9 किस्म की ‌नुकसानदेह मछलियां जिनसे बचना‌ ही‌ बेहतर है

जून 21, 2019
ऐसी कई प्रकार की मछलियां हैं, जिनमें बड़ी मात्रा में मरकरी हो सकती है। आपका शरीर खुद इस धातु से छुटकारा पाने में सक्षम नहीं है। इसलिए हमेशा स्वस्थ विकल्प चुनना ज़रूरी है।

मछली उन स्वास्थ्यप्रद मीट में से एक है जिसे आप खा सकते हैं। हालांकि, कुछ अस्वास्थ्यकर मछलियां हैं जिनसे बचे रहना बेहतर है।

उन पर ध्यान दें और दूसरे स्वास्थ्यप्रद विकल्प चुनें।

नुकसानदेह मछलियां, इनसे बचें

1. कैटफिश (Catfish)

कैटफ़िश एक हारमोनयुक्त मछली

कैटफ़िश बड़ी मछली के रूप में विकसित हो सकती है। हालांकि, इसकी विकास प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए बहुत से मछली पालक किसान उन्हें हार्मोन खिलाते हैं।

चूंकि इससे ये मछलियाँ नुकसानदेह हो सकती हैं, हम सलाह देंगे कि आप कम जहरीले विकल्प चुनें

2. मैकेरेल (Mackerel)

मैकेरल की बहुत सिफारिश नहीं की जाती। क्योंकि इसमें पारे की ऊँची मात्रा होती है।

दुर्भाग्यवश, आपके शरीर को पारा से छुटकारा नहीं मिल पाता है। इसके बदले, यह शरीर में जमा होता रहता है। यह धातु विभिन्न रोगों का कारण बन सकता है।

3. ब्लैकफिन टूना (Blackfin tuna)

 ब्लैकफिन टूना में पारा की अत्यधिक मात्र होती है

ब्लैकफिन टूना में पारा बहुत होता है।

दुर्भाग्य से, ऐसी टूना को ढूंढना लगभग असंभव है जो उसके प्राकृतिक वास से लायी गयी हो, क्योंकि यह विलुप्त होने के कगार पर है।

आप बाजार में जो मछली देखते हैं, वह मछली फार्मों से आती है। इन फार्मों में, टूना मछलियों को एंटीबायोटिक दवा और हार्मोन खिलाया जाता है।

परिणामस्वरूप, इस मछली में भी मरकरी की ऊँची मात्रा होती है। इस प्रकार, एक वयस्क को प्रतिमाह 3.5 औंस से अधिक खाने की सलाह नहीं दी जाती है। यह मछली कभी भी बच्चों को न खिलाएं

4. तिलापिया (Tilapia)

तिलापिया बहुत ही वसायुक्त मछली है। इसमें विषाक्त वसा की अत्यधिक मात्रा होती है जो बेकन (सूअर का मांस) के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकती है।

यदि आप यह मछली बहुत अधिक खाते हैं, तो यह आपके खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) के स्तर को बढ़ा देगी। साथ ही, यह आपके शरीर को एलर्जी के प्रति अधिक संवेदनशील बनाती है।

अगर आप हृदय रोग, अस्थमा या गठिया से पीड़ित हैं, तो तिलपिया से बचने की कोशिश करें।

इसे भी पढ़ें : छह चमत्कारिक घरेलू इलाज : धमनी की दीवारों की सफ़ाई करने के लिए

5. बाम मछली (Eel)

बाम मछली बहुत ही वसायुक्त मछली है

ईल भी बहुत फैटयुक्त मछली है। ईल पानी में पाए जाने वाले सभी प्रकार के अवशेषों को आसानी से अवशोषित कर लेती है। इसी कारण अमेरिकी प्रजातियों में विषाक्त पदार्थों का स्तर विशेष रूप से अधिक होता है।

यूरोपियन ईल मछलियों में ‌भी पारे की ऊँची मात्रा है। व्यस्कों के लिए 10 औंस से अधिक खाना समझदारी नहीं है और बच्चों के लिए प्रति माह 7 औंस।

इसे पसंद कर सकते हैं : डाइट में इन चीज़ों को खाकर पाएं शरीर की फालतू चर्बी से छुटकारा

6.पंगासियस (Pangasius)

पंगासियस एक प्रकार की शार्क जैसी कैटफ़िश है, जो वियतनाम की मेकांग नदी में पकड़ी जाती है। इस नदी को दुनिया की सबसे दूषित नदियों में से एक माना जाता है।

इस तरह की मछलियों में पारा, नाइट्रोफ्यूरल और पॉलीफॉस्फेट्स के उच्च स्तर होते हैं। इसके अलावा, जो हमने पारे के बारे में पहले ही कहा है, पॉलीफॉस्फेट्स भी कार्सिनोजेनिक अथवा कैंसर पैदा करने वाले पदार्थ हैं।

स्वाभाविक रूप से, यह सबसे अस्वस्थ्यकर मछलियों में से एक है और इसे खाने से बचने की सिफारिश की जाती है

7. टाइलफिश (Tilefish)

टाइलफिश में पारा दूषण होता है

टाइलफिश भी वह मछली है जिसमें पारा दूषण का उच्च स्तर होता है। इस वजह से, इसे महिलाओं या बच्चों को खाने से मना किया जाता है। पुरुषों के लिए यह प्रति माह अधिकतम 3.5 औंस तक सीमित होनी चाहिए

8.ऑयलफिश (Oilfish)

ऑयलफिश को सफेद टुना भी कहा जाता है, जिसमें गोमफोटॉक्सिन होता है। यह ऐसा पदार्थ है जो मोम के समान है और मांस को एक तैलीय स्वाद देता है।

इस पदार्थ को आपका शरीर पचा नहीं पाता है। अत: यह खराब पाचन का कारण बन सकता है, हालांकि यह बहुत विषाक्त नहीं है।

गेम्पिलोटॉक्सिन की मात्रा को कम करने के लिए हम आपको इस मछली को तलने या ग्रिल करने की सलाह देते हैं। हालांकि, अगर आपको पाचन संबंधी समस्याएँ हैं, तो अन्य विकल्पों को चुनना बेहतर है।

पढ़ें : गर्भाशय के फाइब्रॉइड से जुड़े 5 तथ्य: हर महिला को इन्हें जानना जरूरी है

9. रॉकफिश (Rockfish)

रॉकफिश में भी पारा की अत्यधिक मात्र होती है

सेबैस्ट, जो येलोवे रॉकफिश के रूप में भी परिचित है, इसमें बहुत अधिक पारा होता है।

किसी भी मामले में, स्वस्थ प्रजातियों और कम पारे वाली मछलियों को चुनना हमेशा बेहतर होता है

ताजी मछली हमेशा ही सबसे अच्छा विकल्प है

इसके अलावा, यह ध्यान रखना जरूरी है कि ताजा मछली में पारदर्शी आंखें, एक मजबूत पूंछ और गीली, चमकदार शल्क होती हैं। यदि आप ताजी मछली खरीद रहे हैं और उसकी पूंछ लुंजपुंज है, तो यह उतनी ताजा नहीं है जितना आप सोचते हैं।

आप यह भी देख सकते हैं कि क्या यह अपने पंखों से ताजा दिख रही है। यदि इसके पंख सूखे हैं और इसके गलफड़ लाल की बजाय भूरे रंग के हैं, तो शायद यह ताजी नहीं है।

Zerbe, L. (2017, October 12). Retrieved December 10, 2018, from https://draxe.com/fish-you-should-never-eat/

Main, E. (2018, October 31). 12 Fish To Never Ever Eat. Retrieved from https://www.prevention.com/food-nutrition/healthy-eating/a20444313/12-unhealthy-fish-to-avoid-eating/