त्वचा के दाग-धब्बे मिटाने के लिए शानदार एस्पिरिन-दही फेस मास्क

फ़रवरी 7, 2019
इस मास्क में मौजूद सामग्रियाँ बहुत ही असरदार हैं। लेकिन उनके नेचुरल होने के कारण आपको नतीजे पाने में थोड़ा ज्यादा वक्त लग सकता है। इसके साथ-साथ संतुलित डाइट लें और धूप से बचाव करें। नतीजे आपको हैरान कर देंगे।

पराबैगनी किरणें (UV rays) और हार्मोन में परिवर्तन – चेहरे पर दाग-धब्बे उभरने के ये दो मुख्य कारण हैं। यह समस्या दिन-प्रतिदिन आम होती जा रही है। इसे रोकने के लिए प्रतिदिन नए उत्पाद पहले से मौजूद ट्रीटमेंट की एक लंबी फेहरिश्त में जुड़ रहे हैं। कभी-कभी आपकी त्वचा कुछ अलग चीजों की मांग करती है। अतः आज हम आपके लिए एस्पिरिन-दही फेस मास्क लेकर आए हैं।

कुल मिलाकर कहें तो,  बाजारू इलाज काफी महँगा होता है। दुर्भाग्य से, हम अक्सर इतना खर्च वहन नहीं कर पाते हैं। इसके अलावा, उनमें कुछ ऐसे रासायनिक तत्व होते हैं जो स्वास्थ्य के लिए बिल्कुल ही उपयोगी नहीं होते। इनके कारण संवेदनशील त्वचा पर विपरीत प्रतिक्रिया हो सकती है।

अच्छी खबर यह है कि अब कम खर्च में प्राकृतिक समाधान उपलब्ध हैं। इनमें कोई कठोर केमिकल नहीं होता। इसलिए ये बिना कोई नुकसान पहुंचाए आपकी त्वचा के दाग-धब्बे साफ कर सकते हैं। बेहद आसानी से सामग्रियों को जुटाकर आज का एस्पिरिन-दही फेस मास्क तैयार कर सकते हैं! हम जानते हैं, आप इसे पसंद करेंगे!

दाग-धब्बे मिटाने के लिए एस्पिरिन-दही फेस मास्क

एस्पिरिन-दही फेस मास्क : त्वचा को विशेष ताकत दे

एस्पिरिन एक ऐसी दवा है, जो त्वचा संबंधी अनेक समस्यायों में सस्ते में पाई जानेवाली सामग्री के रूप में इन वर्षों में काफी लोकप्रिय हुई है। यह आम तौर पर दर्द में और हृदय संबंधी तंदुरुस्ती के लिए इस्तेमाल की जाती है। फिर भी, एस्पिरिन में मौजूद रासायनिक तत्व आपकी त्वचा को विशेष ताकत देता है।

इसमें वसा को कम करनेवाला हाइड्रॉक्सी एसिड नाम का एक पदार्थ शामिल है, जिसका प्रयोग अब क्रीम और त्वचा से पपड़ी खत्म करने वाले उत्पाद (exfoliation product) में होता है।

यह पदार्थ दाग-धब्बे को लगभग लुप्त करके उत्तम इलाज करता है। इतना ही नहीं, यह आपकी त्वचा में दिखने वाले दूषित पदार्थों से छुटकारा भी दिलाता है।

इतना ही नहीं, एस्पिरिन में पाया जानेवाला सलिसाइलिक अम्ल भी सूजनरोधी है और बूढ़ापे की प्रक्रिया को धीमा करने में कारगर है। आपकी त्वचा में एक बार जाते ही यह मुंहासे और समय से पहले दिखने वाले बुढ़ापे से मुकाबला करने लगता है। यहां हम इसमें दही मिलाकर इसका प्रभाव बढ़ाएंगे। दही एक ऐसी अनोखी सामग्री है जिसका उपयोग सदियों से नेचुरल कास्मेटिक के रूप में होता रहा है।

इसमें मौजूद लैक्टिक अम्ल एंटीऑक्सिडेंट्स और प्रोबायोटिक्स के साथ मिलकर त्वचा के पी एच को नियंत्रित करने के साथ त्वचा की मृत कोशिकाओं को भी दूर करता है। यह आपकी त्वचा को साफ-सुथरा और दुरुस्त करने में सहायक है। अगर इसका इस्तेमाल नियमित किया जाए तो दाग और धब्बे दिखने लायक नहीं रहेंगे।

अधिक जानकारी के लिए : 5 नुस्खे: नारियल तेल का इस्तेमाल करके स्ट्रेच मार्क्स और निशान को कम करने के लिए

एस्पिरिन-दही फेस मास्क का इस्तेमाल कैसे करें

एस्पिरिन-दही फेस मास्क का इस्तेमाल कैसे करें

आप को यह एस्पिरिन-दही फेस मास्क तैयार करने में केवल कुछ मिनट लगेंगे और खर्चे भी मामूली। जैसा कि इसका इस्तेमाल मुख्यतः धब्बे को कम करने के लिए होता है, पर तैलीय त्वचा को ठीक करने और रोमछिद्रों को साफ करने के लिए भी हो सकता है।

इसके साथ ही यह फ्री रेडिकल्स के नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए अच्छा विकल्प है। विशेष रूप से जब आपका शरीर विषाक्त पदार्थों को इकठ्ठा कर लेता है।

सामग्रियां

  • एस्पिरिन की 6 गोलियां
  • 1/4 दही
  • 2 चम्मच शहद

तैयार करने की विधि

  • पहले, एस्पिरिन को छोटी ओखली में मूसल से पीस लें, जब तक कि यह पाउडर न बन जाए।
  • फिर इसे एक साफ बर्तन में रखकर ग्रीक योगर्ट और शहद के साथ घोल लें।
  • इसके बाद इसे मलाईदार बन जाने तक फेंटें, फिर लगाएं

यह लेख भी देखें : स्किन टैग हटाने के 6 नेचुरल तरीके

कैसे लगाएं

  • रात में, चेहरे को साफ करने और मेकअप के उतारने के बाद चेहरे के सारे प्रभावित स्थानों पर एस्पिरिन-दही फेस मास्क लगा दें।
  • अगर आप चाहें, तो इस मास्क में मौजूद बुढ़ापा रोकने की क्षमता का फायदा उठाते हुए गर्दन और छाती पर भी इसका इस्तेमाल कर सकती हैं।
  • फिर 20 मिनट तक सूखने के बाद गुनगुने पानी से धो डालें।
  • धो लेने के बाद अपनी त्वचा पर आहिस्ता-आहिस्ता उंगलियों को गोल-गोल घुमाएं ताकि मृत कोशिकाएं निकल जाएं।
  • इसके बाद मॉइश्चराइजिंग क्रीम लगाकर इसे और प्रभावशाली बनाएं।
  • सप्ताह में कम से कम तीन बार इस क्रम को दुहराएं और धूप सुरक्षा (सन प्रोटेक्शन) का प्रयोग किसी भी दिन न भूलें

कुछ बातों का ध्यान रखें

एस्पिरिन और दही फेस मास्क : ध्यान रखें

  • इस एस्पिरिन-दही फेस मास्क की सामग्रियों का साधारण तौर पर अनचाहा साइड इफेक्ट नहीं पड़ता। हालांकि, इसके पूरे प्रयोग से पहले जांचने के लिए त्वचा के छोटे-से हिस्से में इसका परीक्षण कर लेना अच्छा होता हैअगर आपको जलन या प्रदाह का अनुभव हो तो इसका उपयोग न करें।
  • आपका चेहरा एकबारगी गोरा नहीं हो सकता। उल्लेखनीय परिणाम पाने के लिए आपको कई बार इसे अपनाना पड़ेगा।
  • आप स्वास्थवर्द्धक आहार, प्रचुर मात्रा में पानी और हल्के फेशियल प्रसाधन का प्रयोग करके इसके लाभकारी प्रभाव को बढ़ा सकते हैं।

क्या आप इस एस्पिरिन-दही फेस मास्क को परखने को तैयार हैं? हमारी सलाह मानें। फिर आप देखें कि यह घर का बना कम खर्चीला फेस मास्क कितना विलक्षण है!

  • Arif, T. (2015, August 26). Salicylic acid as a peeling agent: A comprehensive review. Clinical, Cosmetic and Investigational Dermatology. Dove Medical Press Ltd. https://doi.org/10.2147/CCID.S84765
  • Mateus, R., Moore, D. J., Hadgraft, J., & Lane, M. E. (2014). Percutaneous absorption of salicylic acid – In vitro and in vivo studies. International Journal of Pharmaceutics475(1), 471–474. https://doi.org/10.1016/j.ijpharm.2014.08.061
  • Lee, W. J., & Lucey, J. A. (2010). Formation and physical properties of yogurt. Asian-Australasian Journal of Animal Sciences. Asian-Australasian Association of Animal Production Societies. https://doi.org/10.5713/ajas.2010.r.05
  • El-Abbadi, N. H., Dao, M. C., & Meydani, S. N. (2014). Yogurt: Role in healthy and active aging. American Journal of Clinical Nutrition99(5). https://doi.org/10.3945/ajcn.113.073957