डिनर जल्दी खाना वजन घटाने और डायबिटीज रोकने में मददगार है

30 नवम्बर, 2020
डिनर जल्दी खाना हमारे बायोलॉजिकल क्लॉक के अनुकूल है जो डायबिटीज जैसे मेटाबोलिक रोगों की रोकथाम में पॉजिटिव असर डाल सकता है। हम आपको इस आर्टिकल में और जानकारी देंगे।

क्या आपने कभी सुना है कि जल्दी डिनर करने से डायबिटीज को रोकने और वजन घटाने में मदद मिल सकती है? कुछ लोग सोचते हैं कि रात का खाना जल्दी खाना उन एक्स्ट्रा पाउंड को खोने का दुश्मन होता है, पर सच्चाई यह है कि अक्सर समस्या यह नहीं होती कि आप क्या खाते हैं, बल्कि यह कि आप कितनी मात्रा ,एम् खा रहे हैं और किस वक्त खाते हैं।

स्वस्थ खानपान के दायरे में न्यूट्रिशनिस्ट रोजाना चार मुख्य भोजन खाने की सलाह देते हैं। वे यह भी सुझाव देते हैं कि डिनर जल्दी खा लेना या कम से कम खाने के तुरंत बाद बिस्तर पर न जाना एक अच्छा आईडिया है।

अपनी बायोलॉजिकल क्लॉक के अनुसार खाना खाना


खाने की आदतें और फिजिकल एक्टिविटी लेवल सीधे वजन और मेटाबोलिक रोगों के विकास या रोकथाम से जुड़े हैं। हालांकि डाइट पैटर्न के अलावा, हमारे भोजन का उनसे क्या सम्बन्ध है और साइंस उनके बारे में क्या कहता है?

लंबे समय से वैज्ञानिकों ने जाना है कि मानव शरीर एक बायोलॉजिकल क्लॉक के अनुसार काम करता है जो दिन के घंटों के आधार पर नींद-जागने के चक्र को रेगुलेट करता है। दरअसल एक्सपर्ट ने तय किया है कि केवल एक ही नहीं है, बल्कि विभिन्न अंगों से उनका सम्बन्ध है।

इस खोज के आधार पर विशेषज्ञों ने माना कि हमारा मेटाबोलिज्म एक रिद्म का पालन करता है। इसका मतलब है कि एंजाइमेटिक और पाचन तंत्र दिन के निश्चित समय पर भोजन खाने के लिए तैयार होते हैं। तो आदर्श रूप से खाने और सोने के पैटर्न को भी इस लय पर आधारित होना चाहिए।

यही कारण है कि एक्सपर्ट का मानना ​​है कि जल्दी डिनर खाना डायबिटीज को रोकने और सही वजन बनाए रखने में मदद कर सकता है, साथ ही मोटापे को भी रोक सकता है।

इसे भी पढ़ें : 4 ब्रोकली रेसिपी : हल्के डिनर के लिए

जल्दी डिनर खाने से डायबिटीज और मोटापे को रोकने में मदद मिल सकती है

रात का खाना जल्दी खाने से स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं, जैसे कि डायबिटीज और मोटापे के विकास को रोकने में मदद मिल सकती है, साथ ही वजन बढ़ने से भी रोका जा सकता है।

कुछ स्टडी से पता चलता है कि जो लोग सोने से तुरंत पहले डिनर खाते हैं, उनमें मेटाबॉलिक सिंड्रोम विकसित होने की संभावना ज्यादा होती है, जैसे कि पिछले भाग में बताई गई बीमारियाँ।

न्यूट्रिएंट्स मैगज़ीन में प्रकाशित कुछ स्टडी में तीन मुख्य भोजन और एक स्नैक्स का प्रभाव युवा वयस्कों के दो ग्रुपों में की गई थी। इन रेसिपी को पहले ग्रुप में दिन में और दूसरे में रात में दिया गया। यह पाया गया कि खासतौर पर रात में खाना खाने वालों में विशेष रूप से इंसुलिन रेजिस्टेंस के इंडिकेटर विकसित हो गए, जो कि डायबिटीज विकसित होने का खतरे का संकेत है।

छात्रों के एक समूह के साथ किए गए अध्ययनों से भी वही नतीजे पाए गए। एक ओर इनमें से आधे प्रतिभागियों को दिन की लाइफस्टाइल में रखा गया जिसमें दिन के समय खाना और डिनर जहां तक मुमकिन हो जल्दी खाना शामिल था। दूसरी ओर एक बराबर के ग्रुप में रात का डिनर शामिल था।

पहले ग्रुप में उन लोगों ने ग्लूकोज लेवल नार्मल देखा गया। इसके अलावा, उनके लेप्टिन और इंसुलिन हार्मोन भी सामान्य थे जो कि लिपिड और कार्बोहाइड्रेट मेटाबोलिज्म के लिए जिम्मेदार हैं। ये युवा वयस्क फाइट को बेहतर ढंग से जलाने में सक्षम थे और डायबिटीज से पीड़ित होने का कम जोखिम था।

इसलिए यही वह चीज है जिसकी ओर इशारा करते हुए न्यूट्रिशनिस्ट जल्पेदी खाने के लिए सलाह देते हैं। जब भी संभव हो, हमें बिस्तर पर जाने से कम से कम दो घंटे पहले खाना खाना चाहिए।

इस पर एक नज़र डालें: वजन घटाने के लिए डिनर में करें 5 आसान बदलाव

जल्दी डिनर खाने के अलावा आपको हमेशा नाश्ता करना चाहिए

ऐसा नहीं है कि हमारा शरीर रात में पोषक तत्वों को पचाने में सक्षम नहीं है, लेकिन यह दिन में करता है। यह बस जीवन का एक तथ्य है कि हमारी बायोलॉजिकल क्लॉक एक निश्चित तरीके से काम करती है। इसमें शामिल है नियमित वक्त पर भोजन खाना और किसी भी वक्त उसे मिस नहीं करना।

इसी विषय पर “फ़ूड ऐट नाईट एज ओबेसिटी इंड्युसिंग फैक्टर” नाम के लेख में रिसर्चरों ने पाया कि पहले भोजन के बाद चूहों ने अपने डेली रिदम को फिर से शुरू किया था। इसने उन्हें उस जानकारी के साथ बांधे रखा जो उनका बायोलॉजिकल क्लॉक दिन भर भेजता रहा।

इसके विपरीत जिन्होंने नाश्ता नहीं किया था उनमें दूसरे ग्रुप के मुकाबले मेटाबोलिक साइकल देर से शुरू होता था। इसके अलावा, उन्होंने अंदरूनी समकालिकता खो दी और इसलिए रात की शुरुआत में उनके शरीर के संकेत भी बदल गए। उनमें लिपिड के अवशोषण में बदलाव और फैटी टिशू के इकठ्ठा होने की संभावना अधिक थी।

हाँ, अर्ली डिनर डायबिटीज को रोकने में मददगार हो सकता है

अर्ली डिनर डायबिटीज

एक्सपर्ट सलाह देते हैं, बिस्तर पर जाने से कम से कम दो घंटे पहले हम डिनर करें। देर रात को भोजन खाना बिल्कुल भी अच्छा विचार नहीं है।

जितना संभव हो उतना सही वजन बनाए रखने के लिए आपको यह समझने की आवश्यकता है कि आपका शरीर कैसे काम करता है, साथ ही सभी भोजन का वक्त ठीक रखना जरूरी है। रात के खाने के मामले में अगर आप सोने से कम से कम दो घंटे पहले इसे खा लें तो शरीर को इसे पचाने के लिए पर्याप्त समय मिल जाता है।

इसी तरह आपको स्वस्थ भोजन को प्राथमिकता देनी चाहिए और अपनी व्यक्तिगत आवश्यकताओं पर विचार करना चाहिए। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप सबकुछ ठीक कर रहे हैं, आपको न्यूट्रिशानिस्ट से सलाह करना चाहिए।

  • Yoshida, J., Eguchi, E., Nagaoka, K., Ito, T., & Ogino, K. (2018). Association of night eating habits with metabolic syndrome and its components: a longitudinal study. BMC Public Health18(1), 1366.
  • Blume, C., Garbazza, C., & Spitschan, M. (2019). Effects of light on human circadian rhythms, sleep and mood. Somnologie, 1-10.
  • Buijsb, R. M., Bautista, E. N. E., Ángeles-Castellanos, M., & Escobar, C. (2020). La comida por la noche como factor inductor de obesidad. Revista mexicana de trastornos alimentarios7(1), 78-83.
  • Lopez-Minguez, J., Gómez-Abellán, P., & Garaulet, M. (2019). Timing of breakfast, lunch, and dinner. Effects on obesity and metabolic risk. Nutrients11(11), 2624.
  • Jain Gupta, N., & Khare, A. (2020). Disruption in daily eating-fasting and activity-rest cycles in Indian adolescents attending school. Plos one15(1), e0227002.