मुंह के छालों का इलाज करने के लिए 7 घरेलू उपचार

सितम्बर 3, 2018

मुंह के छाले सफेद या पीले रंग के दर्दनाक अल्सर होते हैं, जो मुंह में कहीं भी हो सकते हैं। आमतौर पर ये गाल, जीभ, होंठ या मसूड़ों के भीतरी क्षेत्र में देखे जाते हैं। मुंह के छालों का तुरंत इलाज करना बहुत ज़रूरी होता है, क्योंकि आमतौर पर छोटे होने के बावजूद ये आपको काफी परेशान कर देते हैं, दर्द, असुविधा और खाने और बोलने में कठिनाई पैदा करते हैं।

इस लेख में, आप सीख सकते हैं कि मुंह के छालों के नेचुरल ट्रीटमेंट के लिए कुछ सरल, व्यावहारिक और बहुत ही उपयोगी चीज़ें कैसे बनायें, जो आपको इन दुखदायी छालों से पलक झपकते छुटकारा दिला सकती हैं।

मुंह के छालों का इलाज करने के लिए 7 घरेलू उपचार

1. बेकिंग सोडा

बेकिंग सोडा मुंह के छालों का इलाज करने के लिए एक पुराना और आजमाया हुआ उपाय है। इसमें शक्तिशाली एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो अल्सर से लड़ते हैं। यह एक बहुत ही सरल और सस्ता उपाय है। ज्यादातर लोग इसे अफोर्ड कर सकते हैं।

सामग्री:

  • बेकिंग सोडा 1 बड़ा चमचा (9 ग्राम)
  • पानी 1 कप (250 मिलीलीटर)

निर्देश:

  • एक कप पानी में एक बड़ा चमचा बेकिंग सोडा डालें और अच्छी तरह मिलाएं।
  • तरल को निगले बिना दिन में कम से कम 3 बार इससे कुल्ले करें।

2. नारियल का दूध (Coconut milk)

मुंह के छालों को कई अलग-अलग तरीकों से नियंत्रित किया जा सकता है और इन सबमें नारियल का दूध सबसे बढ़िया तरीकों में से एक है। यह दूध नारियल की लुगदी से प्राप्त होता है और इसमें छालों को दूर करने के बहुत उपयोगी गुण होते हैं।

आप इसे किसी स्टोर से खरीद सकते हैं, हालांकि इसे घर पर बनाना भी बहुत आसान है:

सामग्री:

  • 1 कप कसा हुआ नारियल (90 ग्राम)
  • 1 कप पानी (250 मिलीलीटर)

निर्देश:

  • सबसे पहले कसे हुए नारियल को एक कप पानी के साथ गर्म करें।
  • फिर 3 मिनट के लिए दोनों चीज़ों को मिक्सर में चलायें।
  • इसके बाद मिश्रण को छलनी से छान लें और आपका नारियल का दूध तैयार है!
  • इस नारियल के दूध को दिन में 3 बार माउथवाश के रूप में प्रयोग करें।

इसे भी पढ़ें: सांस की दुर्गंध या हैलिटोसिस से छुटकारा पाने के 9 बेहतरीन घरेलू उपाय

3. मुंह के छालों का इलाज करने के लिए कैमोमाइल चाय

कैमोमाइल चाय - मुंह के छालों के लिए

कैमोमाइल (Chamomile tea) में अविश्वसनीय एंटीसेप्टिक और दाहक रोधी गुण होते हैं, जो इसे मुंह के छालों से छुटकारा पाने के लिए एक बढ़िया सहायक बनाते हैं। इससे लाभ उठाने का सबसे अच्छा तरीका इस चाय को पीना है।

सामग्री:

  • कैमोमाइल फूलों का 1 बड़ा चमचा (15 ग्राम)
  • 1 कप पानी (250 मिलीलीटर)

निर्देश:

  • सबसे पहले मध्यम टेम्परेचर पर एक कप पानी गर्म करें।
  • जब यह उबलने लगे तो कैमोमाइल फूलों का बड़ा चमचा डालें।
  • आंच से उतारें और इसे 5 से 7 मिनट तक ढक कर रख दें।
  • अब इसे छान लें। आपकी चाय तैयार है।

आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि चाय पीने से पहले पर्याप्त ठंडी हो गयी है। बहुत गर्म होने पर आपका दर्द कम होने के बजाय और अधिक बढ़ सकता है।

4. मुंह के छालों के लिए शहद (Honey for canker sores)

जब मुंह के छालों से छुटकारा पाने की बात आती है, तो शहद अपने एंटी-इन्फ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल गुणों के कारण जादू की तरह काम करता है। यह टिश्यू में वृद्धि भी करता है, जो ट्रीटमेंट प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

5. मुंह के छालों के लिए नमक (Salt for canker sores)

नमक स्वाभाविक रूप से मुंह के छालों का इलाज करने के लिए सबसे अच्छा ट्रीटमेंट है। यह एक बहुत ही प्रभावी एंटीसेप्टिक है और यह बहुत सस्ता भी है।

सामग्री:

  • 1 बड़ा चमचा नमक (15 ग्राम)
  • 1 कप पानी (250 मिलीलीटर)

निर्देश:

  • एक कप गर्म पानी में नमक का एक बड़ा चमचा डालें और अच्छी तरह मिलाएं।
  • दिन में 3 बार इससे कुल्ले करें।

इसे भी पढ़ें: 5 बेहतरीन नुस्खे मसूड़ों में संक्रमण का इलाज करने के लिए

6. मुंह के छालों का इलाज करने के लिए धनिये का रस (Cilantro juice)

हरी धनिया सबसे अच्छे मसालों में से एक है जिसका उपयोग आप मुंह के छालों का इलाज करने के लिए कर सकते हैं। इसमें एंटीसेप्टिक, एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीफंगल गुण होते हैं जो दर्द से छुटकारा दिलाते हैं और संक्रमण से लड़ते हैं।

सामग्री:

  • 1 बड़ा चमचा धनिये की पत्तियां (15 ग्राम)
  • 2 कप पानी (500 मिलीलीटर)

निर्देश:

  • धनिये की  पत्तियों को थोड़ा पानी डालकर 2-3 मिनट के लिए मिक्सर में चलायें।
  • रस को एक पिचर में डालें और दिन में 3 बार इससे कुल्ले करें।

7. कुचला हुआ पपीता (Crushed papaya)

कुचला पपीता - मुंह के छालों का रामबाण उपाय

पपीता मुंह के छालों और अन्य बीमारियों जैसे जिंजीवाइटिस और कैंडिडायसिस का इलाज करने के लिए एक अच्छा उपाय है। यह इसके डिटॉक्स करने वाले घटकों, विशेष रूप से पैपिन के कारण होता है।

सामग्री:

  • पपीते के 2 स्लाइस

निर्देश:

  • पपीते के दो टुकड़े लें और उन्हें अच्छी तरह से क्रश करें और प्रभावित क्षेत्र पर इस पेस्ट को लगायें।
  • 15 मिनट तक इसे लगा रहने दें।
  • अपनी जीभ को जितना संभव हो सके हिलाएं नहीं, क्योंकि इससे पेस्ट हट सकता है।
  • Pizzorno, J. E., Murray, M. T., & Joiner-Bey, H. (2016). Aphthous stomatitis (aphthous ulcer/canker sore/ulcerative stomatitis). In The Clinician’s Handbook of Natural Medicine. https://doi.org/10.1016/b978-0-7020-5514-0.00015-4

  • L., N. (2009). A case report of stomatitis aphtosa. Allergy: European Journal of Allergy and Clinical Immunology. https://doi.org/http://dx.doi.org/10.1111/j.1398-9995.2009.02076.x

  • Petersen, M. J., & Baughman, R. A. (1996). Recurrent aphthous stomatitis: Primary care management. Nurse Practitioner. https://doi.org/10.1080/19966205-199605000-00003