है। उनके संस्कार एक जैसे होते हैं। एक अच्छी टीम होने के नाते वे अापसी मतभेद बातचीत से सम्मानपूर्वक दूर करते हैं।