खुश रहना कोई यूटोपिया नहीं है: खुशी पर कुछ विचार

31 जुलाई, 2020
क्या खुश रहना मुमकिन है? क्या पैसा खुशी का पर्याय है? लोगों को खुशी की ओर क्या ले जाता है? इस आर्टिकल में मनोवैज्ञानिक मार्सेलो सेबेरियो ऐसे सवालों के जवाब देंगे और खुशी के बारे में अपनी राय शेयर करेंगे।
 

खुश रहने का अधिकार हम सबको है, पर हर कोई नहीं जानता कि खुशियाँ क्या होती हैं और खुश रहना दरअसल क्या होता है। खुशी एक व्यक्तिगत और व्यक्तिपरक अवधारणा है। इसलिए हर इंसान अपने लिए यह परिभाषित करता है कि उसके लिए खुशी क्या है।

नीचे हम इस मसले पर बातचीत करेंगे। लोग अक्सर जिसका घालमेल भौतिक साधनों और वस्तुओं के साथ कर बैठते हैं। वह वक्त जो हम पैसा और प्रसिद्धि कमाने में खर्च करते हैं और यह मिथ कि पैसा खुशी को खरीद सकता है। इस अर्थ में हमें यह बता देना चाहिए कि कभी-कभी यह मिथ विनाशक अंत की ओर भी ले जाता है।

क्या पैसा खुशी खरीद सकता है?

सामाजिक-सांस्कृतिक पैमाने, इवोल्युशनरी साइकिल, सैद्धांतिक दृष्टिकोण और विज्ञान की दूसरी बातों के मुताबिक़ खुशी की अवधारणा अलग-अलग होती है। चीनी और ग्रीक-रोमन दार्शनिकों से लेकर नैतिकतावादियों, न्यूरोसाइंटिस्ट और मनोवैज्ञानिकों, जैसे डार्विन, एकमैन, फ्राइसन, मैस्लो, फ्रायड और सेलिगमैन जैसे हर किसी ने यह परिभाषित करने की कोशिश की है कि खुशी क्या है।

शायद एक निष्कर्ष यह है कि खुशी को प्यार, वफादारी, ईमानदारी और उदारता जैसे एब्स्ट्रेक्ट कांसेप्ट की तरह परिभाषित करना मुश्किल है। क्योंकि हर व्यक्ति पूरी तरह से व्यक्तिगत मापदंडों के तहत अपनी खुशी की परिभाषा गढ़ता है।

खुशी शब्द की उत्पत्ति लैटिन शब्द felicitas में  है,  जिसका अर्थ ‘उपजाऊ’ है। यह बहुत ही सटीक अवधारणा है, क्योंकि जब आप खुशी की परिभाषाओं का मूल्यांकन और अध्ययन करते हैं, तो आप इस अवधारणा को उनमें से हर किसी में पा सकते हैं। दूसरे शब्दों में ‘उपजाऊ’ या fertility शब्द में विकास, प्रोजेक्शन, पहल और प्रगति का अर्थ भी निहित है। ये वे शब्द हैं जो खुश रहने के पर्याय हैं।

ख़ुशी

यह अवधारणा मन की एक ऐसी स्थिति को बताती है जिसमें इंसान संतुष्ट, खुश और हंसमुख महसूस करता है। इस प्रकार खुशी प्लेजर और खुश रहने की भावना से जुड़ी है:

 
  • यह न्यूरोएंडोक्राइन बायोलॉजिकल फैक्टर से भी जुड़ा है
  • इसमें मस्तिष्क की लिम्बिक प्रणाली शामिल है
  • इसी तरह, इसमें भावनात्मक फैक्टर शामिल हैं, क्योंकि खुशी स्पष्ट रूप से एक भावना है जो आंशिक रूप से खुशी पर आधारित है (डार्विन की छह मूल भावनाओं में से एक)
  • इसमें संज्ञानात्मक कारक शामिल हैं और लोगों को सकारात्मक तरीके से सोचने के लिए प्रेरित करते हैं, स्वचालित नकारात्मक विचारों को समाप्त करते हैं और समाजशास्त्रीय फैक्टर को कम करते हैं

दूसरी ओर, आप जो करते हैं उसमें आप “फर्टाइल” भी हो सकते हैं। जब आप महसूस करते हैं कि आप अपने लक्ष्यों को पाने की प्रक्रिया में आगे बढ़ रहे हैं और जब आप वास्तव में उन तक पहुँचते हैं, तो आप खुश होते हैं। इसका मतलब है, यह  खुशी की ओर ले जाती है। दूसरे शब्दों में, खुशी का संबंध मजबूत आत्म-विश्वास और आत्म-गरिमा बोध से भी है।

आपको यह भी पढ़ना चाहिए: प्राचीन ज्ञान से खुशी हासिल करने के 3 रहस्य

खुशी पर वैज्ञानिक स्टडी के नतीजे

“धन सुख नहीं खरीद सकता” यह वाक्य वैज्ञानिक रूप से सिद्ध हो चुका है। विशेषज्ञों ने दिखाया है कि पैसे की एक सीमा है। उदाहरण के लिए एक व्यक्ति सैलरी जो यदि ज्यादा हो तो भी डिप्रेशन हो सकता है। आप उसे कैसे व्याख्या करेंगे?

विशेषज्ञों ने 10 वर्षों से खुशी का अध्ययन किया है। दरअसल खुशी के न्यूरो साइंस पर अध्ययन हुए हैं और वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट हैं जो मानकों की एक श्रृंखला के मुताबिक़ देशों की रैंकिंग करती है।

बेशक खुशी में कुछ न्यूरोट्रांसमीटर और न्यूरोहोर्मोन शामिल हैं, जैसे कि सेरोटोनिन, शांति का हार्मोन, शांति और कल्याण की भावनाओं वाले हॉर्मोन। इनका अभाव डिप्रेशन पैदा कर सकता है। इसके अलावा एंडोर्फिन, हमारे अंदरूनी मॉर्फिन (एक्सरसाइज, सेक्स और हँसी के दौरान जिनका सर्व होता है), डोपामाइन जिसके कई फायदे हैं और जो हमें प्रेरित करता है, और अंत में लव हार्मोन ऑक्सीटोसिन, जिसका स्राव पितृ या मातृ स्थितियों में होता है, जैसे कि गले लगाने के दौरान, और प्रसव के दौरान।

खुशी का स्केल

अलग-अलग वैरिएबल वाले प्रोटोकॉल से बने खुशी के स्केल पर विशेषज्ञों ने निम्नलिखित बातों का पता लगाया है:

  • गंभीर आर्थिक समस्याओं और गरीबी वाले देशों में धन खुशी के लिए एक प्रासंगिक फैक्टर है।
  • हालांकि उन देशों में जहां प्रति व्यक्ति आय सुनिश्चित है, आर्थिक स्तर प्रासंगिक नहीं होता है। दूसरे शब्दों में, यह उन वैरिएबल में से एक नहीं है जो खुशी को सुनिश्चित करते हैं।

प्रथम विश्व के देशों का अच्छा वेतन लोगों को अच्छे घर, भोजन, शिक्षा, मौज-मस्ती और छुट्टियों की सहूलियत देता है और एक संगठन भी उपलब्ध कराता है जो इस प्लान को सपोर्ट करता है। इस आय से ज्यादा उपार्जन इसे कमाने के लिए लगाए गए विधि-निषेधों की मात्रा को बढ़ा देता है (ज्यादा काम करना, हयादा टैक्स देना, प्रॉपर्टी रेगुलेशन, अनावश्यक सामग्री के सामान का अधिग्रहण)। इस तरह लोगों के पास मजेदार चीजें करने के लिए कम समय बचता है। इससे अवसाद, तनाव, नशे का सेवन और दूसरी साइकोसोमैटिक ड्रग्स का उपयोग भी बढ़ सकता है।

 

इसे भी पढ़ें : सिंगल हो या किसी के साथ, कोई फर्क नहीं पड़ता: बस खुश रहो

पैसा और जटिलताएं

ज्यादा पैसा कमाने के लिए जटिलताएं भी ज्यादा होती हैं। न सिर्फ काम करने का वक्त बढ़ जाता है, बल्कि उन्हें टैक्स भी ज्यादा देना पड़ता है। वे खरीदारी भी ज्दयादा करते हैं, और उनके क्रेडिट कार्ड की फीस भी बढ़ जाती है.इन सब पर काबू रखना मुश्निकिल होता है। ज्यादा आमदनी और जटिलताएँ साथ-साथ बढ़ती हैं।

भौतिक सामग्री

पूंजीवादी देशों में मटेरियल गुड्स माल बन जाती हैं। उदाहरण के लिए एक अच्छा घर, लक्जरी कार और डिजाइनर कपड़े, ये सभी धन के पर्याय हैं। ये वे सामान हैं जो स्टेट्स के लिए खरीदे जाते हैं। आपको यह दिखाने की जरूरत है कि आप उनसे बेहतर हैं और औसत व्यक्ति की तुलना में आपके पास ज्यादा पैसा है।

एक कहावत है, “धन सुख नहीं खरीदता” जिसका उपयोग धन के महत्व के मिथक से लड़ने के लिए किया जाता है (पैसा को खुशिया खरीद पाने वाले मटेरियल गुड्स के लिए एक पासपोर्ट के रूप में देखा जाता है)।

हम एक बिल्कुल एलीट सोसाइटी में (या निर्मित) रहते हैं जो सिर्फ ने, फेम, सोशल स्टेट्स, प्रोफेशन, उपयोग की जाने वाली वस्तुएं, ट्रेवल, कपड़े, और चिरकालीन यौवन और कामयाबी को ही देखता है।

हम जैविक रूप से सम्बन्ध बन्ने वाले प्राणी हैं जो लिंक स्थापित करते हैं और स्वीकार किए जाते हैं और समूहों में शामिल होना चाहते हैं। सवाल यह है कि हम इस स्वीकृति की कसौटी क्या बनाना चाहते ? यदि आप खुश रहने के लिए केवल भौतिक वस्तुओं पर ध्यान केंद्रित करने का निर्णय लेते हैं, तो आप एक बड़ी गलती कर रहे हैं और सही रास्ते से भटक रहे हैं।

एक बुरा रवैया

यदि आपका यह एटीट्यूड है, तो आप इस बारे में ज्यादा सोचते हैं कि दूसरे आपकी भलाई के बारे में क्या सोचते हैं। इस अर्थ में, प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक एरिक फ्रॉम ने “होने” और “स्वामित्व” पर एक स्टडी की है। इसलिए यह मानना ​​कि आपका मूल्य जो आपके पास है, उससे है, एक गलत धारणा है।

 

लोग भौतिक वस्तुओं को खरीदने और पहचान हासिल करने के लिए पैसे कमाने की अपनी पागल दौड़ में जो भूल जाते हैं, वह यह है कि एक चीज आप खरीद नहीं सकते हैं, वह है वक्त, जिसका इस्तेमाल वे पैसा कमाने और खुश होने के लिए करते हैं। हालाँकि, वे इस आनंद तक कभी नहीं पहुँचते हैं क्योंकि उनके पास पर्याप्त समय नहीं होता है और वे एक पागल लाइफस्टाइल जीते हैं। यह एक खूबसूरत लेकिन दुखद विरोधाभास है।

इस बारे में आप यह मान सकते हैं कि एक मध्यम और निम्न वर्ग का परिवार जिसके पास प्लान है, एक धनी कपल के मुकाबले ज्यादा खुश हो सकता है। सामाजिक रूप से एक महान आकांक्षा है इच्छा। दूसरे शब्दों में किसी भी चीज़ की कमी मनुष्यों में उसकी ज्यादा इच्छा का कारण बनती है। एक इच्छुक रवैया योजनाओं को पूरा करने के लिए महान प्रेरक होता है। मैं यहाँ इच्छा के बारे में बात कर रहा हूँ, आवश्यकता के बारे में नहीं।

इसे भी पढ़ें : खुशी अपने भीतर से आती है: यह किसी की मोहताज नहीं

जैविक आवश्यकता

हालाँकि दूसरे लेखक एक बायोलॉजिकल अर्थ में आवश्यकता की बात करते हैं (उदाहरण के लिए पानी पीने की आवश्यकता, क्योंकि आप प्यासे हैं), यह अभी भी सच है कि गरीब वे हैं जो ज़रूरतमंद हैं। दूसरे शब्दों में उन्हें इच्छा की बजाय काम, भोजन, स्वास्थ्य, और शिक्षा आवश्यकता है (हालांकि इसका मतलब यह नहीं है कि वे इच्छा नहीं रखते हैं)।

मध्य वर्ग (मुख्य रूप से मध्य और निम्न-मध्यम वर्ग के परिवार) वे हैं जो कम समय में सबसे ज्यादा इच्छा रखते हैं। उदाहरण के लिए वे अपनी कार को बेहतर करना या नयी कार से बदलना चाहते हैं। इसके अलावा वे अपने घर को पेंट करने या घर खरीदने के लिए कर्ज लेने के बारे में फ़िक्र करते हैं। हालाँकि ये महज दिखावटी आकांक्षाएँ नहीं हैं, लेकिन इन सामाजिक वर्गों के लिए बड़ी आकांक्षाएँ हैं। हाई सोशल क्लास इस प्रकार के लक्ष्यों को महत्व नहीं देते।

 

प्रसिद्धि, सुंदरता, पैसा, एक बुरी नियति

जैसा कि आप देख सकते हैं, खुशी एक पूरी तरह से व्यक्तिपरक अवधारणा है। प्रत्येक समाज, प्रत्येक समाज का प्रत्येक संदर्भ, प्रत्येक परिवार और प्रत्येक परिवार में प्रत्येक व्यक्ति खुशी की अपनी अवधारणा बनाता है।

सामाजिक वर्ग जितना ऊँचा होगा, अभिजात्य का स्तर उतना ही ऊँचा होगा। आर्थिक शक्ति इच्छा को दबा देती है। इसलिए परिणामस्वरूप लोग चाहत खो देते हैं। क्योंकि हासिल करने की कोई प्रेरणा नहीं है। इस प्रकार, “पॉश” पड़ोस में लोग एक अनिर्दिष्ट प्रतियोगिता बना लेते हैं। यह “कम्पटीशन” बेहतर मैंशन (मैंशन, घर नहीं) या उस कार के लिए होती है जो दिखाती है कि आपकी हाई क्रय क्षमता है।

हॉलीवुड

एक अच्छा उदाहरण हॉलीवुड स्टार हैं जिन्होंने प्रसिद्धि, सुंदरता और भाग्य हासिल किया और अपनी लत या डिप्रेशन के लिए इलाज किया जा रहा है – ऐसी स्थितियां जब वे सेलिब्रिटी और करोड़पति बन गए। इसका कारण यह है कि वे करोड़पति बन गए, लेकिन दूसरे तरीकों से अपने जीवन को समृद्ध नहीं किया। दूसरे शब्दों में वे बहुत पैसा बनाने में सक्षम थे लेकिन अपनी भावनात्मक दुनिया पर पर्याप्त ध्यान नहीं देते।

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में खुशी पर सबसे लंबे समय तक चलने वाली स्टडी (जो 80 साल तक चली) से यह प्रदर्शित किया। इसे संचालित करने के लिए विशेषज्ञों ने अपने जीवनकाल में 3000 लोगों के नमूने की जांच की और उनका अनुसरण किया। वे जिस निष्कर्ष पर पहुँचे, वह यह था कि माता-पिता, साथी, बच्चे और दोस्त जैसे भावनात्मक संबंध सच्चे सुख प्रदान करते हैं, पैसा नहीं।

यदि आप प्रसिद्धि और धन पर बहुत ध्यान देते हैं, तो आप अनिवार्य रूप से अपनी भावनात्मक दुनिया को नजरंदाज करेंगे। क्योंकि यह प्रासंगिकता और मूल्य खो देता है। इसके अलावा, अगर आप तकदीर, प्रसिद्धि और सौन्दर्य के चरम पर पहुंचते हैं, तो यह इच्छा कहां छोड़ती है?

नतीजा

यदि इच्छा और प्रक्षेपण का इंजन वह प्रेरणा है जो इच्छा पैदा करती है और आप जो कुछ भी कमी करते हैं उससे आप इच्छा पैदा करते हैं, तो, तार्किक रूप से, यदि आपके पास कुछ भी नहीं है, तो आप इच्छा खो देते हैं और जो कोई इच्छा खो देता है, वह अपने अस्तित्व का ध्यान खो देता है। इसके विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं।

इन परिणामों में व्यसनों, साथ ही अवसाद और आत्महत्या शामिल हैं, जो “अभाव” की जगह लेते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि ये लोग कुछ भी इच्छा नहीं करते हैं क्योंकि उनका मानना ​​है कि उनके पास कुछ भी नहीं है। हालांकि, उनके पास सच्चे स्नेह की कमी है। दूसरे शब्दों में, हालांकि उन्हें सफलता की विलासिता की कमी नहीं है, लेकिन उनके पास ईमानदारी से दोस्ती, एक साथी या परिवार के सच्चे प्यार की कमी है।

 

वे शब्द के नकारात्मक अर्थों में अकेले हैं, त्याग और सच्चा स्नेह के हाशिए के पर्याय के रूप में। ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्होंने केवल मान्यता पर ध्यान केंद्रित किया है। इसलिए, परिणामस्वरूप, उन्होंने गहरी और निस्वार्थ स्नेह नहीं, बल्कि स्व-रुचि वाले भोग स्नेह प्राप्त किए।

अभिजात्य सिद्धांत और पुस्तकें

रिच डैड, पुअर डैड या द सीक्रेट जैसी किताबें, जो प्रस्तावित करती हैं कि जीवन में मुख्य लक्ष्य करोड़पति बनना चाहिए, वे पुस्तकें हैं जो बेस्टसेलर बन गई हैं क्योंकि उनके सिद्धांत अभिजात्य वर्ग पर आधारित हैं।

ये किताबें लोकप्रिय विचारधारा पर केंद्रित हैं कि पैसा खुशी, मान्यता और सामाजिक स्थिति का पर्याय है। दूसरे शब्दों में, वे लोगों के भ्रामक सपनों को साकार करने के लिए निर्देशित कार्यों का परिसीमन करना चाहते हैं। इस बात से कोई इंकार नहीं है कि उनके लेखक अपने कार्यों के अनुरूप हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि इन किताबों ने अपने लेखकों को अपनी लाखों प्रतियों की रॉयल्टी के कारण बेच दिया है। इस प्रकार, इन पुस्तकों ने उनके जीवन को बदल दिया और उन्हें प्रसिद्ध बना दिया।

मेरे विकास के इस स्तर पर, मुझे स्पष्ट करना चाहिए कि मैं प्रसिद्धि के खिलाफ नहीं हूं; मैं प्रसिद्धि के दुरुपयोग के खिलाफ हूं। लोगों को मान्यता पसंद है। हालांकि, प्रसिद्धि पर निर्भर करता है और इसे जीवन का मुख्य लक्ष्य बनाना दूसरी बात है। यह बहुत बुरा लक्ष्य है।

खुश रहना इससे परे है। यह जीवन का एक दर्शन है। यह जानना कि कठिन समय के बावजूद जीवन का एक अच्छा पक्ष है। इसके अलावा, यह जानना कि आपके पास ऐसे लोग हैं जिन पर आप भरोसा कर सकते हैं और जो आपसे प्यार करते हैं। इस प्रकार, लोगों को यह समझने की आवश्यकता है कि प्रेम भी खुशी का एक घटक है।

 
  • VV.AA. Harvard Study of Adult Development. https://www.adultdevelopmentstudy.org