एलोवेरा जूस पीने की 8 वजहें और तैयार करने की विधि

जून 23, 2019
एलोवेरा जूस पीने की 8 वजहें और तैयार करने की विधि

विश्वविख्यात पौधों में एलोवेरा (घृतकुमारी) एक विख्यात नाम है। न केवल विभिन्न प्रकार के ब्यूटी प्रोडक्ट में प्रयोग  होने वाली अपनी जेल के कारण बल्कि उच्च पोषण सामग्री होने के कारण भी घृतकुमारी आपके स्वास्थ के लिए लाभदायक है।

पानी, एंटीऑक्सिडेंट्स, फाइबर और अन्य कई स्वस्थ अवयवों से एलोवेरा समृद्ध है। उम्र बढ़ने के साथ-साथ होने वाली अनेक बीमारियों में एलोवेरा का इस्तेमाल दवाइयों के रूप में होता है।

सच्चाई तो यह है कि दवा कंपनी और प्रसाधन उद्योग एलोवेरा के प्राकृतिक रस निकाल कर आज भी अपनी दवाइयां और उत्पाद बनाते हैं।

जो भी हो, प्राकृतिक रूप में इसका इस्तेमाल आज भी सबसे बेहतर विकल्प है। अपने गुणों का सौ प्रतिशत लाभ देने में एलोवेरा सर्वाधिक सक्षम साधन है। चूंकि एलोवेरा में कैलोरीज़ की मात्रा बहुत कम होती है इसलिए यह आपके वजन घटाने के लिए एक अच्छा स्वस्थ उपाय है।

अब भी बहुत से लोग नहीं जानते कि यह पौधा उनके स्वास्थ्य के लिए कितना लाभदायक है। इसलिए आज हम एलोवेरा जूस को आपके आहार में शामिल करने के 8 कारणों पर चर्चा करना चाहते हैं।

इसका लुत्फ लें।

1. कब्ज को रोकने वाला (prevents constipation)

एलोवेरा जूस : कब्ज रोकने वाला

सबसे पहले तो यह कि यदि एलोवेरा का संतुलित सेवन किया जाए तो यह नई – पुरानी किसी भी तरह के कब्ज से लड़ने के लिए बेहतर तरीका है।

इसमें मौजूद उच्च मात्रा में पानी और फाइबर हल्के रूप में रेचक (laxative) का काम करते हैं। इससे यथोचित रूप में अपशिष्ट पदार्थ को बाहर निकालने के लिए आंतों को मदद मिलती है।

2. वजन घटाने में मददगार (It helps you lose weight)

एलोवेरा जूस का सेवन एक अच्छा अभ्यास है जो वजन घटाने के लिए बनाई गई आहार योजना को प्रोत्सहित करता है।

सुबह खाली पेट में इसका सेवन करें। यह एक प्राकृतिक शोधक है जो विषाक्त पदार्थों को निकाल कर पाचन और चयापचय को दुरुस्त करता है।

इसके अलावा, अत्यधिक कैलोरी लिए बिना भूख पर नियंत्रण के लिए अल्प मात्रा में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें : आपकी भूख को शांत करने के सर्वोत्तम आहार

3. सूजन रोकने में समर्थ (an anti-inflammatory effect)

एलोवेरा जूस : सूजन रोधी

जो लोग पुरानी सूजन से ग्रस्त हैं, एलोवेरा जूस के इस्तेमाल से उन्हें विशेष फायदा मिल सकता है।

इसमें मौजूद सूजन विरोधी यौगिक-समूह – कैंपेस्टरोल, ल्युपियोल और बेटा – सिटॉस्टरोल सूजन और इससे संबंधित दर्द को राहत देते हैं।

यह निम्न रोगों के इलाज में सहायक है :

  • अति संवेदनशील अंतड़ी रोगलक्षण
  • गठिया
  • जल जाना
  • हृदय संबंधी परिस्थितियां
  • पुरानी बीमारी
  • टाइप 2 डायबिटीज

4.  यह बहुत पुष्टिकारक है (It’s very nutritious)

प्राकृतिक एलोवेरा जूस की सामान्य सी खुराक भी कुछ जरूरी पोषण की कमी को रोकने के लिए काफी है

इसकी कुछ खासियत:

  • विटामिन (ए, बी कॉम्प्लेक्स, सी और ई)
  • खनिज (कैल्शियम, आयरन, मैग्नेशियम, ज़िंक, सोडियम, मैंगनीज, पोटैसियम)

5. यह शरीर को विष मुक्त करता है (It detoxes the body)

इस पौधे के सक्रिय तत्व आपके रक्तप्रवाह, लिवर और किडनी में बनने वाले जहरीले पदार्थ का त्याग करने में सहायक हैं।

इसका संतुलित सेवन आपकी कोशिका को क्षतिग्रस्त और खून को विषाक्त बनाने वाले किसी भी पुरानी समस्यायों को रोकता है

6. यह कोलेस्टेरॉल को नियंत्रित करता है (It regulates cholesterol)

एलोवेरा जूस : लाभदायक कोलेस्टेरोल की मात्रा बढ़ाने वाला'

आप यकीन करें या न करें, इस प्राकृतिक जूस में मौजूद पोषक तत्व लाभदायक कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को बढ़ाता है और साथ ही हानिकारक कोलेस्ट्रॉल तथा ट्राइग्लिसराइड की अत्यधिक मात्रा को कम कर देता है।

ऐसा सूजन रोधी तत्वों के कारण होता है जो धमनियों रे में आई रुकावट और उच्च रक्त चाप (blood pressure) को रोकता है

7. यह मुंह के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है

एलोवेरा जूस : मौखिक स्वास्थ्य रक्षक

यह सही है कि एलोवेरा में मौजूद रोगाणुरोधी (antimicrobial) और सूजनरोधी ताकतों के कारण यह मसूड़ों का क्षतिग्रस्त होने और दांतों के संक्रमण से बचाने में सहायक है।

इसके सेवन और दांतों पर इसके प्रलेप से जीवाणुओं के स्तर को कम किया जा सकता है। इससे दांतों पर जमने वाले पीलापन और सांसों की दुर्गंध पर काबू पाया जा सकता है।

इसके अलावा, यह मुंह में होने वाले अल्सर की बेहतरीन दवा है

8. यह ब्लड शुगर को नियंत्रित करता है

प्राकृतिक एलोवेरा जूस में रक्त शर्करा में कमी लाने वाला प्रभाव (hypoglycemic) होने के कारण यह टाइप 2 डायबिटीज या अस्थिर स्तर के ब्लड शुगर वालों के लिए मददगार है।

इसमें glucommannan नाम का एक पदार्थ पाया जाता है जो शुगर को ऊर्जा में परिवर्तित करके इसे रक्त में जमने से बचाता है

एलोवेरा जूस कैसे तैयार करें

एलोवेरा जूस : तैयार करने की विधि

इस हेल्दी जूस को तैयार करने के लिए सबसे पहले आप पत्तों के भीतर से जेल को निकाल लें। इस बात का जरूर ख्याल रखें कि पौधा कम से कम दो साल पुराना हो।

इसका कारण यह है कि इसके भीतर के खास गुणों को पूरी तरह विकसित होने में दो साल लगते हैं। अतः इससे मिलने वाले फायदे दो साल से पहले उतने कारगर नहीं होते।

सामग्रियां

  • एलोवेरा का 1 पत्ता
  • आधा कप पानी (100 एम एल)
  • एक बड़ा चम्मच शहद (25ग्राम) (यदि चाहें तो)

तैयारी

  • पहले एलोवेरा के पत्ते को छुरी से काट लें और भीतर का समूचा जेल निकाल लें।
  • फिर इसे साफ पानी से धो लें ताकि किसी तरह की कोई गंदगी न रहे।
  • जेल साफ हो जाने के बाद ब्लेंडर में डाल दें और आधे कप पानी के साथ पूरी तरह मिल जाने तक घोलें।
  • अगर आप चाहें तो इसमें थोड़ा शहद मिला कर इसका मीठा स्वाद लें!
  • दिनभर में एक से आधे कप पिएं। आप इसमें स्मूदी और नींबू का रस भी निचोड़ सकते हैं
  • अत्यधिक मात्रा में न पिएं ताकि कोई आकस्मिक प्रतिक्रिया पैदा हो।

जैसा कि आपने देखा, प्राकृतिक एलोवेरा में स्वास्थ्य के लिए कितने ही चमत्कारिक फायदे हैं।

अपने घर में इसे नियमित तैयार कर और अपने आहार में शामिल कर तंदुरुस्ती की भावना को बुलंद रखें।