मैं नहीं जानता, मुझे जीवन में क्या करना है: अपना रास्ता तलाश करने की 5 रणनीतियां

15 जनवरी, 2019
अगर आपका रास्ता बहुत साफ़ नहीं है, तो अब खुद इसे बनाने का समय आ गया है। जिंदगी की भूलभुलैया में आसानी से अपना रास्ता खोजने के लिए इन 5 बातों को जानें।

जिंदगी में कुछ ऐसे समय भी आते हैं जब आपको अपना रास्ता खोजने के लिए संघर्ष करना पड़ सकता है।

वह आपका करियर हो सकता है जिसे लेकर आप बहुत निश्चिंत न हों। नौकरी नहीं मिलने का डर और दूसरी अनगिनत समस्यायें हो सकती हैं, जिन्हें सुलझाने के लिए आपके आप-पास का माहौल आप पर दबाव डाल रहा हो

जब कभी आपके साथ ऐसा हो, तो नीचे बताई 5 रणनीतियों को ध्यान में रखें। वे आपको अपना रास्ता खोजने में मदद करेंगी।

मूल बात तो यह है कि अगर आपका रास्ता साफ़ नहीं है, तो यह वक्त खुद इसे बनाने का है।

अपना रास्ता खोजने की 5 रणनीतियाँ

1. अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकलने की कोशिश करें

जहाज को देखते हुए

अगर आप एक ही जगह पर टिके रहते हैं, तो यह वास्तव में रास्ते को खोजने के लिए पहले से कहीं ज्यादा मुश्किल होगा।

जितनी ज्यादा चीजें आप कर सकते हैं – पढना, घूमने जाना, नए दोस्त बनाना या खुद को नये कामों में व्यस्त रखना- उतना अच्छा है

आगे बढ़ते रहें और नई चीजों को आजमाते रहें। यह आपको एक्टिव रखेगा और आपको उस कम्फर्ट ज़ोन से बाहर निकलने में मदद करेगा जिसमें आप ज्यादा सुरक्षित, लेकिन असंतुष्ट महसूस करते हैं।

उन सभी मजबूरियों का फायदा उठाएं, जिन्हें आप खुद को सोफे से उतारने के लिए अपने आस-पास महसूस करते हैं। यह समझें कि आप कितना अधूरा महसूस करते हैं। क्योंकि आप खुद को उस अकेले इंसान की तरह महसूस करते हैं, जो अभी तक अपना रास्ता नहीं खोज पाया है।

इसे भी आजमायें : तेज़ दिमाग पाने के लिए इन 7 टिप्स को आज़माएँ

2. अपने दिल की सुनें

शायद आपके दिमाग में बैठे हुये निराशाजनक ख्याल जो आप पर हमला बोल देते हैं और आपको अपने हालात को लेकर दुश्चिंता में डाल देते हैं, अपने खुद की आवाज सुनने से रोक रहे  हों

कभी-कभी ऐसा करने में आप डर भी सकते हैं, क्योंकि ध्यान से सुनने पर आप वर्तमान में जो कुछ भी कर रहे हैं उसके अच्छे और बुरे दोनों पहलू दिख सकते हैं।

योग करती हुयी लड़की

अगर आप खुद को गुमराह महसूस कर रहे हैं, तो अपने “सिक्स्थ सेंस” का उपयोग करें और अपने अंतर्ज्ञान (intuition) को अपना गाइड बना लें। शायद आप अपना रास्ता इसलिये नहीं ढूंढ़ पाते क्योंकि आप चीजों के बारे में बहुत ज्यादा सोचते हैं।

“इस कैरियर का कोई भविष्य नहीं,” “मुझे कभी कोई नौकरी नहीं मिलेगी” – ऐसे ख्याल बेवजह डर के कारण पैदा हुये हैं और आपको रोक रहे हैं।

अपने को चलते रहने दें और भविष्य का अनुमान न लगाएं। यह आपको आपकी सभी क्षमताओं के बारे में जानने से रोक रहा है।

3. अपनी खामियों को ठीक करने की कोशिश न करें

शायद कई मौकों पर आपने अपना कीमती समय अपनी उन चीजों को ठीक करने में बर्बाद किया हो जिन्हें पसंद नहीं करते हैं या जो आपको असुरक्षित महसूस कराती हैं।

इस मामले में अब रुकने का समय आ गया है। आप अपना कीमती समय बर्बाद कर रहे हैं! इसके बजाय अपनी क्षमताओं और प्रतिभा के तमाम तोहफों को समृद्ध करना शुरू करें।

क्या आपको लगता है, आपके पास ऐसा कुछ नहीं है? आप ऐसा इसलिए सोचते हैं, कि आपने कभी उन पर ध्यान नहीं दिया है।

खुद को कमतर कभी न समझें। इस बात पर ध्यान दें कि आप किन चीजों में अच्छे हैं और कौन सी चीजें आपको सबसे अलग और ख़ास बनाती है। ऐसा तो हो ही नहीं सकता कि आपमें ऐसी कोई बात मौजूद न हो। अगर ऐसा लग रहा है, तो सिर्फ इसलिए कि आप उसे देख नहीं पा रहे हैं।समस्या आपमें नहीं है, आपके देखने में है। नज़रों को विस्तार दीजिये। आपको मिले हुए क्षमताओं के तोहफे जितने भी मामूली क्यों न लगें, आप उन्हें समृद्ध कर सकते हैं, उन्हें बड़ा और महान बना सकते हैं

तो, आज ही क्यों न शुरू करें?

4. आप क्या चाहते हैं, उसके बारे में सोचें

सोचना

यह सुनने में आसान लग सकता है, लेकिन ज्यादातर लोग नहीं जानते कि वे वास्तव में क्या चाहते हैं।

इससे आप गुमराह और उलझन में कैद महसूस कर सकते हैं। आपको पूरा पूरा समय लेना चाहिए। एक बार जब आप उस रास्ते को खोज लेते हैं, जिस पर आपने चलने का फैसला किया है, तो उसके तेज दबाव में खुद को आगे बढ़ने दें।

अगर आपको नहीं पता कि आप क्या चाहते हैं, तो जिस चीज़ को आप पाना चाहते हैं उसकी खोज में निकलना बहुत मुश्किल है। आपके लक्ष्यों को मजबूत होना जरुरी है।

इंतजार करने से आपको तनाव के अलावा कुछ भी नहीं मिलेगा, और न ही यह आपको नेगेटिव सोच से छुटकारा पाने देगा।

“आप क्या चाहते हैं?” इस सवाल का जवाब देने का वक्त आ चुका है। आगे बढ़ना शुरू करें।

इसे बी जानें : जीवन के तीन सच्चे सिद्धांत

5. लक्ष्य रखें चाँद पर, ऊँची उड़ान भरें

बैकपैकिंग

अगर आप छोटे सपने देखते हैं, तो आपके पास जोखिम उठाने और बड़े काम करने के कम ही मौके होते हैं। अगर आप किसी चीज को पसंद करते हैं और किसी खास लक्ष्य को पाना चाहते हैं, तो उसके लिये बड़े सपने देखना कोई गलत तो नहीं

क्या आप एक नौकरी की तलाश में हैं? उसे ढूँढिये जो आपके लिये सबसे अच्छी है, जिसपर आपको गर्व महसूस हो। शॉर्ट सेल न करें।

क्या आप एक करियर बनाना चेहेंगे? तो वह कीजिये जो आपको अपने लिए सबसे अच्छा लगता है। इसलिए नहीं कि कोई और काम नहीं है। बल्कि इसलिए कि आप बहुत कुछ सीखने और आगे बढ़ने वाले हैं।

जब आप बड़े सपने देखते हैं, तो आप अपनी खुद की खुशियाँ ढूंढते हैं। आप प्रचलित रीति के आगे समर्पण नहीं करते, न ही मीडीओकर होने की सोचते हैं। आपमें वह सब पाने की क्षमता है, जो आप चाहते हैं।

अगर अभी तक अपना रास्ता नहीं खोज पाए हैं, तो यह तथ्य शायद नामुंकिन को मुमकिन कर डालने की हिम्मत जुटाने की आपकी अनिच्छा से जुड़ा हो सकता है।

शायद यही वह रास्ता है, जो आपके सफ़र में आने का इन्तजार कर रहा है।

  • Cirera Bianco, J. (2018). La Zona de Confort en Zygmunt Bauman: La Trampa de los Nuevos Medios de Comunicación Digital. Sapienza Organizacional, (9), 55-80.
  • Díaz Duarte, Daymara. (2005). Toma de decisiones: el imperativo diario de la vida en la organización moderna. ACIMED13(3), 1. Recuperado en 04 de febrero de 2019, de http://scielo.sld.cu/scielo.php?script=sci_arttext&;pid=S1024-94352005000300010&lng=es&tlng=es.
  • MOLINA, HENRY. (2000). ESTABLECIMIENTO DE METAS, COMPORTAMIENTO Y DESEMPEÑO. Estudios Gerenciales16(75), 23-33. Retrieved February 04, 2019, from http://www.scielo.org.co/scielo.php?script=sci_arttext&;pid=S0123-59232000000200002&lng=en&tlng=es.